SAGAR : 8000 से अधिक व्यक्तियों ने कोरोना से जीती जंग ,आत्मबल और मनोबल बनाए रखें

शनिवार, 7 मार्च 2020

MP बोर्ड: 10 वी की परीक्षा,विवादित सवाल के दोनों प्रश्न को किया बाहर, नहीं जोड़े जाएंगे अंक, दो शिक्षक निलंबित, राष्ट्रीय बाल आधिकार सरक्षण आयोग का नोटिस

MP बोर्ड: 10 वी की परीक्षा,विवादित सवाल के दोनों प्रश्न को किया बाहर, नहीं जोड़े जाएंगे अंक, दो शिक्षक निलंबित, राष्ट्रीय बाल आधिकार सरक्षण आयोग का नोटिस

भोपाल। Mp बोर्ड की कक्षा 10 वी की  सम्पन्न हुए  सामाजिक विज्ञान के पेपर में दो प्रश्न का उत्तर एक ही दर्शाये जाने के चलते दो शिक्षको को  स्कूल शिक्षा आयुक्त ने निलंबित किये जाने के आदेश किये हैंं।आज प्रदेश मेंं हाईस्कूल  के सामाजिक विज्ञान की परीक्षा नियत समय पर सम्पन्न हुई। परीक्षा होने उपरांत उक्त विषय के वरिष्ठ जानकार के द्वारा प्रश्न पत्र का बारीकी से अध्ययन किया गया जिसमें पाया गया कि प्रश्न स में जोड़ी मिलाइये में  v एवं प्रश्न 26 के  मानचित्र में निम्न लिखित को दर्शइये के भाग 3 में आजाद कश्मीर का उल्लेख किया गया था। जो आपत्तिजनक था। इसको लेकर राजनीतिक बवाल भी मचा। भाजपा ने जमकर आलोचना की। 
 लोक शिक्षण संचालनालय आयुक्त  ने सामाजिक विज्ञान के पेपर को फाइनल करने वाले रायसेन जिले के शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय  के शिक्षक नितिन सिंह जाट व प्रश्न पत्र के मोडरेटर रजनीश जैन तेंदूखेड़ा जिला नरसिंहपुर को कार्य में लापरवाही के चलते  नें निलंबित कर दिया है। और उक्त प्रश्न पत्र से दोनों प्रश्नों को बाहर करते हुए  100 की जगह 90 नंबर से मूल्यांकन करने के आदेश जारी कर दिए हैं।
इस मामले को  राष्ट्रीय बाल आधिकार सरक्षण आयोग ने सज्ञान लेते हुए नोटिस भी भेजा है। 

हिंदी लेखिका संघ की काव्य गोष्टी महिला दिवस और कंडो की होली पर केंद्रित रही

हिंदी लेखिका संघ की काव्य गोष्टी महिला दिवस और कंडो की होली पर  केंद्रित रही
हिन्दी लेखिका संघ सागर इकाई की काव्य गोष्ठी महिला दिवस और होली कंडो की  पर केंद्रित रही।जिसमे  होली जलाने का संदेश देती कविताओं के साथ नारी उठान को प्रोत्साहित करती कविताओं का का पाठ किया गया।  काव्य गोष्ठी सुनीला सराफ की अध्यक्षता में डा. शरद सिंह के मुख्य आतिथ्य में एवं डा. वर्षा सिंह के विशिष्ट आतिथ्य में समप्न्न हुई ।गोष्ठी का संचालन क्लीम् राय ने किया आभार डा. नम्रता ने माना।काव्य गोष्ठी डा.नम्रता फुसकेले के निवास पर आययोजित हुई।
 महिला दिवस एवं होली पर कैसे बचाये पर्यावरण पर सभी महिलाओं ने कंड़ों की होली जलाने का संदेश दिया एवं नारी के उत्थान को प्रोत्साहित करती हुई कवितायें एवं उद्गार व्यक्त किये।गोष्ठी में निधी यादव, डा. वंदना गुप्ता राज श्री दवे, स्मिता गोडबोले,ऊषा वर्मन,ज्योति झुड़ेले, विनीता केशरवानी,जयंती सिंह ,ज्योति विश्वकर्मा,नंदनी चौधरी, डा. चंचला दवे, पुष्पलता पांण्डे , देवकी नायक ,कंचन केशरवानी,ज्योति तिवारी,शशी दीक्षित, डा. शरद सिंह ,डा.वर्षा सिंह ,सुनीला सराफ, नम्रता फुसकेले ने कावयपाठ किया एवं कंड़ों की होली जलाने की शपथ ली।

सीएम का पत्र वचन पत्र के बाद मध्यप्रदेश की जनता के साथ दूसरा धोखा भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वी डी शर्मा, सीएम की चिट्ठी का जवाब

सीएम का पत्र वचन पत्र के बाद मध्यप्रदेश की जनता के साथ दूसरा धोखा भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वी डी शर्मा,
सीएम की चिट्ठी का जवाब

#सीएम कमलनाथ की चिट्ठी के जवाब में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने सीएम को लिखा पत्र

भोपाल। प्रदेश के राजनेतिक घटनाक्रमो में अब चिट्ठी शुरू हो गई है । सीएम कमलनाथ ने प्रदेशवासियों के नाम दिन में पत्र लिखा और भाजपा को कठघरे में खड़ा किया। इसके जवाब में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वी ड़ी शर्मा ने भी एक पत्र सीएम कमलनाथ को लिखा। प्रदेशाध्यक्ष शर्मा के पत्र की इबारत कुछ इस तरह है।

माननीय कमलनाथ जी

नमस्कार।
आपके द्वारा प्रदेशवासियों के नाम जारी पत्र भावनाओं के आडंबर और शब्दों के कूट संयोजन कीदृष्टि से उत्तम कहा जा सकता है। लेकिन दुख की बात यह है कि यह पत्र आपके वचन पत्र के बाद मध्यप्रदेश की जनता के साथ दूसरा धोखा है। इस बार तो आपने यह कहकर दुस्साहस की पराकाष्ठा पारकर दी है कि आप मध्यप्रदेश को प्रगति की राह पर ले जाना चाहते है और भारतीय जनता पार्टी इस कार्य में
बाधक बनी हुई है। आपने यह तो लिखा है कि हम लोग कदाचरण कर रहे है, लेकिन आपको यह भी लिखनाचाहिए था कि आपके द्वारा मध्यप्रदेश को तबाही और बर्बादी के रास्ते पर ले जाने के लिए चलाया जा रहाअभियान कौन से सदाचरण की परिधि में आता है ? आप लोकतांत्रिक मूल्यों की दुहाई देते हुए हमारे उपर
सत्ता लोलुपता का आरोप लगाने से पहले स्पष्ट करते कि आप अल्पमत की सरकार बचाए रखने के लिएकौन-कौन से हथकंडे अपनाते है ? तो अच्छा होता।आपने प्रदेश से माफियाराज समाप्त करने का बड़ा प्रभावी वक्तव्य दिया है लेकिन अपने मंत्रियों औरविधायकों के उन बयानों का उल्लेख नहीं किया जो स्पष्ट करते है कि आपकी सरकार में रेत और शराबमाफिया किस कदर हावी है। आपकी पूरी उर्जा प्रदेशवासियों को शराब के नशे में डुबो देने में क्यों लगी है ?
भारतीय समाज में संस्कारों की धुरी कही जाने वाली महिलाओं को भी नशे में डुबोने के प्रयासों की आहट परभी आपको मुंह खोलना चाहिए। बहुत ही निर्लज्जता के साथ आपने किसानों की कर्जमाफी और युवाओं कोरोजगार देने का ढिंढोरा पीटा है। लेकिन माननीय मुख्यमंत्री जी, ऐसा करते समय आपको अपने पद की
गरिमा का ध्यान रखना चाहिए। यदि किसानों का कर्जामाफ हो चुका है तो फिर कर्जमाफी का पहला, दूसरा, तीसरा और चौथा चरण क्या स्पष्ट करता है? नैतिकता है तो आप प्रदेश के एक युवा का नाम बताइए जिसेबेरोजगारी भत्ता दिया गया है। आपने तो प्रधानमंत्री आवास योजना के 2 लाख से अधिक मकान वापसलौटाकर 2 लाख गरीब परिवारों से छत छीनने का पाप किया है।आपके 40 साल के राजनैतिक जीवन पर टिप्पणी करना व्यक्तिगत जीवन में झांकने की दृष्टि से ठीक नहीं है, लेकिन आपने स्वयं यह विषय छेड़ा है इसलिए हम जानना चाहते है कि 1984 के सिख विरोधी दंगोंमें आपकी भूमिका क्या थी? आपने केन्द्रीय मंत्री रहते मध्यप्रदेश के लिए कितना बड़ा दिल किया था, यह भीस्पष्ट करते तो अच्छा होता? तत्कालीन मुख्यमंत्री के प्रति आपने जिन शब्दों का प्रयोग किया था, क्या वहआपकी राजनैतिक शालीनता का द्योतक है? आज जब आप प्रशासनिक मशीनरी का भारी दुरूपयोग करतेहुए अपने राजनैतिक विरोधियों पर कहर बरपा रहे है और दूसरी ओर अपने दल के तमाम नेताओं कीमाफियागिरी को प्रश्रय दे रहे हैं, तब आपको राजनैतिक शुचिता की बात करते हुए लज्जा आनी चाहिए।
मध्यप्रदेश में आयी राजनैतिक अस्थिरता के कारण आपके भीतर उपजी घबराहट हम समझ सकते है,लेकिन इसका कारण स्वयं आप और आपके सिपहसालार है, भारतीय जनता पार्टी नहीं। आपके कुनबे में एक
दूसरे को नीचा दिखाने और पद पाने की होड में जो सिर फुटव्वल हो रही है उसे अनदेखा करने के लिएआपको बधाई। आप तो अपने ही दल के उन विधायकों के चरित्र पर उंगुली उठा रहे है जो स्वयं किसी भीप्रकार की सौदेबाजी का खंडन कर रहे है। बहरहाल भाजपा एक सजग राजनैतिक दल है और हमारा स्पष्ट मानना है कि लोकतंत्र में सरकार से लोककल्याणकारी राज्य की अपेक्षा की जाती है। इसके ठीक विपरीत
आप लोक विनाशकारी मार्ग पर चल पड़े हैं। इसलिए हम अपने राजनैतिक धर्म का पालन करते हुए आपकीजनविरोधी नीतियों का डटकर मुकाबला कर रहे है और करते रहेंगे।

सादर !

विष्णु दत्त शर्मा


विधायको की सुरक्षा को लेकर नेता प्रतिपक्ष मिले राज्यपाल से,इधर पूर्व गृहमन्त्री भूपेंद्र सिंह की Y सुरक्षा हटाई

विधायको की सुरक्षा को लेकर नेता प्रतिपक्ष मिले राज्यपाल से ,इधर पूर्व गृहमन्त्री भूपेंद्र सिंह की Y सुरक्षा हटाई

सागर।  एमपी में ऑपरेशन लोटस से जुड़े भाजपा नेताओं के खिलाफ कमलनाथ सरकार की बदले की कार्यवाही और विधायकों की सुरक्षा का मामला गरमाया हुआ है । पूर्व गृहमंत्री एवं विधायक खुरई  भूपेंद्र सिंह  से Y श्रेणी की सुरक्षा हटाई गई । इसे राजनीतिक हलकों में ऑपरेशन लोटस से जुड़े अहम नेताओं के खिलाफ बदले की कार्यवाही के रूप में देखा जा रहा है । दो दिन पहले एक अतिक्रमण के मामले में न्यायालय नायब तहसीलदार सागर ने कारण बतायो नोटिस भी दिया था। पूर्व मंत्री संजय पाठक की खदान बन्द कराने के बाद आज उनके रिसोर्ट के पुराने हिस्से को तोड़ा गया ।
 वरिष्ठ भाजपा नेता भूपेंद्र सिंह  के गृह मंत्री रहते हुए सिमी के आतंकवादियों से एनकाउन्टर हुआ था। जिसमे सिमी के 8 सदस्य मारे गए थे।इसके चलते यह सुरक्षा दी गई थी।  सिमी के निशाने पर होने के बाद भी मध्यप्रदेश सरकार द्वारा Y श्रेणी की सुरक्षा हटाई गई है।
नेता प्रतिपक्ष ने राज्यपाल और विधानसभा अध्यक्ष से मिले
भाजपा विधायकों पर सरकार द्वारा द्वेषपूर्ण कार्यवाही किये जाने एवं उनकी सुरक्षा हटाएँ जाने पर विधायकों एवं उनके परिवार के जीवन की सुरक्षा की मांग को लेकर नेता प्रतिपक्ष श्री गोपाल भार्गव के नेतृत्व में प्रतिनिधि मंडल ने राज्यपाल लाल जी टण्डन से मुलाकात की और ज्ञापन सौपा।विधायको की सुरक्षा को लेकर  नेता प्रतिपक्ष गोपाल  भार्गव ने विधानसभा अध्यक्ष एन पी प्रजापति को एक पत्र भी दिया है। 

नाबालिग पर हमला करने एवं जान से मारने वाले अभियुक्त को 10 वर्ष की सजा

नाबालिग पर हमला करने एवं जान से मारने वाले अभियुक्त को 10 वर्ष की सजा
सागर। न्यायालय-नवम अपर सत्र न्यायाधीष श्रीमती नीलू संजीव श्रृंगीऋषि के न्यायालय ने आरोपी हेमंत उर्फ गोलू अहिरवार पिता घनष्याम निवासी ग्राम सतोरिया थाना बीना जिला सागर को भादवि की धारा 307 में 10 वर्ष का कठोर कारावास एवं 2000 रूपये के जुर्माना तथा धारा 11/12 पाक्सो एक्ट मंे 2 वर्ष के कठोर कारावास एवं 2000 रूपये के जुर्माने से दंडित किया। प्रकरण में अभियोजन की ओर से पैरवी अनन्य विषेष लोक अभियोजक/जिला अभियोजन अधिकारी राजीव रूसिया एवं वरिष्ठ एडीपीओ रिपा जैन ने की।
प्रकरण का विवरण इस प्रकार है कि उत्तरजीवी ने दिनांक-11.03.2019 को इस आषय की देहाती नालसी लेख कराई कि उसे हेमंत उर्फ गोलू अहिरवार स्कूल आते जाते परेषान करता था। दिनांक-11.03.2019 को जब वह सुबह 11 बजे स्कूल से परीक्षा देकर घर लौट रही थी तो रास्ते में उसे आरोपी मिला और गंदे गंदे इषारे करने लगा तथा उसका रास्ता रोककर गालियाॅं देने लगा और बात न करने पर जान से मारने की धमकी दी। इसके बाद आरोपी ने उसकी चोटी पकड़कर चाकू से उसके चेहरे पर कई बार मारा जिससे उसे चेहरे पर चोट लगी और खून निकलने लगा। उक्त सूचना के आधार पर आरोपी के विरूद्ध पुलिस थाना बीना में धारा 341, 294, 354डी, 324, 506, 509 भादवि एवं धारा 11/12 पाक्सो एक्ट की रिपोर्ट लेख कराई गई और मामला विवेचना में लिया गया। विवेचना के दौरान प्रकरण मंे धारा 307 भादवि का इजाफा किया गया। अनुसंधान उपरांत अभियोग पत्र न्यायालय में प्रस्तुत किया गया। विचारण में अभियोजन ने अपना मामला संदेह से परे प्रमाणित किया। जिसके आधार पर नवम अपर सत्र न्यायाधीष श्रीमती नीलू संजीव श्रृंगीऋषि की अदालत ने आरोपी हेमंत उर्फ गोलू अहिरवार पिता घनष्याम निवासी ग्राम सतोरिया थाना बीना जिला सागर को दोषी पाते हुए भादवि की धारा 307 में 10 वर्ष का कठोर कारावास एवं 2000 रूपये के जुर्माना तथा धारा 11/12 पाक्सो एक्ट मंे 2 वर्ष के कठोर कारावास एवं 2000 रूपये के जुर्माने से दंडित किया।
मारपीट करने वाले आरोपियों को 3 वर्ष का कठोर कारावास

सागर। न्यायालय-सप्तम अपर सत्र न्यायाधीष नवनीत कुमार बालिया के न्यायालय ने आरोपी नीरज पिता बाबूलाल उम्र 20 वर्ष एवं उंगा उर्फ गुड्डा पिता दौलत दोनों निवासी ग्राम कपूरिया थाना केन्ट जिला सागर को भादवि की धारा 341 में 1 माह का कारावास एवं धारा 329 में 3 वर्ष का कठोर कारावास एवं 10000 रूपये के जुर्माने से दंडित किया। प्रकरण में अभियोजन की ओर से पैरवी अति. जिला अभियोजन अधिकारी षिवसंजय ने की।

