आपदामपहर्तारं दातारं सर्वसम्पदाम्‌ । लोकाभिरामं श्रीरामं भूयो भूयो नमाम्यहम्‌ ॥ श्री रामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएं

बुधवार, 21 अप्रैल 2021

साग़र में बढ़ता कोरोना संक्रमण , जिला आपदा समिति की बैठक ,कई निर्णय हुए

साग़र में बढ़ता कोरोना संक्रमण ,
जिला आपदा समिति की बैठक ,कई
निर्णय हुए




साग़र।  कलेक्ट्रोरेट सभाकक्ष में सागर जिला आपदा समिति (क्राइसिस समिति)की बैठक जिला कलेक्टर श्री दीपक सिंह की अध्यक्षता में संपन्न हुई।
जिले के अर्बन एवं रूरल एरिया में बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए कोरोना संक्रमण के प्रभावी नियंत्रण एवं रोकथाम हेतु आवश्यक उपायों की योजना तैयार करने हेतु जिला कलेक्टर द्वारा निर्देशित करते हुए समिति के निर्णय लिए गये।
इसके अंतर्गत मुख्यतः फायर सेफ्टी व्यवस्थाएं, निर्बाध वॉटर सप्लाई एवं ऑक्सीजन सप्लाई, सॉलिड वेस्ट एवं  मेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट आदि विषयों पर चर्चा की गई।
कलेक्टर श्री सिंह ने कहा की पूर्व समय में फायर एवं ऑक्सीजन कमी से हुई समस्या को ध्यान में रखते हुए सभी कोविड हॉस्पिटलस में फायर सेफ्टी इक्विपमेंटस की व्यवस्था दुरुस्त हो साथ ही आवश्यक ऑक्सीजन की पूरी व्यवस्था पहले से ही रहे। इसके साथ ही सॉलिड वेस्ट एवं मेडिकल वेस्ट का अलग-अलग सावधानी से निपटान किया जाये। केंट के सदर क्षेत्र में तंग गलियां और छोटे छोटे मकानों को चिन्हित करें जहाँ कोविड मरीज होम आइसोलेट हैं। इन मरीजों को संस्थागत आइसोलेट किया जाये। इसके साथ ही नगर निगम क्षेत्र के ऐसे स्थल चिन्हित करें जहाँ सख्ती के साथ नियमों का पालन कराने की आवश्यकता है। एवं आवश्यकता अनुसार मेन पावर बढ़ाये।
एसपी श्री अतुल सिंह ने कहा की सबसे पहले तो फायर एवं ऑक्सीजन की कमी जैसी समस्याएं न होने पाएं परन्तु यदि ऐसी घटना होती है तो  इन समस्याओं के होने पर नजदीकी हॉस्पिटल्स को शॉर्टलिस्ट कर रखा जाये। जहाँ पर मरीजों को तुरंत सुरक्षति सिफ्ट किया जा सके।


 ---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

बीना रिफाइनरी प्लांट में स्थापित ऑक्सीजन प्लांट के पास बनेगा अस्थाई 1000 बेड का कोविड अस्पताल

बीना रिफाइनरी प्लांट में स्थापित ऑक्सीजन प्लांट के पास बनेगा अस्थाई 1000 बेड का कोविड अस्पताल 

सागर । भारत ओमान रिफाइनरी बीना प्रबंधन द्वारा बताया गया है कि एक सप्ताह के बाद यह ऑक्सीजन प्लांट प्रारंभ हो जायेगा । भारत ओमान रिफाइनरी बीना की तकनीकी टीम के द्वारा अवगत कराया गया है कि उद्योगिक रूप से उपयोग किये जाने वाली गैस , तकनीक का प्रयोग मेडिकल एवं उपचार हेतु उपयोग की ऑक्सीजन बनाने में किया जा सकता है । सागर जिले की वर्तमान स्थिति को दृष्टिगत रखते हुये कोविड -19 से संक्रमित मरीजों के इलाज हेतु भारत ओमान रिफाइनरी बीना ऑक्सीजन प्लांट का उपयोग किया जा सकता है । भारत ओमान रिफाइनरी बीना प्लांट में स्थापित ऑक्सीजन प्लांट से लगभग 500 मीटर दूर अस्थाई 1000 बेड अस्पताल स्थापित करने का निर्णय लिया गया है।  प्रकाश नायक , अनुविभागीय अधिकारी राजस्व बीना को इसके लिये नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है तथा श्री इक्छित गढ़पाले , मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत सागर को समन्वय अधिकारी नियुक्त किया गया है । श्री हरिशंकर जायसवाल , कार्यपालन यंत्री लोकनिर्माण विभाग सागर ( मोबा .8827300347 श्री आर.एल.सेक्वार , कार्यपालन यंत्री , पी एच ई खुरई ( मोबा .8223922097 ) , श्री योगेश कुमार सिंघई अधीक्षण विद्युत वितरण कंपनी सागर ( मोबा . 9425613904 ) को निर्देशित किया गया है कि स्थल निरीक्षण कर जमीन चिन्हित करें तथा प्रस्तावित स्थल का बिजली , पेय जल एवं पहुंचमार्ग आदि की व्यवस्था कराना प्रारंभ करें । उक्त अस्पताल के निर्माण हेतु पृथक से निर्माण एजेंसी का चयन किया जावेगा तथा उक्त अस्पताल के संचालन एवं संधारण हेतु पृथक से प्रदेश अथवा प्रदेश के बाहर किसी बड़े अस्पताल से चर्चा कर निर्णय लिया जावेगा ।

19 अपै्रल को बीना में भारत ओमान रिफाइनरी बीना के भ्रमण के दौरान नवनिर्मित ऑक्सीजन प्लांट का अवलोकन किया गया ।


तीनबत्ती न्यूज़. कॉम
के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे


ट्वीटर  फॉलो करें


वेबसाईट

बीना रिफाइनरी के पास बनने वाले अस्थाई अस्पताल में उपलब्ध होंगी इलाज की उत्तम व्यवस्था

गतदिवस कलेक्टर श्री दीपक सिंह द्वारा बीना रिफाइनरी की ऑक्सीजन प्लांट का भ्रमण किया गया जहाँ इंडस्ट्रियल ऑक्सीजन का निर्माण होता है। उल्लेखनीय है कि इंडस्ट्रियल ऑक्सीजन 90 प्रतिशत ऑक्सीजन की क्षमता वाली होती है जबकि मैडीकल ऑक्सीजन में ऑक्सीजन का प्रतिशत 95 प्रतिशत होता है। इंडस्ट्रियल ऑक्सीजन को मेडिकल ऑक्सीजन में परिवर्तित कर उसे संक्रमित मरीजों के उपचार हेतु उपयोग में लाया जाएगा।
अस्पताल के लिए उन्होंने पीडब्ल्यूडी, एमपीईबी, पीआईयू अधिकारियों एवं स्वास्थ्य विभाग के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देश दिए कि वे सक्रियता से इस दिशा में कार्य करें जिससे शीघ्र अतिशीघ्र ऑक्सीजन सप्लाई सहित  समस्त व्यवस्थाएँ धरातल पर लाई जा सकें।
पीडब्लूडी के श्री जायसवाल को उन्होंने दो रास्तों से करीब डेढ़ किलोमीटर की अप्रोच रोड बनाने के निर्देश दिए।इसी प्रकार इलेक्ट्रिसिटी की लगातार आपूर्ति हेतु एमपीईबी के अधिकारियों को सब स्टेशन का प्रपोजल बनाकर कार्य शुरू करने के निर्देश दिए।
उन्होंने अस्थाई अस्पताल के स्थान पर कम्युनिकेशन सिस्टम के सुचारु रूप से चलने हेतु बी एस एन एल के प्रबंधक को इस संबंध में व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने के निर्देश भी दिए।
उल्लेखनीय है कि राज्य शासन के द्वारा दिए गए निर्देशों एवं मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैस की अध्यक्षता में आयोजित हुई बैठक के बाद कलेक्टर श्री दीपक सिंह ने तत्काल कार्रवाई करते हुए बीओआरएल के समीप अस्थायी अस्पताल बनाने का निर्णय लिया तथा इस दिशा में कार्य प्रारंभ कर दिया गया है। 

ये है स्थिति  अभी

सागर जिले में अभी तक 8593 पॉजिटिव केस प्राप्त हुये है , जिसमें वर्तमान में एक्टिव हैं । एक्टिव केसों में से लगभग 600 मरीज सागर जिले की विभिन्न अस्पतालों यथा बुदेलखण्ड मेडीकल कॉलेज , जिला चिकित्सालय एवं अन्य निजी अस्पतालों में भर्ती है । सागर जिले में प्रतिदिन 1200 सेम्पल लिये जाकर टेस्ट किये जा रहे है जिनमें लगभग 200 नये केस प्राप्त हो रहे है।वर्तमान में सागर जिले के शासकीय एवं निजी अस्पतालों में कोविड 19 के मरीजों से 100 प्रतिशत बेड भरे हुये है चूंकि सागर जिला संभागीय मुख्यालय है तथा अन्य जिलों से मरीज इलाज है । कोविड 19 उपचार में सबसे महत्वपूर्ण लक्षण यह है कि लंग्स में इफेक्शन कारण मरीज की सांस लेने की क्षमता कम हो जाती है और मरीज को बचाने हेतु ऑक्सीजन की नियमित आपूर्ति की आवश्यकता हो जाती है । वर्तमान ऑक्सीजन अन्य जिलों यथा इंदौर , भोपाल , गुजरात तथा उत्तर प्रदेश से मंगाई जाकर उपयोग में लाई जाती है । जिले में लिक्विड ऑक्सीजन की उपलब्धता न्यून होती जा रही है एवं प्रतिदिन लिक्विड ( ऑक्सीजन प्राप्त करना एक चुनौती हो गई है ।  

---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------


मरीजो को मिलेंगी बेहतर सुविधाएं: मन्त्री गोपाल भार्गव ★ मल्टी सुपर स्पेशलिटी अस्पताल की तर्ज पर शुरू हुआ कोविड केयर सेंटर


मरीजो को मिलेंगी बेहतर सुविधाएं: मन्त्री गोपाल भार्गव

★ मल्टी सुपर स्पेशलिटी अस्पताल की तर्ज पर  
शुरू हुआ कोविड केयर सेंटर,

सागर ।  कोरोना संक्रमित मरीजों को अच्छी से अच्छी इलाज मुहैया कराना ही मेरा संकल्प है इसके लिए आज गढ़ाकोटा में 70 बिस्तरों का बागवान वृद्ध आश्रम में कोविड केयर सेंटर को मल्टी सुपर स्पेशलिटी अस्पताल की तर्ज पर प्रारंभ किया गया है। उक्त विचार मध्यप्रदेश शासन की लोक निर्माण मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने उद्घाटन के अवसर पर व्यक्त किए।
इस अवसर पर श्री मनोज चैरसिया, श्री अभिषेक भार्गव, अनुविभागीय अधिकारी श्री जितेंद्र पटेल तहसीलदार श्री कुलदीप पाराशर ,बीएमओ सीएमओ सहित अनेक गणमान्य नागरिक एवं डॉक्टर अधिकारी मौजूद थे।
मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने कहा कि जिले में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को देखते हुए एवं बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज जिला चिकित्सालय में बढ़ते भार  एव कोरोना संक्रमित मरीजों को समय पर इलाज मुहैया कराने के लिए  गढ़ाकोटा के  बागवान वृद्धि आश्रम में 70 बिस्तरों  का अत्याधुनिक मल्टी सुपर स्पेशलिटी अस्पताल की तर्ज पर को कोविड केअर  सेंटर प्रारंभ किया गया है आवश्यकता पड़ने पर इसमैं और भी पलंग बढ़ाए जायगे।
 मंत्री श्री भार्गव ने कहा कि इस को कोविड केअर  सेंटर में 24 घंटे विशेषज्ञ डॉक्टर पैरामेडिकल स्टाफ एवं वार्ड वाय तैनात रहेंगे। उन्होंने कहा कि भर्ती मरीजों एवं उनके परिजनों को गुणवत्ता युक्त खाना एवं शीतल पेयजल की व्यवस्था भी कराई गई है ।
मंत्री श्री भार्गव ने कहा कि कोविड केयर सेंटर में संलग्न डॉक्टर, पैरामेडिकल स्टाफ ,वार्ड बॉय  जो शासकीय हैं उनको शासन द्वारा पेमेंट किया जाएगा ।और जो निजी तौर पर रखे गए हैं उनको मेरे द्वारा स्वम्  भुगतान किया जाएगा। मंत्री श्री भार्गव ने कहा कि इस सेंटर में दो एंबुलेंस, सीटी स्कैन , एक्सरे,ऑक्सीजन सहित समस्त व्यवस्थाओं को उपलब्ध कराया गया है ।और सीटी स्कैन करके ही 4 घंटे के  अंदर ही इलाज प्रारंभ किया जाएगा। मंत्री श्री भार्गव ने कहा कि आवश्यकता पड़ने पर विधानसभा क्षेत्र में अन्य स्थानों पर भी इसी प्रकार के कोविड केयर सेंटर प्रारंभ कर दिए जाएंगे । मंत्री मंत्री श्री भार्गव ने कहा कि इस सेंटर में मनोरंजन के लिए टीवी एवं अन्य खेल सामग्री उपलब्ध कराई गई है
मंत्री श्री भार्गव ने कहा कि बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज एवं जिला चिकित्सालय में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या अत्यधिक बढ़ जाने के कारण व्यवस्थाओं को सशक्त  बनाया जा रहा है। 


