रानगिर की माँ हरसिद्धि माई

शनिवार, 19 जून 2021

गरीबों की सेवा और प्रकृति संरक्षण का संकल्प लेकर सेवादल ने मनाया राहुल गांधी का जन्मदिन


गरीबों की सेवा और प्रकृति संरक्षण का संकल्प लेकर सेवादल ने मनाया राहुल गांधी का जन्मदिन


साग़र। कोरोना महासंकट के कारण पूरे देश में व्याप्त आर्थिक संकट में कांग्रेस सेवादल ने आज 50 वें दिन भी अपने सेवा अभियान को जारी रखा। सेवादल ने ढूंडा महावीर मंदिर के प्रागंण पर 20 जरूरतमंद-गरीब-मजदूर परिवारों की महिलाओं को राशन वितरित किया।राशन में आटा-दाल-चावल-बिस्किट-दूध आदि वितरित किया जाता है। 
तत्पश्चात वही सेवादल परिवार ने पीपल और बरगद के 6 पोधे लगाकर उनकी देखरेख की जिम्मेदारी अपने कंधों पर ली।
आज राहुल गांधी पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के जन्मदिन के अवसर पर सेनेटाइजर, मास्क आदि भी इन जरूरतमंद परिवारों को भी वितरित किया गया।
इस अवसर पर शहर अध्यक्ष सेवादल सिंटू कटारे ने कहा कि निसहायों की मदद और प्रकृति को संरक्षित रखना ही मानव धर्म है,राहुल जी के जन्मदिन पर यह दोनो कार्य करके हम सब उनकी दीर्घायु और निरोगी जीवन की कामना करते है।
सोशल डिस्टेसिंग का विशेष ध्यान रखते हुये इन परिवारों को कोरोना से बचाव में प्रयुक्त अन्य सावधानियों से भी जागृत किया गया। 
सेवादल अध्यक्ष सिंटू कटारे के साथ नितिन पचौरी,जयदीप यादव,रामगोपाल यादव,अरविंद राजपूत, शूभम उपाध्याय अजय ठाकुर,आदर्श यादव आदि सेवादल सदस्य उपस्थित रहे।


 

सप्रे जी का पूरा जीवन त्याग और तपस्या में बीता : केन्द्रीय राज्यमंत्री प्रहलाद पटैल ★ महानायक है स्व सप्रे जी - पद्मश्री विजयदत्त श्रीधर ★ 150 वां पंडित माधवराव सप्रे सार्धशती समारोह

सप्रे जी का पूरा जीवन त्याग और तपस्या में बीता : केन्द्रीय राज्यमंत्री प्रहलाद पटैल

★ महानायक है स्व सप्रे जी - पद्मश्री विजयदत्त श्रीधर

★ 150 वां पंडित माधवराव सप्रे सार्धशती समारोह

दमोह : कठिन परिस्थितियों में पूज्य संत माधवराव सप्रे जी ने अपनी जीवन यात्रा पूरी की है, उनकी फिल्म हम सबके दिमाग में चलाने वाले और जीवन गाथा को अमृत प्रदान करने वाले मेरे बड़े भाई पदम श्री विद्याधर तुलसी जी यहां पधारे उनका हृदय से स्वागत करता हूं। उन्होंने कहा देश के दूसरे नंबर की गुरु परंपरा सबसे लंबी परंपरा बकायन परंपरा है, मृदंगम के टॉप 10 लोगों में प्रथम नंबर पर नाम नाना साहब पांसे जी का लिया जाता है, वह भी संत सेनानी थे। श्री पटैल आज पथरिया में आजादी का अमृत महोत्सव संस्कृति मंत्रालय भारत सरकार के तत्वाधान में इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केन्द्र नई दिल्ली द्वारा आयोजित 150 वां पंडित माधवराव सप्रे सार्धशती दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे। इस अवसर पर प्रो. विजय शंकर शुक्ल, निदेशक क्षेत्रीय केन्द्र वाराणसी, सीसीआरटी अध्यक्ष डॉ हेमलता एस मोहन, आर्चाय श्री विजय दत श्रीधर, श्री राजेश बादल, श्री श्याम सुंदर दुबे, सहायक आचार्य डॉ अभिजीत दीक्षित मंचासीन थे। 

केन्द्रीय राज्यमंत्री श्री प्रहलाद सिंह पटैल ने कहा सीसीआरटी देश का मध्य केंद्र होगा, देशभर में से यदि कोई स्कालरशिप चाहेगा तो वह उसका केंद्र बिंदु होगा। यहां पर उपस्थित सभी व्यक्ति से यह कह सकता हूं कि कोई निर्थक नहीं बैठा, यह मेरी इस कार्यक्रम की सफलता है। मैं सबको इस पुण्य धरती पर सौभाग्यशाली मानते हुए प्रणाम करता हूं, कार्यक्रम की सफलता इसी में है, की कार्यक्रम भी परीक्षा लेते हैं, मैंने उनकी जितनी जीवनी पड़ी, दृष्टांत देखें।केन्द्रीय राज्यमंत्री श्री पटैल ने कहा ईश्वर ने निमित्त बनाया यह मेरी जीवन की सफलता हैं। श्री पटैल ने कहा इन पूरे 2 बर्षों मे महात्मा गाँधी जी की जंयती से लेकर नेताजी की 125 वी जंयती, महर्षि अरविंद जी की 150 वी जंयती, राजा राममोहन राय की 250 वी जंयती, गुरू तेग बहादुर की 400 वी जंयती और आजादी का अमृत महोत्सव इन सबके लिए प्रधानमंत्री जी का हृदय से धन्यवाद ज्ञापित करता हूं। उन्होंने कहा 1923 में अभिनंदन के लिए खादी पद उनको अभिनंदन पत्र भेंट किये गये थे। दो साल बाद किसी चौराहे पर पूजन कराकर जब 18 मार्च 2023 होगा तब संस्कारधानी और दमोह नगर के हर घर में राष्ट्रीय ध्वज फेराए तो झंडा सत्याग्रह की सच्ची श्रंद्धाजली होगी।उन्होंने कहा 300 साल के पहले का इतिहास आपके पास हैं, रमन मिस्त्री जी के काव्य हैं, 1842 की क्रांति की शुरूआत करने वाला दमोह, ठाकुर शहीद यशवंत जी काकोरी कांड इस दमोह की धरती पर पैदा हुये। उन्होंने कहा सप्रे जी का पूरा जीवन त्याग और तपस्या में बीता सप्रे जी ने इतना दिया कि लेने वाला यह बखान नही कर पाया कि हमें कितना मिला। उन्होंने कहा आजादी के 75 महोत्सव नही होता तो हम इतनी बारीकी से इन विभूतियों को नही टटोल पाते, जिनका समर्पण जरूरत से ज्यादा था, ऐसे आंदोलन कारी और आंदोलन ढूढकर देश के सामने लाना चाहिए, लोग उनसे प्रेरणा प्राप्त करेगें कि सब कुछ यश के लिए नही होता। उन्होंने कहा जिन आंदोलनों के केन्द्र बिंदू हम हैं, इस बात पर हमें गर्व होना चाहिए।

तीनबत्ती न्यूज़. कॉम
के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे


ट्वीटर  फॉलो करें


वेबसाईट

आजादी के अमृत महोत्सव में सप्रे जी को याद किया जाना सुखद : श्रीधर जी

पद्म श्री विजय दत्त श्रीधर ने कहा यहां पंडित माधव राव सप्रे जी ने जन्म लिया, यदपि उनका रिश्ता बचपन में ही इस माटी से छूट गया था, लेकिन यह बुंदेलखंड है, इसके हवा पानी माटी में अपनत्व का तत्व है। उन्होंने कहा भारत सरकार के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी का विशेष रूप से धन्यवाद देता हूँ कि भारत की आजादी के 75 वर्ष 2022 में पूरे हो रहे हैं, आजादी का अमृत महोत्सव मनाया जाना है, यह जिम्मेदारी संस्कृति मंत्रालय को दी गई है और संस्कृति मंत्रालय ने बैठक करके यह तय किया कि ऐसे महान नायकों का भी इस प्रसंगों में स्मरण किया जाए, जिनका कृतित्व और अनुदान बहुत बड़ा है लगभग यह कहा जाए कि अचर्चित थे, आज चर्चित महानायक है उनकी बहुत ज्यादा चर्चा नहीं हो पाई, अनुदान उनका बहुत बड़ा था, उनको याद किया जाए और यह बीड़ा भारत सरकार के संस्कृति मंत्री श्री प्रहलाद पटेल जी ने उठाया है, इस श्रंखला में पहला नाम सप्रे जी के उत्सव के साथ ही यह श्रृखंला आरंभ हो रही है इसके लिए भारत सरकार के मंत्री श्री प्रहलाद पटेल जी का हृदय से धन्यवाद।


सीसीआरटी अध्यक्ष डॉ हेमलता एस मोहन ने कहा अमृत महोत्सव में कितना आप ग्रहण करेंगे और हम सरोबार होंगे, वह किसी को नहीं पता, लेकिन आज यहां आकर इस मंच पर बैठकर मैं अपने आप को बहुत समृद्ध महसूस कर रही हूं। उन्होंने कहा बहुत कुछ इस पवित्र भूमि से लेकर जा रही हूं, यहां बहुत कुछ है, जो हम कर सकते हैं। उन्होंने कहा मैं बनारस से हूं, साहित्यकारों से मेरा पुराना नाता है लेकिन सही मायने में यह दुर्लभ जानकारियां हमें मिल रही है, वह उन्हें आत्मसात और सोचा जा सकता है और उन अनसुंग हीरो के बारे में जिनको हमने कभी उनको देखा नहीं, उनको जानकर अपने आप को महसूस किया जा सकता है, वह हमसे कहीं ना कहीं जुड़े थे, उन्होंने हमें और हमारे देश को जाति को धरती को गौरान्वित किया।

वरिष्ठ पत्रकार राजेश बादल ने कहा प्रकृति में हर चीज में कालखण्ड के हिसाब से बदलाव आता हैं, भारत के इतिहास मे 1947 मे हमने आजादी पाई, 1947 की पहले की प्राथमिकताए थी, वह उस दौर की पत्रकारिता की प्राथमिकताए थी, माखनलाल जी, भावानी प्रसाद मिश्र, गोविन्ददास जी की पत्रकारिता तीनो ही सप्रे जी के शिष्य थे, उनकी पत्रकारिता आज भी प्रासंगिक हैं लेकिन सबसे महत्वपूर्ण बात यह रही इन महापुरूषो एवं पूर्वजों ने सरोकार एवं मूल्यो वाली पत्रकारिता की हैं वह आज की पत्रकारिता से गायब हैं समाज एवं पत्रकारिता अपने सरोकारों को भूल जाती हैं वह पत्रकारिता बहुत अच्छे परिणाम देने लायक नही रह जाती हैं। उन्होंने कहा आने वाली पीढ़ियो को अगर पत्रकारिता का सही संदेश देना हैं तो हमे अपने पूर्वजों एवं पुर्खों की पत्रकारिता को याद रखना चाहिए। श्री बादल ने कहा कुछ तीर्थ ऐसे होते हैं जो आने वाली पीढ़ियों के लिये पुंज का काम करते है, पीढ़ियां दर्शन पाती है।

आचार्य श्याम सुंदर दुबे ने बड़े विस्तार से अपने संस्मरण प्रस्तुत किये। उनकी प्रस्तुतीकरण कुछ इस तरह से था मानो आजादी के इस अमृत महोत्सव में पंडित माधवराव सप्रे साक्षात मौजूद हो। उन्होंने सप्रे जी के जीवन दर्शन पर विस्तार से अपनी बात रखी, इस दौरान श्री दुबे ने सप्रेजी के जीवन के अनछुए बिंदुओ पर भी बात रखी।
इस मौके पर सीसीआरटी अध्यक्ष डाँ हेमलता एस मोहन, पूर्व सांसद लक्ष्मी नारायण यादव, जिला पंचायत अध्यक्ष शिवचरण पटैल, विधायक धर्मेन्द्र सिंह लोधी, विधायक पीएल तंतवाय, भाजपा जिला अध्यक्ष प्रीतम सिंह लोधी, सांसद प्रतिनिधि डाँ आलोक गोस्वामी व नरेन्द्र बजाज, रूपेश सेन, पूर्व अध्यक्ष जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक राजेन्द्र गुरू  साग़र के साहित्यकर्मी श्री सुरेश आचार्य, उमाकांत मिश्र, शरद सिंह, एस एम पचौरी,  सहित साहित्यकार-लेखकगण, पुलिस-प्रशासन के अधिकारी, सम्मानीय मीडियाजन सहित गणमान्य नागरिक मौजूद रहे।
  
---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

सभी लोग कम से कम एक वृक्ष अवश्य लगाएंः मन्त्री भूपेन्द्र सिंह

सभी लोग कम से कम एक वृक्ष अवश्य लगाएंः मन्त्री भूपेन्द्र सिंह

★ ग्राम झींकनी में अस्पताल, निःशुल्क भोजनशाला, संस्कृत गुरूकुल एवं अर्द्धनारीश्वर मूर्ति निर्माण का भूमिपूजन