 

प्रकरण का विवरण इस प्रकार है कि फरियादी सतीष गुप्ता ने दिनांक-11.04.2014 को इस आषय की रिपोर्ट लेख कराई कि वह सोयाबीन प्लांग भैंसा में चाय की होटल करता है। दिनांक-11.04.2014 को वह अपनी दुकान बंद कर साईकिल से अपने घर आ रहा था। बीच की पुलिया के पास रात करीब 8.30 बजे पहुॅंचा तो दो आदमी जिसमें से एक व्यक्ति चैनु का भाई टपरा कपूरिया का तथा एक व्यक्ति काला सा जिसका नाम नहीं जानता शक्ल से पहचानता है मिले और रास्ते में रोक लिया तथा गाली देते हुए शराब पीने के लिए पैसे मांगने लगे। पैसा न देने पर उसके साथ हाथ मुक्कों से मारपीट की जिससे उसके मुंह एवं दाॅंत में चोट आई और खून बहने लगा। दोनों व्यक्ति उसे जाने से मारने की धमकी भी दे रहे थे। उक्त रिपोर्ट पर से थाना केन्ट द्वारा धारा 341, 294, 506, 327, 323/34 भादवि का अपराध पंजीबद्ध किया गया। विवेचना के दौरान प्रकरण में धारा 329 का इजाफा किया गया। अनुसंधान पूर्ण कर अभियोग पत्र माननीय न्यायालय में पेष किया गया। विचारण के दौरान अभियोजन ने अपना मामला आरोपीगण के विरूद्ध धारा 341, 329 में संदेह से परे प्रमाणित किया। जिसके आधार पर सप्तम अपर सत्र न्यायाधीष नवनीत कुमार बालिया की अदालत ने आरोपी नीरज पिता बाबूलाल उम्र 20 वर्ष एवं उंगा उर्फ गुड्डा पिता दौलत दोनों निवासी ग्राम कपूरिया थाना केन्ट जिला सागर को भादवि की धारा 341 में 1 माह का कारावास एवं धारा 329 में 3 वर्ष का कठोर कारावास एवं 10000 रूपये के जुर्माने से दंडित किया


सरपंचों के कार्यकाल खत्म होने के मद्देनजर सरपंचों के बैंक सम्बन्धी कामकाज पर लगी पाबंदी

सरपंचों के कार्यकाल खत्म होने के मद्देनजर सरपंचों के बैंक सम्बन्धी कामकाज पर लगी पाबंदी
भोपाल। एमपी में सरपंचो का  कार्यकाल 12 मॉर्च महीने में खत्म हो रहा है ।इसके चलते पंचायत और ग्रामीण विकास विभाग ने सरपंचों के लेनदेन में हस्ताक्षर आदि पर पाबंदी लगा दी है । इस आशय के निःर्देश कलेक्टरों को आज किये गए है। 

Mp बोर्ड की 10 वी की परीक्षा में आजाद कश्मीर को लेकर पूछे सवाल पर बवाल, देश की अखण्डता पर षड्यंत्र:रजनीश अग्रवाल

Mp बोर्ड की 10 वी की परीक्षा में आजाद कश्मीर को लेकर पूछे सवाल पर बवाल, देश की अखण्डता पर षड्यंत्र:रजनीश अग्रवाल

भोपाल।MP बोर्ड की कक्षा  10 वी के सामाजिक विज्ञान परीक्षा के पेपर में आजाद कश्मीर को लेकर पूछे गए सवाल को लेकर बवाल मचा है । भाजपा ने इसे मुद्दा बना लिया है । पेपर में  दो  सवाल पूछे गए । प्रश्न नंबर 4 में सही जोड़ी में मिलाने को लेकर आजाद कश्मीर का विकल्प दिया गया।वही प्रश्न नंबर 26 में भारत के मानचित्र में आजाद कश्मीर दर्शाने के लिए कहा गया है ।
राजनीतिक उठापठक के बीच  कमलनाथ सरकार  मध्यप्रदेश दसवीं बोर्ड की परीक्षा में आज़ाद काश्मीर को लेकर पूछे गए सवालों से विपक्ष के निशाने पर आ गई गई है । भाजपा और उसके संगठन विरोध पर उतर आए हैं।
इस मामले में  भाजपा प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल का कहना है कि MP Board के 10वीं बोर्ड के सामाजिक विज्ञान परीक्षा के पेपर में आजाद कश्मीर को लेकर 2 सवाल पूछे गए प्रश्न नंबर 4 में सही जोड़ी में मिलाने को लेकर आजाद कश्मीर का विकल्प दिया गया ।वही प्रश्न नंबर 26 में भारत के मानचित्र में आजाद कश्मीर दर्शाने के लिए कहा गया है । 
ये वही भाषा है,जो लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन जी बोलते हैं,जिसे पाकिस्तान और अलगाववादी बोलते है,कुछ कांग्रेसी और वामपंथी बोलते हैं। ये कोई चूक नहीं सोची समझी नीति है। इसपर मात्र @OfficeOfKNath जी नहीं बल्कि सोनिया जी, @RahulGandhi @priyankagandhi  जी भी जवाब दें।
उन्होंने कहा कि यह कृत्य भारत की संप्रभुता और अखंडता को चुनौती देने वाला षड्यंत्रकारी है। यह राष्ट्रद्रोह की श्रेणी में आता है यह भारत की संसद के निर्णय के विरुद्ध है। इसे जानबूझकर इसे बच्चों  के अबोध मन मे डाला जा रहा है। 


ओरछा के आसपास औद्योगिक गतिविधियों को बढ़ावा दिया जाएगा: मंत्री श्री राठौर

ओरछा के आसपास औद्योगिक गतिविधियों को बढ़ावा दिया जाएगा: मंत्री श्री राठौर
#ओरछा में बिजनेस कॉन्क्लेव सम्पन्न,नमस्ते ओरछा उमड़े पर्यटक

सागर । वणिज्यिक कर मंत्री श्री बृजेन्द्र सिंह राठौर ने कहा है कि नमस्ते ओरछा महोत्सव न सिर्फ रामराजा की नगरी ओरछा के महत्व में वृद्धि करेगा बल्कि निकटवर्ती पर्यटन और आस्था के अन्य केन्द्र भी राष्ट्रीय पर्यटन के नक्शे पर उभर कर आएंगे। श्री राठौर आज ओरछा में ष्नमस्ते ओरछा महोत्सव के दूसरे दिन बिजनेस कॉनक्लेव के शुभारंभ सत्र को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि ओरछा के नजदीक गढ़कुण्डार, बल्देवगढ़ का किला, मढ़खेरा सूर्य मंदिर आदि स्थानों में पर्यटन की व्यापक संभावनाओं को साकार करने के लिये यह महोत्सव महत्वपूर्ण प्रयास है। श्री राठौर ने कहा कि ओरछा में विभिन्न व्यावसायिक गतिविधियों को बढ़ाने के प्रयास भी किये जा रहे हैं।
मंत्री श्री राठौर ने कहा कि वाटर स्पोर्ट्स की गतिविधियों के लिये भी ओरछा और आस-पास का क्षेत्र बहुत अनुकूल है। यहाँ करीब पांच सौ तालाब होने से यहां जलक्रीड़ा स्पर्धाएँ संभव हैं। उन्होंने कहा कि फिल्मों के निर्माण की दृष्टि से ओरछा में जो सुविधायें उपलब्ध हैं, उसका लाभ लेने के लिये लोग आगे आयेंगे। श्री राठौर ने कहा कि राजस्थान के चित्तौड़गढ़ और मध्यप्रदेश के चंदेरी जैसे पर्यटन स्थलों से टूरिस्ट सर्किल द्वारा ओरछा को जोड़ने की दिशा में प्रयास किये जायेंगे। वाणिज्यिक कर मंत्री श्री राठौर ने कहा कि यहां हवाई पट्टी की संभावनाओं को भी साकार किया जा सकता है।
शीघ्र लाएंगे नवकरणीय ऊर्जा की न्यू वीजन पॉलिसी
मुख्य सचिव  एस.आर. मोहंती ने कहा कि मध्यप्रदेश की भौगोलिक स्थिति के कारण देश की लगभग पचास प्रतिशत आबादी इससे जुड़ी है। मध्यप्रदेश अनके क्षेत्रों में अग्रणी स्थिति में है। उन्होंने बताया कि मध्यप्रदेश में नवकरणीय उर्जा के क्षेत्र में काफी काम किया जा रहा है। मुख्य सचिव ने बताया कि प्रदेश में शीघ्र ही नवकरणीय उर्जा की "न्यू विजन पॉलिसी" लाई जायेगी।
मुख्य सचिव श्री मोहंती ने कहा कि प्रदेश में उद्योगों की स्थापना के लिये स्वीकृतियाँ  देने की समयबद्ध व्यवस्था की गई है। कृषि आधारित उद्योगों के विकास, खाद्य प्र-संस्करण इकाईयाँ लगाने, नये आवासीय क्षेत्र विकसित करने, फार्मास्युटिकल उद्योग, टेक्सटाइल सेक्टर और पर्यटन विकास के लिये अनेक कदम उठाये गये हैं। उन्होंने बताया कि इन्दौर और भोपाल में मेट्रो रेल लाने, स्मार्ट नगरों के विकास, रेल सुविधाएँ बढ़वाने, खनिज क्षेत्र में परियोजनाओं की शुरूआत और पीपीपी मोड पर निजी निवेशकों को आमंत्रित किया जा रहा है। मुख्य सचिव ने बताया कि प्रदेश के तीन विश्व धरोहर स्थल साँची, खजुराहो और भीम बैटका के बाद शीघ्र ही ओरछा भी इस श्रेणी में शामिल हो, इसके प्रयास किये जा रहे हैं।
श्री एस.आर. मोहंती ने बिजनेस कॉनक्लेव में आये उद्योगपतियों को आश्वस्त किया कि मध्यप्रदेश में निवेश के लिये भूमि आवंटन और अन्य सुविधाओं के साथ ही आदर्श कानून-व्यवस्था आदि का लाभ सहज उपलब्ध है। ये व्यवस्थाएं निरंतर कायम रखने पर पूरा ध्यान दिया जा रहा है।
नमस्ते ओरछा महोत्सव में दूसरे दिन सुबह की अनूभूतियां
मध्यप्रदेश के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल ओरछा में श्श्नमस्ते ओरछाश्श् महोत्सव में दूसरे दिन 7 मार्च को सुबह विभिन्न गतिविधियां आयोजित की गयीं।  इस दौरान स्थानीय बेतवा रिट्रीट में स्वास्थ्य एवं योगा सत्र हुआ, जिसमें विदेशी सैलानियों के साथ देशी सैलानियों ने भी योगाभ्यास किया। इसके साथ ही, पर्यटकों ने बेतवा रिट्रीट से साईकलिंग की, जो बेतवा पुल, अभ्यारण्य, जहांगीर महल, मुख्य मार्ग होते हुए बेतवा रिट्रीट वापिस पहुंची।
सुबह की अनुभूतियों में बेतवा नदी में कंचना घाट से पर्यटकों ने एडवेंचर स्पोर्टस (राफ्टिंग) का आनंद लिया। इसमें सैलानियों ने बेतवा नदी में राफ्टिंग की। सैलानियों ने फोटोग्राफी वॉक का भी आनंद लिया।
संस्कृति मंत्री डॉ. साधौ ने किया ओरछा भ्रमण
चिकित्सा शिक्षा, आयुष एवं संस्कृति मंत्री डॉ. विजयलक्ष्मी साधौ आज निवाड़ी जिले के प्रवास पर रहीं। उन्होंने ओरछा में श्रीरामराजा सरकार के दर्शन किये।डॉ. विजय लक्ष्मी साधौ ने शीश महल में फूड एवं क्राफ्ट मेला देखा। उन्होंने मेले में आये शिल्पकारों, कलाकारों तथा दुकानदारों से चर्चा की। डॉ. साधौ ने जहांगीर महल तथा शीश महल का भी भ्रमण किया। इस अवसर पर उन्होंने संबंधित अधिकारियों को पर्यटकों के लिये बेहतर व्यवस्थाएं बनाये रखने के निर्देश दिये।

31 मार्च तक सीवरेज का उपचार सुनिश्चित करने के निर्देश,अन्यथा प्रति नाली 5 लाख का जुर्माना

31 मार्च तक सीवरेज का उपचार सुनिश्चित करने के निर्देश,अन्यथा प्रति नाली 5 लाख का जुर्माना
सागर। आयुक्त नगरीय प्रशासन एवं विकास  पी. नरहरि ने सभी नगरीय निकाय के अधिकारियों को 31 मार्च 2020 तक सीवरेज का शत-प्रतिशत उपचार करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा है कि सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट प्रारंभ होने तक सभी नालियों एवं सीवरेज उत्पन्न करने वाले स्त्रोतों का स्थानीय उपचार करें।
सीवरेज का उपचार नहीं करने पर लगेगा जुर्माना
सीवरेज का समय पर उपचार नहीं करने पर गंगा नदी के प्रकरण में जारी निर्देशानुसार क्षतिपूर्ति देनी होगी। स्थानीय उपचार नहीं करने पर प्रति नाली प्रतिमाह 5 लाख रूपये और सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट (एस.टी.पी.) नहीं प्रारंभ होने पर प्रति एस.टी.पी. प्रतिमाह 5 लाख रूपये के अर्थदण्ड का प्रावधान है। एन.जी.टी. के आदेशानुसार एस.टी.पी. प्रारंभ होने की तिथि 31 मार्च 2021 है।

हनुमान जी भाजपा को मर्यादा, संयम और चरित्रबल दे: सीएम कमलनाथ, प्रदेश के नाम लिखी सीएम ने चिट्ठी

हनुमान जी भाजपा को मर्यादा, संयम और चरित्रबल दे:  सीएम कमलनाथ,
प्रदेश के नाम लिखी सीएम ने चिट्ठी

प्रिय प्रदेशवासियों,

मैं यह कभी कल्पना भी नहीं कर सकता था कि सत्ता की लोलुपता भाजपा के नेताओं को इस क़दर नैतिक पतन की ओर ले जाएगी कि वे प्रदेश के नागरिकों के प्रजातंत्रीय निर्णय की ही सौदेबाजी करने लगेंगे । 
आज सचमुच भाजपा नेताओं के इस अशोभनीय आचरण ने मध्यप्रदेश के गौरवशाली इतिहास और वैभवशाली विरासत को  कलंकित करने की कोशिश की है ।
मैं हतप्रभ हूँ कि भाजपा को आख़िर इस कदाचरण की  प्रेरणा मिली कहाँ से है ? क्या ये लोग उन माफ़ियाओं से प्रेरित हैं जिन्हें मैं जड़ से मिटा देना चाहता हूँ ? क्या ये लोग उन मिलावटखोरों के प्रभाव में है जिनसे मैं  प्रदेश को मुक्त करने का संकल्प ले चुका हूँ  ? क्या इन्होंने इस षड़यंत्र   की कुचेष्टा उन रेत माफियाओंऔर वसूली माफ़ियाओं के साथ मिलकर की है जिनके खिलाफ़ मैने लड़ाई का शंखनाद किया है और प्रदेश के राजस्व को पाँच गुना बढ़ा कर रेत माफ़ियाओं की कमर तोड़ दी है ? 
आज प्रदेश भाजपा नेताओं  ने न सिर्फ़ प्रदेश सरकार को अस्थिर करने की कोशिश  की है अपितु उन्होंने प्रदेश के विकास पर सीधा आक्रमण किया है । प्रदेश में धीरे-धीरे आ रहे निवेश और उसकी असीम संभावनाओं को आघात पहुँचाने की धृष्टता की है , किसानों की कर्ज माफी और उनके उज्ज्वल भविष्य पर वार किया है , युवाओं के रोजगार के सुनहरे  अवसरों पर प्रहार किया है ।
प्रदेश के नागरिकों के 'इंदिरा गृह ज्योति योजना' से सस्ती बिजली के साकार हो चुके सपने को ठेस पहुँचाने की कोशिश की है, क्योंकि  किसी प्रदेश के विकास की अनिवार्य शर्त है उसकी राजनैतिक स्थिरता । 
मैं आश्वस्त हूँ , मेरे सभी विधायक साथी सरकार के साथ दृढ़ता से खड़े हैं, प्रदेश के विकास के प्रति प्रतिबद्ध और समर्पित हैं । 
मैं आज एक बात भाजपा नेताओं को साफ़ कर देना चाहता हूँ कि मैने चालीस साल से ज्यादा के अपने सार्वजनिक जीवन में कभी भी नफ़रत, निराशा और नकारात्मकता को कोई स्थान नहीं दिया है । याद कीजिए जब मैं केंद्र में मंत्री था और प्रदेश में सरकार भाजपा की थी तब भी मैने पूरे मनोयोग से प्रदेश के विकास में अपना योगदान दिया है । एक क्षण भी मेरे मन में इस बात का ख़याल कभी नहीं आया कि प्रदेश में भाजपा सरकार है और मैं उसे अस्थिर करूँ । मेरे अंतरमन में हमेशा मध्यप्रदेश की तरक्की का भाव ही रहा है । 
मैं भाजपा नेताओं से अनुरोध करता हूँ कि वे सत्ता की भूख का प्रदर्शन इस तरह न करें कि लोगों का प्रजातंत्र पर से भरोसा ही उठ जाए।
मैं  प्रार्थना करता हूँ कि हनुमान जी भाजपा को  मर्यादा ,संयम और चरित्रबल दें ताकि हम सब पक्ष और प्रतिपक्ष मिलकर प्रदेश के विकास के स्वप्न को साकार कर सकें ।

