जंय श्री गणेशाय नमः

शुक्रवार, 7 अगस्त 2020

कलेक्ट्रेट परिसर में मंदिर यथावत रहेगा, विवाद को लेकर बनाई जांच कमेटी कलेक्टर ने गुपचुप मूर्ति हटाना निंदनीय: विधायक शेलेन्द्र जैन

कलेक्ट्रेट परिसर में मंदिर यथावत रहेगा, विवाद को लेकर बनाई जांच कमेटी कलेक्टर ने 

गुपचुप मूर्ति हटाना 
निंदनीय: विधायक शेलेन्द्र जैन

सागर । कलेक्ट्रेट परिसर स्थित मंदिर में तोड़फोड़ के बाद  अब जांच कमेटी बनाई है। अब मंदिर यही रहेगा। बीती रात को हुई इस घटना के बाद आज कई संगठनों ने विरोध जताया और दोषी अधिकारियों पर कार्यवाही करने की मांग की।  
कलेक्टर श्री दीपक सिंह ने गत दिवस कलेक्ट्रेट परिसर स्थित कल्पवृक्ष के नीचे मंदिर विवाद को लेकर वरिष्ठ अधिकारियों की जांच समिति बना दी है और यह समिति शीघ्र ही जांच रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी।
कलेक्टर श्री सिंह ने बताया कि कल्पवृक्ष के संरक्षण हेतु वन विभाग को निर्देशित किया गया है। साथ ही कल्पवृक्ष के स्थान पर निर्मित मंदिर को यथावत किया गया है। साथ ही कलेक्टर कार्यालय की मंदिर संरक्षण कमेटी धर्म गुरूओं के अनुसार पूजा अर्चना सुनिष्चित करेगी।

तीनबत्ती न्यूज़.कॉम
कलक्ट्रेट परिसर के मंदिर तोड़ने के मामले ने पकड़ा तूल, कई संगठनो ने  दिया ज्ञापन,ADM पर मामला दर्ज करने की मांग


गुपचुप मूर्ति हटाना निदनीय: विधायक शेलेन्द्र जैन

उधर विधायक शेलेन्द्र जैन ने जारी एक बयान में कहा कि  कल नवीन कलेक्ट्रेट भवन में जो भी घटनाक्रम गठित हुआ है वह अनावश्यक है जैसा कि आप सभी को विदित है वह वहां पर स्थित जो कल्पवृक्ष है वह लगभग 700 वर्षों पुराना है जब पूर्व में हमने नवीन कलेक्ट्रेट भवन का निर्माण किया तब उसको संरक्षित रखा था तब वहां पर स्थित हमारे हिंदू देवी देवताओं की प्रतिमाएं हनुमान जी भोलेनाथ की प्रतिमाओं को गुपचुप तरीके से प्रशासन द्वारा हटाने का प्रयास किया गया यह निंदनीय है और मैं आशा करता हूं कि प्रशासन इस तरह की गलती दोबारा ना दोहराए इस संबंध में जैसे ही मुझे जानकारी लगी । मैंने तत्काल जिला कलेक्टर और अपर कलेक्टर से इस संबंध में बात की और उन्होंने भी इस संबंध में अपनी सहमति जताई और तत्काल उन प्रतिमा को यथा स्थल रखने के निर्देश दिए । इस संबंध में जो भी हमारे हिंदू संगठन के  बंधुओं ने सहयोग दिया उनके लिए हृदय से धन्यवाद व्यक्त करता हूं।

---------------------------- 




तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Archive