★ इस तरह के स्थान बनने से मिलती है आध्यात्मिक शांतिः भूपेन्द्र सिंह


साग़र। आज यहां पर आकर बहुत प्रसन्नता हुई कि क्षेत्र में एक अच्छा काम होने जा रहा है। इससे हमारे क्षेत्र के लोगों को जहां धर्मलाभ मिलेगा, वहीं पर बच्चों को अच्छी शिक्षा मिलेगी। अस्पताल के माध्यम से स्वास्थ्य सुविधाएं मिलेंगी और इसका लाभ क्षेत्र की जनता को मिलेगा। यह बात शनिवार को प्रदेश के नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने खुरई के ग्राम झीकनी में श्री अर्द्धनारीश्वर सेवा संस्थान द्वारा आयोजित अस्पताल, निःशुल्क भोजनशाला, संस्कृत गुरूकुल एवं अर्द्धनारीश्वर मूर्ति के नींव पूजन कार्यक्रम अवसर पर कही।

मंत्री श्री सिंह ने संबोधित करते हुए कहा कि, मैं ये विश्वास दिलाता हूं कि, क्षेत्रीय विधायक होने के नाते इस सेवा संस्थान में जो भी मदद मुझसे होगी मैं करूंगा। यह स्थान अच्छा बने और सरकार के स्तर पर जो भी कार्य होगा वो हम पूर्ण कराएंगे। मंत्री श्री सिंह ने कहा कि इस तरह के स्थान बनने से जहां आध्यात्मिक शांति मिलती है, वहीं अपने जीवन में धर्म के मार्ग पर चलते हैं। मेरी ईश्वर से प्रार्थना है कि ये सेवा संस्थान अच्छा चले, लोगों के जीवन में इसका लाभ हो।
     कार्यक्रम को दुर्गाप्रसाद मुड़ोतिया ने भी संबोधित किया। श्री मुड़ोतिया ने इस इस कार्य के लिए अर्द्धनारीश्वर सेवा संस्थान के जितेन्द्र दास जी महाराज का आभार जताया। उन्होंने कहा कि प्रदेश के मंत्री एवं क्षेत्रीय विधायक भूपेन्द्र सिंह ने ठाना है कि, क्षेत्र हर गरीब परिवार को आवास दिया जाएगा। 
     मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने संबोधित करते हुए कहा कि, बांदरी को हमने पहले नगर पंचायत बनवाया था कि क्षेत्र की जनता को इसका लाभ मिले, लेकिन बीच में सरकार बदली तो नगर पंचायत खत्म कर दी। पुनः भाजपा सरकार बनने पर हमने इसको नगर पंचायत बनवाया और नगर पंचायत के माध्यम से पहली बार में ही लगभग 1300 मकान स्वीकृत किए थे, जिसमें झींकनी में 74 मकान थे। दूसरी लिस्ट तैयार हो रही है, उसमें भी लगभग 90-95 मकान फिर से स्वीकृत होंगे। मैं आपको विश्वास दिलाता हूं। कि आने वाले समय में ऐसा कोई भी परिवार नहीं होगा जिसका खुद का मकान न हो, हर परिवार का अपना मकान होगा। 



सभी लोग कम से कम एक वृक्ष अवश्य लगाएंः भूपेन्द्र सिंह

 खुरई विधायक एवं प्रदेश शासन के मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने बांदरी की उपमंडी परिसर में वृक्षारोपण किया। मंत्री श्री सिंह ने कहा कि, सरकार के द्वारा वृक्षारोपण कार्यक्रम तय किया गया है, जिसके अंतर्गत हम लोगों को सभी जगह वृक्षारोपण करना है। शहरी क्षेत्र में सरकार ने नियम बना दिया है कि, मकान की मंजूरी तभी मिलेगी जब उसमे वृक्षारोपण होगा।

     मंत्री श्री सिंह ने संबोधित करते हुए कहा कि, वृक्ष हमारा जीवन हैं, वृक्षों से हमें आक्सीजन मिलती है जिससे हमारा जीवन चलता है, वृक्षों से भूमि की जल क्षमता बढ़ती है, इसलिए वृक्ष लगाना बहुत जरूरी है। कोशिश करें कि हम फलदार वृक्ष लगाएं जिससे हमें फल भी मिलते हैं। 
     मंत्री श्री सिंह ने कहा कि, मेरा सभी लोगों से आग्रह है कि, पूरे नगर पंचायत क्षेत्र में जहां-जहां भी हम वृक्षारोपण कर सकते हैं करें, वृक्ष नगर पंचायत, जनपद की ओर से उपलब्ध कराएंगे। मेरा आप सभी से अनुरोध है कि कम से कम एक वृक्ष अवश्य लगाएं। प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एक वृक्ष प्रतिदिन लगाते हैं, पिछले लगभग तीन महीने से ऐसा कोई दिन नहीं जाता जिस दिन पर वृक्षारोपण न करते हों। मुख्यमंत्री श्री चौहान हर रोज पहले एक वृक्ष लगाते हैं और बाद में दूसरा कोई कार्य। 
     मंत्री श्री सिंह ने कहा कि, बांदरी में जहां भी सरकारी जमीन हैं वहां पर वृक्षारोपण करें। वन विभाग की जो जमीन हमें बांदरी के विकास के लिए मिली है उसमें मुक्तिधाम की जमीन में वृक्षारोपण, स्टेडियम की जमीन में एवं नगर परिषद के भवन निर्माण की जमीन में वृक्षारोपण किया जाएगा। नगर पंचायत बनने से बांदरी का विकास तेजी से हो रहा है। 
     मंत्री श्री सिंह ने कहा, हमें बड़ा दुख है कि, कोरोना के कारण अनेक लोग हमारे बीच से चले गए, अनेक लोगों को हमने खोया है। कोरोना से किस तरह नुकसान होता है वह हम सबने देखा है। इसका एक ही इलाज है, वैक्सिनेशन और मास्क। मंत्री श्री सिंह ने कहा कि, 21 जून से कोरोना का निःशुल्क वैक्सिनेशन महाअभियान शुरू होगा आप सभी से आग्रह है कि, सभी लोग वैक्सिनेशन जरूर कराएं, अगर वैक्सिनेशन आपने करा लिया, तो कोरोना से आपको नुकसान नहीं होगा। हमने भी वैक्सिनेशन कराया है, वैक्सिनेशन से कोई खतरा नहीं है, यह हमारा जीवन सुरक्षित करती है। 
मंत्री श्री सिंह ने भाजपा नेताओं, कार्यकर्ताओं से आग्रह किया कि वे, चिंता करके अपने ग्राम और वार्ड में जिनका वैक्सिनेशन नहीं हुआ है, उनका वैक्सिनेशन अवश्य कराएं। इस अवसर पर उनके साथ गणमान्य नागरिक, भाजपा नेता, कार्यकर्ता एवं आमजन उपस्थित थे। 


 

वैक्सीनेशन महाअभियान ★ वोटर पर्ची की तरह वैक्सीनेशन पर्ची का करें वितरण ★ वैक्सीनेशन कराने वाले प्रत्येक व्यक्ति का तिलक टीका करें ★ 11 विकासखंड में 11 आदर्श वैक्सीनेशन सेंटर कराए गए तैयार कलेक्टर दीपक सिंह

वैक्सीनेशन महाअभियान
★ वोटर पर्ची की तरह वैक्सीनेशन पर्ची का करें वितरण
 ★ वैक्सीनेशन कराने वाले प्रत्येक व्यक्ति का तिलक टीका करें
★ 11 विकासखंड  में 11 आदर्श वैक्सीनेशन सेंटर कराए गए तैयार
कलेक्टर दीपक सिंह

सागर। वैक्सीनेशन महा अभियान में शतप्रतिशत वैक्सीनेशन हेतु  बनाए गये 242  सेंटर कोरोना संक्रमण की रोकथाम एवं नियंत्रण के लिए मध्य प्रदेश सरकार द्वारा 21 जून से कोरोना टीकाकरण वैक्सीनेशन हेतु महा अभियान जिले के 255 वैक्सीनेशन सेंटर पर प्रारंभ किया जा रहा है इस वैक्सीनेशन महा अभियान  के महायज्ञ  में समस्त मीडिया के समस्त साथी प्रिंट मीडिया एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के माध्यम से प्रचार-प्रसार करके अपनी आहुति अवश्य प्रदान करें साथ ही अधिक से अधिक वैक्सीनेशन कराने के लिए वोटर पर्ची के तर्ज पर वैक्सीनेशन पर्ची भी वितरित करें जिसके साथ पीले चावल भी समस्त वैक्सीनेशन कराने वाले व्यक्तियों को प्रदान किए जाएं ।
उक्त निर्देश कलेक्टर श्री दीपक सिंह ने वैक्सीनेशन महा अभियान की समीक्षा बैठक में वर्चुअल कान्फ्रेंस के माध्यम से समस्त अधिकारियों को दिए। कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि वैक्सीनेशन महा अभियान मैं अधिक से अधिक वैक्सीनेशन कराने के लिए मतदान चुनाव प्रक्रिया की तर्ज पर जोनल अधिकारी नियुक्त किए जा रहे हैं , वह लगातार 30 जून तक  मानिटरिंग करेंगे और प्रत्येक घंटे की जानकारी जिला स्तर पर स्थापित वैक्सीन कंट्रोल रूम को देंगे। उन्होंने बताया कि अधिक से  अधिक से अधिक वैक्सीनेशन कराने के लिए जिले में 255 वैक्सीनेशन सेंटर तैयार किए गए हैं जिसमें से ग्रामीण क्षेत्र में 242 एवं नगर निगम क्षेत्र में 13 वैक्सीनेशन सेंटर पर वैक्सीनेशन का कार्य किया जाएगा । उन्होंने बताया कि ग्रामीण क्षेत्र के लिए जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ इच्छित गढ़पाले एवं नगर निगम क्षेत्र के लिए नगर निगम आयुक्त श्री आरपी अहिरवार को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है जो समस्त विभागों से समन्वय करते हुए अधिक से अधिक वैक्सीनेशन कराना सुनिश्चित करेंगे।
  कलेक्टर सिंह ने निर्देश दिए कि वैक्सीनेशन सेंटर  पर समस्त आवश्यक मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराई जावे। उन्होंने निर्देश दिए कि स्मार्ट सिटी कमांड कंट्रोल सेंटर में जिला स्तर पर वैक्सीन कंट्रोल रूम स्थापित किया जाए जिसमें प्रति घंटे की जानकारी अध्ययन की जाए कलेक्टर श्री सिंह ने यह भी निर्देश दिए कि वैक्सीनेशन का लक्ष्य पूर्ण करने वाले वैक्सीनेशन सेंटर पुरस्कृत  किए जाएंगे ।
उन्होंने कहा कि जो भी व्यक्ति वैक्सीनेशन सेंटर पर टीकाकरण कराने के लिए आए उसका तिलक टीका करें । कलेक्टर श्री सिंह ने निर्देश दिए कि जिले में  255 वैक्सीनेशन सेंटर तैयार किए गए हैं उन सभी में जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति भी सुनिश्चित कराई जाए और प्रत्येक वैक्सीनेशन सेंटर पर प्रेरक नियुक्त करें उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधियों एवं प्रेरकों के साथ फोटो क्लिक करने के लिए वैक्सीनेशन सेंटर पर सेल्फी प्वाइंट भी बनाया गया है उस पर जाकर अपनी सेल्फी भी ले।
उन्होंने निर्देश दिए कि जिले के 11 विकासखंड में 11 आदर्श वैक्सीनेशन सेंटर स्थापित कराई जा रहे हैं जिनमें समस्त आदर्श मतदान केंद्र की तर्ज पर आदर्श वैक्सीनेशन सेंटर पर सुविधाएं उपलब्ध रहेंगी ।उन्होंने निर्देश दिए कि अधिक से अधिक वैक्सीनेशन कराने के लिए माइक्रो प्लान के तहत कार्य किया जाए। उन्होंने यह भी कहा कि जोनल अधिकारी स्तर पर एक-एक एंबुलेंस की भी व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। 

योगाचार्य डॉ विष्णु आर्य होंगे बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी (BHU) योग दिवस के मुख्य अतिथि होंगे

योगाचार्य डॉ विष्णु आर्य होंगे  बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी (BHU) योग दिवस के मुख्य अतिथि होंगे

सागर। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा जारी निर्देशों के तहत मानसिक स्वास्थ्य के लिए गठित कोविड़ टास्क फोर्स काशी हिंदू विश्वविद्यालय
21 जून 2021 समय 7 बजे अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर शांति सद्भाव और खुशहाली की कुंजी विषय पर वेबिनार आयोजित कर रहा है। मुख्य अतिथि जानेमाने योगाचार्य और योग निकेतन - योग प्रशिक्षण संस्थान सागर  के संचालक  योगाचार्य डॉक्टर विष्णु कुमारआर्य होगे। यह जानकारी बी एच यू के प्रो संजय कुमार गुप्ता ने देते हुए बताया कि योग सिर्फ आसान और प्राणायाम तक सीमित नहीं हैं बल्कि यह जीवन जीने की कला है और सम्पूर्ण जीवन शैली है।

---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

शुक्रवार, 18 जून 2021

पीएम के महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट में शामिल लाखा बंजारा झील ★ जल शक्ति अभियान के तहत शामिल लाखा बंजारा झील का प्रोजेक्ट संभवत: एक मात्र


पीएम के महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट में शामिल लाखा बंजारा झील
★ जल शक्ति अभियान के तहत शामिल लाखा बंजारा झील का प्रोजेक्ट संभवत: एक मात्र