---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

SAGAR : कोविड पाजिटिव मरीज लापता, ★ थामे में FIR दर्ज गुमशुदगी, बेटे का आरोप मेडिकल कालेज की लापरवाही ★ मेडिकल कालेज प्रबंधन ने दी DAMA स्लिप यानी बेहतर इलाज कराने डिस्चार्ज करा लें गए परिजन

SAGAR : कोविड पाजिटिव  मरीज लापता,
★ थामे में FIR दर्ज गुमशुदगी, बेटे का आरोप मेडिकल कालेज की लापरवाही
★ मेडिकल कालेज प्रबंधन ने दी DAMA स्लिप यानी  बेहतर इलाज कराने डिस्चार्ज करा लें गए परिजन


साग़र। सागर में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। कोविड के लक्षण मिलने पर मरीज को बीएमसी में भर्ती कराया गया। जब दो दिन से कोई खोज खबर नही मिली तो बेटा ने थाने में रिपोर्ट दर्ज करा दी गुमशुदगी की । उधर मेडिकल कालेज के मुताबिक़ मरीज को डिस्चार्ज कर दिया गया था। फिलहाल मरीज न तो घर पहुचा और न ही किसी हास्पिटल में । दिनभर से खोजबीन चल रही है । एक और लापरवाही सामने आई है। 

साग़र शहर के शास्त्री वार्ड निवासी मुन्ना लाल जैन के कोविड सम्बन्धी लक्षण मिलने पर उनके परिजनों ने  14 अप्रैल को  बुन्देलखण्ड मेडिकल कालेज में भर्ती कराया था। मुन्ना लाल के बेटे अंधुल के अनुसार पिताजी को खाना पानी देने के लिए बीएमसी जाता था। 18 अप्रैल के बाद जब कोई बातचीत नही हुई तो पता करना शुरू किया। पिछले दो दिनों से कोई जानकारी पिताजी के बारे में नही मिली। भटकता रहा। फिर बताया कि उसके पिताजी 19 अप्रैल को डिस्चार्ज कर दिए गए। उसकी रसीद भी दी। 
अंशुल का कहना है कि पिताजी को डिस्चार्ज करने सम्बन्धी कोई सूचना नही दी गई। कहीं  न कही प्रबंधन की लापरवाही है। इसकी फिर थाने में fir दर्ज कराई है । अंशुल अपने पिता से मिलने कोविड वार्ड तक चला गया। डॉक्टरों ने वहां बताया कि डिस्चार्ज हो गए। जबकि उसके द्वारा पहुचाया जा रहा सामान काउंटर पर सुबह तक लिया गया। 
अंशुल अपनी माँ पिता के साथ रह रहा था। उसकी बख्शी खाने में बेल्ट की दुकान । पूरे परिवार का बुरा हाल है। 
उधर बीएमसी ने गायब मुन्नालाल जैन के बेटे अंशुल को DAMA स्लिप देकर पल्ला झाड़ लिया है। इस स्लिप के मूताबिक मुन्नालाल के परिजन बेहतर इलाज के लिए डिस्चार्ज करा लें गए। 

---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------


ट्रेडमार्क उल्लंघन सूट में जब्त किए गए 1.5 करोड़ मूल्य के पानी के पंप

 ट्रेडमार्क उल्लंघन सूट में जब्त किए गए 1.5 करोड़ मूल्य के पानी के पंप

★ ट्रेडमार्क उल्लंघन की छापेमारी , बैंगलोर और शिमोगा (शिवमोगा) में अधिवक्ताओं की टीम ने

बेंगलोर । कैलामा एक्वा इंजीनियरिंग प्राइवेट लिमिटेड, बैंगलोर के खिलाफ, एक 60 वर्षीय कंपनी, इंदौर के कैलामा सेल्स प्राइवेट लिमिटेड, द्वारा दिल्ली कोर्ट में ट्रेडमार्क उल्लंघन का मुकदमा भरा गया था, जिसमें कैलाश एक्वा इंजीनियरिंग प्राइवेट लिमिटेड के परिसर में तलाशी के लिए एक स्थानीय आयुक्त को नियुक्त किया गया था।  , बैंगलोर और शिमोगा (शिवमोग्गा) में। कैलामा एक्वा प्रा.लि.  बंगलौर में एक मुख्य आउटलेट और शिमोगा (शिवमोग्गा) में अन्य आउटलेट हैं, जहां वे कलमा सेलस प्राइवेट लिमिटेड, इंदौर के ब्रांड कालमा का उपयोग करके पानी पंप और अन्य उत्पादों का निर्माण कर रहे हैं।

तीनबत्ती न्यूज़. कॉम
के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे


ट्वीटर  फॉलो करें


वेबसाईट


वादी के अधिवक्ता  अंकुर तिवारी और कंपनी के प्रतिनिधि  मुकेश मेहता की उपस्थिति में  वरुण खन्ना को बैंगलोर परिसर के लिए स्थानीय आयुक्त नियुक्त किया गया।अकेले शिमोगा (शिवमोग्गा) परिसर में कैलामा के ब्रांड नाम से 1.5 करोड़ रुपये के भारी मात्रा में पानी के पंप जब्त किए गए हैं।
शिमोगा (शिवमोग्गा) परिसर में छापेमारी वादी अधिवक्ता श्री विश्वजीत अहिरवार और आईपीआर के सलाहकार मिस नम्रता जैन और श्री विजय सोनी की मौजूदगी में की गई, जहाँ भारी मात्रा में पानी के पंप जब्त किए गए हैं।


---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

मंगलवार, 20 अप्रैल 2021

SAGAR : कोरोना कर्फ्यू 26 अप्रैल तक बढा, दिशा निर्देश जारी ★ कार्यालयों में दस फीसदी कर्मचारी ही काम करेंगे, बाकी वर्क फ्रॉम होम ★ किराना दुकानों से होम डिलीवरी पर संचालक को कोविड टेस्ट कराना जरूरी ★ ऑटो रिक्शा में दो और कार में तीन सवारी ही रहेंगी ★ वैवाहिक आयोजनों की सूचना थानों में, लेकिन बारात नही निकलेगी

SAGAR :  कोरोना कर्फ्यू 26 अप्रैल तक बढा, दिशा निर्देश जारी 
★  कार्यालयों में दस फीसदी कर्मचारी ही काम करेंगे, बाकी वर्क फ्रॉम होम
★ किराना दुकानों से होम डिलीवरी पर संचालक को कोविड टेस्ट कराना जरूरी
★ ऑटो रिक्शा में दो और कार में तीन सवारी ही रहेंगी 
★ वैवाहिक आयोजनों की सूचना थानों में, लेकिन बारात नही निकलेगी

साग़र। (तीनबत्ती न्यूज़ ) । कलेक्टर दीपक सिंह ने साग़र जिले के नगरीय और अन्य क्षेत्रों में कोरोना कर्फ्यू को 26 अप्रैल की सुबह तक के लिए बढा दिया है। इसके साथ नए दिशा निर्देश जारी किए है। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट सागर दीपक सिंह ने  जिला सागर अंतर्गत निम्नानुसार क्षेत्रों में समस्त सामाजिक / राजनैतिक/खेलकूद/मनोरंजन/शैक्षणिक / सांस्कृतिक/सार्वजनिक तथा धार्मिक गतिविधियों व आयोजनों के लिए लोगों का एकत्रित होना पूर्णतः वर्जित करने हेतु "कोरोना कर्फ़्फ्यू" आदेश
को दिनांक 26-04-2021 को प्रातः 06.00 बजे तक के लिए निरंतर रखने का आदेश जारी  किया है ।

इन क्षेत्रों में रहेगा कर्फ्यू

1. जिले के समस्त नगरीय क्षेत्रों - नगर निगम सागर, छावनी बोर्ड केंट, नगरीय निकाय मकरोनिया, शाहपुर,
राहतगढ़, सुरखी. बिलहरा, बांदरी, मालथौन, खुरई, बीना, देवरी, बण्डा, शाहगढ़, रहली, गढ़ाकोटा।

2. थाना क्षेत्र बहेरिया, सिविल लाइन, केंट, मोतीनगर एवं मकरोनिया की संपूर्ण सीमा ।

3. तहसील सागर अंतर्गत ग्राम पंचायत परसोरिया, सानौधा, नरयावली ढाना, कर्रापुर, जरूआखेड़ा, तहसील
रहली अंतर्गत ग्राम पंचायत पटना बुजुर्ग, चॉदपुर एवं तहसील गढ़ाकोटा अंतर्गत रोन, बलेह, चुनौआ बुजुर्ग,
तहसील खुरई अंतर्गत ग्राम पंचायत खिमलासा, तहसील मालथौन अंतर्गत बरौदिया, रजवास, उजनेट तहसील
बीना अंतर्गत मण्डी बामौरा, भानगढ़, कजिया, सिरचौथी, आगासौद तहसील राहतगढ़ अंतर्गत सिहौरा, झिला,
तहसील केसली अंतर्गत ग्राम पंचायत केसली, टड़ा, सहजपुर, तहसील देवरी अंतर्गत ग्राम पंचायत महाराजपुर,
गौरझामर, तहसील बण्डा अंतर्गत ग्राम पंचायत बरा, जमुनिया, सौरई, डिलाखेड़ी, बहरोल, तहसील शाहगढ़
अंतर्गत ग्राम पंचायत दलपतपुर, हीरापुर, विनायका, बरायठा, छानबीला, बराज, तहसील जैसीनगर अंतर्गत
ग्राम पंचायत जैसीनगर आदि की संपूर्ण सीमा।

इन गतिविधियों को कोरोना कर्फ्यू में प्रतिबंध से छूट रहेगी :

1. केन्द्र सरकार के अत्यावश्यक सेवाएं प्रदान करने वाले कार्यालयों को छोड़कर शेष कार्यालय 10 प्रतिशत
कर्मचारियों के साथ कार्यालय चलायें, शेष कर्मचारी "Work From Home" करेगें।

2. अत्यावश्यक सेवाएं देने वाले कार्यालय यथा जिला कलेक्ट्रेट, पुलिस, होमगार्ड, सिविल डिफेंस, अग्निशमन एवं आपात कालीन सेवायें, आपदा प्रबंधन, स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा, जेल, कोषालय, राजस्व, विद्युत आपूर्ति, पेयजल आपूर्ति, नगरीय प्रशासन, ग्रामीण विकास, सार्वजनिक परिवहन आदि को छोड़कर शेष कार्यालय 10 प्रतिशत कर्मचारियों के साथ कार्यालय चलायें, शेष कर्मचारी "Work From Home" करेगें।
राजस्व न्यायालयों में आकस्मिक परिस्थितियों को छोड़कर सुनवाई स्थगित रहेगी।

3. आईटी कंपनियों, बीपीओ/मोबाईल कंपनियों का सपोर्ट स्टॉफ एवं यूनिटस को छोड़कर शेष निजी कार्यालय भी 10 प्रतिशत कर्मचारियों के साथ अपना कार्य संपादित करेगें, शेष कर्मचारी "Work From Home" करेगें।

4. अन्य राज्यों/जिलो से माल, सेवाओं, नागरिकों का आवागमन 

5. अस्पताल, नर्सिग होम, केमिस्ट दुकाने, अन्य स्वास्थ्य एवं चिकित्सा सेवाएं।

6. समस्त किराना दुकान बंद रहेंगी।
 समस्त इच्छुक किराना व्यापारी आर्डर पर किराना सामग्री होम सप्लाई अधिकतम 20 रू0 के चार्ज पर संबंधित निवास पर कर सकेगें। इसके लिए वे पूर्व से होम डिलेवरी सेवा देने की सूचना, डिलेवरी बॉय की सूची सहित संबंधित थाना को देगें। संबंधित संचालक इस हेतु
अपने स्टाफ का कोविड टेस्ट अनिवार्यतः करायेगें।