आपका 
कमल नाथ

ऐडीना फाॅर्मेसी कालेज में टीचर्स ट्रेनिंग प्रोग्राम का समापन

ऐडीना फाॅर्मेसी कालेज में टीचर्स ट्रेनिंग प्रोग्राम का समापन
सागर। ऐडीना काॅलेज में विगत 3 मार्च से ए. आई. सी. टी. ई. एवं आर. जी. पी. व्ही. के संयुक्त तत्वाधान में चल रहे पाँच दिवसीय टीचर्स ट्रेनिंग प्रोग्राम का समापन हुआ। कार्यक्रम के विषय विशेषज्ञ डाॅ. के.बी. जोशी डाॅ. हरिसिंग गौर केन्द्रीय विश्वविद्यालय ने पेप्टाईड डिजाइन एवं सिल्वर नैनोपाटिकल पर अपने शोधकार्य को विस्तार से बतलाया डाॅ. जोशी ने वर्तमान में चल रहे ग्रीन केमिस्ट्री पर शोध के बारे में भी बतलाया। संस्था के डायरेक्टर डाॅ. सुनील जैन ने समापन व्याख्यान में बतलाया कि इस प्रोग्राम में आए विषय विशेषज्ञों ने ग्रीन केमेस्ट्री के वर्तमान में चल रही ड्रग डिस्कवरी रिसर्च के महत्तव एवं आधुनिक उपकरणों के उपयोग से कैसे अपने शोधकार्य को उच्चस्तरीय बनाया जा सकता है के बारे में विस्तार से ट्रेनिंग दी। प्रोग्राम क्वाडीनेटर डाॅ. प्रतीक जैन ने बतलाया कि इस ट्रेनिंग प्रोग्राम में मध्यप्रदेश के विभिन्न काॅलेजों के पचाँस शिक्षकों ने ट्रेनिंग प्राप्त की एवं राजीव गाँधी प्रोधोगिकी विश्ववि़द्यालय के द्वारा आयोजित आॅनलाइन परीक्षा में सम्मलित होकर उत्तीर्ण भी हुए। प्रोग्राम को काॅआडीनेटर डाॅ. आशीष जैन ने बतलाया कि इस प्रोग्रांम के संचालन में आर. जी. पी. व्ही. से टीचर्स ट्रेनिंग प्रोग्राम कोआडीनेटर डाॅ. सविता व्यास एवं क्रिप्स से श्री दिवाकर गौतम जी का अथाह सहयोग रहा। प्रोग्राम के समापन कार्यक्रम का संचालन डाॅ. हर्षिता जैन ने किया जिसमें समस्त शिक्षार्थियों को स्मृति चिन्ह एवं सर्टिफिकेट से सम्मानित किया गया। संस्था के चेयरमेन श्री राजेश जैन ने समस्त शिक्षकों एवं विद्यावानों का आभार व्यक्त किया एवं कार्यक्रम की सफलता पर हर्ष व्यक्त किया।

सहकारी समिति से बीज निकला मिलावटी, जांच दल पहुचा खेतोंमें, फसलों का लिया सेम्पल, मंत्री हर्ष यादव के क्षेत्र की तस्वीर

सहकारी समिति से बीज निकला मिलावटी, जांच दल पहुचा खेतोंमें, फसलों का लिया सेम्पल,
मंत्री हर्ष यादव के क्षेत्र की तस्वीर

सागर। किसानों को सहकारी समितियों से मिलावटी बीज भी मिल रहा है । मामला एमपी के नवकरणीय ऊर्जा मंत्री हर्ष यादव के विधानसभा क्षेत्र देवरी का  है । किसान ने गुणवत्ता की शिकायत करने की हिम्मत जुटाई तो कलेक्टर ने इसके जांच के आदेश किये। लेकिन जांच दल एक महीने बाद जांच करने खेतो में पहुचा। 
सागर जिले के देवरी विकासखण्ड के ग्राम खोड़ी निवासी कृषक द्वारा सहकारी समिति द्वारा दिये गये बीज में मिलावट की शिकायत के बाद जिला कलेक्टर के निर्देश पर कृषि विभाग
के वैज्ञानिकों ने पीडि़त के खेत पहुचकर फसल की जांच की। जांच में प्रथमदृष्टया फसल 
मे अपमिश्रित बीज पाया गया है जिस पर विभाग द्वारा कार्रवाई की बात कही गई है।जांच के बाद कृषि अधिकारियों द्वारा फसल का सेंपल लेकर उसका लेब टेस्ट कराया जायेगा।
एक महीने पहले की थी शिकायत
शासन की कल्याणकारी योजनाओं के अंतर्गत सहकारी समितियों द्वारा सरकारी अनुदान 
पर कृषकों को गुणवत्ता युक्त बीज उपलब्ध कराये जाने में भी भारी भ्र्ष्टाचार की बात
सामने आ रही है। विकासखण्ड के ग्राम खोड़ी निवासी कृषक बाबूलाल लोधी द्वारा रबी सीजन
के लिए सहकारी समिति चरगुंवा से दो क्विंटल बीज सरकारी योजना अंतर्गत लिया गया
था। कृषक के परिश्रम एवं लागत के ऐवज में उसे रोगग्रस्त मिलावटी फसल प्राप्त हुई।
जिसकी शिकायत उसके द्वारा विगत 4 फरवरी को जिला कलेक्टर सागर को की गई थी।
मामले में जिला कलेक्टर के निर्देश पर एक माह बाद पहुचे कृषि विभाग के वैज्ञानिकों एवं
अधिकारियों ने कृषक के खेत पहुचकर मामले की जांच की तो पाया कि कृषक को दिये
गये बीज में अपमिश्रण किया गया था। मामला साफ है कि सरकारी योजनाओं के  अंतर्गत कृषकों को दिये जा रहे बीज में भी विभागीय अधिकारियों की अनदेखी एवं घालमेल
का फायदा उठाकर कृषकों को चूना लगाया जा रहा है।
दल पहुचा खेतो में ,प्रथम द्रष्टया मिलावट
उप संचालक कृषि द्वारा बनाया गया जांच दल विकासखण्ड के ग्राम सुजानपुर स्थित पीडि़त के खेत पहुचा। जिसमे  कृषि विभाग के वैज्ञानिक के.एस.यादव,  एसएडीओ देवरी डी.के श्रीवास्तव, एसएडीओ रहली ए.आर.मेड़ा, श्रीमति ममता सिंह ने खेत पहुचकर फसल की जांच की जिसमें पाया गया कि पीडि़त कृषक की फसल में कई प्रकार के बीजों का अपमिश्रण है । जिसके कारण गेंहू के पौधे एवं बालिया विभिन्न  आकारों की है जिसके कारण फसल की गुणवत्ता एवं उत्पादन प्रभावित होगा। 
अधिकारियों द्वारा फसल का सेंपल एकत्र कर पंचनामा कार्रवाई की गई है। अधिकारियों
को सहाकरी समिति चरगुंवा के समिति प्रबंधक नीतेश जैन ने बताया कि उक्त बीज विकास
बीज उत्पादक सहकारी समिति मर्यादित अनंतपुरा से खरीदा गया। जिसे बीज उत्पादक समितिद्वारा सर्टिफाइड 2 श्रेणी का बताया गया था। मामले में  कृषि अधिकारियों द्वारा बताया गया कि मामले में विभाग द्वारा प्रतिवेदन उच्च अधिकारियों को भेजा  जायेगा। किसान द्वारा सरकारी अनुदान के मामले में हिम्मत जुटाते हुए की गई शिकायत एवं सरकारी जांच के बाद कृषि व्यवस्था सवालों के कटघरे में है। 


लूट का आरोपी पकड़ाया,बैंक से पैसे निकलकर गांव जाते समय हुई थी 10 हजार की लूट

लूट का आरोपी पकड़ाया,बैंक से पैसे निकालकर गांव जाते समय हुई थी 10 हजार की लूट
सागर।सागर पुलिस ने बैंक से पैसे निकालकर अपने गांव जा रहे युवक से 10 हजार रुपये लूटने वाले आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है । लूट की राशी भी बरामद कर ली। फरियादी मजबूत सिंह यादव द्वारा चौकी बिलहरा पर आकर रिपोर्ट की गई कि जब वह बिलहरा बैंक शाखा से 10 हजार रूपये निकाल कर अपने साथी के साथ सागर से अपने गांव जा रहा था। रात्री के समयनन्ही देवरी 
रोड पर नीली कमीज पहने एक व्यक्ति द्वारा उन्हे रोककर उनसे कॉल करने के लिये मोबा0 मांगा गया। मोबाइल से बात करने के नाम पर उसके द्वारा  मोटर साईकिल  पर सवार मेरे
साथी के हाथ से थैला छीनकर भाग गया। फरियादी की रिपोर्ट पर से थाना सुरखी मे अज्ञातबदमाश के विरूद्ध लूट का प्रकरण पंजीबद्ध किया।  बिलहरा चौकीप्रभारी उनि शशिकांत गुर्जर के नैतृत्व मे टीम बनाकर फरियादी द्वारा बताये गये हुलिया केव्यक्ति की तलाश घटना स्थल के आसपास के इलाकों मे करने हेतु टीम का गठन किया जाकर उसकी तलाश की गई। तलाश करने के दौरान थाना प्रभारी सुरखी श्री आनंद राज एवं बिलहरा चौकी प्रभारी उनि शशिकांत गुर्जर की टीम को ग्राम थाबरी मे फरियादी द्वारा बतायेगये हुलिया वाला व्यक्ति मिला। पुलिस टीम द्वारा उसे पकड़कर पूछताछ करने पर उसने अपना
नाम करन पुत्र खंजू अहिरवार उम्र 50 साल निवासी ग्राम खुरई थाबरी, जिला सागर बताया।
गिरफ्तार बदमाश से सख्ती से पूछताछ करने पर उसके द्वारा विगत रात्री नन्ही देवरी रोड़ पर
मो0सा0 सवार से लूट किये जाने की घटना को स्वीकार कर लिया। बदमाश की निशादेही पर
लूटी गई रकम 10 हजार रूपये को भी बरामद कर लिया गया है। गिरफ्तार बदमाश से जिलें
मे हुई अन्य लूट की बारदातों के संबंध मे सख्ती से पूछताछ की जा रही है।

शुक्रवार, 6 मार्च 2020

ई कचरा खरीदने वाली संस्था ने सागर से तीन टन कचरा भेजा रिसाईकिल करने, चार महीने में

ई कचरा खरीदने वाली संस्था ने सागर से तीन टन कचरा भेजा रिसाईकिल करने, चार महीने में

सागर । ई कचरा यानि इलेक्ट्रॉनिक सामग्री जैसे कंप्यूटर, लेपटाप, वाशिंग मशीन, रेफ्रिजरेटर, एयर कंडीशनर, टीवी, मोबाइल, सीपीयू, प्रिंटर, मिक्सी, रेडियो, टेलीफोन सहित अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है । इनको सागर में एक 
संस्था सार्थक ई वेस्ट उचित दामो में खरीद रही है। जिसे रीसाइकिल करके दुवारा उपयोग में लाया जा रहा है। पिछले चार महीनों में सागर से ऐसा ई कचरा तीन टन इकठ्ठा कर राजस्थान के अलवर में भेजा गया।  जिसे रिसाईकिल कर उपयोग में लाया जाएगा।
निगम आयुक्त की पहल
सर्वेक्षण 2020 अंतर्गत शहर के ई-कचरा को एकत्रित करने के लिये नगरनिगम आयुक्त श्आर.पी.अहिरवार की पहल पर सामाजिक संस्था सार्थक ई-वेस्ट ने नगर निगम का सहयोग करते हुये पिछले 4 माह में 3 टन ई-कचरा एकत्रित कर डिस्पोज के लिये राजस्थान के अलवर शहर भेजा।  जो रिसायकल होकर पुनः उपयोग में लाया जायेगा। सार्थक ई-वेस्ट के प्रमुख  शिवांस जैन ने बताया कि रोजमर्रा के उपयोग होने वाले इलेक्ट्रॉनिक उपकरण लोगों की जीवन शैली में ही ढल गए हैं ऐसे में रोजाना खराब या पुराने इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की तादाद भी दिन.प्रतिदिन बढ़ रही है । जो आने वाले समय में पर्यावरण के लिए एक बडी समस्या उत्पन्न हो सकती है तथा बडी मात्रा में प्लास्टिक एवं  ई.बेस्ट का व्यर्थ कचरा एकत्रित हो जाता है ।इसके लिये सागर नगर निगम को स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 में सहयोग करते हुये शहर की ही सामाजिक संस्था सार्थक ई बेस्ट ने पर्यावरण संरक्षण के लिए बेहतर कार्य किया है। यह एक समाजसेवी संस्था है । जिसके  द्वारा सागर शहर का पिछले 4 माह में 3 टन ई.कचरा डिस्पोज के लिए राजस्थान के अलवर शहर में भेजा दिया गया है जो रीसायकल होकर पुनः उपयोग में लाया जा सकेगा।
चलाया गया व्यापक जागरूकता अभियान- शहर की ई-वेस्ट संस्था ने विगत सालभर में पर्यावरण संरक्षण के प्रति एक प्रमुख आयाम स्थापित किया है जो लोंगो को जागरूक करने के लिए डोर टू डोर कैंपेनिंग के साथ ई कचरा के संरक्षण करने के लगातार प्रयास कर रही है तथा जगह जगह नुक्कड़ नाटक एवं जन चैपाल तथा फोनो सिस्टम के जरिए भी लोगों को व्यापक स्तर पर जागरूक किया है साथ ही कैम्प लगाकर ई बेस्ट सामग्री को अच्छे दामों पर देने में यह संस्था कारगर साबित हुई है। नगर निगम आयुक्त के अनुरोध पर सागर शहर में ई कचरा संग्रहण या पर्यावरण संरक्षण हेतु ई-कचरा एकत्रित करने हेतु संस्था द्वारा मोबाइल नंबर 6262856363 जारी भी किया है जिस पर नागरिकगण मिस्डकॉल देकर अपने घर से ही अपना व्यर्थ ई-कचरा उचित दर पर बेच सकते हैं। ई.कचरा के तहत् ऐसे इलेक्ट्रॉनिक सामग्री जैसे कंप्यूटर, लेपटाप, वाशिंग मशीन, रेफ्रिजरेटर, एयर कंडीशनर, टीवी, मोबाइल, सीपीयू, प्रिंटर, मिक्सी, रेडियो, टेलीफोन सहित अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरण जो अनुपयोगी हो चुके है इनको ई-बेस्ट संस्था उचित दाम देकर क्रय कर रही है। 

आचार्य श्री विमल सागर जी का मंगलविहार जरुआखेड़ा में

आचार्य श्री विमल सागर जी का मंगलविहार
जरुआखेड़ा में 

 सागर ।मूकमाटी रचयिता आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के शिष्य मुनि श्री विमल सागर जी मुनि श्री अनंत सागर जी मुनि श्री धर्म सागर जी मुनि श्री अचल सागर जी  मुनि श्री भाव सागर जी महाराज  का पद बिहार खुरई की ओर चल रहा है  6 मार्च को जरुआ खेड़ा में  मंगल प्रवेश हुआ  एवं  मंगल आगबानी हुई जगह जगह पर  मुनि श्री का पाद प्रक्षालन एवं आरती की गई! इस अवसर पर धर्म सभा को सम्बोधित करते हुए जरुआ खेड़ा में मुनि श्री भावसागर  जी महाराज ने संस्कारों  का महत्व बताया और कहा कि शिक्षा बच्चों को इस प्रकार से देना चाहिए कि जिससे वह  संस्कार वान बने !इसके बाद पद बिहार हो गया और 6 मार्च को आहार चर्या जरुआ खेड़ा में होने के बाद दोपहर में बिहार के बाद रात्रि विश्राम सिलोधा के पास  होने के   बाद  7 मार्च को  प्रातः 8 बजे खुरई नगर में मंगल प्रवेश होगा!
 मुनि श्री प्रमाण सागर जी महाराज का मंगल प्रवेश गुरुकुल के पास होगा वहां पर ऐतिहासिक महामिलन  8 मार्च प्रातः 8  बजे संभावित है !
इस महामिलन में पूरे भारत के विभिन्न नगरों से लोग आ रहे हैं!।