साग़र।  लाखा बंजारा झील के जीर्णाेद्धार एवं पुर्नविकास तथा सौंद्रयीकरण कार्य को प्रधानमंत्री कार्यालय ने प्रधानमंत्री के महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट (नेशनल इंपार्टेंट प्रोजेक्ट्स )की सूची में शामिल किया गया है जो कि जलशक्ति अभियान के तहत संभवत: प्रदेश के साथ-साथ देश का एकमात्र प्रोजेक्ट होगा.
स्मार्ट सिटी सागर के सीईओ राहुल सिंह ने बताया कि लगभग 92 करोड़ रूपए की लागत से स्मार्ट सिटी द्वारा लाखा बंजारा झील के जीर्णोद्धार एवं पुर्नविकास था सौंद्रयीकरण कार्य कराया जा रहा है जो कि जलशक्ति अभियान के तहत लिया गया है.  देशभर में स्मार्ट सिटी के माध्यम से कई तरह के कार्य चल रहे हैं। कुछ ऐसे प्रोजेक्ट्स भी है जो लीक से हटकर है। ऐसा ही साग़र झील का है। 
जलशक्ति अभियान के तहत सागर का यह प्रोजेक्ट संभवत: एक मात्र प्रोजेक्ट होगा. यह प्रोजेक्ट पूर्ण होने के बाद सागर की तस्वीर बदली हुई नजर आयेगी.
 92 करोड़ रूपए की लागत से सागर झील के जीर्णोद्धार के साथ पुर्नविकास एवं सौंद्रयीकरण कार्य कराया जा रहा है.  प्रोजेक्ट में डिसिल्टिंग सहित अन्य कार्यों पर केवल 23 करोड़ जबकि 70 करोड़ रूपए लेक फ्रंट डेवलपमेंट पर खर्च होगें. जिसमें 16 घाटों का सौंद्रयीकरण होगा. वहीं साढ़े पांच किमी के पॉथवे वॉक वे तीन मीटर चौड़े बनेगें. यहाँ तक कि मौंगा बंधान पर भी पॉथवे बनाया जायेगा.  
वर्तमान में स्मार्ट सिटी के माध्यम से 428 करोड़ के 22 प्रोजेक्ट शुरू हो चुके है. वहीं 170 करोड़ के कार्यों के टेंडर भी प्रक्रिया में हैं. तिली तिराहे से सिविल लाईन चौराहे तक बन रही 2 किमी की स्मार्ट रोड का काम भी नवंबर अंत तक पूर्ण हो जायेगा और दिसंबर में लोकार्पण होगा.


तीनबत्ती न्यूज़. कॉम
के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे


ट्वीटर  फॉलो करें


वेबसाईट

एलिवेटेड कॉरिडोर का काम भी सितंबर में शुरू होगा

चकराघाट से दीनदयाल उपाध्याय मूर्ति बस स्टैंड तक बनने वाले एलिवेटेड कॉरिडोर कार्य का निर्माण भी प्रारंभ होगा. सितंबर माह से इसके निर्माण में तेजी आ जायेगी.  सागर झील पर बनने वाली लगभग 1 किमी का कॉरिडोर 14 मी. चौड़ा होगा. जिसमें लोग पैदल भी घूम सकेगें.

साढ़े 3 करोड़ में खाली हो गया था सागर तालाब

झील के जीर्णोद्धार कार्य के दौरान सर्व प्रथम तलाब को खाली कराया गया था जिसके लिए 10 करोड़ रूपए का प्रावधान रखा गया था मगर सागर तालाब का पानी केवल साढ़े तीन करोड़ रूपए में खाली करा दिया गया था. वहीं आज दिनांक तक झील का कार्य कर रही कंपनी को लगभग 16 करोड़ रूपए का भुगतान किया गया है. 



 ---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

दुष्कर्म के कैदियों को पेरोल पर छोड़ने की तैयारी ,महिला सुरक्षा के लिए खतरा: अरुण यादव

दुष्कर्म के कैदियों को पेरोल पर छोड़ने की तैयारी ,महिला सुरक्षा के लिए खतरा: अरुण यादव


सागर।   भारत सरकार के पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष  अरुण यादव ने अपने एक दिवसीय  सागर प्रवास पर पत्रकारों से अनौपचारिक चर्चा में प्रदेश सरकार पर हमला करते हुए कहा है प्रदेश की शिवराज सरकार जैलो मे बंद बलात्कार के गंभीर कैदियों को पेरोल पर छोड़ने की तैयारी कर रही है इसके लिए नया कानून बनाने जा रही है जो माहिला सुरक्षा के लिए खतरा है ।अभी मध्यप्रदेश महिला उत्पीड़न में बहुत आगे हैं।अपने को भांजियों का मामा कहलाने बाले मुख्यमंत्री प्रदेश की महिलाओ ओर बच्चियों को खतरा पैदा कर रहे है मै इसकी निदा करता हूँ।उन्होंने आगे कहा कि हो सकता कि जैलो मे बंद ये बलात्कारी भाजपा से जुड़े हो ओर उनपर भाजपा का दवाब हो । 
 इस अवसर पर जिला कांग्रेस अध्यक्ष रेखा चौधरी , प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष पं त्रिलोकी नाथ कटारे व वीरसिह् यादव प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता डाँ संदीप सबलोक एवं मो असदउद्दीन, प्रदेश महासचिव विकास शर्मा जिला प्रवक्ता आशीष ज्योतिषी सेवादल अध्यक्ष सिंटू कटारे रवि राय सहित अनेक कांग्रेसजन मौजूद थे।


---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

कुपोषण से मुक्त हुआ मासूम घनश्याम, माता-पिता के चेहरे पर आई ख़ुशियाँ

कुपोषण से मुक्त हुआ मासूम घनश्याम,
 माता-पिता के चेहरे पर आई ख़ुशियाँ

सागर ।  राज्य शासन के द्वारा कुपोषण मुक्त मध्य प्रदेश की दिशा में लगातार कार्य किए जा रहे हैं। हर बच्चे के लिए उचित पोषण, गंभीर और कमजोर बच्चों की देखभाल के लिए सामुदायिक और स्वास्थ्य प्रणालियों को मजबूत करने के लिए काम किया जा रहा है।
महिला एवं बाल विकास विभाग के अंतर्गत सागर के बाल विकास परियोजना अधिकारी के मार्गदर्शन में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सुश्री गीता ठाकुर द्वारा सागर के तिली वार्ड आंगनवाड़ी केन्द्र में घनश्याम पटेल नामक बच्चे का सैम ग्रेड अति कुपोषित में भर्ती हुआ। भर्ती के समय घनश्याम का वज़न 7.130 किलोग्राम पंजीयन किया गया।
आंगनवाड़ी कार्यकर्ता द्वारा बताया गया कि, घनश्याम को 18 जनवरी 2021 को जिला चिकित्सालय स्थित एनआरसी में भर्ती किया गया और वह चौदह दिन पोषण पुनर्वास केन्द्र में भर्ती रहा। इसके बाद 31 जनवरी 2021 को उसे डिस्चार्ज किया गया। डिस्चार्ज के समय बालक का वज़न 8 किलोग्राम था। 14 दिनों में ही उचित निगरानी के कारण बच्चे की सेहत में लगातार सुधार हुआ और वह धीरे-धीरे कुपोषण मुक्त होता गया।

तीनबत्ती न्यूज़. कॉम
के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे


ट्वीटर  फॉलो करें


वेबसाईट


वर्तमान में बालक का बालक का वजन 9.10 किलोग्राम है और अब वह सामान्य श्रेणी में आ गया है। परियोजना अधिकारी ने बताया कि, बालक की स्थिति पहले से बहुत अच्छी है। बच्चे के पिता श्री राम पटेल ने बताया कि, जन्म के समय बच्चे का वज़न 2.5 किलोग्राम था। वे घनश्याम के स्वास्थ्य में इस प्रकार सुधार देखकर बेहद ख़ुश हैं। और पोषण पुनर्वास केंद्र, महिला एवं बाल विकास विभाग सहित समस्त प्रशासन को बहुत बहुत धन्यवाद देते हैं। बता दें कि, घनश्याम के पिता श्री राम पटेल मज़दूरी करते हैं और माँ श्रीमती पूजा पटेल गृहणी हैं।
उन्होंने कहा कि, वे अब आवश्यकता पढ़ने पर अन्य व्यक्तियों को भी आंगनवाड़ी और पोषण पुनर्वास केंद्र जाने की सलाह देंगे। राज्य शासन द्वारा चलाए जा रहे ये पोषण पुनर्वास केंद्र किसी वरदान से कम नहीं अपने बच्चे की सेहत में इस प्रकार सुधार देखकर माता पिता बेहद ख़ुश हैं। 


---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

साग़र संभाग में प्रथम कोविड अनुकंपा नियुक्ति, मात्र 21 दिन में

साग़र संभाग में प्रथम कोविड अनुकंपा नियुक्ति, मात्र 21 दिन में 

सागर । जनप्रतिनिधियों एवं प्रशासनिक अधिकारियों की संवेदनशीलता एवं तत्परता  से  संभाग में  प्रथम कोविड अनुकंपा नियुक्ति प्रदान की गई ।
मामला रहली विधानसभा क्षेत्र के ग्राम दरारिया का है जहां लोक निर्माण श्री मंत्री गोपाल भार्गव के संज्ञान में यह मामला आते ही तत्काल संवेदनशीलता दिखाते हुए उन्होंने कलेक्टर श्री दीपक सिंह को निर्देशित किया कि कोविड-19 से संक्रमित आंगनबाड़ी कार्यकर्ता श्रीमती विजयलक्ष्मी तिवारी का निधन हो जाने के पश्चात उनकी पुत्रवधू श्रीमती स्वाति तिवारी को अनुकंपा नियुक्ति पत्र प्रदान करने का प्रकरण तैयार कर अनुकंपा नियुक्ति प्रदान की जाए । 


तीनबत्ती न्यूज़. कॉम
के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे


ट्वीटर  फॉलो करें


वेबसाईट



कलेक्टर श्री दीपक सिंह ने तत्काल कार्रवाई करते हुए  महिला बाल विकास विभाग के अधिकारी एवं अन्य संबंधित अधिकारियों द्वारा कार्रवाई करते हुए मातृ 21 दिवस में श्रीमती विजयलक्ष्मी तिवारी की पुत्रवधू श्रीमती स्वाति तिवारी को अनुकंपा नियुक्ति मध्य प्रदेश शासन के लोक निर्माण मंत्री श्री गोपाल भार्गव द्वारा अनुकंपा नियुक्ति का आदेश प्रदान किया गया ।मंत्री श्री भार्गव ने मुख्यमंत्री कोविड-19 अनुकंपा नियुक्ति योजना के तहत श्रीमती स्वाति तिवारी को अनुकंपा नियुक्ति पत्र प्रदान किया
लोक निर्माण मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने मुख्यमंत्री कोविड-19 अनुकंपा नियुक्ति योजना के तहत श्रीमती स्वाति तिवारी को अनुकंपा नियुक्ति पत्र प्रदान किया  ।
रहली परियोजना अंतर्गत आंगनबाड़ी केंद्र दरारिया में  दिवंगत कार्यकर्ता श्रीमती विजयलक्ष्मी तिवारी के कोविड-19 पॉजिटिव उपरांत दिनांक 26 मई 2021 को मृत्यु होने पर उनके परिवार की पुत्रवधू श्रीमती स्वाति पति प्रदीप कुमार तिवारी को आंगनबाड़ी कार्यकर्ता पद पर नियुक्ति दी । इस अवसर पर मंत्री श्री भार्गव ने स्वाति को आशीर्वाद एवं शुभकामनाएं सहित उज्जवल भविष्य की कामना की । मौक़े पर  जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉक्टर  इच्छित गढ़पाले ,महिला बाल विकास विभाग से विजय कुमार जैन, श्रीमती शीतल पटेरिया एवं श्रीमती ममता खटीक उपस्थित रही ।

---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

सशक्त अधोसंरचना से आत्म-निर्भरता के लक्ष्य की पूर्ति होगी : मंत्री गोपाल भार्गव


सशक्त अधोसंरचना से आत्म-निर्भरता के लक्ष्य की पूर्ति होगी : मंत्री गोपाल भार्गव

सागर । आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश अंतर्गत गठित अधोसंरचना मंत्रि-परिषद समूह की बैठक लोक निर्माण मंत्री  गोपाल भार्गव की अध्यक्षता में वर्चुअली सम्पन्न हुई। मंत्री श्री भार्गव ने कहा कि प्रदेश में सशक्त अधोसंरचना के माध्यम से आत्म-निर्भरता के लक्ष्य की पूर्ति होगी। उन्होंने कहा कि समूह द्वारा लक्ष्यों का निर्धारण कर मिशन मोड में कार्य प्रारंभ कर दिया गया है। इसके बेहतर परिणाम भी शीघ्र प्राप्त होंगे।
मंत्री श्री भार्गव ने कहा कि आत्म-निर्भर भारत के उद्देश्य की पूर्ति के लिये, मध्यप्रदेश पहला राज्य है। इसके द्वारा आत्म-निर्भर प्रदेश का लक्ष्य निर्धारित कर कार्य प्रारंभ किया गया है, जिसके अंतर्गत सड़क, पानी, बिजली और सिंचाई की योजनाओं को स्व-वित्त पोषित बनाया जायेगा। इसके लिये उपयुक्त सुझाव समूह द्वारा राज्य शासन को दिये जा रहे हैं।
प्रमुख सचिव लोक निर्माण विभाग श्री नीरज मण्डलोई ने बताया कि आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के निर्माण के लक्ष्य के तहत निम्न कार्य प्राथमिकता के साथ प्रारंभ किये जा रहे हैं। मिशन निर्माण के तहत भौतिक अधोसंरचनाओं का जाल बिछाना, मिशन बोधि के तहत नई शिक्षा नीति-2020 के अनुपालन में सबके लिये गुणवत्तायुक्त शिक्षा, मिशन निरामय के तहत सबके लिये स्वास्थ्य, मिशन अर्थ के तहत प्रदेश के सरल घरेलू उत्पाद में वृद्धि, मिशन दक्ष के तहत हर नागरिक को कौशल विकास एवं रोजगार के अवसर प्रदान करना, मिशन जन-गण के तहत लोक सेवाओं के प्रदाय तथा जन-समस्याओं और शिकायतों के प्रभावी निराकरण का तंत्र विकसित करना, मिशन ग्रामोदय के तहत प्रदेश के ग्रामों का चहुँमुखी विकास तथा मिशन नगरोदय के तहत प्रदेश के शहरों के चहुँमुखी विकास का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इसका रोडमेप तैयार कर कार्य प्रारंभ कर दिया गया है। 