7. किराना के थोक व्यापारी केवल खुदरा व्यापारियों को प्रातः 06.00 से 09.00 बजे तक सामान वितरित कर सकेगें।

8. पेट्रोल पम्प, बैंक एवं ATM. इनमें कैश डिलीवर करने वाले वाहन व स्टॉफ ।

9. बीमा कम्पनीज, वित्तीय संस्थान (जैसे मुथूट फायनेंस आदि) ।

10. डी0एन0सी0बी0, खेल परिसर के बाजू में, दीनदयाल नगर स्थित केन्द्रीय विद्यालय क्रमांक 2 के सामने
वाला मैदान में सब्जी/फल मण्डी 02 घण्टे प्रातः 07.00 बजे से 09.00 बजे तक खुलेगी। यहाँ के थोक विक्रेता केवल खुदरा सब्जी/फल विक्रय करने वाले विक्रेताओं को ही विक्रय करेगे ।

11. फल/सब्जी के ठेले, दूध वितरित करने वाले विभिन्न आवासीय क्षेत्रों में घर-घर फल/सब्जी/ दूध का वितरण कर सकेंगे।

12. दूध डेयरी/सांची पार्लर प्रातः 06.00 बजे से 09.00 बजे तक खुले रहेगे ।

13. औघोगिक मजदूरों, उद्योगों हेतु कच्चा / तैयार माल, उद्योगों के अधिकारियों/कर्मचारियों का आवागमन ।

14. एम्बुलेंस, फायर बिग्रेड, टेली कम्युनिकेशन, विद्युत प्रदाय, रसोई गैस, होम डिलेवरी सेवायें, दूध एकत्रीकरण
एवं वितरण के लिये परिवहन ।कार्यालयों/घरों में पानी के कैनन/कैम्पर का वितरण करने वाले वाहन आदि ।

15. सावर्जनिक वितरण प्रणाली की दुकाने ।
16. समस्त आटा चक्कियां खुली रहेगी।

17. इलेक्ट्रीशियन, प्लंबर, कारपेंटर आदि के द्वारा सेवा प्रदाय के लिये आवागमन। इस हेतु वे पूर्व से संबंधित थाने में सूचना देकर पावती हमेशा अपने पास रखेगें ।

18. निजी कंस्ट्रक्शन गतिविधियों (यदि मजदूर कंस्ट्रक्शन कैंपस/परिसर में रूके हो)।
19. विभिन्न शासकीय विभागों द्वारा किये/कराये जा रहे निर्माण कार्य । इस हेतु संबंधित एजेंसी के कार्मिकों को आवागमन हेतु परिचय पत्र विभागीय अधिकारी द्वारा दिये जायेगें। इस हेतु दैनिक निर्माण श्रमिकों का आवागमन । इस हेतु हार्डवेयर सामग्री के दुकानदार विभागीय अधिकारी के लिखित पत्र पर आवश्यक सामग्री दे सकेगें।

20. कृषि संबंधी सेवायें (जैसे किसी उपज मण्डी, उपार्जन केन्द्र, खाद बीज, कीटनाशक दवायें कस्टम हायरिंग
सेंटर, कृषि यंत्र की दुकाने आदि।) सागर जिले के सभी कृषक अपनी फसल कटाई, कृषि कार्य हेतु हार्वेस्टर ट्रेक्टर एवं अन्य मशीनी उपकरणों इत्यादि का पूर्ववत उपयोग कर सकेंगे । यदि उक्त उपकरणों में कोई खराबी आती है अथवा मरम्मत आवश्यक होती है, तो संबंधित मैकेनिक अथवा तकनीकी कर्मचारी
स्थल पर जाकर उक्त सुधार / मरम्मत कार्य कर सकेंगे ।
21. परीक्षा केन्द्र आने एवं जाने वाले प्रशिक्षार्थी तथा परीक्षा केन्द्र एवं परीक्षा आयोजन से जुड़े कर्मी, अधिकारीगण।

22. टीकाकरण व स्वास्थ्य सुविधाओं हेतु आवागमन कर रहे नागरिक/कर्मी।
23. राज्य शासन द्वारा फसलों के उपार्जन कार्य से जुड़े कर्मी तथा उपार्जन स्थल हेतु आवागमन कर रहे किसान बंधु ।
24. बस स्टेण्ड, रेल्वे स्टेशन, ढाना हवाई पट्टी से आने-जाने वाले नागरिक।

25. टी0वी0 केवल नेटवर्क से संबंधित व्यक्ति ।

तीनबत्ती न्यूज़. कॉम
के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे


ट्वीटर  फॉलो करें


वेबसाईट


26. एम.पी. ऑनलाईन के सेंटर व आधार कार्ड बनाने वाले केन्द्र ।

27. समाचार पत्र वितरण करने वाले हॉकर्स। प्रिंट एवं इलेक्ट्रानिक मीडिया में कार्यरत पत्रकारगण। इस हेतु वे अपने संस्थान द्वारा जारी अधिकृत परिचय पत्र साथ रखेगे।
28. यात्रियों के रूकने हेतु होटल। ये होटल अपने यहां रूकने वाले यात्रियों को केवल रूम में खाना सप्लाई करेंगे।

29. शव यात्रा में अधिकतम 20 व्यक्ति शामिल हो सकेगे।

30. लॉकडाउन अवधि के दौरान शादी समारोह वर पक्ष, वधु पक्ष एवं व्यवस्थापक सहित 50 से अधिक शामिल
नहीं होंगे। इस संबंध में संबंधित क्षेत्र के कार्यपालिक मजिस्ट्रेट/थाना प्रभारी आयोजक व सम्मिलित होने वाले व्यक्तियों की सूची प्राप्त होने पर अधिकतम 50 व्यक्तियों की सूची का अनुमोदन कर सकेगें । इस हेतु शादी घरों के संचालकों को संबंधित थाना में समारोह आयोजन की पहले से सूचना देनी होगी एवं बारात नहीं निकाली जायेगी। आयोजकों द्वारा आगंतुकों की थर्मल स्क्रीनिंग अनिवार्यतः कराई जायें ।

31. मेडिकल इमरजैसी हेतु दो पहिया एवं चार पहिया वाहनों का आवागमन। दो पहिया वाहन पर 02 व्यक्ति  व चार पहिया वाहन में वाहन चालक सहित अधिकतम 03 व्यक्ति रहेगें।

32. रेलवे स्टेशन / बस स्टेण्ड/अस्पताल/नर्सिंग होम से केवल यात्री/मरीजों को घर/अस्पताल तक लाने
ले जाने के लिये आटो/ई-रिक्शा चालन की अनुमति उपरोक्त स्थानों पर ही होगी। इनमें वाहन चालक सहित अधिकतम 03 व्यक्ति रहेगें।
33. धार्मिक स्थलों पर प्रातः काल एवं सायं काल अधिकतम 05 व्यक्ति अपने रीति रिवाज अनुसार उपासना कार्य संपादित कर सकेंगे।
34. यात्री बसों का संचालन कोविङ गाईडलाईन का पालन करते हुये यथावत चालू रहेगा।
35. विभिन्न एन0जी0ओ0/स्वंयसेवी संगठनों के कार्यकर्ता कोरोना महामारी के काल में किये जा रहे समाज सेवी कार्य हेतु आवागमन कर सकेगें ।
36. उपरोक्त छूट प्राप्त विभाग/संस्थान/दुकानदार/प्रतिष्ठान / नागरिक अनिवार्यतः सोशल डिस्टेसिंग के
नियम, मास्क आदि का कड़ाई से पालन करेंगे। सभी अपने संस्थान द्वारा जारी परिचय पत्र अनिवार्यतः साथ रखते हुए गले में प्रदर्शित करेगें।

इस आदेश का उल्लंघन करने वाले व्यक्ति के विरूद्ध भा०८०सं0 की धारा 188 एवं आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के
प्रावधानों के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी। यह आदेश तत्काल प्रभाव से लागू होगा।

---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------


साग़र: राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत भर्ती सूची जारी



साग़र: राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत भर्ती सूची जारी





साग़र। मुख्य स्वास्थ्य और चिकित्सा अधिकारी साग़र की जिला स्वास्थ्य समिति ने  संचालक राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन भोपाल के निर्देश पर भर्ती सम्बन्धी सूची जारी की है। यह भर्ती 31 मई तक रहेगी। 

देखे सूची। 






















---------------------------- 



www.teenbattinews.com




तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885



-----------------------------

वाराणसी: न इलाज मिला, न ही एंबुलेंस, बेटे के शव को ई-रिक्शा में ले जाने पर मजबूर हुई मां

वाराणसी: न इलाज मिला, न ही एंबुलेंस, बेटे के शव को ई-रिक्शा में ले जाने पर मजबूर हुई मां

वाराणसी: कोरोना वायरस के वीभत्स रूप ने वैसे तो कई परेशानियां सामने ला दी हैं लेकिन काशी की एक तस्वीर से प्रशासनिक तंत्र पर बड़े सवाल खड़े हो रहे हैं. वाराणसी में बेटे की मौत के बाद उसकी मां एक ई-रिक्शा में शव लेकर जाती दिख रही हैं.

दरअसल, जौनपुर निवासी इस मां का बेटा मुम्बई में काम करता था. लेकिन किडनी की समस्या का इलाज कराने वह वाराणसी आया था. पहले वह बीएचयू गया लेकिन वहां एडमिट नहीं किया गया. लिहाजा निराश होकर ककरमत्ता के निजी चिकित्सालय गया जहां पर भी इसे निराशा हाथ लगी. शरीर ने साथ छोड़ा तो मां के गोद का लाल उसके पैरों में दम तोड़ गया.

शव घर ले जाने के लिए नहीं मिली एम्बुलेंस


किसी ने सोचा नहीं था कि जीते जी एम्बुलेंस से परहेज करने वाले शरीर को प्राण छोड़ने के बाद भी एम्बुलेंस मयस्सर नहीं होगी. लेकिन वाराणसी में ये हुआ है और इसकी हृदय विदारक तस्वीर भी सामने आ गयी है. बेटा मां के पैरों तले इलाज के अभाव में दम तोड़ देता है और मां मृत बेटे को ले जाने के लिए एम्बुलेंस खोजती है. जब कुछ नहीं मिलता तब ई-रिक्शे पर बेटे के शव को लेकर अंतिम संस्कार के लिए घर निकल जाती है.