Rahtgdh shrab

-तीस पेटी शराब।                 
anchor-।सागर जिले की राहतगढ़ थाना पुलिस ने एक बड़ी कार्येवाहि को अंजाम दिया है जिसमे पुलिस ने तीस पेटी अवैध शराब सहित बुलेरो गाड़ी को जप्त किया है साथ ही तीन आरोपियों को गिरफ्तार भी किया है,।
,मामला थाना इलाके के लालवाघ बेरियर की है जहाँ पर पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर घेराबंदी की तो बुलेरो गाड़ी क्रमांक mp 49 c 2227 में तीस पेटी अवैध शराब रखी हुई थी,,जिसे मौके से जप्त किया गया साथ ही गाड़ी में सवार आरोपी विक्की गंधर्व ,ब्रजकिशोर रावत,और मोनू यादव को गिरफ्तार किया गया,।
बरामद शराब की कीमत एक लाख बीस हजार रुपये बताई जा रही है,,साथ ही पुलिस का कहना है कि शराब रायसेन जिले की तरफ से आ रही थी जिसे लालवाघ बेरियर पर बरामद किया गया है और गिरफ्तार आरोपियों के खिलाफ आबकारी एक्ट 34/2 के तहत कार्येवाहि की गई साथ ही जांच की जा रही है कि शराब का बेचबार कौन है और खरीददार कौन है ।
byte-आशीष सप्रे थाना प्रभारी थाना राहतगढ़
फोल्डर
Sagar
Rahtgdh shrab 06.03.20

एक भारत श्रेष्ठ भारत की अवधारणा विविधता में एकता है :कुलपति

एक भारत श्रेष्ठ भारत की अवधारणा  विविधता में एकता है :कुलपति 
#नागालैण्ड विवि के दल को आत्मीय 
विदाई,अंतिम दिन नगा दल ने बुन्देली प्रस्तुति दी,तो बुन्देलखण्ड के दल ने नगा सँस्कृति में 

सागर। भारत सरकार के केंद्रीय मॉनव संसाधन एवम विकास विभाग के एक भारत श्रेष्ठ भारत कार्यक्रम के तहत   नागालेंड विवि और डॉ हरीसिंह गौरव केन्द्रीय विश्वविद्यालय, सागर ने सँस्कृति को साझा किया। एक से छह मॉर्च तक चले इस आयोजन में विवि  सांस्क्रतिक मय दिखा। अंतिम दिन दोनो विवि के दलों ने एक दूसरे राज्यो की लोक कलाओं का शानदार प्रदर्शन किया। जिसमें एक भारत श्रेष्ठ भारत की सँस्कृति साकार होती नज़र  आई। 

 समापन अवसर के मुख्य अथिति विवि के कुलपति प्रो आर पी तिवारी और विशेष अथिति पूर्व प्रो सुरेश आचार्य थे। कुलपति प्रो  तिवारी ने कहा कि एक भारत श्रेष्ठ भारत  का उद्देश्य विवि में देखने मिला। हमारा देश विभिन्न संस्कृति, रीति-रिवाज, परम्पराओं, भाषा, वस्त्र, आवास, आभूषण एवं प्राकृतिक सौन्दर्य से भरा हुआ है। इतनी विविधताओं के होते हुए भी अनेकता में एकता प्रतिविम्बित है। इसका मुख्य कारण हमारी अपनी मूल संस्कृति है जिसे हम बसुदेव कुटुम्बकम के भाव से एक-दूसरे को स्वीकार करते हैं। देश के प्रधानमंत्री ने जो योजना लागू की यह बहुत ही सराहनीय एवं प्रेरणात्मक है। 

इस मौके पर नागालेंड विवि की डॉ राधा रानी ने हिंदी में भाषण देते हुए कहा कि यहां आकर हमने लोककलाओं से लेकर खानपान तक को देखा। वास्तव में यह एक सुखद अनुभव है । बहुत कुछ सीखा भी।

कार्यक्रम के समन्वयक डॉ राकेश सोनी ने  कहा कि सभी के सहयोग से यह आयोजन सफल हुआ है । सभी  सँस्कृति की छाप छोड़कर जा रहे है । नागालेंड दल की हुसलू और आरी ने पूरे आयोजन का फीड बताते हुए सराहना की । 
इस मौके पर नगा दल ने बुन्देलखण्ड के लोकनृत्यों की और विवि ने नगा लोक नृत्यों की शानदार प्रस्तुतिया दी।

मानव विज्ञान विभाग में पहुचा दल
एक भारत श्रेष्ठ भारत के अन्तर्गत नागालैण्ड राज्य के छात्रों के भ्रमण दल ने अन्तिम दिवस में मानव विज्ञान विभाग में कुलपति राघवेन्द्र प्रसाद तिवारी के साथ भ्रमण करने पहुँचे। जहाँ पर उक्त दल का विभागाध्यक्ष प्रो. कैलाश काशी नाथ शर्मा ने बुन्देली परम्पराओं से चन्दन, अक्षत, पुष्पगुच्छ तथा रक्षा सूत्र बाँधकर स्वागत किया।विभाग के गतिविधियों के प्रभारी डाॅ. सोनिया कौशल ने भ्रमण दल को विभाग में चलाये जा रहे पाठ्यक्रम की जानकारी  दी। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. राघवेन्द्र प्रसाद तिवारी ने विभाग के प्रबोध संग्रहालय में बुन्देली परम्परा के अन्तर्गत भूमि पर बैठकर अध्ययन दल के साथ संवाद किया।
दल ने  कुछ बुन्देली शब्द जैसे- कक्का, दद्दा, बऊ, भज्जा, दाऊ, हओ आदि बोलकर बताये। बुन्देली संगीत मंे बधाई, राई, गारी, दीवारी, फाग, ढिमरयाई, बरेदी के मुखड़ा एवं नृत्य के स्टेप भी सीखे हैं, जो कि वहाँ जाकर प्रचारित एवं प्रसारित करेंगे। डाॅ. राधारानी मायबम ने कुलपति  से आग्रह करते हुए कहा कि इस प्रकार संस्कृति के आदान-प्रदान करने करने हेतु सिखाने वाले विषय-विशेषज्ञों को आमंत्रित किये जाने की वृहत् योजना विश्वविद्यालय अनुदान आयोग से स्वीकृत कराने का आग्रह किया। कुलपति जी ने आश्वासन देते हुए कहा कि मैं शीघ्र ही इस ओर ध्यान आकृष्ट करने का प्रयास करूँगा। बुन्देली परम्पराओं के अन्तर्गत विभागाध्यक्ष प्रो. कैलाश काशी नाथ शर्मा एवं शिक्षक विद्यार्थियों ने हल्दी, रोरी, अक्षत, चन्दन, श्रीफल, जूट निर्मित बैग भेंट करके विदाई की। 
ये रहे मौजूद
इस कार्यक्रम में प्रमुख रूप से प्रो. ए. एन. शर्मा, प्रो. राजेश गौतम, डाॅ. पंकज तिवारी, निर्देशक, ई.एम.आर.सी., डाॅ. बिजयासुन्दरी देवी, डाॅ. राधारानी मायबम, डाॅ. पीटर की, डाॅ. आशुश पाल, डाॅ. सोमनाथ चक्रवर्ती, राजेन्द्र सिंह, भरतेश जैन, संतोष जैन, सचिन सिपोल्या, निकिता दास, पद्मिनी सा, कौस्तुब देबशर्मा, अनुराग चैरसिया, अजय अहिरवार, बसन्त सेन, काव्या पाल, अशोक यादव, गंगाराम, भगवानदास रजक, अभिषेक पटेल, संतोष रैकवार सहित अनेक विद्यार्थीगण उपस्थित थे।  

कला गुरु विष्णु पाठक को दी श्रद्धांजलि

कला गुरु विष्णु पाठक को दी श्रद्धांजलि 
सागर। कला गुरु श्री विष्णु पाठक जी की प्रथम पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया।
आयोजित श्रद्धांजलि सभा में शहर के वरिष्ठ लोक कलाकारों,कला प्रेमियों ने श्री पाठक के चित्र पर माल्यर्पण एवं पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी एवं गुरु जी के सपने को आगे बढ़ाने के लिए (हर कलाकार को निशुल्क प्रशिक्षण और सागर का नाम कला के क्षेत्र मे विश्व विख्यात हो ) मिलकर कार्य करने की बात कहीं एवं उनके द्वारा स्थापित लोक कला अकादमी के कार्यों को आंगे बढ़ाने की बात की।
यह आयोजन उनकी पुत्री मयूरीका रोहण की उपस्थिति में हुआ ।श्रद्धांजलि सभा को संबोधित करते हुऐ उनकी पुत्री मयूरिका रोहण ने कहा कि जल्दी ही कलागुरु श्री पाठक जी के नाम से एक पुरुस्कार की स्थापना की जाएगी एवं उनके कार्यों को आंगे बढ़ाने के लिये समुचित कार्यक्रम शुरूं किये जायेंगे।
सभा में गुरु जी के शिष्य दीपा पान्डे, अंजना चतुर्वेदी,जागेश्वर यादव , कपिल स्वामी,अतीश नेमा,प्रकाश कुशवाहा,नितिन पचौरी, डॉ धरनेर्द्र जैन,कार्तिक रोहण,आकाश कोष्ठी संजय रोहण आदि उपस्थित रहे।

एड. रामकुमार अग्रवाल बने शासकीय अभिभाषक नियुक्त

एड. रामकुमार अग्रवाल बने शासकीय अभिभाषक नियुक्त
सागर । म.प्र. शासन के मुख्यमंत्री  कमलनाथ एवं म.प्र. शासन के विधि एवं विधायी कार्य विभाग मंत्री श्री पी.सी. शर्मा द्वारा म.प्र. कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री श्री सुरेन्द्र चौधरी की अनुशंसा पर वरिष्ठ अधिवक्ता श्री रामकुमार अग्रवाल को शासकीय अभिभाषक नियुक्ति किये जाने पर एड. रामकुमार अग्रवाल ने साथियों के साथ म.प्र. कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री श्री सुरेन्द्र चौधरी के भगवानगंज स्थित निवास पर पहुंचकर शासन द्वारा शासकीय अभिभाषक नियुक्ति किए जाने पर म.प्र. शासन के मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी एवं म.प्र. शासन के विधि एवं विधायी कार्य विभाग मंत्री श्री पी.सी. शर्मा तथा पूर्व मंत्री श्री सुरेन्द्र चौधरी का आभार व्यक्त किया तत्पश्चात् तीनबत्ती स्थित डॉ. सर हरीसिंह गौर की प्रतिमा पर पूर्व मंत्री श्री सुरेन्द्र चौधरी की मुख्य उपस्थिति में माल्यार्पण किया। इस दौरान उपस्थित जनों ने म.प्र. कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री श्री सुरेन्द्र चौधरी व नव नियुक्त शासकीय अभिभाषक एड. रामकुमार अग्रवाल का फूल मालाओं से स्वागत कर म.प्र. शासन के मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी एवं म.प्र. शासन के विधि एवं विधायी कार्य विभाग मंत्री श्री पी.सी. शर्मा व वरिष्ठ नेताओं का आभार व्यक्त किया। इस दौरान मुख्य रूप से पुरुषोत्तम मुन्ना चौबे, जितेन्द्र सिंह चावला, अखिलेश मौनी केशरवानी, अमित रामजी दुबे, पप्पू गुप्ता, सिंटू कटारे, राशिद खान, एड. सुनील सिंह, अशरफ खान, ओमप्रकाश पाण्डेय, एम.आई. खान, डा. जीवनलाल सेन, अनिल कुर्मी, अबरार सौदागर, राकेश यादव, आशीष चौबे, अक्षय दुबे, विकास तिवारी, राजेश यादव, रोहित वर्मा, केशव सेन, राजेश श्रीवास, छतर सिंह, लक्ष्मन प्रसाद, रूपेश अहिरवार आदि मौजूद थे।

संसदीय कार्यशाला-वर्तमान में चौथा स्तम्भ मीडिया मजबूती से उभरा

संसदीय कार्यशाला-वर्तमान में चौथा स्तम्भ मीडिया मजबूती से उभरा
सागर।  शासकीय स्वशासी कन्या स्नातकोत्तर उत्कृष्टता महाविद्यालय, सागर में आज पं. कुंजीलाल दुबे प्रथम विधानसभा अध्यक्ष के द्वारा प्रदान की गई राशि से संसदीय प्रक्रिया एवं पद्धति कार्यक्रम आयोजित किया गया। मुख्य अतिथि पूर्व विधायक  सुनील जैन विषय विशेषज्ञ डाॅ. बी.डी. अहिरवार प्राचार्य शासकीय महावि. जबेरा विशिष्ट अतिथि श्रीमती विधि सक्सेना अपरात्र न्यायधीश जिला सागर विधिक सेवा प्राधिकरण सागर विषय विशेषज्ञ सर्वेश्वर उपाध्याय प्राध्यापक डाॅ. हरीसिंह गौर महावि. सागर उपस्थित हुए। कार्यशाला के उद्धेश्य एवं प्रारूप बताते हुए डाॅ. सुनीता त्रिपाठी ने कहा कि कुंजीलाल दुबे विद्यापीठ 24 मार्च 1998 में विद्यार्थी को विद्यापीठ की स्थापना की गई। संसदीय जानकारी प्रदान करने के उद्धेश्य से की गई ताकि भविष्य में जो बच्चे राजनीति में जाए वे समस्त जानकारी के साथ वहाॅ प्रतिनिधित्व करे। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि  सुनील जैन पूर्व विधायक एवं उद्योगपति ने छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा वर्तमान में चैथा स्तंभ मीडिया के रूप  में बहुत मजबूती से उभरा है। दिनभर चलने वाली न्यूज को न्यायपालिका, विधायिका या कार्यपालिका नजर अंदाज नहीं कर पाती एवं कार्यवाही आवश्यक हो जाती है। विशिष्ठ अतिथि श्रीमति विधी सक्सेना विधिक सेवा प्राधिकरण जिला न्यायालय ने संबोधित करते हुए कहा कि यह आयोजन न्यायपालिका से भी संबंधित है। संविधान का अनुछेद 32 एवं 226 को तहत यह उत्तरदायित्व दिया गया है कि मौलिक अधिकारों की रक्षा करें। संविधान एक ऐसी मातृ पुस्तक है, वह सभी धर्मों को समदृष्टा की भांति देखती है। संविधान 39। कहता हैकि उन लोगों तक न्याय पहुँचाएँ जिन तक कोई नहीं पहुँचता। उनके लिए सुलभ न्याय हेतु 1987 में कानून बनाया गया। न्यायालय की समाज में फिल्मों से एक अलग इमेज बनाई है। वास्तव में न्यायालय आपकी समाज का अंग है एवं सामान्य रूप से कार्य करता है। एक लाख से कम वार्षिक आय प्राप्त करने वाले लोगों को न्याय हेतु संविधान के भा 3-51। से प्राप्त होती है। कतव्र्य की पूर्ति इमानदारी से करने पर अधिकार स्वतः प्राप्त होते हैं। 2012 में निर्भया कानून बना जो बच्चियों की सुरक्षा कर सके। इसके साथ  इसकी खामी को पूरा करने के लिए 2018 में म.प्र. शासन ने और कानून बनाया तथा दो कोर्ट ऐसे ही मामलों के लिए बनाए गए।
डाॅ. सर्वेश्वर उपाध्याय विषय विशेषज्ञ ने कहा संसदीय व्यवस्था का मूल मंत्र जागरूकता में निहित है। डाॅ. अंबेडकर जी के अनुसार इसमें जवाबदेहिता की अधिकता के कारण अपनाई गई। लोकतंत्र में दो प्रकार की शासन व्यवस्था है। संसदीय एवं अध्यक्षीय व्यवस्था अफ्रीका, फ्रांस एवं अमेरिका में अध्यक्षीय एवं लगभग शेष भारत में संसदीय व्यवस्था है। जो सरकारें निर्वाचित हो एवं बहुमत प्राप्त करें, उन्हें सत्ता के मद में अपना मेनीफेस्टो भूलना नहंी चाहिए। अपना दायित्व हेतु जवाबदेही अवश्य होना चाहिए। दिल्ली की हिंसा पर चर्चा ध्यानाकर्षण प्रस्ताव के तहत की जा रही है। ध्यानाकर्षण में आपातकालीन मुद्दों पर चर्चा की जानी है। डाॅ. बी.डी. अहिरवार 1996 के बाद भारत का राजनीतिक परिदृश्य बदला है। अब सरकारें बहुमत में आकर अपना कार्यकाल पूर्ण कर रही है। यह प्रजातंत्र का शुभ संकेत है। इसलिए व्यवस्था ही सर्वश्रेष्ठ व्यवस्था है। सभी चार सत्रों के प्रश्न लगवाने हेतु 22 दिन पूर्व प्रश्न लगाना होता है एवं लाटरी प्रक्रिया से प्रश्न लगाया जाता है। 1862 में ही हमारे देश में संसदीय प्रक्रिया का प्रारंभ हो चुका था। कार्यक्रम की अध्यक्ष एवं संरक्षक डाॅ. इला तिवारी ने कहा कि विषय विशेषज्ञ ने आपको विस्तृत जानकारी प्रदान की। यह विषय प्रत्येक व्यक्ति से जुड़ा एवं संवेदनशील है तथा भविष्य की राजनीतिक पीढ़ि को यह व्यवहारिक ज्ञान उन्हें दिशा देगा एवं भविष्य के लिए तैयार करेगा। कार्यक्रम का संचालन डाॅ. रजनी दुबे, प्राध्यापक राजनीति शास्त्र ने किया एवं आभार राजनीति शास्त्र. की विभागाध्यक्ष डाॅ. सुनीता त्रिपाठी ने माना।
डाॅ. आशा पाराशर, डाॅ. रेखा बख्शी, डाॅ. पद्मा आचार्य, डाॅ. मोनिका हर्डिकर, डाॅ. सुनीता सिंह, डाॅ. निशा इन्द्र गुरू, डाॅ. अंजना नेमा, डाॅ. रश्मि दुबे, डाॅ. प्रतिमा खरे, डाॅ. डी.के. गुप्ता, डाॅ. नरेन्द्र सिंह ठाकुर, डाॅ. सुनील श्रीवास्तव, डाॅ. भावना यादव, डाॅ. अंशु सोनी, डाॅ. अपर्णा चाचैंदिया, डाॅ. शक्ति जैन, डाॅ. रश्मि मलैया, डाॅ. भावना रमैया, डाॅ. अरविन्द बोहरे, डाॅ. दीपा खटीक, डाॅ. नीतेश ओबेराइन, डाॅ. कुलदीप यादव मौजूद थे।