---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई के बलिदान दिवस पर याद किया

वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई के बलिदान दिवस पर याद किया

सागर। महान वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई, जिन्हें झांसी रानी के नाम से भी जानते है,आज उनके बलिदान दिवस पर मोतीनगर चौराहे पर उनकी पावन मूर्ति पर पहुंचकर उनकी वीरता और बलिदान को याद किया।
इस मौके पर पूर्व केन्द्रीय मंत्री भारत सरकार और पूर्व प्रदेशाध्यक्ष  अरूण यादव के सागर आगमन हुआ,शहर के प्रथम चौराहे पर ही रानी लक्ष्मी बाई की प्रतिमा पर उन्होने भी रानी लक्ष्मी बाई को पुष्पांजलि देकर नमन किया।
 कार्यक्रम में शहराध्यक्ष रेखा चौधरी, प्रदेश उपाध्यक्ष त्रिलोकी कटारे, शहर सेवादल अध्यक्ष सिंटू कटारे, कार्यकारी अध्यक्ष शौकत अली, संभागीय प्रवक्ता संदीप सबलोक, पप्पू गुप्ता,आनंद हैला,अतुल नेमा,वसीम खान,जयदीप यादव, रामगोपाल यादव, फिरदौश कुरैशी, शहबाज कुरेशी,सौरभ खटीक,शिवम उपाध्याय,दीनदयाल तिवारी, बिल्ली रजक,चिमन भाई अंसारी आदि उपस्थित रहे ।

---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

कोरोना काल के बाद मीडिया की बदलती भूमिका पर संगोष्ठी ★ मीडिया को दृष्टिकोण बदलना चाहिए : जगदीश उपासने

कोरोना काल के बाद मीडिया की बदलती भूमिका पर संगोष्ठी

★ मीडिया को दृष्टिकोण बदलना चाहिए : जगदीश उपासने


महू (इंदौर) । कोरोना के साथ हमें जीने की आदत डालनी होगी. कोरोना ने मीडिया को एकाएक बदल दिया है और मीडिया इस बदलाव के लिए तैयार नहीं था. कोरोना महामारी के लिए विज्ञान तैयार था और यही कारण है कि एक वर्ष के छोटे समय में टीका बन गया.ज् यह बात देश के सुप्रसिद्ध पत्रकार एवं प्रसार भारती भर्ती बोर्ड के अध्यक्ष श्री जगदीश उपासने ने मुख्य अतिथि की आसंदी से 'कोरोना काल के बाद मीडिया की बदलती भूमिका' विषय पर संगोष्ठी को संबोधित कर रहे थे. इस संगोष्ठी का आयोजन डा. बीआर अंबेडकर सामाजिक विज्ञान विश्वविद्यालय, महू ने किया था. श्री उपासने ने पत्रकारिता में प्रशिक्षण के अभाव की चिंता जाहिर करते हुए कहा कि यह दौर अब विशेषज्ञता का है लेकिन इस महामारी के दौर में हमारे पास प्रशिक्षित पत्रकार नहीं हैं और हमने प्रशिक्षण के बारे में सोचा भी नहीं है. उन्होंने कहा कि मीडिया तदर्थवाद पर चल रहा है. आज जो मुद्दे हैं, उस पर बात कर आगे बढ़ जाओ. उन्होंने कहा कि मीडिया की जवाबदारी थी कि वह वेक्सीनेशन के बारे में समाज को जागरूक करता लेकिन ऐसा नहीं होने की वजह से वेक्सीन को लेकर भ्रम की स्थिति बनी रही. मीडिया को अपना दृष्टिकोण बदलना होगा और सकरात्मक खबरों को प्राथमिकता देना होगी.

संगोष्ठी के आरंभ में माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. केजी सुरेश ने कहा कि कोरोना काल में मीडिया में व्यापक बदलाव आया है. उन्होंने प्रिंट मीडिया की विश्वसनीयता को रेखांकित करते हुए कहा कि एक बार छपे शब्दों को हटाया नहीं जा सकता है इसलिए अखबार जिम्मेदार हैं जबकि टेलीविजन में सुविधा है कि वह अगले बुलेटिन में पहली खबर को हटा दे. सोशल मीडिया में भी अपनी पोस्ट को हटाने की सुविधा है. उन्होंने फेकन्यूज की चिंता जताते हुए कहा कि मीडिया साक्षरता अभियान चलाना आवश्यक है. आज फेकन्यूज की वजह से ही टीकाकरण बाधित हो रहा है. उन्होंने इस बात पर संतोष जताया कि समाज के सारे प्रोफेशन में मीडिया एकमात्र प्रोफेशन है जो आत्मवलोकन कर स्वयं की गलती को सुधारने की कोशिश करता है. कोरोना काल में मीडिया की भूमिका सकरात्मक रही है. समाज को प्रेरित करना मीडिया का दायित्व है. 

यूनिसेफ भोपाल में पदस्थ कम्युनिकेशन फॉर डेवलपमेंट श्री संजय सिंह ने कहा कोरोना के बाद अवेयरनेस बढ़ा है लेकिन व्यवहार में बदलाव नहीं आया है. उन्होंने कहा कि फेक न्यूज सोसायटी के पास तेजी से पहुंच जाता है लेकिन सही खबरें नहीं मिल पाती है. एक उदाहरण देते हुए बताया कि मध्यप्रदेश के आदिवासी इलाके में टीकाकरण को लेकर झूठी खबर को आधार बनाकर लोगों ने टीका लगाने से मना कर दिया. इस व्यवहार को बदलने में मीडिया की भूमिका गंभीर है. सही सूचना समाज के दूरस्थ अंचलों में पहुंचे इसकी जवाबदारी मीडिया की है क्योंकि संवाद में वही एकमात्र प्रभावी स्रोत है. उन्होंने कहा कि इस महामारी में ऐसा कोई नहीं बचा है जिन्होंने अपना कोई ना खोया हो. उन्होंने कहा कि मीडिया के कई प्लेटफार्म हैं जहां लोगों को सूचना प्राप्त करने में सरलता हो रही है.
मध्यप्रदेश शासन की रोजगारपरक प्रकाशन रोजगार निर्माण के संपादक श्री पुष्पेन्द्र पाल सिंह ने कहा कि कोरोना काल में मीडिया ने कई कठिन शब्दों को ना केवल सहज बना दिया बल्कि उसे आम बोलचाल के रूप में ले आए. वह फिर सोशल डिस्टेंसिंग हो, क्वांरेंटीन हो, होम आइसोलेशन हो आदि आदि. उन्होंने कहा कि यह मीडिया का प्रभाव है कि लोगों को जागरूक करने और उनकी सहायता करने में मदद की. उन्होंने कहा कि एक अनुमान है कि अगले 20 वर्षों में जितने वेबपोर्टल बनना था, उतने कोरोनाकाल के 15 महीनों में बन गए. यह बदलाव एक अच्छा संकेत है. टेक्रॉलॉजी के साथ विविधता भी देखने को मिली लेकिन वैल्यू को लेकर एक सवाल समाज के सामने खड़ा हो गया. उन्होंने सोशो-इकॉनामिक संकट की ओर भी ध्यान दिलाया और कहा कि स्वयं पत्रकार भी गहरे आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं. वर्क फ्रॉम होम ने यह बात भी मीडिया में स्थापित कर दी कि अब जिसका सम्पर्क सूत्र मजबूत और विश्वसनीय होगा, उसके लिए अवसर उतने ही उजले होंगे.


तीनबत्ती न्यूज़. कॉम
के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे


ट्वीटर  फॉलो करें


वेबसाईट

संगोष्ठी को संबोधित करते हुए देवी अहिल्या विश्वविद्यालय, स्कूल ऑफ जर्नलिज्म की विभागाध्यक्ष डॉ. सोनाली नरगुंदे ने कहा कि कोरोना काल अभी खत्म नहीं हुआ है और यह कब तक चलेगा, इसका अनुमान लगाना भी मुश्किल है. उन्होंने कोरोना काल में वर्ग संघर्ष के संकट की ओर ध्यान खींचते हुए कहा कि पूंजी और निर्धन के बीच खाई गहरा गई है. यह भविष्य के लिए चेतावनी भरा है और यह समस्या वैश्विक ना बने इसकी ओर ध्यान रखना होगा. उन्होंने प्रिंट मीडिया की विश्वसनीयता का उदाहरण देते हुए कहा कि मीडिया के सारे प्लेटफार्म के बाद भी अखबार में सिंगल कॉलम की खबर छप जाए, इसकी कोशिश होती है. उन्होंने कहा कि मीडिया कभी निर्णायक की भूमिका में ना रहे. डॉ. नरगुंदे ने कोरोना काल में लैंगिग असमानता की ओर ध्यान दिलाते हुए कहा कि घरों में झगड़े बढ़े हैं. लोगों में मानसिक तनाव बढ़ा है लेकिन अखबार में खबरें गायब है. उन्होंने कहा कि अधिकांश मीडिया पूंजीपतियों के हाथों में है जिसके चलते कई संकट आते हैं. मीडिया की सकरात्मक भूमिका की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि अखबारों ने नए स्तंभ शुरू कर लोगों के अनुभव प्रकाशित किए जिससे दूसरों को भी प्रेरणा मिली.   
संगोष्ठी की अध्यक्ष एवं कुलपति प्रो. आशा शुक्ला ने अपने  उद्बोधन में विषय के बारे में जानकारी दी और विश्वविद्यालय की गतिविधियों के बारे में बताया. उन्होंने कहा कि कोरोना काल में मीडिया की भूमिका पर चर्चा करना आवश्यक प्रतीत होता है. उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि इस संगोष्ठी के बाद विशेषज्ञ अपने सुझाव एवं सिफारिश लिखकर भेजेंगे जिसे पुस्तककार में प्रकाशित किया जा सके. उन्होंने अतिथियों का स्वागत करते हुए नेक एवं मीडिया सलाहकार डॉ. सुरेन्द्र पाठक  एवं मीडिया प्रभारी मनोज कुमार ब्राउस को इस सुंदर आयोजन के लिए बधाई दी.
संगोष्ठी की अवधारणा विश्वविद्यालय के नेक एवं मीडिया कंसलटेंट डॉ. सुरेन्द्र पाठक एवं मनोज कुमार ने साकार किया. अपने प्रभावी वक्तव्य के साथ गोष्ठी का सफल संचालन किया. डॉ. पाठक ने कहा कि समाज और मीडिया का अंतर्सबंध है. दोनों एक दूसरे के पूरक हैं अत: समाज विज्ञान विश्वविद्यालय के मंच पर यह विषय सामयिक हो जाता है. मीडिया प्रभारी मनोज कुमार ने संगोष्ठी में उपस्थित विद्वानों एवं संचार विशेषज्ञों का आभार व्यक्त किया. उन्होंने स्मरण दिलाया कि कोरोना के पहले दौर के थमने के बाद जब मजदूर घर वापस जा रहे थे तो मजदूर का एक परिवार इंदौर रूका और जमीन से मिट्टी माथे पर लगाई और मध्यप्रदेश का धन्यवाद कहा कि भूखे पेट को भोजन और नंगे पैर को पहनने के लिए जूते यहीं से मिला था. संगोष्ठी के संयोजन में डीन प्रो. डीके वर्मा, रजिस्ट्रार श्री अजय वर्मा एवं विश्वविद्यालय परिवार का सक्रिय सहयोग रहा.