साभार : एबीपी न्यूज़

निग्रंथ सेंटर ऑफ आर्कियोलॉजी द्वारा विश्व धरोहर दिवस का आयोजन

निग्रंथ सेंटर ऑफ आर्कियोलॉजी द्वारा विश्व धरोहर दिवस का आयोजन

सागर, ।  निग्रंथ सेंटर ऑफ  आर्कियोलॉजी एवं आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया जबलपुर एवं औरंगाबाद मंडल द्वारा संयुक्त तत्वाधान में विश्व धरोहर दिवस के अवसर पर राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया।
 दीप प्रज्वलन   टी के वेद एवं जिनेंद्र जैन द्वारा किया गया। मंगलाचरण डॉ रंजना पटोरिया, कटनी द्वारा किया गया।
 प्रस्तावना उद्बोधन एवं राष्ट्रीय संगोष्ठी के संयोजक डॉ यतीश जैन द्वारा विश्व धरोहर दिवस के संबंध में विस्तार से जानकारी दी गई। कार्यक्रम की उपादेयता एवं वर्तमान समय में इसकी आवश्यकता पर बल दिया गया।
उद्घाटन भाषण  भारतवर्षीय दिगंबर जैन तीर्थ संरक्षणी महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष  निर्मल सेठी द्वारा दिया गया। जिसमें महासभा का कार्य एवं निगंथ सेंटर आफ आर्कियोलॉजी के उद्देश्यों के बारे में जानकारी दी गई ।
 कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डॉ सुजीत जी नयन, सुपरिंटेंडेंट आर्कियोलॉजिस्ट द्वारा जबलपुर मंडल में पुरातत्व विभाग द्वारा किए जा रहे कार्यों के बारे में विस्तार से जानकारी दी और पुरातात्विक धरोहर को कैसे संरक्षित करना है इसके बारे में लोगों को अवगत कराया गया।
                कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि डॉ मिलन कुमार चावले सुपरिंटेंडेट आर्कियोलॉजिस्ट औरंगाबाद मंडल द्वारा किए जा रहे कार्यों को बारे में एवं विश्व धरोहर एलोरा के संबंध में जैन पुरातत्व के बारे में जानकारी दी गई साथ ही दौलताबाद के पास उत्खनन में प्राप्त जैन मंदिर एवं गुफाओं के संरक्षण के संबंध में विस्तार से लोगों को जानकारी दी गई। जबलपुर से इंजीनियर के सी जैन द्वारा 'तमिलनाडु में जैन विरासत धरोहर दुर्गम रहे एवं अनिश्चित भविष्य' विषय पर विस्तार से चर्चा की गई। प्रसिद्ध वक्ता प्रोफेसर लक्ष्मीचंद जैन द्वारा 'जैन धर्म का पुरातात्विक वैभव' विषय पर जानकारी श्रोताओं को दी गई।
 'नोहटा दमोह का पुरातत्व संबंधी जानकारी जबलपुर मान कुवंरबाई महाविद्यालय की इतिहास विभाग के प्राध्यापक रंजना जैन द्वारा दी गई । 'विश्व धरोहर दिवस एवं सिंधु घाटी सभ्यता एवं जैन धर्म' के विषय पर डॉ रंजना पटोरिया, कटनी द्वारा अपना शोध पत्र प्रस्तुत किया गया।
तीनबत्ती न्यूज़. कॉम
के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे


ट्वीटर  फॉलो करें


वेबसाईट

कार्यक्रम में आभार प्रदर्शन  राजकुमार जैन सेठी, कोलकाता, महामंत्री  भारतवर्षीय दिगंबर जैन महासभा द्वारा दिया गया। इसके साथ ही एडवोकेट अमिताभ भारती, कोषाध्यक्ष द्वारा जबलपुर मंडल श्री भारतवर्षीय दिगंबर जैन महासभा की ओर से धन्यवाद ज्ञापन दिया गया । इस अवसर पर महासभा के सचिव जिनेंद्र जैन द्वारा भी महत्वपूर्ण सहयोग दिया गया।  ऑनलाइन वेबीनार के संयोजक समिति के सदस्य  जिनेंद्र जैन सचिव, सीए संजय सिंघई सतना, उपाध्यक्ष,  पिंकेश पटोरिया परासिया छिंदवाड़ा, उपाध्यक्ष, अवनीश संघी सागर,  विकास जैन जबलपुर सह सचिव, श्री सतीश जैन सह सचिव सागर, एडवोकेट अमिताभ भारती जबलपुर, प्राध्यापक तारेन्द्र जैन छतरपुर, प्राध्यापक दीपिका जैन कटनी, प्राध्यापक ज्योति जैन जबलपुर, प्राध्यापक रंजना जैन जबलपुर, प्राध्यापक दीप्ति संघी सागर, प्राध्यापक समता जैन जबलपुर, श्रीमती नीलांजना जैन एवं इंजीनियर सुनील जैन नरसिंहपुर द्वारा कार्यक्रम को सफल बनाने में विशेष सहयोग प्रदान किया गया।  कार्यक्रम का संचालन डॉ यतीश जैन द्वारा किया गया एवं तकनीकी सहयोग  पारस जैन  नासिक द्वारा किया गया।

---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

सरकार फेल,उच्च न्यायालय को कहना पड़ा कुछ करिये ★ मानवता हमारी ओर आशा और विश्वास से देख रही है ★कांग्रेसजन सेवा और राष्ट्र निर्माण की अपनी प्रतिबद्धता पर चलते रहें-पूर्व सीएम कमलनाथ

सरकार फेल,उच्च न्यायालय को कहना पड़ा कुछ करिये
★ मानवता हमारी ओर आशा और विश्वास से देख रही है
★कांग्रेसजन सेवा और राष्ट्र निर्माण की अपनी प्रतिबद्धता पर चलते रहें-पूर्व सीएम कमलनाथ

भोपाल। पूर्व सीएम कमलनाथ ने एक बयान में कहा है कि कोरोना संकट काअभी जो समय है वह घड़ी हमें प्रेरित कर रही है कि सभी कांग्रेसजन सजगता और सावधानी और कोविड गाईडलाईन्स के पालन  के साथ उन मरीजों की सेवा में जुट जायें जिनको हमारी जरूरत है। सेवा और समर्पण का रास्ता हमें गांधी जी ने सिखाया था अब कांग्रेस जनों को उसी भूमिका का निर्वाह करना है । कांग्रेस का गौरवशाली इतिहास सेवा,समर्पण और देश निर्माण का रहा है। आज फिर वही घड़ी हमें ऐसा समय दिखा रही है, जब कांग्रेसजनों को उसी भूमिका का निर्वाह करना पड़़ रहा है और आगे भी करना पड़ेगा जिसके लिए कांग्रेस प्रतिबद्ध है।
आप सभी से मेरा आव्हान है कि कोई कुछ भी कहे,आपकी विचारधारा पर आरोप लगाये,आपकी सेवाभावना पर सवाल उठाये, लेकिन उन  बातों पर ध्यान नहीं देना है। व्यक्तिगत सावधानी बरतते हुए उस कर्तव्य पथ पर आगे बढ़ते रहना है जो जनता जनार्दन की सेवा और सहायता का मार्ग है।
उन्होंने कहा था कि  जो जहां है और जिसकी जितनी सामर्थ्य है वह  अपने तन-मन और धन से संकट की इस घड़ी में लोगों की सहायता करे। उन्हें उम्मीद बंधाये और मदद करे।  जिनके हाथों में सत्ता है वे इस संकटकाल में पूरी तरह विफल नज़र आ रहे हैं।वे केवल गाल बजा रहे हैं । जब हम उन्हें इस बात की ताकीद करते हैं तो वे जनता की सुध बुध छोड़कर हमें ही दोषी ठहराने में लग जाते हैं।   कांग्रेसजन जिस कर्तव्य भावना के साथ बढ़ रहे हैं,उसे ही एकमात्र ध्येय मानकर सावधानी,सुरक्षा,सजगता के साथ लोगों की सेवा करते रहें।
प्रदेश की पहले से चरमरायी स्वास्थ व्यवस्था अब तो पूरी ध्वस्त हो चुकी है। माननीय उच्च न्यायालय को भी हस्तक्षेप कर यह कहना पड़ा है कि सरकार इस मामले में कुछ नहीं कर पा रही है।
"जनता मेरी भगवान,प्रदेश मेरा मंदिर  और मैं पुजारी चौहान" कहने वाले शिवराज सिंहजी  ने अपना रूप दिखा दिया है और जनता को तिल तिल मरने छोड़ दिया है।लोग प्राणवायु के अभाव में जान गंवा रहे हैं।दवाई और इंजेक्शन नहीं मिल  रहे हैं।सरकारी अस्पतालों से इंजेक्शन भी चोरी हो रहे हैं ।अब तो भाजपा के लोग ही इस चौपट व्यवस्था पर उंगली उठा रहे हैं।

तीनबत्ती न्यूज़. कॉम
के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे


ट्वीटर  फॉलो करें


वेबसाईट


यह समय लोगों की सेवा और मदद करने का है

कमलनाथ ने कहा कि  आप सभी जानते हैं कि भाजपा द्वारा कुटिलता से लोगों को बरगला कर  सत्ता तो प्राप्त की जा सकती है पर वह जज़्बा नहीं लाया जा सकता जो हर सच्चे कांग्रेसी के खून की पहचान है। 
उंगली कटाकर शहीद होने का दम भरने वाले लोग इस बात को कभी नहीं समझेंगे कि कांग्रेस क्या है?वे  कांग्रेस पर हमेशा कीचड़ उछालते रहते हैं।हमें इन सभी बातों से विचलित नहीं होना है। 
वैसे तो व्यक्तिगत स्तर पर हर कांग्रेसी लोगों की मदद  कर ही रहा है,हमें आगे भी करते रहना है।यही समय का तकाजा है। अपने संपर्कों का उपयोग कर आप लोगों को आक्सीजन,इंजेक्शन व दवाई उपलब्ध कराये और अन्य जरूरत की वस्तुयें मुहैया करायें।मानवता आपकी ओर आशा से देख रही है । आइए हम  मिल-जुल कर सेवा केपथ पर आगे बढ़ें और आरोपों से अविचलित रहकर अपना कर्तव्य निभाकर मानव सेवा की प्रतिबद्धता को दुहरायें।


---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

बीएमसी में बीते 24 घण्टे में दो दर्जन से अधिक मौतें ★ बीएमसी के चारों फ्रीजर खराब, शवों को जमीन पर रखना पड़ रहा। गर्मी में कई शव 18 से 20 घण्टे में सड़ने की कगार पर पहुंच रहे। ★ अव्यवस्थाओं से परेशान शव प्रबंधन प्रभारी ने आहत होकर दिया इस्तीफा @ चैतन्य सोनी

बीएमसी में बीते 24 घण्टे में  दो दर्जन से अधिक मौतें

★ बीएमसी के चारों फ्रीजर खराब, शवों को जमीन पर रखना पड़ रहा। गर्मी में कई शव 18 से 20 घण्टे में सड़ने की कगार पर पहुंच रहे।

★ अव्यवस्थाओं से परेशान शव प्रबंधन प्रभारी ने आहत होकर दिया इस्तीफा

@ चैतन्य सोनी

सागर। कोरोना से भयावह स्थिति बनती जा रही है। अकेले बुन्देलखण्ड मेडिकल कॉलेज में बीते 24 घण्टों के दौरान 24 से अधिक मरीजों की मौत हुई है। इनमें से अधिकांश कोविड अस्पताल में भर्ती थे। मर्चुरी के चारों फ्रीजर खराब पड़े हैं। शव सड़ने तक कि कगार पर पहुंच रहे हैं। अव्यवस्थाओं व सहयोग  न मिलने के बाद शव प्रबन्धन में जुटे मर्चुरी प्रभारी डॉक्टर शैलेन्द्र पटेल ने प्रभारी के पद से इस्तीफा दे दिया है। 

बीएमसी की मर्चुरी के हालात काफी खराब हो गए हैं। यहां शव रखने की जगह नहीं बची है। डेड बॉडी रखने की जगह नहीं बची है। कोरोना रिपोर्ट के इंतजार में कई कोविड अस्पताल के मृतकों की देह को 10 से 20 घण्टे तक रखना पड़ रहा है, यहां शव रखे रखे डिस्पोज होने तक कि नौबत बन रही है। मंगलवार रात से दोपहर तक यहां 23 शव पहुंच चुके थे। 


तीनबत्ती न्यूज़. कॉम
के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे


ट्वीटर  फॉलो करें


वेबसाईट

चारों फ्रीजर बन्द, विभागाध्यक्ष ने नहीं दिया वर्क ऑर्डर

 सूत्रों के अनुसार बीएमसी की मर्चुरी में शवों को रखने के लिये 4 फ्रीजर हैं। लेकिन ये कई महीनों से बंद पड़े हैं। पूर्व में इन्हें सुधरवाया गया था, लेकिन पैमेंट नहीं किया गया। बीते दिनों पुनः फ्रीजर सुधरवाने के कर्मचारी आया था, लेकिन फोरेंसिक मेडिसिन विभाग के एचओडी द्वारा लिखित में वर्क ऑर्डर न दिए जाने से वह वापस चला गया। पुराना भुगतान भी नहीं किया गया। 
इधर सुनवाई न होने, बार बार लिखने के बावजूद व्यवस्थाओं में सुधार नहीं होने, फ्रीजर न सुधरवाने शव प्रबन्धन कमेटी के अन्य सदस्यों के निष्क्रिय होने से आहत होकर शव प्रबन्धन व मर्चुरी के काम से इस्तीफा दे दिया है।


मामले में बीएमसी डीन डॉक्टर आरएस वर्मा का कहना है कि नया फ्रीजर ऑर्डर कर दिया है। पुराने भी सुधरवाये जा रहे हैं।

यहां बता दे साग़र में कोरोना संक्रमण तेजी से बढा है। व्यवस्थाएं सुधारने के नाम पर मंत्रियों , विधायको और प्रशासन के सिर्फ दौरे, निरीक्षण और बैठके भर है। कई व्यवस्थाएं सुधरी तक नही है। 

---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------


सागर : साहित्य एवं चिंतन साहित्य साधिका डॉ. विद्यावती ‘मालविका’ ★ डॉ. विद्यावती ‘मालविका’ आज ब्रह्मलीन हुई, उनको याद करती साहित्यकार बेटी डॉ. वर्षा सिंह