कालेज के प्राचार्य को 16 साल की कठोर कैद, 2 लाख 10 हजार का जुर्माना ,रुपए लेकर बदल देता था उत्तर पुस्तिकाएं

कालेज के  प्राचार्य को 16 साल की कठोर कैद, 2 लाख 10 हजार का जुर्माना ,रुपए लेकर बदल देता था उत्तर पुस्तिकाएं
छतरपुर। वर्ष 2007 के शिक्षा से जुड़े चर्चित मामले में जिला अदालत ने फैसला दिया है। महाविद्यालय के प्राचार्य के द्वारा छात्र-छात्राओं को परीक्षा में पास कराने के एवज में 5 हजार रुपए लेकर उत्तर पुस्तिकाएं बदलकर हेरा फेरी की जाती थी। कोर्ट ने आरोपी प्राचार्य को 16 साल की कठोर कैद के साथ दो लाख दस हजार रुपए के जुर्माना की सजा दी है। कोर्ट ने सजा सुनाने के बाद प्राचार्य को जेल भेज दिया।
एडवोकेट लखन राजपूत ने बताया कि डाॅ0 सुभाषचंद्र आर्य उप कुलसचिव हरिसिंह गौर विश्वविद्यालय सागर के परीक्षा गोपनीय विभाग में पदस्थ थे। जिन्होनें शासकीय महाविद्यालय हरपालपुर में आयोजित वर्ष 2007 की मुख्य परीक्षा में की गई अनियमितताओं की जांच के बाद एफआईआर दर्ज करने के लिए हरपालपुर थाना में आवेदन दिया था। शासकीय महाविद्यालय हरपालपुर को मुख्य परीक्षा 2007 का परीक्षा केंद्र बनाया गया था। 
परीक्षा केंद्र के अधीक्षक डाॅ. नवरत्न प्रकाश निरंजन प्रभारी प्राचार्य शासकीय महाविद्यलाय हरपालपुर को नियुक्त किया था। जिनकी जिम्मेदारी में समस्त परीक्षा संचालित होनी थी। उत्तर पुस्तिकाओं का लेखा जोखा, प्रश्न पत्रों का संपूर्ण हिसाब दिए जाने की जिम्मेदारी डाॅ निरंजन की थी। डाॅ निरंजन के द्वारा इस कार्य में घोर लापरवाही की गई। परीक्षा केंद्र में एक ही रोल नंबर की दो उत्तर पुस्तिकाएं एवं एक उत्तर पुस्तिका कम मिलने के संबंध में कुल सचिव द्वारा जांच समिति गठित की गई थी। जांच में सामने आया कि परीक्षा हस्ताक्षर सीट में दर्ज उत्तर पुस्तिकाओ के सरल नंबर और मुख्य उत्तर पुस्तिकाओ के सरल नंबर अलग अलग थे। जांच समिति के सामने भी डाॅ निरंजन अपना जवाब देने उपस्थित नही हुए। समिति ने पाया कि हरपालपुर महाविद्यालय के अलावा मुख्य रुप से प्रभारी प्राचार्य डाॅ निरंजन, परीक्षा संचालन कार्य में लगे महाविद्यालय के शिक्षक, कर्मचारी लिप्त और दोषी है। और जांच समिति के सामने अपना पक्ष रखने से बच रहे है। परीक्षा भवन में छात्र-छात्राएं उत्तर पुस्तिकाओं में अपना रोल नंबर, तारीख, पेपर का नाम स्वयं भरते है और अपने हस्ताक्षर करते है। यही उत्तर पुस्तिका परीक्षक के पास मूल्यांकन के लिए भेजी जाती है। लेकिन परीक्षा भवन में दी गई उत्तर पुस्तिका एवं परीक्षक के पास मूल्यांकन हेतु भेजी गई उत्तर पुस्तिकाओं में सरल क्रमांक में अंतर पाया गया। परीक्षा भवन में छात्रो को दी गई उत्तर पुस्तिका को महाविद्यालय में बाद में बदल दिया जाता है और परीक्षा भवन से बाहर लिखी गई उत्तर पुस्तिका बंडल में रख दी जाती है। इस हेराफेरी और अनियमितता में रुपयों की भारी लेनदेन की संभावना से इंकार नही किया जा सकता है। गजेंद्र सिंह बघेल और कु0 अंकिता चतर्वुेदी के बयान से भी रुपयों के लेन देन की पुष्टि हुई। जांच समिति ने बीएससी, बीए, एमए, की 15 कक्षाओं की परीक्षा में 361 पुस्तिकाओ में हेराफेरी पाई। थाना हरपालपुर ने प्राचार्य डाॅ. नवरत्न प्रकाश निरंजन शासकीय महाविद्यालय राजा हरपालपुर, उनके शिक्षक, कर्मचारी, छात्र छात्राओ के खिलाफ मामला दर्ज किया। पुलिस ने आरोपी प्राचार्य डाॅ निरंजन को गिरफ्तार कर मामला कोर्ट में पेश किया था।
न्यायाधीश आरएल शाक्य की अदालत ने सुनाई सजाः
अभियोजन की ओर से एजीपी अरुण देव खरे ने पैरवी करते हुए मामले के सभी सबूत एवं गवाह कोर्ट के सामने पेश किए और आरोपी प्राचार्य को कठोर सजा देने की दलील रखी। पंचम अपर सत्र न्यायाधीश आरएल शाक्य की अदालत ने फैसला सुनाया है कि आरोपी प्राचार्य के द्वारा शिक्षा से संबंधित परीक्षाओ में गंभीर अनियमितता करते हुए उत्तर पुस्तिकाओं में हेरा फेरी करके अवैधाानिक लाभ प्राप्त किया है। ऐसे मामले नरम रुख अपनाया जाना कानून की नजर से सही नही है। कोर्ट ने आरोपी प्राचार्य डाॅ निरंजन को दोषी पाते हुए 16 साल की कठोर कैद के साथ दो लाख दस हजार रुपए के जुर्माना की सजा सुनाई है।

मातृशक्तियों ने पर्यावरण संरक्षण हेतु होली में कंडे जलाने का लिया संकल्प

मातृशक्तियों ने पर्यावरण संरक्षण हेतु होली में कंडे जलाने का लिया संकल्प 
सागर।भारतीय शिक्षण मंडल महिला प्रकल्प की मातृशक्तियों द्वारा होली के अवसर पर कंडों की होली जलाने का संकल्प लिया।ताकि जंगलों को बचाया जा सके। पर्यावरण संरक्षण की दिशा में एक कदम आगे बढ़ाया जा सके। इस अवसर पर महिला प्रकल्प की बहिनों ने एक-दूसरे को होली की शुभकामनाएं दी।डॉ ऊषा मिश्रा, डॉ ज्योति चौहान, डॉ संगीता सुहाने, श्रीमती संध्या दरे, डॉ सरोज गुप्ता, श्रीमती जयंती सिंह, सुश्री मनोरमा गौर, श्रीमती स्मिता गोडबोले, श्रीमती शैलबाला सुनरया, श्रीमती राजश्री दवे, श्रीमती पुष्पलता पांडे, श्रीमती दिव्या मेहता, श्रीमती नन्दिनी चौधरी, श्रीमती शशि दीक्षित आदि मातृशक्तियों ने अपने बचपन के होली मनाने के संस्मरण सुनाए तथा होली पर्व पर अपने विचार व्यक्त किए।
बसंत ऋतु में मनाया जाने वाला होली का त्यौहार ऐसा रंगबिरंगा पर्व है जो हमें मिलजुल उत्साह और मस्ती के साथ जी भरकर जीने तथा खुश रहनासिखाता है।इस त्यौहार को हर धर्म के लोग मनाते हैं। प्यार भरे रंगों से सजा यह पर्व हर धर्म, संप्रदाय, जाति के बंधन खोलकर भाई-चारे का संदेश देता है। इस दिन सारे लोग अपने पुराने राग द्वेष,गिले-शिकवे भूल कर आपस में एक-दूसरे के गले मिलते हैं और एक दूसरे को गुलाल लगाते हैं। बच्चे, बूढ़े और युवा रंगों से खेलते हैं। फाल्गुन मास की पूर्णिमा को  मनाया जाने वाले इस त्यौहार के साथ अनेक किंवदंतियां कथाएं जुड़ीं हैं। बुराई पर अच्छाई की विजय इस पर्व की विशेषता व उद्देश्य है। एक लोकप्रिय पौराणिक कथा है कि भक्त प्रह्लाद के पिता हरिण्यकश्यप नास्तिक व स्वयं को भगवान मानते थे।  जबकि प्रह्लाद आस्तिक व  विष्णु भक्त था। उन्होंने प्रह्लाद को विष्णु भक्ति करने से रोका जब वह नहीं माना तो उन्होंने प्रह्लाद को मारने का प्रयास किया।हर बार प्रह्लाद की ईश्वर ने रक्षा की।प्रह्लाद की बुआ होलिका को आग में न जलने का वरदान प्राप्त था। पिता ने आखिर अपनी बहिन होलिका से मदद मांगी। होलिका अपने भाई की सहायता करने के लिए तैयार हो गई। होलिका प्रह्लाद को लेकर चिता में जा बैठी परन्तु विष्णु भगवान की कृपा से प्रह्लाद सुरक्षित रहे और होलिका जल कर भस्म हो गई ,बस इसी दिन से होली मनायी जाने लगी। होली के आठ दिन पहले से इस की तैयारी शुरू हो जाती है । होलिकाष्टक से गोबर के गोल बरबूले - कण्डे छेद करके सुखाते हैं फिर माला बनाकर सामूहिक होली जलाने के बाद घर पर होली जलाने की परंपरा है। रंग की होली मनाने के एक रात पहले होलिका को जलाया जाता है। अगले दिन सब लोग एक दूसरे पर गुलाल, अबीर और तरह-तरह के रंग डालते हैं। यह त्योहार मदनोत्सव के रुप में रंगों का त्यौहार है।बच्चे गुब्बारों व पिचकारी से अपने मित्रों के साथ होली का आनंद उठाते हैं। ब्रज की होली, मथुरा की होली, वृंदावन की होली, बरसाने की होली, काशी की होली पूरे भारत में मशहूर है।एक-दूसरे के घर जाकर शुभकामनाएं देते हैं।आपसी बैर-भाव भूलकर एक-दूसरे से परस्पर गले मिलते हैं। घरों में औरतें एक दिन पहले से ही मिठाई, गुझिया आदि बनाती हैं व खिलाती हैं। कई लोग होली की टोली बनाकर निकलते हैं उन्हें हुरियारे कहते हैं।पद्माकर और ईसुरी बुन्देलखण्ड के उत्सवधर्मिता के कवि हैं जिन्होंने होली का अद्भुत वर्णन किया है। बसन्त व होली का त्यौहार इनकी रचनाओं के बिना अधूरा है।
'फाग के भीतर अभीरन तें गहि गोविंद ले गई भीतर गोरी।
नैन नचाय कहयो मुस्काय लला फिर आइयो खेलन होरी।'
 बुन्देलखण्ड के  कवि ईसुरी की फागें भी प्रसिद्ध हैं।पर्व व त्यौहार हमारी सभ्यता व संस्कृति के महत्वपूर्ण अंग हैं इनका संरक्षण व पवित्रता बनाए रखना हमारा परम कर्तव्य है।

गुरुवार, 5 मार्च 2020

बीना विधायक के खिलाफ राजगढ़ के काँग्रेस विधायक ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई, साख धूमिल करने का मामला

बीना विधायक के खिलाफ  राजगढ़ के काँग्रेस विधायक ने  पुलिस में शिकायत दर्ज कराई, साख धूमिल करने का मामला



र। मप्र की राजनीति मे  भाजपा व कांग्रेस एक दूसरे पर सरकार अस्थिर करने के आरोप लगा रही हॆ।लेकिन अब सागर जिले के बीना के  भाजपा विधायक व  राजगढ़ से काँग्रेस विधायक आमने सामने आगये हॆ। राजगढ़  कांग्रेस विधायक ने बीना भाजपा विधायक  के खिलाफ राजगढ़ थाने में  मे प्रतिष्ठा धूमिल करने शिकायत दर्ज कराई हॆ।
यह कहा था महेश राय ने
सागर जिले के बीना भाजपा विधायक महेश राय ने 14दिसंबर को एक सभा मे कहा थाकी कांग्रेसके राजगढ़ व शिवपुरी के विधायक उनके संपर्क मे हॆ।ऒर सरकार गिर सकती हॆ।इस मामले मे आज नया मोड तब आया जब बीना विधायक महेश राय के खिलाफ  राजगढ़ के कोतवाली थाना मे  कांग्रेस विधायक बापू सिंह तंवर ने शिकायत दर्ज कराई कि उनकी मान प्रतिष्ठा धूमिल हुयी।वह कांग्रेस के निष्ठवान सिपाही हॆ। वही बीना विधायक ने कहा की वह कांग्रेस के संपर्क मे हॆ।एक सभामे विधायको की तोडफोड व राजनीति की बात करते हुए बिना पार्टी व व्यकित का नाम लिए बगैर विधायको के उनके संपर्क मे होनेका भाषण दिया था। मेरा ऐसा कोई उद्देश्य नही था। 
टीआई कोतवाली राजगढ़ जे पी राय का कहना है कि सुबह करीब 10.30 एवं 11 बजे के लगभग विधायकजी आए थे, उन्होंने बीना विधायक  को लेकर आवेदन दिया है। जिसमें कहा है कि मेरी प्रतिष्ठा को धूमिल करने का प्रयास किया है। उनके साथ एक-दो लोग और भी थे। 


कांग्रेस विधायक डंग के इस्तीफे से तय होगया की काँग्रेस में असंतोष बढ़ा है ,और भी होंगे इस्तीफे:पूर्व गृह मन्त्री भूपेंद्र सिंह

कांग्रेस विधायक डंग के इस्तीफे से तय होगया की काँग्रेस में असंतोष बढ़ा है ,और भी होंगे इस्तीफे:पूर्व गृह मन्त्री भूपेंद्र सिंह

