सोमवार, 2 नवंबर 2020

सुरखी उपचुनाव: 297 मतदान केंद्रों पर मतदाता करेंगे प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला

सुरखी उपचुनाव: 297 मतदान केंद्रों पर मतदाता करेंगे प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला

सागर। उपचुनावों में प्रदेश की जिन सीट पर सभी निगाहे टिकी है। उनमें सुरखी शामिल है। यहां से ज्योतिरादित्य सिंधिया के कट्टर समर्थक और पूर्व मंत्री गोविंद राजपूत का राजनीतिक  भविष्य दांव पर लगा है।  पिछले पांच चुनाव लड़ चुके राजपूत के लिए यह उपचुनाव अब तक का सबसे भारी और अहम माना जा रहा है।  
उपचुनाव के दौरान सुरखी में आज मतदाता अपने वोट के माध्यम से कांग्रेस और भाजपा के प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला करेंगे कि कौन उनका प्रतिनिधित्व करेगा। सुरखी से भाजपा प्रत्याशी के रुप में पूर्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत मैदान में हैं। वहींं कांग्रेस प्रत्याशी के रुप में
पूर्व विधायक पारुल साहू चुनावी समर में उतरी हैं। इनके अलावा क्षेत्रीय दलों सहित निर्दलीय के रुप में 13 अन्य प्रत्याशी भी अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। हालांकि इनमें से अधिकांश को वोट कटवा प्रत्याशी माना जा रहा है। इनमे दो प्रत्याशियो तुलसी पाल और धर्मेंद्र सिंह ने गोविंद राजपूत के लिए अपना समर्थन दे दिया है । 
सुरखी में 2 लाख से अधिक मतदाता आज अपने विधायक का फैसला करेंगे, कि कौन
उनका विधानसभा में प्रतिनिधित्व करेगा। कांग्रेस और भाजपा दोनों ही प्रमुख दलों के लिए सुरखी विधानसभा सीट प्रतिष्ठा का प्रश्न बन गई है।
ज्याेतिरादित्य सिंधिंया के खास सिपहसालार गोविंद राजपूत को जिताने और सरकार को सुरक्षित करने के लिए सीएम शिवराज सिंह चौहान और ज्योतिरादित्य सिंधिया  से लेकर तमाम मंत्री और पूरी भाजपा मैदान में उतरी है। वहीं यह सीट गोविंद से छीनने के लिए कांग्रेस ने ठीक भाजपा की तर्ज पर पूर्व विधायक पारुल साहू का दलबदल कराकर उन्हें प्रत्याशी बनाया है। पूर्व मंत्री व कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमल नाथ से लेकर पूरी कांग्रेस यह सीट जीतने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा रही है। 

तीनबत्ती न्यूज़. कॉम

के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे



ट्वीटर  फॉलो करें

@weYljxbV9kkvq5ZB



वेबसाईट



मंगलवार सुबह से सुरखी के करीब 297 मतदान केंद्रों पर जाकर वोट डालेंगे। मतदान के बाद आगामी 10 नवंबर को सागर के इंजीनियरिंग कॉलेज में मतगणना होगी।

पिछला रिकार्ड

सुरखी के 15 विधानसभा में 9 दफा कांग्रेस जीती है सुरखी विधानसभा का मिजाज जिले की बाकी विधानसभाओं से अलग रहा है। यहां
दलबदल का रिकॉर्ड भी काफी पुराना है। 1951 में सबसे पहले कांग्रेस के टिकट पर ज्वाला प्रसाद ज्योतिषी चुनाव जीतकर विधानसभा पहुंचे थे। कांग्रेस यहां से 9 दफा परचम लहरा चुकी है। वहीं भाजपा 3 दफा, जनता दल 1,
जेएनपी 1 , बीजेएस-1 बार जीत चुकी है। इस लिहाज से सुरखी विधानसभा कांग्रेस की पुरातन सीट कहलाती है।

सुरखी का चुनावी गणित

- विधानसभा क्षेत्र क्रमांक- 37
- सुरखी में कुल उम्मीदवार- 15
- कुल मतदाता-2, 05, 810
- पुरुष- 1, 11, 917
- महिला- 93, 880
- अन्य - 13
- मतदान केंद्र- 297
-------------------------

--

---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


---------------------------

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें


नौरादेही अभ्यारण : प्रभावित लोगों का शत-प्रतिशत होगा विस्थापन : कलेक्टर

Archive