---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

गुरुवार, 17 जून 2021

ब्लेक फंगस: BMC में इलाज के लिए भेजे अम्फोटेरिसिन बी लिपिड कांपलेक्स इंजेक्शन का हुआ रिएक्शन



ब्लेक फंगस: BMC में इलाज के लिए भेजे अम्फोटेरिसिन बी लिपिड कांपलेक्स इंजेक्शन का  हुआ रिएक्शन

साग़र।  बुन्देलखण्ड मेडिकल कालेज साग़र में ब्लेक फंगस के इलाज में काम आने वाला नया अम्फोटेरिसिन बी लिपिड कांपलेक्स इंजेक्शन का एडवर्स रिएक्शन हुआ है। इसमे मरीजो को उल्टी बुखार जैसी शिकायते सामने आई। उसे डॉक्टरी तत्काल कंट्रोल कर लिया है। पिछले दिनों इस तरह की शिकायत आने पर अम्फोटेरिसिन बी के उपयोग पर रोक लगा दी थी। सरकार ने नए इंजेक्शन भेजे। इसके भी कुछ मरीजो पर रिएक्शन होने की खबर सामने आई है। 

मेडिकल कालेज के मीडिया प्रभारी डॉ उमेश पटेल के अनुसार वर्तमान में हमारे बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज के म्यूकार्माइकोसिस वार्ड में 37 मरीज इलाजरत है. आज शासन द्वारा 120 अम्फोटेरिसिन बी लिपिड कांपलेक्स इंजेक्शन भेजे गये.चूँकि इंजेक्शन नए प्रकार के थे अतः एडवर्स रिएक्शन की संभावना को ध्यान में रखते हुए  विशेषज्ञ चिकित्सकों की उपस्थिति में एक मरीज को इंजेक्शन लगाया गया किसी प्रकार का एडवर्ड्स रिएक्शन ना मिलने पर अन्य 25 मरीजों को इंजेक्शन लगाए गए जिनमें से 23 मरीजों को माइल्ड एडवर्स रिएक्शन जैसे कि माइल्ड फीवर ,वोमिटिंग, शिवेरिंग ,बीपी का घटना -बढ़ना आदि देखने को मिला.चिकित्सकों द्वारा तुरंत इंजेक्शन के इस्तेमाल को रोका गया एवं दवाइयों द्वारा सभी एडवर्स रिएक्शन को कंट्रोल कर लिया गया है.
अधिष्ठाता डॉ आर एस वर्मा सर के निर्देशन में विशेषज्ञ चिकित्सकों द्वारा सभी मरीजों का परीक्षण कर निगरानी में रखा गया है.
यहां बता दे पिछले दिनों हुए ऐसे घटनाक्रम में कांग्रेस ने इनकी जांच की मांग की थी। 
---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

दुबारा बनी सागर कलेक्टर दीपक सिंह की फर्जी फेसबुक आईडी, भेजे मैसेज, मामला साईबर सेल में

दुबारा बनी सागर कलेक्टर दीपक सिंह की फर्जी फेसबुक आईडी, भेजे मैसेज, मामला साईबर सेल में

★  आईएएस दीपक सिंह ने किया सबको आगाह

साग़र। साग़र कलेक्टर दीपक सिंह की एक बार फिर किसी ने फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर मेसेजे भजन का ममके सामने आया है। कलेक्टर दीपक सिंह का पिछले महीने भी  ऐसा ही फेसबुक एकाउंट बनाकर पैसे मांगने  का मामला सामने आया था। उन्होंने इसकी जांच के लिए साईबर सेल में मामला दिया था। यह मामला अभी जांच में ही था कि दूसरी दफा फिर किसी हैकर ने क्लोन आईडी बनाकर मेसेजे भेजे। यह भी मामला साईबर सेल को सौंपा गया है। 

आजकल फेसबुक आईडी हैक करके पैसे मांगने की घटनाएं खूब हो रही है। साईबर ठगी में कई हाईप्रोफाईल लोगो की आईडी हैक करके पैसे और अन्य मेसेजे भेजे रहे है। पिछली 21 मई को कलेक्टर दीपक सिंह का ऐसा ही मामला सामने आया था।  किसी ने उनकी  फेंक फेसबुक आईडी बनाकर  लोगो से पैसे मांगने शुरू कर दिया। कलेक्टर ने तत्काल साईबर सेल को मामला सौंपा और लोगो से सतर्क रहने की अपील की थी। जिसकी जांच चल रही है। आज फिर ऐसी खबर मिलने पर कलेक्टर दीपक सिंह ने मामला साईबर सेल के संज्ञान में भेजा। किसी हैकर ने फिर फेसबुक आईडी बनाकर मेसेज भेजे।

पढ़े : पिछले महीने भी बनी थी फर्जी फेसबुक आईडी 
कलेक्टर की फेंक फेसबुकआईडी बनाई और मांगे लोगो से पैसे
★ कलेक्टर दीपक सिंह  ने सतर्क रहने की अपील की और साईबर सेल में सौंपा मामला -


कलेक्टर ने अपनी पर्सनल फेसबुक आईडी पर  मेसेज भी पोस्ट किया है और लोगो से सतर्क रहने की अपील की है।
यह रहा मेसेज 

नकली फेसबुक आईडी से रहे सावधान ! 
संज्ञान में आया है, फेसबुक पर मेरे नाम से दोबारा नकली प्रोफाइल बनाई गई है, कृपया सावधान रहें और किसी भी तरह के आग्रह को स्वीकार ना करें इस नकली (फेक )आईडी को लेकर साइबर क्राइम टीम जांच कर रही है. 

दीपक सिंह (IAS)
कलेक्टर, सागर.




---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

सप्रे जी पर केंद्रित मीडिया विमर्श के विशेषांक का लोकार्पण 19 जून को ★ केन्द्रीय राज्यमंत्री प्रहलाद पटैल रहेगें मौजूद

सप्रे जी पर केंद्रित मीडिया विमर्श के विशेषांक का लोकार्पण 19 जून को 

★ केन्द्रीय राज्यमंत्री  प्रहलाद पटैल रहेगें मौजूद

दमोह।  प्रखर चिंतक, साहित्यकार, स्वतंत्रता संग्राम सेनानी और लोकमान्य तिलक के विचारों को हिंदी जगत में व्यापकता देने वाले पं. माधवराव सप्रे की 150वीं जयंती के अवसर पर इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र तथा भारतीय जन संचार संस्थान द्वारा पूरे देश में कई महत्वपूर्ण कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा।


इस कड़ी में पहला कार्यक्रम सप्रे जी के जन्म स्थान दमोह जिले के पथरिया में 19 जून को आयोजित होगा। समारोह में भारत सरकार के संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री श्री प्रहलाद सिंह पटेल तथा सप्रे संग्रहालय, भोपाल के संस्थापक पद्मश्री विजयदत्त श्रीधर विशेष रूप से उपस्थित रहेंगे। इस अवसर पर सप्रे जी के अवदान पर केंद्रित एक प्रदर्शनी भी लगाई जाएगी। 19 जून को ही "माधवराव सप्रे और राष्ट्रीय पुनर्जागरण' विषय पर एक वेबिनार का आयोजन किया जाएगा। 

तीनबत्ती न्यूज़. कॉम
के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे


ट्वीटर  फॉलो करें


वेबसाईट

इस कार्यक्रम की अध्यक्षता वरिष्ठ पत्रकार एवं इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र के अध्यक्ष रामबहादुर राय करेंगे। वेबिनार में वरिष्ठ पत्रकार श्री आलोक मेहता, श्री जगदीश उपासने, श्री विश्वनाथ सचदेव, इंदिरा गांधी कला केंद्र के सदस्य सचिव डॉ. सच्चिदानंद जोशी, भारतीय जन संचार संस्थान के महानिदेशक प्रो. संजय द्विवेदी एवं माधवराव सप्रे जी के पौत्र डॉ. अशोक सप्रे भी अपने विचार व्यक्त करेंगे।
इस अवसर पर महत्वपूर्ण वैचारिक पत्रिका "मीडिया विमर्श" के माधवराव सप्रे जी पर केंद्रित विशेषांक का लोकार्पण किया जाएगा। पत्रिका का संपादन डॉ. सच्चिदानंद जोशी ने किया है। सप्रे जी की 150 वी जयंती पर रायपुर, भोपाल, वाराणसी, चेन्नई, नागपुर सहित देश के विभिन्न शहरों में कार्यक्रम आयोजित किये जाएंगे। इस श्रृंखला में एक भव्य कार्यक्रम अगले वर्ष 23 अप्रैल को नई दिल्ली में आयोजित होगा।

---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------


बारिश में लगाए यें प्लांट, ताकि मिले भरपूर ऑक्सीजन ★प्रीति द्विवेदी

बारिश में लगाए यें प्लांट, ताकि मिले भरपूर ऑक्सीजन

★प्रीति द्विवेदी

भोपाल। कोरोना ने किस कदर हम सभी की जिंदगी में कोहराम मचाया है इससे तो सभी वाकिफ हैं। इस दौरान जो सभी जरूरी चीज रही है वो है प्राण वायु यानि की ऑक्सीजन। जिसके लिए हर तरफ हाहाकार मची। बारिश का मौसम शुरू हो चुका है तो ऐसे में क्यों न हम कुछ ऐसे पौधों के बारे में जानें जो हमारे घर की सुंदरता तो बढ़ाते ही हैं साथ ही साथ भरपूर ऑक्सीजन भी देते हैं। इन पौधों को ज्यादा केयर की जरूरत भी नहीं होती। यह मौसम भी पर्याप्त अनुकूल होता है इन्हें लगाने के लिए। 
   घर में ऑक्सीजन देने वाले इंडोर प्लांट्स को रखना बेहतर विकल्प है। पौधों को घर के अंदर रखने से न केवल हवा की गुणवत्ता में सुधार होता है, बल्कि आप मानसिक तौर पर खुद को स्वस्थ महसूस करते हैं। घर बैठे ऑक्सीजन लेने का ये वो तरीका है, जो आपकी जेब पर भारी नहीं पड़ेगा और आपका स्वास्थ्य भी बनाए रखेगा। 
तो आइए ऐसे रूम प्लांट्स के बारे में जानते हैं, जो न केवल वातावरण में ऑक्सीजन बढ़ाते हैं बल्कि बेंजीन, फॉर्मेल्डिहाइड, जाइलीन, टोलुइन और ट्राईक्लोरोएथिलीन जैसे हानिकारक रसायनों को सोख भी लेते हैं।

तुलसी — 

हर भारतीय घर में तुलसी का पौधा जरूर होता है। इसे घर में रखने से घर में अच्छा स्वास्थ्य और भाग्य आता है। माना जाता है कि तुलसी के पौधे को घर के अंदर रखा जाए, तो ऑक्सीजन की आपूर्ति बढ़ जाती है। ये दिनभर में 20 घंटे ऑक्सीजन तो देता ही है साथ ही साथ यह हवा से कार्बन ऑक्साइड, कार्बन मोनोऑक्साइड और सल्फर डाइऑक्साइड जैसी हानिकारक गैसों को भी अवशोषित करता है। 

रोजाबैंबू — 

रोजाबैंबू का पौधा हवा से टोल्यूनि को हटाता है। टोल्यूनि तीखी गंध वाला रंगहीन तरल होता है। जब टोल्यूनि हवा में फैलता है, तो यह नाक, आंख और गले में जलन जैसे हानिकारक प्रभाव डालता है। अन्य पौधों की तरह इसका काम भी हवा में पाए जाने वाले बेंजीन, फॉर्मलडिहाइड जैसे विषाक्त पदार्थों को फिल्टर करना है। घर में बैंबू प्लांट रखने से ऑक्सीजन लेवल काफी बढ़ जाता है।

एलोवेरा — 

एलोवेरा ऐसा पौधा है, जो आमतौर पर लगभग हर घर में लगा मिल जाएगा। आुयर्वेद में भी इसके फायदों का जिक्र किया गया है। ऑक्सीजन की कमी को पूरा करने के लिए इसे घर में रखना बहुत जरूरी है क्योंकि इसकी पत्तियों में वातावरण में मौजूद बेंजीन और फॉर्मलडिहाइड को अब्जॉर्ब करने की बेहतरीन क्षमता है। चूंकि यह पौधा धूप में पनपता है, इसलिए इसे घर में ऐसी जगह पर रखना चाहिए जहां पर्याप्त धूप आती हो।

स्पाइडर प्लांट — 

स्पाइडर प्लांट घर के अंदर की हवा को स्वच्छ रखने के लिए बेहतरीन पौधा है। इस सुंदर पौधे की देखभाल करना काफी आसान है। ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए यह एक अच्छा इंडोर प्लांट है। इसे रिबन प्लांट के नाम से भी जानते हैं। यह पौधा कार्बन मोनोऑक्साइड, बेंजीन और फॉर्मलडिहाइड को छानकर हवा की क्वालिटी में सुधार करता है। इतना ही नहीं, ज्यादातर लोग हैप्पी वाइब्स और स्ट्रेस को मैनेज करने के लिए इस पौधे को घर में लगाते हैं। इसे आप घर के लिंविंग रूम में रखें और हफ्ते में मात्र एक बार पानी दें।

एरिका पाम — 

एरिका पाम हवा को शुद्ध करने वाले ऑक्सीजन प्लांट्स में से एक है। यह इंडोर प्लांट आपके आसपास हवा में मौजूद खतरनाक गैसों को अब्जॉर्व कर लेता है। इस पौधे की खासियत है कि ये कम रोशनी और कम पानी में भी रह सकता है। नासा के अनुसार, घर के अंदर कंधे के बराबर के चार एरिका प्लांट रखे जाएं, तो अच्छा होता है। यह पौधा केवल ऑक्सीजन की आपूर्ति ही नहीं करता, बल्कि बच्चों और भ्रूण के संपूर्ण विकास में भी सहायक है।

स्नेक प्लांट — 

स्नेक प्लांट को नासा द्वारा हवा को शुद्ध करने और फॉर्मलडिहाइड, बेंजीन, नाइट्रोजन ऑक्साइड, जाइलीन और ट्राइक्लोरोइथाइलीन जैसे विषाक्त पदार्थों को अवशोषित करने के लिए मान्यता दी गई है। इसमें ऑक्सीजन को लाने और कार्बनडाई आक्साइड को अवशोषित करने की बेहातरीन क्षमता होती है। इस पौधे की खासियत है कि यह रात के समय में ऑक्सीजन का उत्पादन ज्यादा करता है। इसे आप चाहें, तो अपने बेडरूम या फिर किचन में भी रख सकते हैं।

गरबेरा डेजी — 

वैसे तो कई लोग इसे घर की सजावट के लिए इस्तेमाल करते हैं लेकिन रंग-बिरंगे फूलों वाला यह पौधा ऑक्सीजन भी देता है। नासा के स्वच्छ वायु अध्ययन के अनुसार गरबेरा डेजी हवा से फॉर्मलडिहाइड, बेंजीन और ट्राइक्लोरोइथाइलीन को साफ करता है। यह रात में ऑक्सीजन छोड़ता है और कार्बनडाईआक्साइड को अवशोषित करता है। इसे सीधी धूप की जरूरत होती है इसलिए आप इसे घर में किसी ऐसी जगह पर रखें, जहां कुछ घंटे धूप आती हो।