सागर : साहित्य एवं चिंतन
साहित्य साधिका डॉ. विद्यावती 'मालविका' 

★ डॉ. विद्यावती 'मालविका' आज ब्रह्मलीन हुई, उनको याद करती  साहित्यकार बेटी डॉ. वर्षा सिंह


डॉ. विद्यावती 'मालविका' सागर नगर की एक ऐसी साहित्यकार हैं जिनका साहित्य-सृजन अनेक विधाओं, यथा- कहानी, एकांकी, नाटक एवं विविध विषयों पर शोध प्रबंध से ले कर कविता और गीत तक विस्तृत है। लेखन के साथ ही चित्रकारी के द्वारा भी उन्होंने अपनी मनोभिव्यक्ति प्रस्तुत की है। सन् 1928 की 13 मार्च को उज्जैन में जन्मीं डॉ. विद्यावती 'मालविका' ने अपने जीवन के लगभग 6 दशक बुन्देलखण्ड में व्यतीत किए हैं, जिसमें 30 वर्ष से अधिक समय से वे मकरोनिया, सागर में निवासरत हैं। डॉ. 'मालविका' को अपने पिता संत ठाकुर श्यामचरण सिंह एवं माता श्रीमती सुमित्रा देवी "अमोला" से साहित्यिक संस्कार मिले। पिता संत श्यामचरण सिंह एक उत्कृष्ट साहित्यकार एवं गांधीवादी स्वतं़त्रता संग्राम सेनानी थे। उन्होंने छत्तीसगढ़ क्षेत्र में अस्पृश्यता उन्मूलन एवं नशाबंदी में उल्लेखनीय योगदान दिया था। डॉ. विद्यावती अपने पिता के विचारों से अत्यंत प्रभावित रहीं और उन्होंने 12-13 वर्ष की आयु से ही साहित्य सृजन आरम्भ कर दिया था। बौद्ध धर्म एवं प्रणामी सम्प्रदाय पर उन्होने विशेष अध्ययन एवं लेखन किया।

डॉ. विद्यावती 'मालविका' का जीवन  संघर्षमय

डॉ. विद्यावती 'मालविका' का जीवन अत्यंत संघर्षमय रहा। दो बेटियों के जन्म के कुछ समय बाद ही उन्हें वैधव्य का असीम दुख सहन करना पड़ा, किन्तु वे अपने कर्त्तव्य से विमुख नहीं हुईं। ससुराल पक्ष से कोई सहायता न मिलने पर उन्होंने शिक्षिका के रूप में आत्मनिर्भरतापूर्वक अपने वृद्ध पिता को सहारा दिया और अपने अनुज कमल सिंह को पढ़ा-लिखा कर योग्य बनाया जो कि आदिम जाति कल्याण विभाग मघ्यप्रदेश शासन के हायर सेकेंडरी स्कूल के प्राचार्य पद से सेवानिवृत्त हुए। डॉ. विद्यावती ने अपने बलबूते पर अपनी दोनों पुत्रियों वर्षा सिंह और शरद सिंह का लालन-पालन कर उन्हें उच्च शिक्षित किया। उन्होंने व्याख्याता के रूप में मध्यप्रदेश शासन के शिक्षा विभाग में उज्जैन, रीवा एवं पन्ना आदि स्थानों में अपनी सेवाऐं दीं और सन् 1988 में सेवानिवृत्त हुईं। वे शासकीय सेवा के साथ ही लेखन एवं शोध कार्यां में सदैव संलग्न रहीं। स्वाध्याय से हिन्दी में एम.ए. करने के उपरांत सन् 1966 में आगरा विश्वविद्यालय से उन्होंने ''मध्ययुगीन हिन्दी संत साहित्य पर बौद्ध धर्म का प्रभाव'' विषय में पीएच.डी. की उपाधि प्राप्त की। पीएच.डी. में उनके शोध निर्देशक (गाइड) हिन्दी तथा बौद्ध दर्शन के प्रकाण्ड विद्वान राहुल सांकृत्यायन एवं पाली भाषा तथा बौद्ध दर्शन के अध्येता डॉ. भिक्षु धर्मरक्षित थे। उनका यह शोध प्रबंध आज भी युवा शोधकर्ताओं के लिए दिशानिर्देशक का काम करता है। 

उनकी प्रकाशित पुस्तके

इनकी अब तक अनेक पुस्तकें प्रकाशित हो चुकीं हैं जिनमें प्रमुख हैं - कामना, पूर्णिमा, बुद्ध अर्चना (कविता संग्रह) श्रद्धा के फूल, नारी हृदय (कहानी संग्रह), आदर्श बौद्ध महिलाएं, भगवान बुद्ध (जीवनी) बौद्ध कलाकृतियां (पुरातत्व), सौंदर्य और साधिकाएं (निबंध संग्रह), अर्चना (एकांकी संग्रह), मध्ययुगीन हिन्दी संत साहित्य पर बौद्ध धर्म का प्रभाव, महामति प्राणनाथ-एक युगान्तरकारी व्यक्तित्व (शोध ग्रंथ) आदि। ''आदर्श बौद्ध महिलाएं'' पुस्तक का बर्मी एवं नेपाली भाषाओं में अनुवाद प्रकाशित हुआ।


तीनबत्ती न्यूज़. कॉम
के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे


ट्वीटर  फॉलो करें


वेबसाईट

कई पुरस्कारों से हुई सम्मानित

डॉ. 'मालविका' को हिन्दी साहित्य सेवा के लिए अनेक पुरस्कार एवं सम्मान प्राप्त हुए। जिनमें उल्लेखनीय हैं- सन् 1957 में स्वतंत्रता संग्राम शताब्दी सम्मान समारोह में मध्यप्रदेश शासन का साहित्य सृजन सम्मान, सन् 1958 में उत्तरप्रदेश शासन का कथा लेखन सम्मान, सन् 1959 में उत्तरप्रदेश शासन का जीवनी लेखन सम्मान, सन् 1964 में मध्यप्रदेश शासन का कथा साहित्य सम्मान, सन् 1966 में मध्यप्रदेश शासन का मीरा पुरस्कार प्रदान किया गया। सेवानिवृत्ति के बाद भी डॉ. विद्यावती ने अपना लेखन सतत् जारी रखा। उनके इस साहित्य के प्रति सर्मपण को देखते हुए उन्हें सन् 1998 में महारानी लक्ष्मीबाई शास. उ.मा. कन्या विद्यालय क्रमांक-एक, सागर द्वारा ''वरिष्ठ साहित्यसेवी सम्मान'', सन् 2000 में भारतय स्टेट बैंक सिविल लाइनस् शाखा सागर द्वारा ''साहित्यसेवी सम्मान'', वर्ष 2007 में मध्यप्रदेश हिन्दी साहित्य सम्मेलन सागर द्वारा ''सुंदरबाई पन्नालाल रांधेलिया स्वतंत्रता संग्राम सेनानी सम्मान'' एवं सन् 2016 में हिन्दी दिवस पर श्यामलम् संस्था सागर द्वारा ''आचार्य भगीरथ मिश्र हिन्दी साहित्य सम्मान'' से सम्मानित किया गया। 

उल्लेखनीय है कि अनेक महत्वपूर्ण ग्रंथों में डॉ. विद्यावती 'मालविका' का ससम्मान उल्लेख किया गया है, यथा :- मध्यभारत का इतिहास (चतुर्थ खंड), बुद्ध की देन, हिन्दी की महिला साहित्यकार , आधुनिक हिन्दी कवयित्रियों के प्रेमगीत, मध्यप्रदेश के साहित्यकार, रेत में कुछ चिन्ह, डॉ. ब्रजभूषण सिंह 'आदर्श' सम्मान ग्रंथ आदि। उनकी कुछ पुस्तकें इंटरनेट पर भी पढ़ी जा सकती हैं। नाट्यशोध संस्थान, कोलकता में उनका एकांकी संग्रह '''अर्चना' संदर्भ ग्रंथ के रूप में पढ़ाया जाता है। इसी प्रकार नव नालंदा महाविहार, नालंदा, सम विश्वविद्यालय, बिहार के एम.ए. हिन्दी पाठ्यक्रम के चौथे प्रश्नपत्र बौद्ध धर्म- दर्शन और हिन्दी साहित्य के अंतर्गत ''मध्ययुगीन हिन्दी संत साहित्य पर बौद्ध धर्म का प्रभाव'' ग्रंथ पढ़ाया जाता है।

बुन्देलखण्ड पर विशेष लेखन कार्य करते हुए डॉ. विद्यावती ने ''दैनिक भास्कर'' के सागर संस्करण में वर्ष 1997-98 में सागर संभाग की कवयित्रियां शीर्षक धारावाहिक लेखमाला तथा वर्ष 1998-99 में बुंदेली शहीद महिलाओं पर आधारित ''कलम आज उनकी जय बोल'' शीर्षक धारावाहिक लेखमाला लिखी। इसके साथ ही दैनिक ''आचरण'' सागर में बुन्देली इतिहास, साहित्य, संस्कृति एवं वैभव से संबंधित अनेक लेख प्रकाशित हुए हैं। आकाशवाणी के इंदौर, उज्जैन, भोपाल एवं छतरपुर केन्द्रों से उनके रेडियो नाटकों का धारावाहिक प्रसारण किया जाता रहा है। उनकी कविताओं का नियमित रूप से पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशन होता रहा है। अपने बुजुर्गों से मिली साहित्य सृजन की इस परम्परा को डॉ. विद्यावती ने न केवल अपनाया अपितु अपनी दोनों पुत्रियों को भी साहित्यिक संस्कार दिए। उनकी बड़ी पुत्री (यानी मैं) डॉ. वर्षा सिंह हिन्दी गजल में एक विशेष स्थान बना चुकी हैं तथा छोटी पुत्री डॉ. (सुश्री) शरद सिंह उपन्यास एवं कथा लेखन के क्षेत्र में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ख्याति अर्जित कर चुकी हैं।

आज हुई ब्रम्हलीन डॉ विद्यावती

डा. वर्षा सिंह, डा. शरद सिंह की मां साहित्य कार डा.विद्यावती सिंह मालविका 93 वर्ष की आयु में आज सुबह 9.30 पर ब्रम्हलीन हो गयीं है। हृदयाघात के बाद सुयश अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था। पिछले कई दिनों से साहित्यकार दोनो बहिने अपनी माँ की सेवा में लगी हुई थी। उनके निधन से साहित्य जगत को अपूरणीय क्षति पहुची है। उनके निधन पर साहित्यप्रेमियों, शुभचिन्तको और जनप्रतिनिधियों ने शोक व्यक्त किया है। 


---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

सोमवार, 19 अप्रैल 2021

MP : एकमुश्त फ्री दिया जाएगा तीन माह का राशन: प्रमुख सचिव खाद्य

MP : एकमुश्त फ्री दिया जाएगा तीन माह का राशन: प्रमुख सचिव खाद्य
 
भोपाल। राज्य शासन द्वारा जारी आदेशानुसार राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम-2013 के तहत पात्र हितग्राहियों को उचित मूल्य दुकानों से नियमित खाद्यान्न वितरण किए जाने वाले राशन को बिना बॉयोमेट्रिक सत्यापन के तीन माह का राशन एकमुश्त नि:शुल्क वितरित किया जाएगा। प्रमुख सचिव खाद्य श्री फैज़ अहमद किदवई ने कहा कि कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग एवं अन्य सावधानियों का पालन करते हुए राशन का वितरण किया जाएगा।

अप्रैल से जून तक का एकमुश्त राशन नि:शुल्क

राशन वितरण के अंतर्गत पात्र परिवारों को माह अप्रैल, मई एवं जून 2021 का राशन नि:शुल्क एकमुश्त माह अप्रैल 2021 में प्रदान किया जाएगा। जिन हितग्राहियों ने अप्रैल एवं मई का राशन प्राप्त कर लिया है, उन्हें माह जून का राशन नि:शुल्क प्रदान किया जाएगा। जिन दुकानों पर राशन की कमी हो, वहाँ तुरंत राशन की प्रतिपूर्ति कराई जाएगी। अभी माह जून का राशन दुकानों को जारी नहीं किया गया वहाँ भी तुरंत राशन की प्रतिपूर्ति की जाएगी।