#बिना सीमांकन किये ही दिया नोटिस ,कमलनाथ सरकार की बदले की कार्यवाही

सागर।  पूर्व गृहमन्त्री भूपेन्द्र सिंह ने न्यायालय तहसीलदार द्वारा दिए गए नोटिस पर कहा है कि सभी जानते है कि  बदले की कार्यवाही की जा रही है । कुछ कांग्रेसियों ने आरोप भी लगाये है ।
आज मुझे नोटिस की जानकारी मिली है । लेकिन इसमे कोई नियमो का पालन नही हुआ है ।प्रशासन ने सीमांकन किये बगैर ही नोटिस आननफानन में नोटिस  दिया है । जो भी आगे की कार्यवाही होंगी करेगए। 
प्रदेश के पूर्व गृहमंत्री तथा भाजपा विधायक भूपेन्द्र सिंह ने प्रदेश की कमलनाथ सरकार पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा है कि कमलनाथ सरकार राजनैतिक द्वेषपूर्ण भावना से ओछी मानसिकता से कार्य कर रही है। उन्हें दिया गया नोटिस भी राजनैतिक प्रतिशोध की भावना से प्रेरित है। भूपेन्द्र सिंह ने कहा है कि राज्य सरकार उन्हें ऐसे नोटिस जारी कर डरा धमका नहीं सकती, क्योंकि जिस जगह को लेकर उनके नाम पर नोटिस जारी किया गया है वह उनकी पैतृक जमीन है और नोटिस जारी करने के पहले कमलनाथ सरकार अगर उक्त जमीन का सीमांकन, नाप और पूरी गहराई में जाकर जांच कराती तो उनकी समझ में सबकुछ आ जाता। लेकिन राजनैतिक बदले की भावना से कार्य करते हुए कमलनाथ सरकार को एक दिन में ऐसा क्या हुआ कि अचानक ही बदले की कार्यवाही से उनके नाम पर नोटिस जारी कर दिया गया जिसमें बिल्कुल भी सत्यता नहीं है। यह केवल प्रतिशोध की भावना से की जा रही डराने धमकाने की कार्यवाही है। 
। कांग्रेस के शिकायतवीर केके मिश्रा द्वारा की गई शिकायत को लेकर उन्होंने कहा कि पुलिस को केके मिश्रा के खिलाफ ही ब्लैकमेलिंग की एफआईआर दर्ज करना चाहिए। उनके पास न कोई सबूत है और नही साक्ष्य है और फिर भी पक्षकार बन रहे है।प्रशासन ने एक जमीन के अतिक्रमण को लेकर पूर्व गृहमन्त्री भूपेंद्र सिंह को कारण बताओ नोटिस जारी किया था। 
डंग के इस्तीफे पर बोले पूर्व गृहमन्त्री भूपेंद्र सिंह
पूर्व गृहमन्त्री भूपेंद्र सिंह ने कांग्रेस विधायक हरदीप सिंह डंग के इस्तीफे पर कहा कि डंग के इस्तीफेसे तय हो गया कि कांग्रेस में असंतोष है।भाजपा लगातार यह बात कहती भी आ रही है कि काँग्रेस विधायक खुश नही है। काँग्रेस विधायक अपने क्षेत्रों में नही जा पा रहै है। सरकार को अपनी कार्यप्रणाली सुधारना चाहिए। अन्यथा इस्तीफे आगे भी होंगे।

पूर्व गृहमन्त्री भूपेंद्र सिंह को अतिक्रमण के मामले में कारण बताओ नोटिस ,16 मार्च को पेशी

पूर्व गृहमन्त्री भूपेंद्र सिंह को अतिक्रमण के मामले में कारण बताओ नोटिस ,16 मार्च को पेशी

सागर। प्रदेश के पूर्व गृहमन्त्री भूपेंद्र सिंह को एक जमीन पर अतिक्रमण सम्बन्धी मामले को लेंकर न्यायालय नायब तहसीलदार ने कारण बताओ नोटिस जारी किया है । जिसमे एक लाख रुपये का दंड और जमीन से बेदखली की कार्यवाही प्रस्तावित की गई है । इसके सम्बन्ध में 16 मार्च 2020 पेशी की नीयत की गई है। इस  मामले को लोग हॉर्स ट्रेंडिंग से जोड़ रहे है ।कमलनाथ सरकार को अस्थिर करने की जोड़तोड़ के बीच यह कार्यवाही की गई है। कल पूर्व मंत्री संजय पाठक की दो खदान बन्द हुई थी।

न्यायालय नायब तहसीलदार परसौरिया तहसील एवं जिला सागर द्वारा जारी कारण बताओ नोटिस के मुताबिक राजस्व निरीक्षक द्वारा  पटवारी बारछा द्वारा प्रतिवेदन प्रस्तुत कर लेख किया है कि प00 न0 81 के ग्राम चिटाई के शासकीय खान02 एवं 3 रकवा कमशः 1.70 है.0.15है. जो कि राजस्व अभिलेखा मे कमशा बड़ा झाड एवं भू जल मद से दर्ज है, पर आपके द्वारा तार फेंसिग लगा कर, फसल बो कर एवं लेंड बनाकर बनाकर अतिक्रमण किया गया है ग्राम चिटाई के शासकीय खन02 एवं 3 रकवा कमशः 1.708.एवं 0.15 है. आवैध रूप से अतिक्रमण किया गया है जो म.प्र. भूरा.सं. 1959 धारा 248(1) केतहत दण्डनीय है।अतः आप कारण दर्शित करें कि क्यों ना आपके विरूद्ध म.प्र.म.रा.सं. 1958 की धारा 248(1) के तहत प्रकरण दर्ज कर विधि अनुसार कार्यवाही करते हुए एक लाख रूपये के अर्थदण्ड से दण्डित किया जाकार उपरोक्त प्रश्नाधीन भूमि से बेदखल करने का आदेश पारित किया जाए। इस मामले में16 मॉर्च की पेशी नियत की गई है।आनुपस्थित  रहने की स्थिति में विधि अनुसार आपके विरुद्ध एकपक्षीय कार्यवाही करते हुए प्रकरण का निराकरण कर अंतिम आदेश पारित किया जाएगॉ।

14 नोटिस जारी हुए हैं

इस मामले को लेकर सागर एसडीएम संतोष चंदेल का कहना है कि शासन के निर्देश पर अतिक्रमण के खिलाफ कार्रवाई चल रही है। शिकायत मिलने के बाद परसोरिया सर्किल के नायब तहसीलदार ने जांच कराई थी। जिसमें भूपेंद्र सिंह के अलावा चिटाई गांव में अन्य 14 लोगों द्वारा शासकीय भूमि पर किए गए अतिक्रमण भी सामने आए हैं। जांच प्रतिवेदन के बाद भूपेंद्र सिंह सहित सभी 14 लोगों को नोटिस जारी किए गए हैं।


नन्ही सी बेटी ने अपने जन्मदिन पर दिया प्रधानमंत्री के नाम संदेश

नन्ही सी बेटी ने अपने जन्मदिन पर दिया प्रधानमंत्री के नाम संदेश

कुक्षी- बीते दिनों धार जिले के ग्राम बोरलाई मे अफवाहों के चलते एक किसान की गांव वालों ने पीट-पीटकर हत्या कर दी थी उस घटना को लेकर 6 वर्षीय महिमा मिश्रा द्वारा सुमित्र इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल विद्यालय में सभी बच्चों से अफवाहों पर ध्यान नहीं देना चाहिए जिसका वीडियो एवं यह खबर न्यूज़ चैनलों सहित समाचार पत्रों में प्रमुखता से प्रकाशित हुई थी जिससे छात्रा के साथ विद्यालय का नाम भी गौरवान्वित हुआ विद्यालय द्वारा छात्रा के जन्मदिन के अवसर पर विद्यालय परिवार द्वारा जन्मदिन मनाया गया वही बालिका ने आज और एक नया वीडियो शेयर किया है जिसमें यह नन्ही सी बालिका ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपील करते हुए कहा मोदी जी सोशल मीडिया को ना छोड़ें नन्ही सी बालिका ने देश के प्रधानमंत्री मोदी जी से अपील करते हुए कहा मोदी जी आप कभी भी सोशल मीडिया मत करना बाये  आप बहुत ही अच्छे हैं बेटियों को लेकर  आपकी योजनाएं  बहुत अच्छी हैं सोशल मीडिया से ही हमने आपको पसंद किया है 
सुमित्र इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल द्वारा अपने विद्यालय की कक्षा पहली की छात्रा के जन्मदिन के अवसर पर विद्यालय में वृक्षारोपण के साथ महिमा मिश्रा का जन्मदिन मनाया गया विद्यालय के सभी बच्चों एवं  शिक्षक शिक्षिकाओं द्वारा जन्मदिन की बधाई भी दी गई इस अवसर पर संस्था संचालक पीयूष भावसार, नितिन पांडे, शिक्षक गण राखी भावसार, हरिओम अगलचा, पूजा पांडे, संध्या सोलंकी, जागृति शर्मा, मयूरी सोनी, रुपाली हम्मड, भगवान परमार, आनंद पिपलाज, शाहनवाज खान आदि ने बधाई दी

महात्मा गांधी की 150 वी जयंती पर सेवादल निकालेगा 12 मार्च से छह अप्रैल तक गांधी शांति यात्रा :डॉ सत्येंद्र यादव ,प्रदेशाध्यक्ष सेवादल

महात्मा गांधी की 150 वी जयंती पर सेवादल निकालेगा 12 मार्च से छह अप्रैल तक गांधी शांति यात्रा :डॉ सत्येंद्र यादव ,प्रदेशाध्यक्ष सेवादल
सागर। सेवादल कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष डॉ सत्येंद्र यादव ने कहा है कि सेवादल का प्रशिक्षण जीवन और संगठन में सकारात्मक परिवर्तन लाएगा। सेवादल महातमा गांधी की 150 वी जयंती पर पूरे प्रदेश में गांधी शांति  यात्राएं निकालेगा। यात्रा 12 मॉर्च से 6 अप्रैल 2020 तक आयोजित होंगी । 
सेवादल अध्यक्ष श्री यादव आज सागर में सेवादल शहर द्वारा आयोजित तीन दिवसीय शिविर के समापन कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे। शिविर में कांग्रेस के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष सुरेंद्र चोधरी, महिला इकाई की अध्यक्ष राज कुमारी रघुवंशी  ने मार्गदर्शन दिया। इस मौके पर सभी प्रशिक्षणर्थियो को प्रमाण पत्र प्रदेश अध्यक्ष डॉ सत्येंद्र यादव ने वितरित कर संम्मानित किया।

शिविर के तीसरे दिन समापन अवसर पर कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष सुरेंद्र चोधरी ने द्वारा झंडावंदन कर  महात्मा गाँधी और  सेवादल संस्थापक डाॅ नारायण सुब्बाराव हार्डीकर  के चित्र पर माल्यार्पण कर किया। इस मौके पर श्री चोधरी  ने कहा कि मैं अंतिम पंक्ति से निकलकर सेवादल के अध्यक्ष के रूप में राजनीति की शुरुआत की और मन्त्री बना और कार्यकारी अध्यक्ष।  आज  मुझे झंडावंदन करने का सौभाग्य मिला । यह गौरव का क्षण है । देश की आजादी में सागर के सेनानियों का योगदान रहा है । में उनको प्रणाम करता हूँ।
तीन दिवसीय शिविर के आयोजक और सेवादल के अध्यक्ष सिंटू कटारे ने समापन अवसर पर कहा की शिविर का आयोजन करना मेरे लिए सौभाग्य का विषय रहा है । इतने कम समय मे सभी के सहयोग से यह सफल रहा। उन्होंने कहा कि सेवादल में सेवा ही सर्वोपरि है । मुझे आशा है कि इसमे शामिल हुए कार्यकर्ता एक अच्छा  संदेश समाज और पार्टी के बीच लेकर जाएंगे।
महिला सेवादल की प्रदेश अध्यक्ष राज कुमारी रघुवंशी ने कहा कि देश को तोड़ने  एवम हालात निर्मित करने वाली फासिस्ट वादी ताकते लगी है । उनको बेनकाब करना है । इस मौके पर उन्होंने देश और दुनिया मे नाम रोशन करने वाली महिलाओं को याद किया।
महिला अध्यक्ष हेमकुमारी पटेल ने कहा कि सेवादल में  महिलाओं कार्यकर्ताओं का महत्व  रहा है ।सेवादल के माध्यम से सरकार की योजनाओं का लाभ महिलाओं को दिलाने का कार्य करूंगी।
पूर्व सेवादल अध्यक्ष सुरेन्द्र  सुहाने ने पत्रकारिता के सम्बंध में मार्गदर्शन दिया। प्रशिक्षिण शिविर में प्रदेश आयोजक विजय साहू, राजाराम सरवैया,भावना जितेंद्र रोहण, डॉ किरणलता सोनीऔर पंकज सिंघई ने विचार रखे। झंडावंदन कार्यक्रम का संचालन और सेवादल की शपथ मुख्य प्रशिक्षिक द्वारका चोधरी ने दिलाई। कार्यक्रम का संचालन रामकुमार पचौरी ने किया। आभार  प्रदेश संयोजक विजय साहू ने जताया। 
इस मौके पर पूर्व विधायक सुनील जैन,जितेंद्र चावला,अशोक श्रीवास्तव, सुरेंद्र चोबे,मुन्ना चोबे, वीरेन्द्र गौर,आशीष ज्योतिषी, नीरज मुखारया, प्रदीप गुप्ता ,प्रमिला सिंह,जितेंद्र रोहन ,मनोज पवार,मनोज सोनवार,आनंद तोमर , मुकुल पुरोहित ,अवधेश तोमर ,शेलेन्द्र तोमर, राजेश्वर सेन,प्रतीम यादव, राकेश राय, राजेश उपाध्याय ,विरजेंद्र नगरिया, गीता चोधरी,रेखा ठाकुर, राम गोपाल यादव, ओम प्रकाश पंडा,शशि कांत श्रीवास्तव,फहीम अंसारी ,असद खान ,पवन घोषी,  दानिश तिवारी आदि उपस्थित थे। 

बिना लाइसेंस विस्फोटक ले जाने वाले आरोपियो को 10-10 साल की सजा

बिना लाइसेंस विस्फोटक ले जाने वाले आरोपियो को 10-10 साल की सजा
सागर। माननीय अष्टम अपर सत्र न्यायाधीष श्री सुरेष कुमार सूर्यवंषी जिला सागर की अदालत ने आरोपी ताहर सिंह पिता उदयभान सिंह आयु 38 वर्ष एवं तुलसीराम पिता लच्छू अहिरवार उम्र 20 वर्ष दोनो निवासी ग्राम राजा विलहरा थाना सुरखी जिला सागर म.प्र. को  विस्फोटक अधिनियम 1908 की धारा 5 में दोषी पाते हुए 10-10 वर्ष का कारावास और 10000-10000 रू के अर्थदण्ड से दण्डित किया गया। प्रकरण में म. प्र. शासन की ओर से पैरवी विषेष लोक अभियोजक/वरिष्ट एडीपीओ श्याम नेमा, सागर द्वारा की गयी।

 

अभियोजन के मीडिया प्रभारी/एडीपीओ सौरभ डिम्हा ने बताया दिनांक 19.04.2018 को थाना प्रभारी जैसीनगर को कस्वा भ्रमण दौरान सूचना प्राप्त हुयी कि सुल्तानगंज की ओर से मोटर साइकिल एम.पी 15 एम एक्स 6697 हीरो होंडा से दो व्यक्ति सागर तरफ काले रंग का बैग लेकर आ रहे है जिसमें अवैध जेलेटिग में डिटानेटर एवं फ्यूज रखे है मुखविर की सूचना पर हमराह स्टाफ के साथ तिराहे पर वाहन चैकिंग कर मोटर साइकिल का इंतजार किया तो उपरोक्त नम्वर की मोटर साइकिल पर बीच में एक काले रंग का बैग रखे दो व्यक्ति निकले जिन्हे रोकने का प्रयास किया, ना रूकने पर शासकीय वाहन व वल की मदद से उक्त मोटर साइकिल का पीछा कर पकडा। मोटर साइकिल चलाने वालों से नाम पता पूछा उसने अपना नाम ताहिर बताया। दूसरे व्यक्ति जो बैग लिए था उसने अपना नाम तुलसीराम अहिरवार बताया उसके बैग की तलासी लेने पर बैग में 150 नग सुपर पावर, 90 इमोलेषन एक्सलोसिब 25.125 एम एम छडेमय तीन पैके में सुप्रीम ए.ई.डी. अल्ट्रा सेफ सोलर डिटोनेटर मय फ्यूज के प्राप्त होने पर उक्त विस्फोटक के संबंध में लाइसेंस मांगा गया। लाइसेंस ना होने पर जप्ती गिरिफतारी की कार्यवाही की गयी। थाना पर प्रकरण पंजीबद्ध किया गया विवेचना उपरांत धारा 4,5 विस्फोटक अधिनियम के अंतर्गत अभियोग पत्र न्यायालय में प्रस्तुत किया गया। विचारण के दौरान अभियोजन ने अपना मामला युक्तियुक्त संदेह से परे प्रमाणित किया जिसके आधार पर माननीय अष्टम अपर सत्र न्यायाधीष श्री सुरेष कुमार सूर्यवंषी जिला सागर की अदालत ने अभियुक्त ताहर सिंह पिता उदयभान सिंह उम्र 38 वर्ष एवं तुलसीराम पिता लच्छू अहिरवार उम्र 20 वर्ष दोनो निवासी ग्राम राजा विलहरा थाना सुरखी जिला सागर म.प्र. को विस्फोटक अधिनियम 1908 की धारा 5 में दोषी पाते हुए 10-10 वर्ष का कारावास और 10000-10000 रू के अर्थदण्ड से दण्डित किया गया।