ड्रैगन ट्री

इस प्‍लांट को रेड-एज ड्रैसेनिया भी कहते हैं। यह हमेशा हरा-भरा रहने वाला पौधा है। यह पौधा बेनजेन, फॉर्मेल्डिहाइड, जाइलीन, टोलुइन और ट्राईक्लोरोएथिलीन को सोख लेता है।  इस पौधे को सूरज की रोशनी की भी जरूरत होती है। इसलिए इसे ऐसी जगह भी रखा जा सकता है जहां धूप आती हो। इसमें नमी के अनुसार पानी की जरूरत होती है। आप इस पौधे को बालकनी या लिविंग रूम में ऐसी जगह पर रख सकते हैं जहां धूप आती हो।

पीपल का पेड़ — 

हिंदु धर्म में पीपल, तो बौद्ध धर्म में इसे बोधी ट्री के नाम से जानते हैं। कहते हैं कि इसी पेड़ के नीचे भगवान बुद्ध को ज्ञान प्राप्‍त हुआ था। पीपल का पेड़ 60 से 80 फीट तक लंबा हो सकता है। यह पेड़ सबसे ज्‍यादा ऑक्‍सीजन देता है। इसलिए पर्यावरणविद पीपल का पेड़ लगाने के लिए बार-बार कहते हैं।

बरगद का पेड़ — 

इस पेड़ को भारत का राष्‍ट्रीय वृक्ष भी कहते हैं। इसे हिंदू धर्म में बहुत पवित्र भी माना जाता है। बरगद का पेड़ बहुत लंबा हो सकता है और यह पेड़ कितनी ऑक्‍सीजन उत्‍पादित करता है ये उसकी छाया कितनी है, इस पर निर्भर करता है।

नीम का पेड़ — 

एक और पेड़ जिसके बहुत से फायदे हैं वो है नीम का पेड़। इस पेड़ को एक एवरग्रीन पेड़ कहा जाता है और पर्यावरणविदों की मानें तो यह एक नैचुरल एयर प्‍यूरीफायर है। ये पेड़ प्रदूषित गैसों जैसे कार्बन डाई ऑक्‍साइड, सल्‍फर और नाइट्रोजन को हवा से ग्रहण करके पर्यावरण में ऑक्‍सीजन को छोड़ता है। इसकी पत्तियों की संरचना ऐसी होती है कि ये बड़ी मात्रा में ऑक्‍सीजन उत्‍पादित कर सकता है। ऐसे में हमेशा ज्‍यादा से ज्‍यादा नीम के पेड़ लगाने की सलाह दी जाती है। इससे आसपास की हवा हमेशा शुद्ध रहती है।

अशोक का पेड़

अशोक का पेड़ न सिर्फ ऑक्‍सीजन उत्‍पादित करता है बल्कि इसके फूल पर्यावरण को सुंगधित रखते हैं और उसकी खूबसूरती को बढ़ाते हैं। यह एक छोटा सा पेड़ होता है जिसकी जड़ एकदम सीधी होती है। पर्यावरणविदों की मानें तो अशोक के पेड़ को लगाने से न केवल वातावरण शुद्ध रहता है बल्कि उसकी शोभा भी बढ़ती है। घर में अशोक का पेड़ हर बीमारी को दूर रखता है। ये पेड़ जहरीली गैसों के अलावा हवा के दूसरे दूषित कणों को भी सोख लेता है।

अर्जुन का पेड़ — 

अर्जुन के पेड़ के बारे में कहते हैं कि यह हमेशा हरा-भरा रहता है। इसके बहुत से आर्युवेदिक फायदे हैं। इस पेड़ का धार्मिक महत्‍व भी बहुत है और कहते हैं कि ये माता सीता का पसंदीदा पेड़ था। हवा से कार्बन डाई ऑक्‍साइड और दूषित गैसों को सोख कर ये उन्‍हें ऑक्‍सीजन में बदल देता है।

जामुन का पेड़

भारतीय अध्‍यात्मिक कथाओं में भारत को जंबूद्वीप यानी जामुन की धरती भी कहा गया है। जामुन का पेड़ 50 से 100 फीट तक लंबा हो सकता है। इसके फल के अलावा यह पेड़ सल्‍फर ऑक्‍साइड और नाइट्रोजन जैसी जहरीली गैसों को हवा से सोख लेता है। इसके अलावा कई दूषित कणों को भी जामुन का पेड़ ग्रहण करता है।

तीनबत्ती न्यूज़. कॉम
के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे


ट्वीटर  फॉलो करें


वेबसाईट



मनी प्लांट — 

बेहद कम रोशनी में कमरों में आसानी से बढ़ने वाला मनी प्लांट भी तेजी से ऑक्सीजन बनाता है। नासा के अनुसार मनी प्लांट वातावरण से बेंजीन, फॉर्मेल्डिहाइड, जाइलीन, टोलुइन और ट्राई क्लोरो एथिलीन जैसे विषैले रसायनों को भी सोख लेते हैं। अपने इन गुणों के बावजूद मनी प्लांट बच्चों और पालतू जानवरों के लिए विषैले होते हैं। इसके पत्ते खाने से उल्टी-दस्त, मुंह और जीभ पर सूजन हो सकती है। घर में एक शख्स के लिए 18 इंच ऊंचा पौधा ठीक रहता है। मनी प्लांट को सीधी धूप की जरूरत नहीं होती। इसे भी सप्ताह में केवल एक बार पानी देने की जरूरत होती है। इसे किसी भी कमरे में, लेकिन बच्चों और पालतू जानवरों की पहुंच से दूर रखना चाहिए।

वीपिंग फिग — 

वीपिंग फिग महारानी विक्टोरिया के समय से ही काफी पसंद किया जाने वाला रूम प्लांट है। प्राकृतिक अवस्था में यह 20 मीटर तक ऊंचे हो सकते हैं। दरअसल, इनके तनों से ही जड़ें निकलने लगती हैं, जब यह जड़ लटकते हुए जमीन तक पहुंच जाती हैं तो खुद एक अतिरिक्त तना बन जाती है। इसकी पत्तियां नीचे लटकती हुई ऐसी दिखती हैं जैसे आंसू टपक रहे हों। यह घर की हवा में मौजूद फॉर्मेल्डिहाइड, जाइलीन और टोलुइन को सोख लेता है। यह कार्बन डाइऑक्साइड को भी तेजी से सोखकर ऑक्सीजन रिलीज करते हैं। गमले या जमीन में इसकी जड़ें बहुत तेजी से फैलती हैं। यह बगीचे या मिट्टी के गमले को नुकसान पहुंचा सकती है। इससे पालतू जानवरों को एलर्जी भी हो सकती है। इस पौधे को आराम भी चाहिए होता है यानी आमतौर पर सर्दियों में सूख जाए, तो भी इसे पानी या खाद नहीं दी जाती। इसे बालकनी या लिविंग रूम में ऐसी जगह रखना चाहिए जहां सूरज की रोशनी आती हो।


घरों में पौधे लगाने के फायदे

घर के भीतर कई तरह के परागण, धूल और यहां तक कि अच्छे से अच्छा पेंट भी हवा की गुणवत्ता पर असर डालते हैं। ऐसे में घर के भीतर ऐसे पौधे लगाना बढ़िया विकल्प है, जो एयर प्यूरिफायर की तरह काम करते हुए ऑक्सीजन का स्तर बनाए रखते हैं। ऐसे पौधों को ऑक्सीजन फैक्ट्री भी कहा जा सकता है। ये हवा को शुद्ध करने के साथ ही मानसिक तनाव को कम करने में भी मददगार हैं। यानी कोरोना काल में ये पौधे सबसे बढ़िया काम कर सकते हैं।

पौधे चुनते समय रखें इन बातों का ध्यान
पौधों का चयन करते समय इस बात का ध्यान रखें कि ऐसे पौधे लें जो तेजी से बढ़ते हों। ये पौधे ज्यादा से ज्यादा कार्बन डाइऑक्साइड कंज्यूम करते हैं। यानी ज्यादा ऑक्सीजन छोड़ते हैं। साथ ही इन्हें मौसम के हिसाब से चुना जाना चाहिए। इसके अलावा इस बात का विशेष ध्यान रखा जाना चाहिए कि पौधों में किसी तरह की कोई बीमारी या फंगल संक्रमण न हो। कोरोना के दौर में ब्लैक फंगस जैसी बीमारी तेजी से फैल रही है, ऐसे में स्वस्थ पौधे लेना और उन्हें स्वस्थ बनाए रखना ही सही है।

---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

पीएम स्वनिधि योजना एवं स्वनिधि से संमृद्वि योजना के क्रि सागर मध्यप्रदेश के चयनित 9 शहरों में अव्वल




पीएम स्वनिधि योजना एवं स्वनिधि से संमृद्वि योजना के क्रि सागर मध्यप्रदेश के चयनित 9 शहरों में अव्वल


साग़र । कोरोना महामारी की रोकथाम हेतु लगाए गए लॉकडाउन के कारण प्रभावित हुए रेहड़ी और पटरी वालों (छोटे स्ट्रीट वेंडर्स) को अपना खुद का काम नए सिरे से शुरू करने के लिए केंद्र सरकार द्वारा 10000 रूपये तक का लोन मुहैया कराने के लिए प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना( स्ट्रीट वेंडर्स आत्म निर्भर निधि योजना) अंतर्गत नगर पालिक निगम के द्वारा सागर के पात्र स्ट्रीट वेंडर्स को 10000 रूपये तक का ब्याज मुक्त लोन बैंकों के माध्यम से दिलाया रहा है।  
स्वनिधि से संमृद्वि योजना के तहत मध्यप्रदेश के 09 शहरों क्रमशः (इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, खंडवा, बुरहानपुर, उज्जैन, सागर, गुना, छतरपुर) का पायलट आधार पर चयन किया गया है। इस योजना अंतर्गत 1 लाख से 10 लाख तक की जनसंख्या वाले शहरों में नगर पालिक निगम सागर ऋण वितरण कर लाभ दिलाने में मध्यप्रदेश के चयनित 9 शहरों में प्रथम स्थान पर है। इसके साथ ही स्वनिधि से संमृद्वि योजना में भी सागर मध्यप्रदेश के चयनित अन्य 9 शहरों में प्रथम स्थान पर है। सागर में पीएम स्वनिधि के सभी लाभार्थियों की सामाजिक एवं आर्थिक जानकारी एकत्र कर डाक्यूमेंट तैयार किये जा रहे है और उनके परिवारों को भारत सरकार की अन्य 9 योजनाओं का लाभ दिया जा रहा है।
जिसके अंतर्गत पीएम स्वनिधि के लाभार्थियों एवं उनके परिवार जनों में से पीएम सुरक्षा बीमा योजना के लिए 2906 नागरिकों ने आवेदन किये और 2788 नागरिकों को हितलाभ दिया जा चुका है। इसी प्रकार पीएम जीवन ज्योति योजना में 2036 नागरिकों ने आवेदन किये और 1953 नागरिकों को, पीएम जन धन योजना में 74 नागरिकों में से 73 नागरिकों को, वन नेशन वन राशन कार्ड योजना में 2430 नागरिकों में से 2221 नागरिकों को, पीएम श्रमयोगी मनधन योजना में 2297 नागरिकों ने आवेदन किये और सभी 2297 ही नागरिकों को, कंस्ट्रक्शन कार्यो हेतु रजिस्ट्रेशन योजना में 174 नागरिकों ने आवेदन किये और सभी 174 नागरिकों को, इनके परिवारों की महिला सदस्यों द्वारा जननी सुरक्षा योजना में किये गए 54 आवेदनों मे से 50 महिलाओं को एवं पीएम मातृ वंदना योजना आदि के अंतर्गत लाभान्वित किया गया है। उक्त सभी योजनाओं अंतर्गत सागर शहर के कुल 9972 लोगों द्वारा दिये गये आवेदनों में से 9556 लोगों को लाभान्वित किया गया है।


---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

SAGAR : सात योजनाओं के लिए की गई भूमि आवंटित, बस स्टैंड को तिली में मिली जमीन

SAGAR : सात योजनाओं के लिए की गई भूमि आवंटित, बस स्टैंड को तिली में मिली जमीन

सागर । साग़र में सात योजनाओंके लिए जमीन आवंटित की गई है। इसमे  जिला एवं सत्र न्यायाधीश सागर तिलीमाफी के कुटुम्ब न्यायालय एवं श्रम न्यायालय नवीन भवन निर्माण , नगर पालिक निगम सागरखास नगर निगम सागर के नवीन बस स्टेण्ड विस्थापन हेतु तिलीमाफी सागर में,  जिला शिक्षा अधिकारी सागर तिलीमाफी में दिव्यांग बालक / बालिका छात्रावास निर्माण , बुन्देलखण्ड चिकित्सा महाविद्यालय सागर में 250 एमबीबीएस एवं 50 पीजी  शीट्स वृद्धि हेतु चिकित्सा शिक्षा विभाग को आवंटित किये जाने , उद्यमियों को उनकी परियोजना एवं आवश्यकतानुसार औद्योगिक ईकाईयों की स्थापना हेतु ,ढाना मिलिट्री स्टेशन  , महाप्रबंधक जिला व्यापार एवं बाछलौन उघोग केन्द्र सागर , कर्नल एडमिनिस्ट्रेटिव कमांडेट जसराज मैं स्टेशन हेड क्वार्टर ढाना सागर  मैं भूमि आवंटित की गई है ।


---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

बुधवार, 16 जून 2021

नहीं भुलेंगे वो भयावह दो महीने... ★ ब्रजेश राजपूत

नहीं भुलेंगे वो भयावह दो महीने...