पीओएस मशीनों से होगा राशन वितरण

आदेशानुसार पात्र हितग्राहियों को पीओएस मशीन से ही राशन का वितरण किया जाएगा। उचित मूल्य दुकान पर राशन वितरण के लिए सक्षम शासकीय अधिकारी/ कर्मचारी की नियुक्ति की जाकर उनकी उपस्थिति में राशन वितरित करायेंगे एवं राशन प्राप्त करने वाले हितग्राहियों की सूची जिला आपूर्ति नियंत्रक या अनुविभागीय अधिकारी को उपलब्ध करायेंगे। हितग्राहियों को राशन वितरण के उपरांत पावती भी दी जाएगी।

वृद्धजनों को आशीर्वाद योजना के तहत राशन

वृद्धजनों एवं नि:शक्त हितग्राहियों को उचित मूल्य की दुकान से आशीर्वाद योजना के अंतर्गत राशन उनके घर तक नामित व्यक्ति द्वारा पहुँचाए जाने की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा हितग्राहियों को पोर्टेबिलिटी की सुविधा नहीं रहेगी। यदि वे पोर्टेबिलिटी का लाभ चाहते हैं तो उन्हें बायोमैट्रिक सत्यापन के बाद ही राशन दिया जाएगा।

कोरोना संक्रमण को देखते हुए उचित मूल्य की दुकान पर भीड़ नहीं बढ़े इसके लिए दुकान के समय में वृद्धि की जाएगी। दुकान प्रतिदिन समय पर खुले यह भी सुनिश्चित किया जाएगा। वितरण में किसी भी प्रकार की गड़बड़ी पाए जाने पर कठोरतम कार्रवाई की जाएगी।


---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

किशोर न्याय बोर्ड और बाल कल्याण समिति के सदस्यों ने किया कार्यभार ग्रहण

किशोर न्याय बोर्ड और बाल कल्याण समिति के सदस्यों ने किया कार्यभार ग्रहण
★ बाल संरक्षण अधिकारी रचना बुधौलिया ने बताई कार्यो की बारीकियां

सागर। हाल ही में चयनित किशोर न्याय बोर्ड और बाल कल्याण समिति के अशासकीय सदस्यों ने सोमवार को बाल संरक्षण अधिकारी एवं जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला बाल विकास रचना बुधौलिया के निर्देशन में अपना कार्यभार ग्रहण किया। जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला बाल विकास विभाग के कार्यालय में आयोजित कार्यभार ग्रहण समारोह में बाल संरक्षण अधिकारी रचना बुधौलिया ने किशोर न्याय बोर्ड और बाल कल्याण समिति के लिये चयनित सदस्यों को बधाई दी और कार्यभार ग्रहण कराया। गौरतलब है कि किशोर न्याय बोर्ड के अशासकीय सदस्य के रूप में सुश्री वंदना तोमर और श्रीमती मंजूमाला सिंह का चयन किया गया है वहीं बाल कल्याण समिति सदस्य के रूप में चंद्रप्रकाश शुक्ला अध्यक्ष, डॉ. अमित कुमार अग्रवाल, आनंद मोहन नायक, श्रीमती क्लीं राय, श्रीमती स्वाति खरे का सदस्य के रूप में चयन किया गया है।

तीनबत्ती न्यूज़. कॉम
के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे


ट्वीटर  फॉलो करें


वेबसाईट

 कार्यभार ग्रहण करने के दौरान डीपीओ रचना बुधौलिया ने सभी सदस्यों को उनके कार्यो के बारे में समझाया साथ ही आगे एक दूसरे के सहयोग से बच्चों और किशोरों के हित में कार्य करने के लिये हमेशा सामंंजस्य बनाये रखने और न्याय निर्णयन के हितों को पूरा करने की बात कही। डीपीओं रचना बुधौलिया ने बाल कल्याण समिति और किशोर न्याय बोर्ड के सदस्यों के साथ हमेशा तत्परता पूर्वक काम करने की बात कही।

---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------


बीएमसी परिसर में कोरोना हेल्प- डेस्क की शुरूआत , तीन शिफ्टों में रहेंगे अधिकारी - कर्मचारी, डेस्क के फोन नम्बर हुए जारी

बीएमसी परिसर में कोरोना हेल्प- डेस्क की शुरूआत , तीन शिफ्टों में रहेंगे अधिकारी - कर्मचारी,  डेस्क के फोन नम्बर हुए जारी

 
सागर । कोरोना संक्रमण वायरस बढ़ते संक्रमण को देखते हुये कोविड मरीजो के परिजनो सहित अन्य नागरिकों की सुवधिा को दृष्टिगत रखते हुये बुन्देलखण्ड मेडीकल कालेज परिसर में कोरोना हेल्प  
डेस्क की शुरूआत विधायकशैलेन्द्र जैन, निगमायुक्त आर.पी.अहिरवार ,अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक  विक्रमसिंह कुशवाहा, एम.डी.एम. पवन बारिया, सी.एस.पी. मनभरण प्रसाद प्रजापति, उपायुक्त डाॅ.प्रणय कमल खरे, गोपालगंज टी.आई.श्रीमति उपमासिंह, एन.यू.एल.एम.सिटी मैनेजर  सचिन मसीह, बी.एस.सी.के डाक्टर एवं अधिकारी तथा स्वयंसेवी संस्था के सदस्यों एवं नागरिकों की उपस्थिति में  हुई।
नगर विधायक  ने बी.एम.सी.परिसर में प्रांरभ किये गये हेल्प डेक्स में उपस्थित मरीजों के परिजनों की इलाज संबंधी समस्यायें सुनी और उनका निराकरण मौके पर किया तथा उन्हें बी.एम.सी.में उपलब्ध सुविधाओं की जानकारी देकर और उनके निराकरण किये जाने हेतु बी.एम.सी.के अधिकारियों को निर्देशित किया। उन्होंने हेल्प डेस्क के माध्यम से कोविड मीराजों और उनके परिजनों हेतु जो सहायता प्रदान हो सके अधिक से अधिक सहायता दिलाये जाने हेतु संबंधित बी.एम.सी.के अधिकारियों से चर्चा की।


तीनबत्ती न्यूज़. कॉम
के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे


ट्वीटर  फॉलो करें


वेबसाईट

नगर निगम आयुक्त  आर.पी.अहिरवार ने बुन्देलखण्ड मेडीकल कालेज में बनाये गये कोरोना हेल्प डेस्क के संबंध में जानकारी देते हुये कहा कि इस हेल्प डेस्क के माध्यम से बी.एम.सी.के कोविड वार्ड में जो मरीज भर्ती है परंतु उनसे परिजनों का मरीज से संपर्क नहीं हो पाता है इसलिये इस कोरोना हेल्प डेस्क में चार टेबिलें लगायी गई है, जिनमें कर्मचारी तैनात रहेंगे और किसी भी कोविड मरीज के परिजनों द्वारा अगर अपने मरीज से बात करने की इच्छा जाहर की जायेगी तो यहाॅ से मोबाईल लगाकर उससे वीडियो काल के माध्यम से बात करा दी जायेगी साथ ही इसके माध्यम से मरीज से संबंधित कोई जानकारी पूछने पर हेल्प डेस्क में बैठे कर्मचारी हरसंभव जानकारी देंगे। इसी प्रकार हेल्पडेस्क के आने वाले कोविड मरीज के परिजनों को भी पेयजल एवं अन्य सुविधायें उपलबध रहेगी इसके साथ ही जो भी स्वयंसेवी संस्थायें कोविड मरीज के परिजनों को खाद्य सामग्री की सहायता करना चाहते है वे यहाॅ आकर कर सकते है। 

ये रहे फोन नम्बर

कोविड से संबंधित जानकारी नागरिकगण कोविड कंट्रोल सेंटर के दूरभाष नम्बर 07582-242831 एवं टोल फ्री नम्बर 1075 पर संपर्क कर सकते है साथ ही कोई भी कोविड मरीज से संबंधित परिजन अपने मरीज की जानकारी लेना चाहते है तो कंट्रोल रूम हेल्प डेक्स के मोबाईल नम्बर 09329462324, 09329475494 पर भी संपर्क कर जानकारी ले सकते है।  

तीन तीन शिफ्टों में रहेंगी व्यवस्थाएं
कलेक्टर श्री दीपक सिंह के निर्देश के तत्काल पश्चात बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज के मुख्य गेट सामने तैयार किया गया  है। कलेक्टर श्री दीपक सिंह के निर्देश पर नगर निगम आयुक्त श्री आर पी अहिरवार ने  बताया कि हेल्पडेस्क कंट्रोल रूम में प्रतिदिन  हेल्प डेक्स पर एक जिलाधिकारी ,एक नायब तहसीलदार, दो पटवारी प्रतिदिन तीन तीन शिफ्ट में उपस्थित रहकर कोरोना संक्रमित मरीजों के परिजनों की सहायता करेंगे ।उन्होंने बताया कि कोरोना संक्रमित मरीजों को भर्ती करने एवं उनकी अन्य समस्याओं के समाधान में मदद मिलेगी। 


---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

SAGAR: प्रत्येक ब्लॉक में बनेगा सौ बैड की क्षमता का कोविड केयर सेंटर

SAGAR:  प्रत्येक ब्लॉक में बनेगा सौ बैड की क्षमता का कोविड केयर सेंटर

सागर ।  सागर सहित प्रदेश के कई बड़े जिले कोरोना महामारी से जूझ रहे हैं।संक्रमण को रोकने तथा संक्रमित मरीजों की उचित उपचार की व्यवस्था के लिए मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैस की अध्यक्षता में बैठक आयोजित की गई। यह बैठक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संपन्न हुई जिसमें इंदौर, भोपाल, जबलपुर, ग्वालियर, रीवा, उज्जैन और सागर कलेक्टर ने भाग लिया।इस दौरान स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री मोहम्मद सुलेमान भी उपस्थित थे।
मुख्य सचिव श्री बैस ने समस्त जिले के कलेक्टर्स से व्यवस्थाओं की जानकारी ली।उन्होंने कहा कि यह सभी के लिए एक बड़ी चुनौती है जिसका सामना हमें पूरे विश्वास और सफल रणनीति से करना होगा।
वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग बैठक में कलेक्टर श्री दीपक सिंह ने बताया कि सागर जिले के सभी ब्लॉक्स में सौ बेड की क्षमता वाला कोविड केयर सेंटर बना रहे हैं। उन्होंने बताया कि जिला मुख्यालय में स्वामी विवेकानंद यूनिवर्सिटी में सौ बैड की क्षमता वाला कोविड केयर अस्पताल संचालित होगा। यह सेंटर प्राइवेट हेल्थकेयर फैसिलिटी- राय अस्पताल के सहयोग से संचालित किया जाएगा। उन्होंने जानकारी दी कि स्वामी विवेकानंद यूनिवर्सिटी का यह सेंटर मंगलवार तक क्रियाशील हो जाएगा।



---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------
 

कोरोना का दूसरा स्ट्रेन खतरनाक, साग़र में बेड की कमी, हमारी कोशिश खुरई में ही बेहतर इलाज की: मन्त्री भूपेन्द्र सिंह ★ खुरई में 50 बेड के कोविड-19 केयर सेंटर का शुभारंभ

कोरोना का दूसरा स्ट्रेन खतरनाक,  साग़र में बेड की कमी, हमारी कोशिश खुरई में ही बेहतर  इलाज की:  मन्त्री भूपेन्द्र सिंह 
★ खुरई में 50 बेड के कोविड-19 केयर सेंटर का शुभारंभ
★ कोविड-19 टेस्ट के लिए अस्पताल से दूर नये स्थान पर की जाएगी टेस्ट करने की व्यवस्था 

