सतर्क रहें..बने सायबर योद्धा

गुरुवार, 30 दिसंबर 2021

कौशल विकास के बिना आत्मनिर्भर भारत की संकल्पना अधूरी- प्रो. बरतूनिया ★ डॉ. गौर कौशल विकास मेला का आयोजन


 कौशल विकास के बिना आत्मनिर्भर भारत की संकल्पना अधूरी- प्रो. बरतूनिया


★ डॉ. गौर कौशल विकास मेला  का आयोजन 
 
सागर. 30 दिसंबर. डॉ हरीसिंह गौर विश्वविद्यालय, सागर के कम्युनिटी कॉलेज के तत्त्वावधान में डॉ. गौर कौशल विकास मेला आयोजित हुआ. आचार्य शंकर भवन में आयोजित मेले का उदघाटन मुख्य अतिथि बाबासाहब भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय, लखनऊ (उ.प्र) के कुलाधिपति डॉ. प्रकाश बरतूनिया और कुलपति प्रो. नीलिमा गुप्ता ने फीता काटकर किया. प्रो. बरतूनिया ने कहा कि डॉ. गौर की धरती पर उद्यमी विद्यार्थियों का यह मेला अद्भुत है. इस विश्वविद्यालय से काफी महान हस्तियाँ देश-विदेश में परचम लहरा रही हैं. यहाँ आना मेरे लिए गौरव की बात है. एक विद्यार्थी सिद्धांत रूप में जो कुछ पढ़ता-समझता है, यह मेला उसका व्यावहारिक स्वरुप है. 

 कौशल विकास के बिना आत्मनिर्भर भारत की संकल्पना अधूरी- प्रो. बरतूनिया

आत्मनिर्भर भारत और कौशल विकास में उच्च शिक्षण संस्थाओं की भूमिका विषय पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि यह मेला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आत्मनिर्भर भारत की संकल्पना को साकार कर रहा है. कौशल विकास के बिना आत्मनिर्भरता की संकल्पना अधूरी है. कोरोना महामारी के समय में मास्क और सैनेटाइजर जैसे आवश्यक वस्तुओं का घरेलू उत्पादन करके देश ने पूरी दुनिया के सामने एक मिशाल पेश किया है. स्किल डेवलेपमेंट का उद्देश्य ही यही है कि पढ़े-लिखे लोगों के अतिरिक्त कम पढ़े-लिखे लोग भी उद्यम कर सकते हैं. विश्वविद्यालय ऐसे उद्यमियों और ऐसे पाठ्यक्रम संचालित करने और उन्हें प्लेटफार्म उपलब्ध करने की यथोचित संस्था है. ऐसे प्रयास सभी उच्च शिक्षण संस्थाओं को करना चाहिए. उन्होंने कहा कि गाँवों के पारंपरिक हुनर और कौशल जैसे लोहे के उपकरण बनाना, काष्ठ कला आदि के पाठ्यक्रम भी संचालित किये जाने चाहिए.
 
आत्मनिर्भर सागर से बनेगा आत्मनिर्भर भारत- कुलपति प्रो. नीलिमा गुप्ता 

अध्यक्षीय उद्बोधन में कुलपति प्रो. नीलिमा गुप्ता ने कहा कि वर्ष 2021 की समाप्ति पर यह मेला नए साल के लिए एक सौगात के रूप में है. अल्प समय में आयोजित यह मेला एक बानगी भर है. आने वाले दिनों में वृहद् स्तर परइस तरह के आयोजन किये जाएंगे. आत्मनिर्भर भारत की संकल्पना के तहत हम आत्मनिर्भर सागर के लिए तैयार हो रहे हैं. विश्वविद्यालय का प्रयास है कि यहाँ संचालित प्रत्येक विभाग एक कौशल विकास के पाठ्यक्रम संचालित करे. इस प्रयास से प्रत्येक विद्यार्थी के हाथों में डिग्री के साथ-साथ कौशल भी होगा. उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों के कौशल और प्रतिभा को निखारने के लिए जो भी संसाधन जरूरी होंगे वे उन्हें प्रदान किये जाएंगे. विद्यार्थी की प्रतिभा का सदुपयोग हो सके और उनकी प्रतिभा को बाजार तक पहुंचाने में विश्वविद्यालय एक प्लेटफ़ॉर्म की तरह है. एक कुशल एवं उद्यमी विद्यार्थी से प्रेरित होकर युवा पीढ़ी भी उद्यमिता की तरफ आगे बढ़ेंगे. यही हमें आत्मनिर्भरता की तरफ ले जाएगा. उन्होंने सभी विद्यार्थियों और पाठ्यक्रम समन्वयकों को इस आयोजन के लिए शुभकामनाएं प्रेषित कीं.
 
उद्यमी विद्यार्थियों ने साझा किये अपने अनुभव                                                                                                      
कार्यक्रम के दौरान विभिन्न पाठ्यक्रमों में अध्ययनरत एवं पूर्व विद्यार्थियों ने अपने अनुभव भी साझा किये. पायल रिटोरिया, अनिल, लक्ष्मी, रुबीना सहित कई विद्यार्थियों ने बताया कि कम्युनिटी कालेज के डिप्लोमा पाठ्यक्रमों के माध्यम से कैसे उन्होंने स्वरोजगार स्थापित किया और आज समाज में उनकी एक अलग पहचान है.
 