★ ब्रजेश राजपूत

( एबीपी न्यूज़ का ब्लॉग )

खबर एक - भोपाल के भदभदा विश्राम घाट के सचिव मम्तेष शर्मा ने बताया कि 14 जून को उनके श्मशान घाट पर कोरोना प्रोटोकॉल के तहत एक भी अंतिम संस्कार नहीं हुआ। कोरोना से दम तोड़ने वाले स्टैंड पर तीन महीनों बाद ऐसा सन्नाटा रहा।

खबर दो - एमपी के स्वास्थ्य विभाग के 14 जून के कोविड मीडिया बुलेटिन में प्रदेष के 52 जिलों में से सिर्फ तीन जिलों में ही दो अंकों में मरीज दिख रहे थे। बीस जिलों में एक भी मरीज नहीं सामने आये। 
खबर तीन  - एमपी में 14 अप्रैल को एक दिन में ही पांच लाख दस हजार लोगों को कोविड का टीका लगा और वैक्सीनेशन के डेढ़ सौ दिन पूरे होने वाले दिन अब तक एक करोड तैंतालीस से लोगों को टीका लग चुका है। 
 
ऊपर लिखी ये तीन खबरें जानलेवा महामारी कोविड के नियंत्रण में आने की ओर इशारा कर रहीं है। इस साल की शुरुआत से ही कोविड दबे पांव आया या कहें कि वो गया ही नहीं था। मगर उसने कहर बरपाया साल के पिछले दो महीने में। आप क्या ये दो महीने भुला पाएंगे शायद नहीं। नये वित्त वर्ष के पहले महीने यानी अप्रैल के टेबल कैलेंडर की तारीखें हम पढ ही रहे थे मुंबई से कोविड के पैर पसारने की खबरें आने लगीं। मुंबई के पहले हफ्ते में कोरोना से 166 तो आखिरी हफ्ते में 490 लोगों ने दम तोडा। अप्रैल का महीना खत्म होते होते मुंबई में कोरोना के केस निकले सवा दो लाख से ज्यादा और मरने वालों की संख्या थी तकरीबन डेढ़ हजार। 
हमारा मध्यप्रदेश  महाराष्ट्र से लगा जरूर था और इन खबरों के बाद सरकार ने महाराष्ट्र से आने वाली बसों का आना जाना बंद कर दिया। मगर अप्रैल के दूसरे हफ्ते की शुरू होते ही हालत बेकाबू होने लगी। कोरोना केस आने की रफतार यूं बढी कि दो लाख एक्टिव केस एमपी में सिर्फ अप्रैल में ही आ गये। पिछले महीने की अपेक्षा ये चालीस फीसदी से ज्यादा की रफतार थी। इन नये आ रहे केस को संभालने के लिए अस्पतालों में बिस्तरों की मारामारी शुरू हो गयी थी। हमारे दोस्तों, रिश्तेदारों के फोन भोपाल, इंदौर और जबलपुर में किसी भी अस्पताल में मरीजों को भर्ती कराने के आने लगे। पहचान के डॉक्टर फोन तो हमारे उठा रहे थे मगर उनका पहला वाक्य होता था हॉस्पिटल में बेड की बात छोड कर कुछ भी बोलो अस्पताल फुल हैं। सच ये था कि कोरोना का कोई भी मरीज दो हफते से पहले ठीक हो नहीं पाता था इसलिये जो एक बार अस्पताल में आ गया तो फिर उसका बेड कम से कम दो हफ्ते के लिए बुक हो जाता था। अपने संपर्कों के दम पर किसी को अस्पताल में भर्ती कराना जंग जीतने जैसा काम हो गया था। इसके बाद शुरू हुआ अस्पतालों में आक्सीजन की तंगी का बुरा सपना। जिस भोपाल शहर में मेडिकल आक्सीजन की खपत सिर्फ अस्सी मीट्रिक टन रोज होती थी वो कुछ दिनों में ही दोगुनी हो गयी। उस पर कोढ में खाज ये कि आक्सीजन दूसरे प्रदेशों से ही आती रही है। इसलिये आक्सीजन को दूसरे प्रदेष से लाने और अस्पतालों तक पहुंचाने में सरकार लगी रही। सबसे बुरा होता है किसी मरीज  अस्पताल में दम तोड़ देना। और ये हुआ कई जगहों पर कई बार कभी भोपाल तो कभी इंदौर तो कभी शहडोल अस्पतालों में आयी आक्सीजन की तंगी ने अस्पतालों में हालत मौत के बना दिये और बडी मेहनत से अस्पतालों तक लाये गये कोविड मरीज दम घुट कर मर गये। अस्पताल में बिस्तर आक्सीजन के बाद दवा यानिकी रामबाण बना दिये गये इंजेक्शन रेमडेसिवीर की मारामारी ने भी इतिहास रच दिया। दवा बाजारों के बाहर रेमडेसिवीर के लिये ऐसी लंबी कतारें लगी जो हमने कभी अपने बचपन में शक्कर और मिट्टी के तेल के लिये राशन की दुकानों के बाहर लगी देखीं थीं। अस्पताल आक्सीजन और रेमडेसिवीर की तमाम परेशानियों के बीच मई का महीना आते ही मौतों ने तांडव दिखाया। जिन रिश्तेदारों और दोस्तों और परिचितों को आप हमने बड़ी मुश्किलों के बीच अस्पतालों में भर्ती कराकर आये थे और उनकी सलामती की रोज भगवान से दुआ मांगते थे अब उनकी मौत की खबरें आने लगीं थी। दिल्ली इंदौर भोपाल के शमशान घाट अब खबरें उगल रहे थे। रोज यहां तडके सुबह से देर रात तक चलने वाली चिताएं की तस्वीर अखबारों के पहले पन्नों पर जगह पा रहीं थीं। हम सबने अपने करीबी मित्रों रिश्तेदारों को खाना शुरू कर दिया था। सुबह उठकर फेसबुक या व्हाट्सएप चेक करना किसी बुरी खबर के सामना करने से ही होता था। 15 मई के बाद कोई दिन ऐसा नहीं छूट रहा था जब अपने करीबियों के बिछड़ने का समाचार ना सुनना पडा हो। भोपाल में मेरे घर के पचास मीटर की परिधि में एक हफ्ते में चार अपने वालों ने दम तोडा। इतना दुख दर्द शोक पीड़ा का सामना हमने कभी अब तक की जिंदगी में नहीं किया था। मौत के आंकड़े सरकार कुछ और सच्चाई कुछ कह रही थी। चेन्नई में रहने वाली डाटा जर्नलिस्ट रूकमनी एस ने पिछले साल की जन्म मृत्यु का हिसाब रखने वाले विभाग सिविल रजिस्ट्रेशन सिस्टम के आंकडों की तुलना कर बताया कि एमपी में पिछले महीनों के मुकाबले अप्रैल मई में तीन गुना ज्यादा मौतें हुयी हैं। ये सभी कोरोना से तो नहीं है मगर इनमें से सत्तर से अस्सी फीसदी कोरोना से ही हुयी होगी ऐसा अंदाजा है। 
दो महीने बाद अब मौतें थम रहीं है, भदभदा घाट में कोरोना प्रोटोकॉल की चिताएं कम जल रही हैं, अस्पताल में कोरोना के मरीज कम आ रहे हैं और कोरोना के टीकाकरण में तेजी आयी है। उम्मीद है ये दिन अब लंबे चलेंगे। मगर इसके लिये जरूरी है कि हम ये सोचें कि कोरोना गया नहीं है वो यहीं है हमारे साथ हमारे आस पास हमें और हमारे वालों को फिर जकडने के लिये। 

★ ब्रजेश राजपूत, एबीपी न्यूज , भोपाल

जिला अस्पताल में व्यक्ति पर पेट्रोल डालकर आग लगाने से हुई मौत का मामला ★ कांग्रेस ने कलेक्टर - एस.पी को ज्ञापन सौंपकर मजिस्ट्रियल जांच की उठाई माँग

जिला अस्पताल में  व्यक्ति पर पेट्रोल डालकर आग लगाने से हुई मौत का मामला

★ कांग्रेस ने कलेक्टर - एस.पी को ज्ञापन सौंपकर मजिस्ट्रियल जांच की उठाई माँग

सागर । जिला अस्पताल परिसर में गत बुधवार की रात्रि में एम.एल.सी कराने आए अनुसूचित जाति वर्ग के काकागंज निवासी श्री दामोदर कोरी पर पेट्रोल डालकर आग लगाकर मौत के घाट उतारने की घटना की मजिस्ट्रियल जांच कर जिम्मेवारों पर कार्यवाही की मांग को लेकर कांग्रेसजनों ने म.प्र. कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री श्री सुरेन्द्र चौधरी के नेतृत्व में  कलेक्टर श्री दीपक सिंह व पुलिस अधीक्षक श्री अतुल सिंह को ज्ञापन सौंपा। पूर्व मंत्री श्री सुरेन्द्र चौधरी ने पुलिस व प्रशासन पर तीखा प्रहार करते हुये कहा कि प्रशासनिक लापरवाही का लाभ उठाते हुए घटना को अंजाम दिया गया हैं इसके लिये पुलिस व प्रशासन अपने उत्तरदायित्व से नही बच सकता। उन्होंने कहा कि एक तरफ तो थाना मोतीनगर, गोपालगंज, और सिटी कोतवाली पुलिस अपने -अपने क्षेत्राधिकार का बहाना बनाकर कार्यवाही करने से बचती नजर आई वही दूसरी ओर जिला अस्पताल के अमले व सुरक्षा गार्डस आदि की गैर मोजूदगी के साथ ही बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में चिकित्सा सुविधाएं होने के बावजूद पीड़ित को  प्रशासन द्वारा इलाज के लिये छतरपुर भेजा गया जहाँ इलाज के आभाव में उसकी मौत हो गई। श्री चौधरी ने चेतावनी दी हैं कि निश्चित समय सीमा में कार्यवाही न होने की दशा में कांग्रेस पार्टी आंदोलन को वाध्य होगी जिसका सम्पूर्ण उत्तर दायित्व शासन / प्रशासन का होगा। इस दौरान मुख्य रूप से म.प्र. कांग्रेस के सचिव राकेश राय, जिला कांग्रेस पि. वर्ग के अध्यक्ष शरद राजा सेन, युवा कांग्रेस के पूर्व जिला अध्यक्ष अशरफ खान, अनिल कुर्मी, बलराम साहू, मुकेश खटीक,अबरार सौदागर, संदीप चौधरी आदि मौजूद थे।

---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

साग़र :उपभोक्ता बिजली कनेक्शन कटने के बाद ही कर रहे बिल का भुगतान, 488 कनेक्शन कटे

साग़र: उपभोक्ता बिजली कनेक्शन कटने के बाद ही कर रहे  बिल का भुगतान, 488 कनेक्शन कटे


साग़र। नगर संभाग सागर के अधिकांश उपभोक्ता बिजली तो भरपूर उपयोग कर रहे है लेकिन बिजली बिल का भुगतान समय रहते हर महीने नही कर रहे है ,पिछले 2 महीने से ज्यादातर उपभोक्ता बिजली तो भरपूर उपयोग कर रहे है परंतु बिजली बिल जमा करने आगे नही आ रहे है जिससे बिजली कंपनी की आर्थिक स्तिथि दयनीय हो गयी है। , सहायक अभियंता  शुभम त्यागी ने बताया कि कोरोना कर्फ्यू हटने के बाद से "सिन्हा एंड टीम के जोर शोर से प्रयास के बाद कुल 488 बिजली उपभोक्ताओं के कनेक्शन जिसकी राशि लगभग 53 लाख है,काटे गए है जिनमे से 429 उपभोक्ताओं ने बिजली बिल जमा कर दिया है जो कि साफ दर्शाता है कि   शहर का उपभोक्ता बिजली बिल बिना संपर्क किए जमा नही करता है ।

तीनबत्ती न्यूज़. कॉम
के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे


ट्वीटर  फॉलो करें

वेबसाईट


कार्यपालन अभियंता स्वयं उतरे मैदान पर


सहायक अभियंता शुभम त्यागी ने बताया कि बुधवार को डीइ सिटी सिन्हा जी स्वयं मैदान पर कनेक्शन विछेदन कर रही टीम का औचक निरीक्षण करने काकागंज वार्ड पहुचे और टीम को सोशल डिस्टेन्स का पालन करने के लिए निर्देश देते हुए डिस्कोननेक्शन की समीक्षा की,इसके साथ ही उपभोक्ताओं को समय से बिल भरने के लिए स्पीकर से अनाउंसमेंट भी करवाया।

जून महीने में 9.50 करोड़ का दिया है टारगेट

कार्यपालन अभियंता एस. के.सिन्हा ने बताया कि मुख्य अभियंता के.एल.वर्मा ने सिटी डिवीज़न को 9.50 करोड़ वसूली का टारगेट दिया है जिसमे से अभी तक 80000 उपभोक्ताओं में से  8643 उपभोक्ताओं से लगभग 2 करोड़ की ही वसूली हो पाई है।