साग़र।  पिछले वर्ष जो कोरोना था वो इतना खतरनाक नहीं था, जितना इस साल वाला है, पहले कोरोना केवल पहले से बीमार और बुजुर्गों को हो रहा था, लेकिन इस बार कोरोना का संक्रमण सभी को हो रहा है और दो-तीन दिन में ही हालात बिगड़ जाते हैं। हमारे खुरई में जब सिविल अस्पताल है तो यह जरूरी था कि, खुरई में कोविड-19 का केयर सेंटर बने। यह बात सोमवार को प्रदेश के नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेन्द्र सिंह सिविल अस्पताल खुरई में 50 बेड की क्षमता के कोविड-19 केयर सेंटर के शुभारंभ पर कही।_
मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि, बीच में सवा साल की कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में व्यवस्थाएं बिगड़ीं, कई डाॅक्टर अपना ट्रांसफर करा के चले गए, मशीनें बंद पड़ी हैं। धीरे-धीरे करके अब हम खुरई अस्पताल को फिर से वह सभी सुविधाओं को उपलब्ध कराने की कोशिश कर रहे हैं। जिससे कि खुरई की जनता को परेशान न होना पड़े, अन्य जगह न जाना पड़े। 
उन्होंने कहा कि, मेडीकल काॅलेज सागर में अभी यह हालात हैं कि एक भी बेड खाली नहीं है और हमारे पास प्राईवेट अस्पतालों की भी कमी है। इस कठिन परिस्थिति में हमारी यह कोशिश है कि खुरई वासियों को कोरोना में इलाज की बेहतर व्यवस्था अपने ही क्षेत्र में मिलें। इस हेतु हमने खुरई में यह कोविड-19 केयर सेंटर की स्थापना की है। अगर किसी में कोरोना के लक्षण दिखें जैसे सर्दी-खांसी, बुखार, भूख न लगना, स्वाद न आना तो तत्काल कोरोना का एंटीजेन टेस्ट कराएं, उक्त टेस्ट की रिपार्ट पांच मिनिट में आ जाती है। इसके अलावा आरटीपीसीआर टेस्ट भी करा सकते हैं, लेकिन इसकी रिपार्ट आने में समय लगता है। हमने यह तय किया है कि, खुरई में एंटीजेन टेस्ट के लिए सिविल अस्पताल की जगह खुरई नगर में एक अन्य स्थान निर्धारित कर वहां पर एंजीजेन टेस्ट की व्यवस्था करेंगे। 
श्री सिंह ने कहा कि, सिविल अस्पताल में केवल कोविड पाॅजिटिव मरीजों के इलाज की व्यवस्था होगी। अकेले टेस्ट के लिए यहां तक न आना पढे़ ऐसी व्यवस्था हम कर रहे हैं। श्री सिंह ने बताया कि, अभी टेस्ट दोपहर 3 बजे तक होता था हमने क्षमता को बढ़ाने शाम 5 बजे तक का समय तय कर दिया है। मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने कहा कि, अगर किसी को ज्यादा सर्दी, खांसी बुखार है तो उसे एक्स-रे कराना चाहिए। सबसे महत्वपूर्ण यह है कि, हमारा ऑक्सीजन लेवल 94 से नीचे नहीं जाना चाहिए। हमने अपने स्तर पर सिटी स्केन मशीन उपलब्ध कराने की भी कोशिश की थी लेकिन वह अभी तीन महीने तक उपलब्ध नहीं हो पाएगी, इसलिए हमने अभी अतिआवश्यक व्यवस्थाओं पर ज्यादा ध्यान दिया। मंत्री श्री सिंह ने कहा कि, हमारे द्वारा कोरोना को रोकने हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। 

तीनबत्ती न्यूज़. कॉम
के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे


ट्वीटर  फॉलो करें


वेबसाईट

खुरई में एम्बूलेंस की संख्या बढ़ाने हम तीन नई एम्बूलेंस की व्यवस्था की है, इससे किसी को सिटी स्केन या इमरजेंसी में जिला मुख्यालय जाने हेतु आसानी होगी। यह एम्बूलेंस लगभग 8-10 दिन में उपलब्ध हो जाएंगी। वेंटिलेटर की कमी को दूर करने 22 लाख लागत के 5 वेंटिलेटर दे रहे हैं। प्रेसर के साथ ऑक्सीजन देने के लिए 8 लाख लागत के 20 ऑक्सीजन कंस्टेंटर, 15 लाख लागत के 50 जम्बो ऑक्सीजन सिलेण्डर, इसके अलावा 25 छोटे ऑक्सीजन सिलेण्डर की भी व्यवस्था की गई है। 50 जम्बो ऑक्सीजन सिलेण्डर भावनगर से आना है, चूंकि भावनगर में ट्रांसपोटर्स की हड़ताल है तो, हमने सागर के ट्रांसपोर्टर्स बात कर ली है, आगाम दो दिन में यह 50 जम्बो ऑक्सीजन सिलेण्डर खुरई मे उपलब्ध हो जाएंगे।  
मंत्री श्री सिंह ने कहा कि, डाॅक्टर्स, नर्स और टेक्निकल स्टाॅफ की कमी को पूरा करने कांट्रेक्ट असाइनमेंट पर जितना चाहें उतने स्टाॅफ की भर्ती कर सकते हैं। सरकार की तरफ से छूट है कि जितना स्टाफ रखना चाहें रख सकते हैं पर किसी मरीज को कोई परेशानी नहीं होती चाहिए।  मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने यह भी कहा कि, हमारी लोगों से अपील है कि, मास्क का सही उपयोग करें आपको कभी कोरोना का संक्रमण नहीं हो सकता, समय-समय पर हाथों को साफ करें और अनावश्यक घर से न निकलें। मंत्री श्री सिंह ने सिविल अस्ताल में सफाई व्यवस्था सुनिश्चित करने बीएमओ खुरई को निर्देशित किया। अस्पताल में पानी की समस्या को दूर करने तत्काल नगर पालिका द्वारा बोर की व्यवस्था की जाएगी। 
 मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने प्रशासन को निर्देश देते हुए कहा कि, जो भी व्यक्ति मास्क के बिना मिलें उनके खिलाफ चालानी कार्यवाई की जाए। हो सके तो अन्य शहरों की तर्ज पर खुरई में भी खुली जेल बनाकर मास्क का उपयोग न करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही करें। कार्यक्रम को कलेक्टर दीपक सिंह ने संबोधित किया उन्होंने ने खुरई सिविल अस्पताल के चिकित्सकीय स्टाफ को आवश्यक निर्देश दिए और लोगों से मास्क लगाने की अपील की।

---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

कोरोना वारियर्स डॉ सत्यम मिश्रा को बचाने की जद्दोजहद, एयर एम्बुलेंस से ले गए हैदराबाद, साग़र से भोपाल तक बना ग्रीन कॉरिडोर

कोरोना वारियर्स डॉ सत्यम मिश्रा को बचाने की जद्दोजहद, एयर एम्बुलेंस से ले गए हैदराबाद, साग़र से भोपाल तक बना ग्रीन कॉरिडोर

★ शासकीय बुन्देलखण्ड मेडिकल कालेज साग़र में टीवी और चेस्ट विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ सत्यम मिश्रा कोविड मरीजो की सेवा में लगे थे, हुए पाजिटिव, फेफड़े खराब हुए

सागर ।  ( तीनबत्ती न्यूज़.कॉम )। कोरोना  संक्रमण की भयावह तस्वीर अब सामने आने लगी है। कोविड मरोजो को सेवाएं दे रहे डॉक्टर्स और स्टाफ भी कोरोना संक्रमण का शिकार बन रहा है । ऐसे में हॉस्पिटलों में कोविड मरीजो का इलाज करना चुनोती बनता जा रहा है।  साग़र के सरकारी बुन्देलखण्ड मेडिकल कालेज से एक ऐसी ही तस्वीर सामने आई है। मेडिकल कालेज के टीबी  और चेस्ट विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ सत्यम मिश्रा कोविड मरीजो की सेवा में लगे थे ।  38 वर्षीय डॉ मिश्रा 12 अप्रैल को कोरोना के शिकार हुए। उनके इलाज के दौरान तेजी से फेफड़े खराब होने लगे। डॉ मिश्रा को मेडिकल कालेज से सागर के ही एक निजी कोविड हास्पिटल भाग्योदय तीर्थ में भर्ती कराया गया। भाग्योदय तीर्थ हॉस्पिटल में  उनकी हालत सुधरी नही  है। अब उनको हैदराबाद में फेफड़े ट्रांसप्लांट के लिए एयर एंबुलेंस के जरिये ले जाया गया है। रविवार को भोपाल में एयर एंबुलेंस आई। भोपाल से सागर में भाग्योदय हॉस्पिटल तक सड़क मार्ग से विशेष एम्बुलेंस आई। और आज सुबह 5 बजे भोपाल 175 किलोमीटर के कॉरिडोर बनाकर ले गए। भोपाल से एयर एम्बुलेंस के जरिये हैदराबाद ले जाया गया। 
मुख्यमंत्री के निर्देश पर हुई व्यवस्थाएं

बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में पदस्थ डॉक्टर सत्येंद्र मिश्रा कोरोना संक्रमित होने के पश्चात फेपड़ों में अत्याधिक संक्रमित हो जाने के कारण उचित इलाज हेतु मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की पहल पर कलेक्टर  दीपक सिंह द्वारा मध्य प्रदेश शासन के द्वारा उपलब्ध कराई गई एयर एंबुलेंस के माध्यम से डॉक्टर सत्येंद्र मिश्रा को हैदराबाद भेजा गया।
कलेक्टर श्री सिंह ने बताया कि मुख्यमंत्री श्री चौहान के निर्देश के तत्काल पश्चात हैदराबाद के डॉक्टरों से चर्चा करने के पश्चात रविवार को ही एयर एंबुलेंस का भुगतान कर एयर एंबुलेंस भोपाल बुलाई गई ।भोपाल एयरपोर्ट से सड़क मार्ग से विशेष एंबुलेंस के माध्यम से हैदराबाद के डॉक्टरों की विशेष टीम रात्रि में  सागर भाग्योदय अस्पताल पहुंची ।
सागर पहुंचते ही हैदराबाद की डॉक्टरों की टीम ने डॉ सतेंद्र मिश्रा का संपूर्ण परीक्षण करने के उपरांत प्रातः 5:00 विशेष एंबुलेंस के माध्यम से भोपाल के लिए भेजा गया ।
कलेक्टर श्री सिंह ने बताया कि सागर भाग्योदय अस्पताल से लेकर भोपाल एयरपोर्ट तक 175 किलोमीटर लंबा ग्रीन काली रोड बनाया गया। जिसमें पुलिस अधीक्षक श्री अतुल सिंह द्वारा उपलब्ध कराया गया पुलिस बल की माहिती भूमिका रही ।

डॉक्टर सत्येंद्र मिश्रा का इलाज कर रहे है छय एवं छाती रोग विशेषज्ञ डॉक्टर सौरभ जैन ने बताया कि हैदराबाद के डॉक्टरों की टीम रात्रि 12 बजे पहुंची उन्होंने डॉ मिश्रा को वेंटिलेटर पर रखकर संपूर्ण परीक्षण किया ।तत्पश्चात प्रातः 5 बजे सड़क मार्ग से ग्रीन कालीडोर के माध्यम से भोपाल एयरपोर्ट ले गए जहां से एयर एंबुलेंस के माध्यम से प्रातः 10.30 हैदराबाद की अस्पताल पहुंचे और उनका इलाज प्रारंभ कराया गया।

बीएमसी के डॉक्टर उमेश पटेल का कहना है कि  कलेक्टर दीपक सिंह और विधायक शेलेन्द्र जैन के प्रयासों से डॉ मिश्रा का इलाज संभव हो पाया। उन्होंने सभी शुभचिंतकों का आभार भी जताया।
  ---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

रविवार, 18 अप्रैल 2021

दवाइयों की कालाबाजारी करने वालों पर होगी सख्त कार्रवाई - मुख्यमंत्री 37 जिलों में ऑक्सीजन प्लांट लगेंगे

दवाइयों की कालाबाजारी करने वालों पर होगी सख्त कार्रवाई - मुख्यमंत्री 

37 जिलों में ऑक्सीजन प्लांट लगेंगे

★ मॉयलॉन लैब के बाद हैटरो हैल्थकेयर से एक लाख इंजेक्शन आपूर्ति का निर्णय

★ ऑक्सीजन एक्सप्रेस के सुझाव को मिली केन्द्र की हरी झण्डी
 
भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना संक्रमण के नियंत्रण के लिए जन-प्रतिनिधियों से निरंतर परामर्श किया जाए। उनसे प्राप्त सूचनाओं पर कमिश्नर्स त्वरित कार्रवाई करें। प्रदेश में सभी व्यवस्थाएँ सुनिश्चित करते हुए पॉजिटिविटी रेट घटाने के पूरे प्रयत्न हों। किस अस्पताल में कितने बेड हैं, इसकी जानकारी प्रचार माध्यमों के साथ ही हिन्दी एप के माध्यम से भी दी जाए। समाजसेवी संगठनों को जोड़कर लोगों की मदद के लिए प्रेरित किया जाए। कोरोना संक्रमित लोग कोविड केयर सेंटर से लाभान्वित हों। होम आइसोलेशन में रहने वाले रोगियों से चिकित्सक सम्पर्क में रहें और जरूरी मार्गदर्शन देते रहें। औषधियों और इंजेक्शन के वितरण की न्यायपूर्ण व्यवस्था हो। इनकी कालाबाजारी करने वालों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई हो। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज निवास से वीडियो कॉन्फ्रेंस द्वारा प्रदेश के कमिश्नर्स, प्रभारी अधिकारियों से कोरोना संक्रमण पर चर्चा एवं समीक्षा कर रहे थे।