स्कूल शिक्षा विभाग ने डा हरीसिंह वि वि को पराजित कर ट्राफी आपने नाम की

स्कूल शिक्षा विभाग ने डा हरीसिंह वि वि को पराजित कर ट्राफी आपने नाम की
सागर। वि वि खेल मैदान पर डा हरीसिंह गौर टूर्नामेंट का फाइयनल मैच वि वि प्रशासन एकादश एवं स्कूल शिक्षा विभाग के बीच खेला गया जिसमें वि वि ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का निर्णय लिया , स्कूल शिक्षा विभाग ने पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 30 ओवर में 9 विकेट के नुकशान पर 170 रन बनाए , सर्वाधिक 49 रन दविंदर भाटिया ने एवं आशीष ने 31रन की पारी खेली !
वि वि की ओर से गेंदबाजी करते हुए जयसूर्या ने 4 एवं सत्यम ने 2 विकेट लिए !
लक्ष्य का पीछा करने उतरी वि वि की टीम 69 रन पर सिमट गई ! सर्वाधिक रन प्रशांत एवं एस परेडा ने 11-11 रन की पारी खेली, स्कूल शिक्षा की ओर से गेंदबाजी करते हुए विपिन ने 6 विकेट, दविंदर ने 2 विकेट एवं ओजस्व ने 1 विकेट लिया !
मैच उपरांत डॉ महेंद्र तिवारी के मुख्य आतिथ्य एवं कर्नल राकेश मोहन जोशी की अध्यक्षता में  में विजेता एवं उपविजेता को ट्राफी प्रदत्त की गई ! विशिष्ट अतिथि प्रो एस एच आदिल, प्रो आशीष वर्मा बीनू राणा रहे ! फायनल मैच का 
मैन ऑफ द मैच विपिन कन्नौजिया रहे ।
ये रहे सर्वश्रेष्ठ
प्रतियोगिता के आल राउंडर सत्यम शुक्ला 
सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज देवांश केवट,सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज जयसूर्या ! सर्वश्रेष्ठ क्षेत्र रक्षक मनीष मिश्रा!
सर्वश्रेष्ठ कैच का खिताब  डा प्रदीप तिवारी को दिया गया ।
इस अवसर पर डा अजय श्रीवास्तव, डॉ आशीष पटेरिया, डॉ पंकज तिवारी, डॉ सुमन पटेल, डॉ संध्या पटेल, डॉ पूर्वा जैन, डॉ प्रफुल्ल हलवे, डॉ रवि प्रकाश अग्रवाल, एस एन तिवारी, अनिल प्याशी, सुरेंद्र सराफ़, आकाश लिटोरिया, डॉ सुरेश कोरी आदि उपस्थित थे !

  

रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़े गये पटवारी को 5 वर्ष की सजा,15 हजार रूपये का अर्थदण्ड भी

रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़े गये पटवारी को 5 वर्ष की सजा,15 हजार रूपये का अर्थदण्ड भी
टीकमगढ़।  विशेष न्यायाधीश भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम टीकमगढ़ ने पटवारी द्वाराया रिश्वत लेने के मामले में 5 साल की सजा और 15 हजार के अर्थदंड की सजा सुनाई है। इसकी पैरवी  आर .सी. चतुर्वेदी सहा. जिलाअभियोजन अधिकारी, टीकमगढ़ ने की।
अभियोजन के अनुसार विशेष न्यायाधीश भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम, टीकमगढ़
द्वारा विशेष पुलिस स्थापना लोकायुक्त संगठन सागर के एक मामले में आरोपी पटवारी नंदकिशोर सौर को रिश्वत मांगने के अपराध धारा 7 भ्रष्टाचार अधिनियम में 4 वर्ष का सश्रम कारावास एवं 5000/- (पांच हजार रुपये)
रू. का अर्थदण्ड तथा रिश्वत लेने के अपराध धारा 1312) भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम में 5 वर्ष का सश्रम कारावास एवं 10000/-रू. (दस हजार रूपये) के अर्थदण्ड से दण्डित किया गया है।
सहायक जिला अभियोजन अधिकारी श्री संदीप सरावगी ने बताया कि दिनांक 18.10.2015 को ग्राम सगरवारा तहसील लिधौरा जिला टीकमगढ़ निवासी आवेदक/फरियादी प्रतम पाल पिता लक्ष्मन पाल ने पुलिस अधीक्षक लोकायुक्त सागर के समक्ष शिकायती आवेदन प्रस्तुत किया कि उसने अपनी पैतृक भूमि का बंटवारा करवाने हेतु सकिल स्यावनी तहसील लिधौरा जिला टीकमगढ़ में दिनांक 05.05.2015  को आवेदन दिया था जिस पर आज तक कोई कार्यवाही नहीं हुई। वह दो तीन बार बंटवारा करवाने के लिये पटवारी नंदकिशोर
सौर से मिला तो उसके द्वारा बंटवारा करवाने के एवज में 8000/-रूपये (आठ हजार रूपये) की मांग की जा रही है। वह रिश्वत नहीं देना चाहता है बल्कि उसे रिश्वत लेते हुये रंगेहाथों पकड़वाना चाहता है। उक्त शिकायत के सत्यापन हेतु लोकायुक्त पुलिस द्वारा उसे एक वॉयर रिकर्डर लेन-देन वात िरिकार्ड करने हेतु जारी किया गया। आवेदक द्वाराआरोपी पटवारी नंदकिशोर सौंर से संपर्क कर रिश्वत मांग संबंधी बातचीत रिकर्ड कर ली। बातचीत के दौरा आरोपी
पटवारी द्वारा 12,000/- (बारह हजार रूपये) की मांग की एवं रिश्वत राशि 6000/- (छ: हजार रूपये) लेने कोसहमत हो गया। वॉयस रिकार्डर से शिकायत की पुष्टि होने पर लोकयुक्त पुलिस द्वारा आरोपी को रंगे हाथों पकड़ने
हेतु एक ट्रेप दल का गठन किया गया। एवं प्रारंभिक कार्यवाहियों के उपरांत ट्रेपदल दिनांक 19.10.2015 कोशासकीय वाहनों से लोकायुक्त कार्यालय सागर से रवाना होकर टीकमगढ़ पहुंचा। आवेदक प्रीतम पाल ने आरोपीनंदकिशोर सौर से संपर्क किया तो उसने दिगौड़ा में मिलने के लिये कहा गया। दिगोड़ा में पहुंचकर ट्रेपदल द्वारा।अपनी पहचान छिपाते हुये आवेदक को आरोपी के पास रिश्वत देने हेतु भेजा। दिगोड़ा बस स्टेण्ड पर आरोपीनंदकिशोर सौर अपनी मोटर साईकिल से आकर रोड के किनारे रूक गया तब आवेदक आरोपी के पास गया तथाजैसे ही उसने रक्षित की राशि जेब से निकालकर आरोपी को दी और सिर पर हाथ फेरकर इशाकर किया तो ट्रेपदलने आरोपी नंदकिशोर सौर को चारों तरफ से घेर लिया। रिश्वत की राशि 6000/- उसकी पेंट की जेब से बरामद करसोडियम कानिट के घोल में हाथ धुलवाये गये तो घोल का रंग गुलाबी हो गया। प्रकरण में संपूर्ण अनुसंधान उपरांत
विभाग से अभियोजन स्वीकृति प्राप्त होने के उपरांत आरोपी के विरूद्ध विचारण हेतु अभियोग पत्र न्यायालय में प्रस्तुतकिया गया। माननीय न्यायालय द्वारा विचारण उपरांत आरोपी नंदकिशोर सौर, पटवारी को रिश्वत मांगने एवं रिश्वत लेने के मामले में दोषसिद्ध ठहराते हुये रिश्वत मांगने के अपराध धारा 7 भ्रष्टाचार अधिनियम में 4 वर्ष का सश्रम
कारावास एवं 5000/- (पांच हजार रूपये) रू.का अर्थदण्ड तथा रिश्वत लेने के अपराध धारा 13(2) भ्रष्टाचारनिवारण अधिनियम में 5 वर्ष का सश्रम कारावास एवं 10,000/- रू. (दस हजार रूपये) के अर्थदण्ड से दण्डित किया
गया है।

30 मार्च के पहले राजस्व वसूली के निर्देष, एक पटवारी निलंबित

30 मार्च के पहले राजस्व वसूली के निर्देष, एक पटवारी निलंबित
सागर । राजस्व विभाग की मासिक समीक्षा करते हुए एसडीएम श्री संतोष चंदेल ने गुरूवार को पुराने कलेक्टर भवन के सभाकक्ष में राजस्व निरीक्षकों एवं पटवारियों को निर्देष दिए कि 30 मार्च के पहले डायवर्सन शुल्क की वसूली करें। उन्होंने एक पटवारी को निलंबित भी किया। इस अवसर पर तहसीलदार श्री नरेन्द्रबाबू यादव, समस्त नायब तहसीलदार एवं सागर तहसील के राजस्व निरीक्षक तथा पटवारी उपस्थित थे।
समीक्षा बैठक में श्री चंदेल ने निर्देष दिए कि डायवर्सन शुल्क की वसूली 30 मार्च के पूर्व अभियान चलाकर करें। साथ ही पीएम किसान योजना, आधार संषोधन, खातों में आधार लिंक कराने एवं क्षति पत्रक (फसल खराब) की समीक्षा की। साथ ही निर्देष दिए कि समस्त राजस्व निरीक्षक एवं पटवारी यह प्रमाण पत्र दें कि उनके क्षेत्र में कोई भी सूखा राहत एवं अतिवृष्टि का प्रकरण लंबित नहीं है। बैठक में नरयावली, परसोरिया, सुरखा, सागर-1 एवं सागर-2 के राजस्व अमला मौजूद था।
पटवारी मिश्रा निलंबित
परसोरिया सर्किल के ग्राम शाहपुर के पटवारी श्री कृष्ण कुमार मिश्रा को मुख्यालय पर न रहने एवं समीक्षा बैठक में अनुपस्थित रहने पर एसडीएम श्री संतोष चंदेल ने निलंबित किया है। निलंबन अवधि में श्री मिश्रा का मुख्यालय तहसील जैसीनगर होगी एवं निलंबन अवधि में जीवन निर्वाह भत्ता की पात्रता होगी

बुंदेलखंड बना पर्यटकों की पसंद, पांच साल में दोगुने से अधिक बढ़े पर्यटक

बुंदेलखंड बना पर्यटकों की पसंद, पांच साल में दोगुने से अधिक बढ़े पर्यटक

#संख्या के हिसाब से चित्रकूट में आये सर्वाधिक पर्यटक
#पर्यटकों की संख्या की वृद्धि से लिहाज से झांसी नंबर वन

@गिरीश पांडेय
 लखनऊ। शौर्य और संस्कार की धरती। ऐतिहासिक और सांस्कृतिक रूप से बेहद संपन्न बुंदेलखंड पर्यटकों के आकर्षण के नये केंद्र के रूप में उभरा है। पिछले पांच वर्षों के दौरान बुंदेलखंड क्षेत्र में आने वाले पर्यटकों की संख्या में अप्रत्याशित वृद्धि इसका सबूत है। अधिकांश वृद्धि पिछले तीन वर्षो में तब हुई जब योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने।
पर्यटन विभाग से प्राप्त आंकड़ों के मुताबिक वर्ष 2015 में बुंदेलखंड में कुल 16349869 पर्यटक आए। वर्ष 2019 के 29 जनवरी तक इनकी संख्या बढक़र 32768418 हो गयी। दोगुने से अधिक की यह वृद्धि पर्यटन विभाग के किसी भी क्षेत्र रीजन में नहीं हुई। बुंदेलखंड के समग्र विकास को लेकर सरकार की जो योजनाएं हैं यकीनन आने वाले समय में इस क्षेत्र में बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे और डिफेंस कॉरीडोर जैसी महत्वाकांक्षी योजनाओं के जरिए निवेश भी आएगा और पर्यटकों की आमद भी बढ़ेगी।
बुंदेलखंड का समग्र विकास मुख्यमंत्री की प्राथमिकता
 दरअसल मुख्यमंत्री शुरू से ही बुंदेलखंड की संभावनाओं के मद्देनजर इस पूरे क्षेत्र के विकास के प्रति प्रतिबद्ध रहे हैं। वह तो यहां तक कह चुके हैं कि आने वाले समय में बुंदेलखंड उप्र का स्वर्ग बनेगा। इस घोषणा को धरातल पर उतारने के लिए कई काम भी चल रहे हैं। मसलन हाल ही में बुंदेलखंड के चित्रकूट, बांदा और जालौन जिलों को जोडऩे वाली 14849करोड़ रुपये की लागत वाली 296 किमी लंबे बुंदेलखंड एक्सप्रेस का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शिलान्यास कर चुके हैं। सरकार की मंशा इसे 36 की बजाय 24 महीने में पूरा करने की है।
इसी दौरान प्रधानमंत्री ने डिफेंस कॉरीडोर का भी उद्घाटन किया। इसके छह नाड्स में झांसी और चित्रकूट बुंदेलखंड में हैं। इसमें होने वाले प्रथम चरण के 50 हजार करोड़ के निवेश से करीब पांच लाख लोगों को रोजगार मिलेगा। बेहतर कनेक्टिविटी देने के लिए बुंदेलखंड एक्सप्रेस के अलावा सरकार झांसी और चित्रकूट में हवाई अड्डा बनाने की भी घोषणा कर चुकी है। मुख्यमंत्री भगवान श्रीराम से जुड़े चित्रकूट को प्रयागराज की तरह विकसित करने की घोषणा कर चुके हैं। उनके नेतृत्व में वहां के रामायण मेले को अयोध्या के दीपोत्सव, मथुरा के कृष्ण जन्मोत्सव और बरसाने की होली की तरह नयी पहचान देने की कोशिश की जारी है।सिंचाई और शुद्ध पानी पर जोर
इन कामों के अलावा बुंदेलखंड के समग्र विकास के लिए और भी बहुत कुछ योगी सरकार कर रही है। बुंदेलखंड को सोलर इनर्जी का हब बनाने के लिए चार हजार मेगावॉट सौर ऊर्जा उत्पादन के लिए ग्रीन इनर्जी कॉरीडोर के निर्माण का निर्णय सरकार ने मौजूदा बजट में लिया है।
औसत से कम बारिश के कारण सूखा और पानी की किल्लत बुंदेलखंड की सबसे बड़ी समस्या है। इससे निजात दिलाने के लिए सरकार बारिश के हर बूंद के संरक्षण के लिए खेत-तालाब योजना के तहत वहां युद्ध स्तर पर तालाब खुदवा रही है। इस क्रम में वहां अब तक 8384 से अधिक तालाब खुद चुके हैं। अभी छह हजार से अधिक तालाब खुदने हैं। विश्व बैंक से पोषित उप्र वाटर रीस्ट्रक्चरिंग परियोजना के तहत भावनी, रसिन,बंडई, और लखेरी समेत नौ परियोजनाओं पर भी काम चल रहा है। इनके पूरा होने पर 18399 हेक्टेयर सिंचन क्षमता बढ़ेगी और करीब 16 हजार किसानों को लाभ होगा। 
लोगों को शुद्ध पानी मिले इसके लिए पाइप पेयजल योजना के तहत सरकार 9000 करोड़ रुपये की लागत से चरणबद्ध तरीके से हर गांव और घर तक पानी पहुंचाएगी।
बुंदेलखंड क्षेत्र में आने वाले पर्यटक
स्थान       पर्यटक-2015     पर्यटक-2015
चित्रकूट     5876469       7239458
झांसी        2940535       8035046
जालौन      1337236       4514591
ललितपुर    1270727       5226251
देवगढ़      1004575       2261824
बांदा        745549        1211201
कालिंजर    642219        881853
महोबा      1093896       1262402
चरखारी    1022737        623298
राजपुर      415926         623298
हमीरपुर     अनुपलब्ध       327510
--------------------------
कुल       16349869       32768418