कार्यक्रम में कम्युनिटी कॉलेज की नोडल अधिकारी प्रो. श्वेता यादव ने स्वागत भाषण दिया और संचालित पाठ्यक्रमों और गतिविधियों की विस्तृत जानकारी दी. अतिथियों का शाल, श्रीफल और स्मृति चिन्ह भेंटकर सम्मान भी किया गया.  कुलसचिव संतोष सोहगौरा ने अतिथियों और मेले में आये दर्शकों के प्रति आभार व्यक्त किया. संचालन डॉ. आशुतोष ने किया. इस अवसर पर प्रो अम्बिकादत्त शर्मा, प्रो. आर पी मिश्रा, प्रो. केके एन शर्मा, प्रो. पीपी सिंह, प्रो. यू.एस.गुप्ता सहित कई शिक्षक, कर्मचारी, विद्यार्थी, और सागर शहर के गणमान्य नागरिक, पत्रकार बंधु मौजूद रहे.   
 
हाथों से बने डिजाइनर परिधान रहे आकर्षण का केंद्र 
छात्रा रुबीना ने बताया कि कई उन्होंने और सहयोगियों ने टेक्सटाइल में डिप्लोमा की पढ़ाई करके अनेक डिजाइनर कपड़े, लहंगे, रुमाल, स्वेटर, मोज़े, अनेक तरह के उपयोगी बैग्स तैयार किये हैं जो लोगों को पसंद आ रहे हैं. इनकी कीमत भी बाजार से काफी कम है. 
 
मेले में दिखी सुई-धागे की अद्भुत कारीगरी और अनुपयोगी कागज़ से बनी सजावट की सामग्री  
छात्रा ऋतंभरा और पारुल ने बताया कि सुई और धागे से काफी महीन कारीगरी करके कान के आभूषण तैयार किये हैं. हाथों के कंगन भी रेशमी धागों से तैयार किये हैं जो काफी आकर्षक और टिकाऊ हैं. वेस्ट मैटेरियल मैनेजमेंट की छात्रा अदिति जैन एवं अंजलि ने बताया कि पुराने रद्दी, प्लास्टिक और अन्य अनुपयोगी सामग्री ने उन्होंने डेकोरेशन की काफी वस्तुएं तैयार की हैं. बंदनवार, पेंटिंग्स, कागज़ के झूमर, बास्केट, पेन स्टैंड आदि काफी आकर्षक और किफायती हैं.
 
मिट्टी और प्लास्टर ऑफ़ पेरिस की बनी कलाकृतियों और पेंटिंग्स से हुआ भारत दर्शन   

पर्यटन में डिप्लोमा के विद्यार्थियों ने मिट्टी और प्लास्टर ऑफ़ पेरिस से बनी अनेक कलाकृतियाँ जैसे तंजौर का मंदिर, कोणार्क का सूर्य मंदिर, डॉ गौर की मूर्ति, अप्सरा, गौतम बुद्ध आदि सहित कई मूर्तियाँ प्रदर्शन और बिक्री के लिए रखीं. इसके अलावा देश भर के अनेक महत्त्वपूर्ण ऐतिहासिक स्थलों की पेंटिंग्स भी आकर्षित करने वाली रही.  
 
जैविक खाद, कीटनाशक के निर्माण और मशरूम कल्टीवेशन का हुआ सजीव प्रदर्शन  
मशरूम कल्टीवेशन के विद्यार्थियों ने जैविक खाद,मिट्टी के जैविक पोषकों, कीटनाशकों और मशरूम कल्टीवेशन के निर्माण की विधियां भी बताईं. साथ ही उन्होंने तैयार किये गये उत्पादों को भी बिक्री के लिए रखा. मशरूम पाउडर और अचार के प्रति भी दर्शकों का काफी रुझान रहा.   
 
मेले में खाद्य सामग्री की भी हुई बिक्री, विभिन्न पाठ्यक्रमों के परिचय के स्टाल भी लगे 

हाथ से बनी खाने वाली वस्तुयें भी मेला के दर्शकों का आकर्षण रहीं. मुरब्बा, अचार, कैंडीज, मुल्तानी मिट्टी, नीम और ग्लिसरीन से बने साबुन की भी काफी बिक्री हुई. बांस से बनी हुई कई सामग्री भी मेले में उपलब्ध रही. वाटर प्यूरीफिकेशन की तकनीक को दर्शाने वाले स्टाल पर भी काफी भीड़ रही. इसके अलावा विभिन्न रोजगारपरक पाठ्यक्रमों के प्रति युवाओं के रुझान के लिए जानकारी प्रदान करने वाले स्टाल भी लगाये गये.इन स्टाल पर तनिष्का सोनी और आदित्य सोनी ने बताया कि मेला से हमे नए अनुभव मिले।  गौरतलब है कि वर्तमान में कौशल विकास के 19 रोजगारपरक पाठ्यक्रम संचालित किये जा रहे हैं.
 
फन-गेम कार्नर में सबने भाग्य आजमाया 
विज्ञान के साथ-साथ मनोरंजन पर केंद्रित एक फन-गेम कॉर्नर भी उपलब्ध रहा. पानी से भरी बाल्टी में सिक्का डालने पर नीचे रखी एक कटोरी में सिक्के को गिराना था. शर्त यह थी कि जिसका सिक्का कटोरी में गिरेगा उसको दुगना पैसा वापस मिलेगा. इस खेल में बच्चों और बड़ों सबने भाग्य आजमाया. यह काफी आकर्षक और मनोरंजक रहा.

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Archive

Adsense