बिजली बिल जमा न होने की वजह से आंधी ,तूफान में नही होगी कंप्लेंट अटेंड

कार्यपालन अभियंता सिन्हा जी ने बताया कि आंधी बारिश आने पर उपभोक्ताओं की कंप्लेंट आती है ऐसे में जो उपभोक्ता बिजली बिल समय पर जमा करते ह या कोई भी राशि बिजली बिल में पेंडिंग नही है सिर्फ उनकी कंप्लेंट अटेंड की जाएंगी,बाकी उपभोक्ता जब तक बिजली बिल्कि राशि जमा नही करता है तब तक वो कंप्लेंट अटेंड नही की जाएंगी।


---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

अक्षय दुबे NSUI की सागर इकाई के जिलाध्यक्ष नियुक्त

अक्षय दुबे NSUI की सागर इकाई के  जिलाध्यक्ष नियुक्त  


सागर। भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन (NSUI) मध्यप्रदेश में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ जी , के निर्देश पर  मप्र कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष सुरेंद्र चौधरी, एनएसयूआई के राष्ट्रीय महासचिव मध्यप्रदेश प्रभारी नीतेश गौड की अनुशंसा, पूर्व मंत्री हर्ष यादव व पूर्व विधायक अरुणोदय चौबे की सहमति से मध्यप्रदेश एनएसयूआई अध्यक्ष विधायक विपिन वानखेड़े ने जिला  सागर इकाई  का जिला अध्यक्ष अक्षय दुबे को नियुक्त किया । दुबे लंबे समय से एनएसयूआई के लिए कार्य कर रहे थे, कई बार प्रदेश पद पर रहे कई आंदोलन की है व जेल भी गए । अक्षय दुबे ने नियुक्ती पर वरिष्ठ कांग्रेस नेताओ का अभार व्यक्त किया साथ ही साथ उन्होंने कहा की जिले मे एनएसयूआई वा कांग्रेस पार्टी को मजबूती प्रदान कर जिले की आठों ही विधानसभा पर कांग्रेस पार्टी को मजबूत करेगे ।

   ---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

नेशनल लोक अदालत 10 जुलाई को , आवश्यक दिशा-निर्देश जारी


नेशनल लोक अदालत 10 जुलाई  को , आवश्यक दिशा-निर्देश जारी


सागर ।  राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण, नई दिल्ली, एवं म.प्र राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, जबलपुर के निर्देशानुसार तथा प्रधान जिला न्यायाधीश/अध्यक्ष श्री बी.आर.पाटिल के  मार्गदर्शन में 10 जुलाई, 2021 को जिला न्यायालय, परिवार न्यायालय, श्रम न्यायालय एवं समस्त तहसील न्यायालयों में आगामी नेशनल लोक अदालत का आयोजन किया जा रहा है।
उक्त नेशनल लोक अदालत में अधिक से अधिक प्रकरणों के निराकरण के लिये एवं सफल आयोजन हेतु प्रधान जिला न्यायाधीश/अध्यक्ष श्री बी.आर.पाटिल के द्वारा आज को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सभाकक्ष में जिला न्यायालय सागर के समस्त न्यायाधीशों एवं सभी तहसील न्यायालयों में पदस्थ न्यायाधीशों की मीटिंग ली गई। मीटिंग में अध्यक्ष महोदय के द्वारा नेशनल लोक अदालत में पारिवारिक विवाद, चैक बाउंस, विद्युत मामलें, दावा प्रकरण जैसें अन्य प्रकरणों के निराकरण हेतु प्रत्येक न्यायाधीश से पृथक-पृथक चर्चा कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिये। अध्यक्ष महोदय के द्वारा सभी न्यायाधीशों को यह भी निर्देश दिया कि वे समझौता होने वाले संभावित प्रकरणों में दोनो पक्षकारों के साथ लोक अदालत के पूर्व प्री-सिटिंग भी करें जिससे पक्षकारों के बीच विवाद को आपसी समझौते से निराकरण के लिए प्रेरित किया जा सके।
बैठक में नेशनल लोक अदालत प्रभारी श्री वीरेन्द्र सिंह राजपूत, विशेष न्यायाधीश, सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण श्री विवेक शर्मा सहित जिला न्यायालय के समस्त न्यायाधीश उपस्थित हुए एवं विभिन्न तहसीलों में पदस्थ न्यायाधीश वीडियो कॉंन्फं्रेसिंग के माध्यम से उपस्थित हुए। 


---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

SAGAR : नए प्रतिबंधात्मक आदेश जारी, ★ विवाह आयोजनों में दोनों पक्षों के मिलाकर अधिकतम 50 की ही अनुमति रहेगी ★ कटरा बाजार में किसी भी प्रकार के ठेले खड़े नहीं होंगे, समस्त साप्ताहिक हाट बाजार प्रतिबंधित रहेंगे ★ सब्जी फल हाथ ठेला वालो को परिचय पत्र जरूरी


SAGAR :  नए प्रतिबंधात्मक आदेश जारी,
★  विवाह आयोजनों में दोनों पक्षों के मिलाकर अधिकतम 50  की ही अनुमति रहेगी
★ कटरा बाजार में किसी भी प्रकार के ठेले खड़े नहीं होंगे, समस्त साप्ताहिक हाट बाजार प्रतिबंधित रहेंगे
★ सब्जी फल हाथ ठेला वालो को परिचय पत्र  जरूरी

सागर ।  न्यायालय जिला दण्डाधिकारी के आदेश 4 जून द्वारा सागर जिले में 16 जून को प्रातः 06.00 बजे तक के लिए प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किया गया है। मध्यप्रदेश शासन गृह विभाग, मंत्रालय, वल्लभ भवन भोपाल द्वारा कोरोना वायरस संक्रमण के रोकथाम एवं बचाव हेतु दिशा - निर्देश के परिपालन में आपदा प्रबंधन अधिनियम एवं दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के अंतर्गत कोरोना कर्फ्यू से संबंधित समस्त आदेश निरस्त किये जाकर कोरोना वायरस के संक्रमण के प्रसार की आशंका को निर्मूल करने के लिए कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट श्री दीपक सिंह द्वारा दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के तहत सागर जिले की संपूर्ण राजस्व सीमा क्षेत्र के लिए दिनांक 16 जून 2021 से 01 जुलाई 2021 को प्रातः 6 बजे तक के लिए निम्नानुसार प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किया गया है।
जारी आदेशानुसार सभी सामाजिक, राजनैतिक, खेल, मनोरंजन, सांस्कृतिक, धार्मिक आयोजन, मेले आदि जिनमें जनसमूह एकत्र होता है, प्रतिबंधित रहेंगे। स्कूल, कॉलेज, शैक्षणिक, प्रशिक्षण, कोचिंग संस्थान बंद रहेंगें। ऑनलाईन क्लासेस चल सकेंगी । सभी धार्मिक, पूजा स्थल खुल सकेंगें किन्तु एक समय में 6 से अधिक व्यक्ति उपस्थित नहीं रह सकेंगे तथा उपस्थित जनों को कोविड प्रोटोकोल का पालन करना बंधनकारी होगा ।
समस्त शासकीय, अर्द्धशासकीय, निगम, मण्डल के कार्यालय 100 प्रतिशत अधिकारियों एवं 100 प्रतिशत कर्मचारियों की उपस्थिति में खुलेंगें। समस्त प्रकार की दुकानें, व्यावसायिक प्रतिष्ठान तथा निजी कार्यालय प्रातः 9 बजे से रात्रि 8 बजे तक खुल सकेंगें । शॉपिंग मॉल , जिम भी उक्त समय में खुल सकेंगे । तथापि सभी सिनेमा घर , थिएटर , स्वीमिंग पूल बंद रहेंगे ।
समस्त वृहद , मध्यम , लघु एवं सूक्ष्म उद्योग अपनी पूर्ण क्षमता पर कार्य कर सकेंगें तथा निर्माण गतिविधियां सतत् चल सकेगी । जिम एवं फिटनेस सेंटर्स रात 8 बजे तक 50 प्रतिशत कैपेसिटी पर कोविड प्रोटोकोल की शर्त का पालन करते हुए खुल सकेंगें । समस्त खेलकूद के स्टेडियम खुल सकेंगे किन्तु खेल आयोजनों में दर्शक शामिल नहीं हो सकेंगे । समरत रेस्टोरेंट एवं क्लब 50 प्रतिशत कैपेसिटी से रात्रि 10 बजे तक खुल सकेंगे । समस्त होटल एवं लॉज पूर्ण क्षमता अनुसार खुल सकेंगे ।
विवाह आयोजनों में दोनों पक्षों के मिलाकर अधिकतम 50 लोगों की उपस्थिति की ही अनुमति दी जा सकेगी । इस प्रयोजन के लिए आयोजक को संबंधित थाना प्रभारी को अतिथियों के नाम की सूची आयोजन से पूर्व प्रदाय करना आवश्यक होगा । सामूहिक भोज का कार्यक्रम नहीं होगा । अधिकतम 10 लोगों के साथ ही अंतिम संस्कार की अनुमति दी जा सकेगी । रूल ऑफ सिक्स - अनुमत्य गतिविधियों के अलावा किसी भी स्थान पर 6 से अधिक व्यक्तियों के एकन्न होने पर प्रतिबंध रहेगा । अन्तराज्यीय तथा राज्यांतरिक माल एवं सर्विसेज का आवागमन निर्बाध रहेगा । जिन ग्रामों में कोविड -19 के एक्टीव केस पांच या पांच से अधिक हैं , उन्हें रेड ग्राम के रूप में चिन्हांकित किया गया है । रेड ग्रामों में तथा नगरीय क्षेत्रों के माईक्रा कन्टेनमेंट जोन, कन्टेनमेंट जोन में कोविड -19 संक्रमण के संबंध में केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी दिशा - निर्देशों के अनुसार ही गतिविधियां संचालित हो सकेंगी ।

तीनबत्ती न्यूज़. कॉम
के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे


ट्वीटर  फॉलो करें


वेबसाईट

जिले के समस्त नगरीय क्षेत्रों में प्रत्येक रविवार जनता कर्फ्यू रहेगा , जो शनिवार रात्रि 10 बजे से सोमवार प्रातः 6 बजे तक प्रभावी रहेगा । जिले के समस्त नगरीय क्षेत्रों में रात्रि 10 बजे से प्रातः 6 बजे तक नाईट कर्फ्यू रहेगा । कटरा बाजार में किसी भी प्रकार के ठेले खड़े नहीं होगे । समस्त साप्ताहिक हाट बाजार प्रतिबंधित रहेंगे ।
सागर जिले के समस्त दुकानदार दुकानों में, दुकानों के सामने गोले बनाकर ग्राहकों के मध्य पर्याप्त दूरी सुनिश्चित कर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना अनिवार्य होगा । ( नो मास्क नो सर्विस ) अर्थात् जिस ग्राहक ने फेस पर मास्क नहीं पहन रखा होगा तो उसको दुकानदार द्वारा कोई सामान विक्रय नहीं किया जायेगा । दुकानदार स्वयं भी अनिवार्य रूप से मास्क को उपयोग करेंगे । यदि कोई दुकानदार " नो मास्क नो सर्विस " प्रोटोकाल का उल्लंघन करता पाया जाता है , तो दुकान को सील करने की कार्यवाही की जावेगी ।
सभी सार्वजनिक व कार्य स्थलों एवं परिवहन के दौरान फेस मास्क पहनना अनिवार्य होगा । सार्वजनिक स्थानों में प्रत्येक व्यक्ति 6 फिट यानी ( 2 गज की दूरी ) बनाये रखना अनिवार्य होगा ।

सब्जी फल के ठेले वालो को परिचय पत्र  जरूरी

 सागर नगरीय क्षेत्र में , खुरई रोड स्थित गल्ला मण्डी का प्रांगण नं . - 2, डी.एन.सी.बी. मैदान , कजलीवन मैदान , दीनदयाल नगर स्थित केन्द्रीय विद्यालय क्रमांक -2 के सामने वाला मैदान में सब्जी, फल मण्डी प्रातः 6 बजे से रात्रि 08 बजे तक खुलेगी । प्रातः 06 बजे से रात्रि 08 बजे तक तिलकगंज में सिर्फ फल मण्डी खुलेगी । यहाँ के थोक विक्रेता केवल खुदरा सब्जी, फल विक्रय करने वाले विक्रेताओं को ही विक्रय करेगे । खुदरा, हाथ ठेला सब्जी, फल विक्रय करने वालों को कार्यालय आयुक्त नगर पालिक निगम सागर से परिचय पत्र बनवाना अनिवार्य होगा । केवल परिचय पत्र प्राप्त खुदरा, हाथ ठेला वालों को मण्डी प्रांगण में प्रवेश की अनुमति होगी और वे परिचय पत्र में उल्लेखित वार्ड में ही सब्जी, फल विक्रय कर सकेंगे । आवश्यक प्रतीत होने पर सागर नगर में उपरोक्त व्यवस्था में परिवर्तन अनुविभाग स्तर की जिला क्रायसिस मैनेजमेंट की बैठक आयोजित कर लिये जा सके । जिले के अन्य क्षेत्रों में भी उपरोक्त व्यवस्था के अनुसार सब्जी, फल मण्डी संबंधित अनुविभागीय दण्डाधिकारी खोल सकते है ।  शराब दुकानें एवं बियर वार शासन निर्देश अनुसार निर्धारित समय पर खुल सकेंगे ।
अतः यह आदेश एक पक्षीय रूप से पारित किया गया हैं । इस आदेश का उल्लंघन करने वाले व्यक्ति के विरूद्ध भा 0 द 0 सं 0 की धारा 188 एवं आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के प्रावधानों के अंतर्गत कार्यवाही की जावेगी । यह आदेश तत्काल प्रभाव से लागू होगा ।        ---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

Archive