पत्रकारिता के जुनून को जिंदा रखने की जिद का माध्यम बना स्पीकिंग फार्म्स


पत्रकारिता के जुनून को जिंदा रखने की जिद का माध्यम बना स्पीकिंग फार्म्स

#अलग-अलग फील्ड के लोगों का सामूहिक प्रयास 
#उत्पादन से लेकर बनाने तक में प्राकृतिक प्रकिया और मानवश्रम का उपयोग

भोपाल । वक्त जब जब आजमाता है सारे रास्ते बंद लगते हैं तभी रोशनी का एक छोटा सा कण देखकर आगे बढ़ जाती हैं। नए रास्ते की तलाश में। पत्रकारिता में 18-19 साल का समय बीत जाने के बाद कोई ये कहे कि वो पत्रकारिता छोड़ रहा है तो वो झूठ बोलता है। क्योंकि पत्रकारिता पत्रकार को कभी नहीं छोड़ती। ये उस बेवफा प्रेमी या प्रेमिका की तरह होती है जिसे न छोड़ा नहीं जा सकता। वो चाहे लाख परीक्षा ले ले।। 
तो ऐसी पत्रकारिता को छोड़ने का तो ममता यादव भी सोच नहीं सकती थी। जब पारिवारिक जिम्मेदारियों का निर्वहन करना हो और अपने ईमान को भी जिंदा रखना हो और वो भी एक महिला पत्रकार होने के बाद तो पत्रकारिता जैसा पेशा एक जूनून की दरकार रखता है ।

पत्रकारिता, ईमान और इस जुनून को जिंदा रखने के लिये जरूरी होता है एक फ़ायनेंसियल बैकअप। जो कि ईमानदार निष्पक्ष पत्रकारिता में सम्भव नहीं। दिक्कत ये है कि समाज को अच्छे ईमानदार निष्पक्ष निडर पत्रकार तो चाहिए पर ये पत्रकार जिंदा कैसे रहें इसके बारे में समाज कभी बात नहीं करता। ऐसी ही जद्दोजहद के बीच दिमाग में आया क्यों न जैविक सब्जियों की खेती की जाए? पर इसके लिये भी जमीन के लिये भी पैसा नहीं था। ऐसे में सम्पर्क में आया एक नैचुरल फार्मिंग ग्रुप और उनके उत्पादों के आइडिया। गुड़ की इतनी वैरायटी थीं और हर वैरायटी का औषधीय महत्व था। शहद इतने प्रकार का भी हो सकता है पता नहीं था। फिर औषधीय गुणों वाली गुड़ की राव  का पता चला। जो कि शुगर पेशेंट तो उपयोग कर ही सकते हैं और थायराइड की अचूक औषधि है। चावल ज्वार सरNसों हर चीज़ की खेती में जीवामृत पद्धति (गाय का गोबर गौमूत्र मठा, बेसन पीपल या बरगद के नीचे की मिट्टी और पानी) से की जाती है। 
तो इसमें जिज्ञासा भी जागी। ऐसे एक आजीविका  का साधन खोजते-खोजते पत्रकारिता का एक नया विषय मिला। काम में मजा आने लगा। लोगों तक उत्पाद पहुंचे और उनके चेहरे पर संतुष्टी की मुस्कान देख लगा कुछ अच्छा कर रहे हैं। ऐसे बनी स्पीकिंग फार्म्स नैचुरेल प्रोडक्ट मार्केटिंग कम्पनी।
स्पीकिंग फार्म्स क्यों इसका जवाब आपको नीचे मिलेगा।
स्पीकिंग फार्म्स की टीम अपने आप मे अनोखी टीम है। एक पत्रकार, एक भारत की पहली थर्ड जेंडर धनंजय, महेंद्र मुद्गल बिजनेस मेन (मॉल एंटरप्रेन्योर) अरविंद सिंह जो कि खुद कृषक हैं और नैचुरल खेती की पुरानी परम्परा के प्रयोगों, देशी बीज की खोजों और दूसरी रिसर्च में लगे रहते हैं। 
#Speaking_Farms 
खेत भी बोलते हैं कि मुझमें जहर मत छिड़को, खेत भी कहते हैं कि मुझमें घटिया GMO/BT बीज मात डालो, खेत भी बोलते हैं कि हमसे प्रेम करो, खेत कहते हैं कि हम तुम्हें स्वाद, शुध्दता और असीमित प्रेम करेंगे, खेत बोलते हैं कि तुम हमारे किनारों पे पेड़ लगाओ हम तुम्हें फल देंगे, छाया देंगे। 
हाँ खेत बोलते हैं, कहते हैं कि कृषि एक यज्ञ है, हम खेत यज्ञ का कुंड और जो खाद बीज दोगे वो हवन की समिधा है। 
हां खेत यह बोलते हैं, और ये हमने सुना है, पशु पक्षी बोलते हैं, हमने सुना है इसलिए #देशी_गौवंश आधारित, प्रकृति के साथ साथ सहअस्तित्व की भावना के साथ हम आगे बढ़ रहे हैं। 
#Speaking_farms ऐसे ही बोलने वाले खेतों और सुनने वाले कृषकों का समूह के उत्पादों को आप तक पहुंचाने वाला नाम है। इस परिवार में 10 से अधिक किसान एवं ग्रामोद्योग समूह और उनके संस्थान जुड़े हैं। 
#speaking_farms इस बात का हमेशा प्रयास करेगा कि आपकी थाली तक नैतिकता पूर्वक उत्पादों के सप्रेम भेजता रहे। 
#Speaking_farms  नैसर्गिक/ प्राकृतिक कृषि पद्धति में विश्वास करता है। इस पद्धति का सबसे पहला नियम है बीजों में शुद्धता अर्थात पुरातन देशी बीजों से कृषि करना। बीज का जीवन में बहुत महत्व है, हम ऐसे बीजों (GMO/BT) का प्रयोग नहीं करते जो बीज से बीज तैयार नहीं होते, क्योंकि जी बीज स्वयं उत्पत्ति नहीं कर सकता उसे खाने से क्या लाभ होंगे क्या हानि ये आपको स्वयं सोचना है। हम अपनी कृषि पद्धतियों में यह सुनिश्चित करते हैं कि मीथेन का उत्सर्जन नहीं हो। देशी गाय के गौमूत्र और गोबर के प्रयोग से तैयार तरह तरह के अमृत समान घोल खेतों के भोजन है। हम SPNF पद्धति को भी प्रयोग में ला रहे हैं। 
ORGANIC  सर्टिफिकेशन अमेरिका के USDA का प्रमाणीकरण है। यूनाइटेड स्टेट डिपार्टमेंट ऑफ एग्रीकल्चर (USDA) के अनुसार बना ORGANIC  वहां की जलवायु और कृषि पद्धति के अनुसार काम करता है। इसमें बीजों की शुद्धता का कोई कठोरतम नियम नहीं है। इसमें मीथेन का उत्सर्जन है। आप इंटरनेट पे तमाम आलेख पढ़ सकते हैं। हमारा उद्देश्य किसी की बुराई करना नहीं है। 
हम बीजों की शुद्धता के लिए प्रतिबद्ध हैं। हम मीथेन के उत्सर्जन के नियंत्रण के लिए भी प्रतिबद्ध हैं। हम आपके साथ इस विश्वास को कायम करने के लिए काम कर रहे हैं कि खेत और पेट का विश्वास फिर से कायम हो सके। आपको दिनोंदिन गुणवत्ता में सतत विकास महसूस होता जाएगा, क्योंकि प्रकृति को नाराज करने में हम सबकी भूमिका है, हम अपने रूठे हुए खेतों को मनाने में सफल हो रहे हैं । आशा है आप भी साथ आएंगे और हम सब खेतों के साथ मिलकर प्रकृति के गीत गुनगुनायेंगे। 
 परिवार के सभी सदस्यों में मुख्य भूमिका में 
सुश्रीममता यादव Mx धनंजयसिंह चौहान
श्रीमहेंद्र कुमार मुदगल श्रीअरविंद
प्रोडक्शन फार्मिंग टीम
हमारे TEFO ग्रुप के परिवार में (TEFO - THE ETHICAL FARMERS ORGANIZATION) जो अन्य विशेषज्ञ हैं वे
श्री_अनूप_सिंह_परमार 
श्री_आर_डी_त्यागी
श्री_रंजीत_रंधावा
श्री प्रफुल्ल श्रीवास्तव
MGSA_JOURA
Doceza_organics
ESJ_FARMERS 

#SPEAKING_FARMS के उत्पाद 
घी
शुद्ध भारतीय नश्ल कीबदेशी गाय (गिर/शाहीवाल/थारपारकर/हरियाणा आदि) का पुरातन बिलौना पद्धति से प्राप्त देशी घी।
गायें अपने चारे में  पेस्टिसाइट फ्री चारा ही ग्रहण करती हैं, एवं उनके पास वाकिंग स्पेस बहुत है। 
घी उच्च गुणवत्ता युक्त  है।

देशी गाय का घी सेहत के लिए बेहद लाभदायक होता है, आप अपने आयुर्वेदिक चिकित्सक से इसके लाभ जानें
शहद
चम्बल अंचल में मीठी क्रांति के जनक कहे जाने वाले श्री प्रफुल्ल श्रीवास्तव के मार्गदर्शन में Speaking farms आपको उपलब्ध करवाते हैं शुद्धतम शहद,
अहिंसक प्रक्रिया से तैयार यह शहद खाते समय आप महसूस करेंगे कि आपके शहद के लिए एक भी लार्वा या मधुमक्खी 
की हत्या नहीं हुई है, न किसी मधुमक्खी का घर उजाड़ा है और न उसके भोजन के हिस्से को चुराया है। 
प्रिजर्वेटिव फ्री शहद,
नो एडेड शुगर
नो एडेड फ्लेवर
सभी फ्लेवरों का चयन मधुमक्खी ही करती है, ये सभी फ्लेवर प्राकृतिक हैं। 
वर्सेम_शहद ,अजवाइन_शहद ,खैर_शहद
#सरसों_शहद
#जामुन_शहद
#नीम_शहद
#सौंफ_शहद
#धनिया_शहद
#मल्टीफ्लोरा_शहद
सरसों_तेल 
कई दशकों पुराने शुद्ध देशी बीज से पेस्टिसाइट मुक्त, रासायनिक खाद मुक्त सरसों के बीज से लकड़ी की घाणी में तैयार कोल्ड प्रोसेस्ड शुद्धतम सरसों का तेल जिसमें एसेंसियल ऑयल की मात्रा सामान्य शुद्ध तेल से लगभग दोगुनी है एवं  एसिड वेल्यु लगभग 0.90% मात्र है।  किसी भी तेल की एसिड वेल्यु 1.5% से ज्यादा नहीं होना चाहिए। बाजार में उपलब्ध तेल या सरकारी मानक एसिड वेल्यु को मेंशन ही नहीं करवाते। 
इसी तरह हमारे पास आपके लिए जो तेल हैं वो 
#सरसों_तेल
#अलसी_तेल
#तिल_तेल
#SPEAKING_FARMS_premium_jaggery गुड़_की_मिठास 
हम, गन्ने की सभी प्रजातियां IISR (इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ सुगरकेन रिसर्च) प्रमाणित ही प्रयोग में ला रहे हैं, गुड़ का निर्माण करते समय किसी भी केमिकल के प्रयोग को हम नैतिक नहीं मानते एवं पूर्णतः केमिकल फ्री प्रक्रिया का पालन किया जाता है। गुड़ के सभी फ्लेवर प्राकृतिक एवं शुध्द होते हैं एवं उन्हें एक विशेष प्रक्रिया से गुजरना होता है, तब जाकर आपको शानदार स्वाद और शुध्दता मिल पाती है। 
हम सभी किसी न किसी रूप में कोइ न कोई स्वाद के प्रशंसक होते हैं और किसी न किसी औषधि को नित्य जीवन मे ग्रहण करते ही हैं। इसलिए 20 से अधिक फ्लेवरों में आपके लिए गुड़ तैयार किया जाता है। यह गुड़ एकदम प्रीमियम क्वालिटी का होता है। #Speaking_Farms अपने फ्लेवरों के तत्व एवं गन्ने की विशेष वैरायटी, का चयन कर इसे बेहद विशेष कठिन प्रक्रिया से तैयार कर उच्च गुणवत्ता की पैकिंग में आप तक पहुंचाता है। 
गुड़ के फ्लेवर
#ड्रायफ्रूट्स_गुड़
#गोंद_गुड़
# चोको_पीनट्स_गुड़
#साबूदाना_गुड़
#चॉकलेट_गुड़
#इलायची_गुड़
#अलसी_गुड़
#हल्दी_गुड़
#आंवला_गुड़
#धनिया_गुड़
#सौंफ_गुड़
#मैथी_गुड़
#अजवाइन_गुड़
#सोंठ_गुड़
#नारियल_गुड़
#एलोवेरा_गुड़
#तिल_गुड़
#मीठा_नीम_गुड़
#सादा_गुड़
गुड़_की_राव /#खांड/ शीरा 
#सादा_राव
#ड्रायफ्रूट्स_राव
#पान_की_राव
#देशी_घी_की_राव
#इलायची_राव

गुड़_की_शक्कर
Jaggery Broun suger 
चावल_____बासमाती____
बिना किसी केमिकल का स्प्रे किया, बिना फर्टिलाइजर का इस्तेमाल किये उगाया गया बासमाती चावल का हमारा प्रयोग सफल हुआ और हमें जो प्राप्त हुआ वो शानदार उपहार है #speaking_farms का। 
हम इसे आगे और शानदार स्तर पर ले जाने के लिए एवं अन्य सभी देशी किस्मों को आप तक पहुंचाएंगे। 
ज्वार -----Sorghum 
पहाड़ों से चुनी गई ज्वार, जो एकदम नैचुरल है वो आपके लिए उपलब्ध है। 
ज्वार आटा,
ज्वार दलिया 
गेंहूँ
#बंशी_गेंहूँ
#कठिया_गेंहूँ
गेहूं का दलिया एवं आटा उपलब्ध रहेगा
दालें
देशी बीज की तूअर/ अरहर दाल
देशी मूंग की दाल
देशी उडद की दाल 
देशी चने की दाल
हमें लगता था, पत्रकारिता में राजनीतिक प्रशासनिक एजुकेशन या अन्य मुद्दों पर रिपोर्टिंग करके तीर मार रहे हैं। इससे सिस्टम को करीब से जाना। पर अब जो राह पकड़ने जा रहे हैं कुछ सार्थक कर जाएंगे। पत्रकारिता होगी पर विषय बदलेंगे अब। अमरकंटक के एक दौरे ने पर्यावरण पत्रकारिता की तरफ रुचि और जिज्ञासा दोनों बढ़ाई है।  सम्भवतः कुछ ठीकठाक कर जाएंगे पर पिछले 2 महीनों में कृषि क्षेत्र को जितना जाना है उससे यह समझ आया कि इसकी रिपोर्टिंग में भी एक ढर्रा है। हम सिर्फ समस्याओं पर बात करते हैं समाधान की तरफ न तो देखते हैं न खोजने की कोशिश करते हैं। मैं समस्याओं पर बात करती हूं सुनती भी हूँ पर मैं सिर्फ यही नहीं कर सकती। इसलिए जो सिर्फ समस्या की बात करता है समाधान नहीं बताता उसे दोबारा सुन नहीं पाती हूँ। नकारात्मकता में ही सकारात्मकता छुपी होती है। बहुत छोटा सा रोशनी का कण ही मिलेगा शुरुआत में पहाड़ नहीं। कोशिश होनी चाहिए कि आने वाली पीढ़ियों के लिये कुछ बेहतर छोड़ जाएं। बेहतर की, गुणवत्ता की तलाश सबको है पर आगे चलना कोई नहीं चाहता। पिछले कुछ महीनों में दो एक लोगों से मिली हूँ जो 80-85 कि उम्र में भी सक्रिय हैं सामान्य जीवन जी रहे हैं आइडियल बने हैं।।लोगों को राह दिखा रहे हैं। महाराष्ट्र में सुभाष पालेकर के नाम से पूरी कृषि पद्धति ही चल रही है। उत्तरप्रदेश से लेकर गुजरात बिहार मध्यप्रदेश आंध्रा सभी जगह के किसान इसे अपना रहे हैं। गई थी समझने दो दिन की कांफ्रेंस थी। पर एक दिन में ही लौटना पड़ा। मध्यप्रदेश में बाबूलाल दाहिया जी का अपना पैटर्न है। इन्हें और इनके जैसे लोगों की पद्धतियों को प्रचारित कर अमल में लाने की जरूरत है। वरना पेस्टीसाइड यूरिया का जहर तो जिंदाबाद है ही। तय आपको करना पड़ेगा आत्मनिर्भरता या निर्भरता?


SAGAR: जिला अस्पताल में 10 दिन में तैयार हो जाएगा ऑक्सीजन प्लांट , 100 बिस्तरों को रोज मिलेगी ऑक्सीजन

Archive