नए ऑक्सीजन प्लांट लगेंगे

समीक्षा में बताया गया कि प्रदेश में ऑक्सीजन की आपूर्ति इस माह के आखरी तक 700 मीट्रिक टन हो जाएगी। आज प्रदेश को 390 मीट्रिक टन ऑक्सीजन प्राप्त हुई है। प्रदेश में ऑक्सीजन की आपूर्ति निरंतर बढ़ रही है। टेंकर्स की संख्या भी अब 46 हो गई है। प्रदेश के 37 जिलों में ऑक्सीजन प्लांट लगेंगे। ये प्लांट आगामी एक से तीन माह में स्थापित करने की तैयारी है। इससे भविष्य की दिक्कतें समाप्त होंगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा पीआईयू और कार्य एजेंसी इन संयंत्रों के लिए स्थल चयन करें, तेजी से कार्य सम्पन्न हो।

इंजेक्शन की नहीं होगी कमी, बढ़ रही आपूर्ति

बैठक में बताया गया कि प्रदेश में संभागों को आज 17 हजार इंजेक्शन भेजे जा चुके हैं। संभागों से जिलों तक इनका वितरण सुनिश्चित किया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान की आज हैटरो हैल्थकेयर लिमिटेड से भी इंजेक्शन आपूर्ति के संबंध में चर्चा हुई है। कंपनी को एक लाख इंजेक्शन की आपूर्ति के लिए कहा गया है। इसके पूर्व मॉयलॉन लैब ने भी इंजेक्शन की आपूर्ति की है। निरंतर अनुश्रवण से परिणाम मिल रहे हैं और मध्यप्रदेश को होने वाली ऑक्सीजन की आपूर्ति में निरंतर वृद्धि हुई है।

रोगियों के हित में जल्दी मिले रिपोर्ट

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जाँच रिपोर्ट 24 घंटे में उपलब्ध करवाने की व्यवस्था की जाए। टेस्ट रिपोर्ट आने तक जाँच करवाने व्यक्ति को आइसोलेशन में रहना है, यह परामर्श दिया जाए। संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए प्रयासों में कोई कमी नहीं रहना चाहिए। ऐसे निर्धन परिवार, जो होम आइसोलेशन में हैं यदि उनके लक्षण गंभीर होते हैं तो प्राथमिकता से कोविड केयर सेंटर ले जाया जाए। इन केन्द्रों में चाय, नाश्ता, भोजन उपलब्ध करवाया जाए। रोगियों की पूरी देखभाल की जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि रोगियों को एक अस्पताल से दूसरे में न जाना पड़े, इसके लिए बेड की उपलब्धता प्रदर्शित करें। निर्धारित नंबरों पर नागरिकों को जानकारी मिलना चाहिए। गंभीर रोगियों को सभी जिले में प्रशासनिक अधिकारी अथवा अस्पताल द्वारा उपचार देने में पूरा सहयोग प्रदान किया जाए। इंदौर में राधास्वामी सत्संग ब्यास द्वारा की गई पहल अनुकरणीय है। अन्य संभाग में भी यह पहल हो। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि किसी भी स्थिति में संक्रमण की चेन तोड़ना है। ऐसे प्रयास करें कि यह कार्य एक अभियान बन जाए।

प्रांतों से मिल रहा सहयोग

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि उन्होंने मध्यप्रदेश में ऑक्सीजन और औषधियों के आवश्यक प्रबंध के लिए गुजरात, उत्तरप्रदेश और राजस्थान के मुख्यमंत्रियों से चर्चा की है। सभी राज्यों से सहयोग मिल रहा है। मध्यप्रदेश में उड़ीसा और छत्तीसगढ़ से भी ऑक्सीजन आपूर्ति में सहयोग मिला है। संकट के दौर में सभी राज्यों में परस्पर सहयोग और समन्वय की भावना है।

संभागों से चर्चा

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कमिश्नर्स से चर्चा के दौरान निर्देश दिए कि सभी संभागों में रोगियों की संख्या को देखते हुए ऑक्सीजन के न्यायपूर्ण वितरण की व्यवस्था सुनिश्चित हो। कमिश्नर भोपाल ने बताया कि संभाग में टेस्टिंग और ट्रीटमेंट का कार्य सुचारू रूप से चल रहा है। कल भोपाल में 8566 टेस्ट हुए हैं। जबलपुर कमिश्नर को मेडिकल कॉलेज जबलपुर में आरटीपीसीआर टेस्ट के लिए स्थान उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए। टेस्ट क्षमता में वृद्धि के लिए कमिश्नर रीवा को भी निर्देशदिए गए। कमिश्नर सागर को संभाग के सभी जिलों में जाँच और उपचार की सुविधाओं को बढ़ाने के निर्देश दिए गए। वर्तमान में सागर में 500 बेड क्षमता है। अभी 398 बेड का उपयोग हो रहा है। कमिश्नर इंदौर ने बताया कि इंदौर में 7400 बेड उपलब्ध हैं, वर्तमान में 6422 बेड का ही उपयोग हो रहा है।

जन-सहयोग है जरूरी

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आम जनता खुद कर्फ्यू व्यवस्था को लागू करें। जन-सहयोग से हम शीघ्र ही इस संक्रमण पर विजय प्राप्त करेंगे। मुख्यमंत्री ने बताया कि वे सोमवार को मंत्रियों से भी चर्चा कर उनके सुझावों के संबंध में अधिकारियों को निर्देश देंगे।

'ऑक्सीजन एक्सप्रेस' केन्द्र की पहल सराहनीय

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि केन्द्र सरकार ने ऑक्सीजन एक्सप्रेस के माध्यम से राज्यों तक उनकी आवश्यकता के अनुसार ऑक्सीजन की आपूर्ति की पहल की है। निश्चित ही यह सराहनीय है। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा गत सप्ताह ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए रेल के माध्यम से टेंकर लोड कर भेजे जाने का सुझाव दिया गया था।

ऑक्सीजन की क्षति न हो

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि ऐसे समय जब ऑक्सीजन की बहुत जरूरत है, भोपाल के पास एक ऑक्सीजन टैंकर पलटा, लेकिन ऑक्सीजन की क्षति नहीं हुई। स्थानीय प्रशासन, परिवहन विभाग ने तत्परता से कार्यवाही की। मुख्यमंत्री ने कहा इसी तरह सभी का सतर्क रहना आवश्यक है। रोगियों के कार्य की वस्तुओं को सहेजने के लिए सजगता प्रशंसनीय है। इसी तरह ऑक्सीजन के अनावश्यक उपयोग पर नियंत्रण भी आवश्यक है।


तीनबत्ती न्यूज़. कॉम
के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे


ट्वीटर  फॉलो करें


वेबसाईट

आगर-मालवा और शाजापुर जिलों के सैम्पल उज्जैन जाएंगे

बैठक में बताया गया कि उज्जैन के आरडी गार्डी अस्पताल में उज्जैन सहित आगर-मालवा और शाजापुर के सैम्पल भी भेजे जाएंगे। उज्जैन में वर्तमान में प्रतिदिन 2 हजार टेस्ट की क्षमता है। टेस्ट रिपोर्ट जल्द प्राप्त हो इस उद्देश्य से झाबुआ और अलीराजपुर में लिए गए सैम्पल अहमदाबाद भेजे जा रहे हैं। इससे एक दिन में ही रिपोर्ट मिलने लगी है।

छह संभाग में एक-एक हजार बिस्तर क्षमता केन्द्रों के लिए भवन चिन्हित होंगे

मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस ने बताया कि छह संभागों भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर, सागर और रीवा में कमिश्नर्स को कोविड केयर सेंटर के लिए भवनों को चिन्हित करने को कहा गया है। भविष्य में बढ़ने वाली रोगी संख्या की आशंका को ध्यान में रखते हुए यह तैयारी करने को कहा गया है। इन भवनों में लगभग एक हजार बेड उपलब्ध होंगे। आइसोलेशन रोगियों के लिए जरूरत होने पर ऑक्सीजन बेड के रूप में भी इनका उपयोग किया जा सकता है। नर्सिंग स्टाफ एवं 450 अनुबंधित चिकित्सकों की सेवाएं इन केन्द्रों में ली जाएंगी।

अन्य राज्यों के रोगी लाभान्वित हो रहे

कोविड की नियमित समीक्षा में आज यह तथ्य भी सामने आया कि म.प्र. में जाँच, उपचार की बेहतर व्यवस्थाएँ होने से अन्य प्रांत के रोगी भी आ रहे हैं। ग्वालियर में झाँसी के रोगी आकर जाँच करवाते हैं। ग्वालियर संभाग की समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ग्वालियर प्रशासन को निर्देश दिए कि आइसोलेशन में रहने वालों का ध्यान रखें। छोटे आवास गृह में रहने वाले लोगों को आवश्यक सुविधाएँ दी जाएँ। ग्वालियर में 57 निजी अस्पताल भी इलाज कर रहे हैं। अच्छे अस्पतालों को अधिग्रहण कर सेवाएँ ली जा रहीं हैं। ग्वालियर की विस्तृत समीक्षा में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जनता कर्फ्यू स्वतः स्फूर्त हो, सभी दल भी इसमें सहयोगी हों।

अब मोबाइल फीवर क्लीनिक का संचालन

स्वास्थ्य विभाग के प्रजेंटेंशनमेंअपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान ने बताया कि प्रदेश में 12 हजार 248 रोगी हैं। रिकवर हुए रोगियों की संख्या 6497 है। एक्टिव केस 4,706 हैं। देश में मध्यप्रदेश के 4.4 प्रतिशत रोगी हैं। प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट बीस है लेकिन रिकवर होकर रोगी घर आ रहे हैं। भोपाल, इंदौर में अभी केस स्थिर हैं। लेकिन नियंत्रण की चुनौती का सामना कर सभी व्यवस्थाएँ सुनिश्चित की जा रही है। प्रदेश में 720 फीवर क्लीनिक चल रहे हैं। अब चलित फीवर क्लीनिक के संचालन की तैयारी भी की गई है। नागरिकों के घर तक सैम्पल लेने के लिए वाहन पहुँचेंगे। रैपिड टेस्ट के पश्चात पॉजीटिव परिणाम पर संबंधित व्यक्ति को वहीं किट भी प्रदान की जाएगी। साथ ही होम आयसोलेशन के संबंध में भी मार्गदर्शन दिया जाएगा। जबलपुर और रीवा संभाग में रेपिड टेस्ट की क्षमता बढ़ाएंगे। इसी तरह विंध्य अंचल में व्यवस्थाएँ बेहतर करने के प्रयास किए जा रहे हैं। अभी रीवा में 1500 प्रतिदिन की टेस्ट क्षमता को 2000 तक ले जाने का प्रयास है। संभाग में लेब की सुविधा बढ़ाएंगे। इसके साथ ही सिंगरौली में अधिक टेस्ट हो सकें, इसके भी प्रयास करेंगे।

मुख्यमंत्री के अन्य निर्देश

 होम आयसोलेशन में रहने वाले रोगियों का स्वास्थ्य जल्दी ठीक हो, इसके लिए चिकित्सक सम्पर्क कर मार्गदर्शन दें।

वार्ड और मोहल्ले स्तर पर लोग स्वयं कोरोना कर्फ्यू लगाएँ। आगामी 30 अप्रैल तक इस व्यवस्था को प्रभावी रखा जाए।

बिस्तर क्षमता बढ़ाने के निरंतर प्रयास हों।

संक्रमण की चैन तोड़ने केलिए सरकार और समाज मिलकर कार्य करते रहें।

औषधियों और ऑक्सीजन की आपूर्ति की वितरण व्यवस्था सुचारू रखें।

वित्तीय संसाधनों की कमी नहीं होगी, जिलों से आवश्यक राशि के प्रस्ताव समय पर मिलें।

शासकीय सेवक निर्धारित सीमा से अधिक कार्य पर न आएं।


---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

SAGAR : ऑक्सीजन की प्रति घंटे के हिसाब से कीमत तय ,लो फ्लो ऑक्सीजन प्रति घंटे डेढ़ सौ एवं हाईफ्लो ऑक्सीजन व्हिथ वेंटीलेटर 300 रुपये

Archive