गुरुवार, 22 जुलाई 2021

सागर तालाब पर किए गए अवैध अतिक्रमणों को हटाकर, स्टेट्स रिपोर्ट पेश करने का आदेश दिया हाईकोर्ट ने !

सागर तालाब  पर किए गए अवैध अतिक्रमणों को हटाकर, स्टेट्स रिपोर्ट
पेश करने का आदेश दिया हाईकोर्ट ने !

★ सागर तालाब के 400 एकड़ रकवा मे से लगभग 30-32 एकड़ भूमि पर है प्रभावशाली एवं राजनेताओ का अवैध अतिक्रमण !
★ 2016 में किए गए मेजरमेंट के अनुसार लगभग आधा सैकड़ा लोगो का तालाब की जमीन पर पाया
गया था अवैध कब्जा !
★  स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत सागर तालाब की सफाई एवं सौंदर्गीकरण के लिए करोड़ो रूपए स्वीकृत किए है फिर भी शासन ने, बिना अतिक्रमण हटाए ही तालाब मे कार्य किया प्रारम्भ !
.
जबलपुर । सागर सिटी के मध्य स्थित सागर तालाब जिसे लाखा बंजारा झील के नाम से भी जाना जाता है ! उक्त तालाब लाखा बंजारा नामक बंजारे लगभग 500 से अधिक वर्ष पूर्व स्वम की पूंजी से निर्मित किया गया था उक्त तालाब इतिसाहिक महत्व का है ! सागर तालाब का खसरा कर्मांक 335 एयव्म
337 मे लगभग 400 एकड़ रकवा है जिस पर कई प्रभावशाली लोगो एवं राजनेताओ ने कब्जा करके पक्के
मकान बना लिए है तथा कई लोगो द्वारा तालाब की जमीन पर अतिक्रमण करके खेती भी की जा रही है !

तीनबत्ती न्यूज़. कॉम

के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे




ट्वीटर  फॉलो करे



वेबसाईट



सागर के तत्कालीन कलेक्टर श्री विकास नरवाल द्वारा 2016 मे तालाब का मेजरमेंट कराया गया था तत्समय तालाब की लगभग 30-32 एकड़ भूमि पर अवैध कब्जा पाया गया था लेकिन शासन प्रशासन राजनैतिक एवं प्रभावशाली लोगो के चलते आज दिनांक तक अतिक्रमण मुक्त करने की कार्यवाही नही कर सका । तब सागर निवासी जगदेव सिंह ठाकुर द्वारा अधिवक्ता रामेश्वर सिंह ठाकुर के माध्यम से जनहित याचिका दायर की गई, याचिका की प्रारम्भिक सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायमूर्ति श्री रफीक एवं विजय कुमार शुक्ला की युगल पीठ द्वारा कलेक्टर सागर, नगर निगम सागर, सागर स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट मेनेजर
को नोटिस जारी कर किए गए अतिक्रमण के समवंध मे स्टेट्स रिपोर्ट पेश करने का आदेश दिया गया है
प्रशासन को आगामी सुनवाई  17/8/2021 के पूर्व अतिक्रमण हटाकर सुनवाई दिनांक के पूर्व स्टेट्स रिपोर्ट पेश करना होगी ! यचिका कर्ता की ओर से पैरवी अधिवक्ता रामेश्वर सिंह ठाकुर द्वारा की गई ।


---------------------------- 







तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885



--------------------------

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Archive

Adsense