रविवार, 15 मार्च 2020

प्रमाण सागर महाराज ने लुहारी पहुँचकर ग्राम मंदिरों के संरक्षण को दी नई दिशा

प्रमाण सागर महाराज ने लुहारी पहुँचकर ग्राम मंदिरों के संरक्षण को दी नई दिशा
जैनों के साथ जैनेत्तर समाज मे प्रिशिद्ध मुनि श्री प्रमाण सागर का आज ग्राम लुहारी में हज़ारों श्रद्धालुओं की उपस्थिति में स्वागत हुआ। मुनि श्री की आगवानी में इतना जनसमूह था कि जहाँ जनसैलाव का एक छोर लुहारी ग्राम में तो था तो दूसरा छोर जेवरा ग्राम पर था। लुहारी में धसान नदी के पुल पर आगवानी का विहंगम दृश्य बना जो अद्वितीय था। मुनि श्री ने अपने प्रवचन में लुहारी ग्राम में संचालित ग्राम पूजन पुण्य दल के संदस्यों के अनुरोध पर लुहारी ग्राम में पधारे। मुनि संघ ने इस दल के प्रयासों की सराहना की है। मुनि श्री ने समाज को प्रेरणा देते हुए कहा कि ऐसे ग्राम पूजन दल भारत वर्ष में बनना चाहिए। मुनि श्री ने प्रेरणा दी कि शहरों के हर मंदिर की समिति को वर्ष में कम से कम 50 हज़ार  या जो सक्षमता हो , ग्रामों के मंदिर के लिए इकठ्ठा करना चाहिए और इस तरह एक शहर से 5 से 10 लाख ग्राम मंदिरों के लिए इकठ्ठा हो जाएंगे और इस राशि का प्रयोग ग्राम मन्दिरों के जीर्णोद्धार और  रख रखाव के लिए किया जा सकता है। 
मुनि श्री ने कहाँ की हर 20-25 किलोमीटर के संकुल पर एक एक ग्रुप बनाकर आस पास के लोगों और उस ग्राम के पलायन कर गए लोगों को जोड़ने का प्रयास करे। *सप्ताह का एक दिन ग्राम मंदिरों के नाम का नारा* देते हुए मुनि श्री ने कहा कि शहरों के लोगों को या तो  अपने आस पास के ग्रामो में या अपने मूल ग्राम में जाकर पूजन करें। सागर वालो से अपेक्षा की इस काम की शुरुवात सागर से हो सागर जिला ग्राम मंदिरों के संरक्षण में आदर्श जिला के रूप में भारत मे उभरना चाहिए। मुनि श्री ने कहा कि हमारा नाम मंदिर बनाने वालों में होना चाहिए मंदिर उठाने वालों में नही।
मुनि श्री ने कहा कि ग्राम मंदिरो के विकास से ग्रामों का विकाश जुड़ा है। ग्राम पूजन दल से मुनि श्री ने अपेक्षा की कि मंदिरो से साथ ग्रामों के विकास-साफसफाई और पर्यावरण सरक्षण के काम भी करना चाहिए।
मुनिश्री प्रमाणसागर जी की सागर में 17 मार्च को होगी भव्य आगवानी
 सागर/आचार्य गुरुवर श्री विद्यासागर महाराज के परम प्रभावक शिष्य, गुणायतन प्रणेता, शंका समाधान कार्यक्रम के जनक मुनि  108 प्रमाणसागर  महाराज का ससंघ भव्य मंगलप्रवेश सागर में 17 मार्च को सुबह 7.30 बजे कृषि उपज मंडी, भाग्योदय तीर्थ से शुरु होगा उनकी आगवानी मुनि श्री कुन्थु सागर महाराज करेंगे नमकमंडी में मंगल प्रवचन के साथ जलूस का समापन होगा।
मुनि सेवा समिति के सदस्य मुकेश जैन ढाना ने बताया कि  मुनिसंघ की मंगल आगवानी सागर नगर में कृषि उपज मंडी से भव्य जलूस के रूप में होगी। यहाँ से भाग्योदय, रेलवे फाटक, भगवान गंज, अप्सरा टाकीज, बाहुवली कालोनी जैन मंदिर,राधा टाकीज, वर्णी कालोनी, लच्छू तिग्गड़ा, कीर्ति स्तंभ, परकोटा  तीन बत्ती होकर, नमकमंडी में मुनि श्री के मंगल प्रवचन होंगे। 16 मार्च को आहारचर्या जेरई में होगी। शाम को कृषि उपज मंडी प्रांगण सागर में शंका समाधान का विशाल कार्यक्रम दोपहर 6 बजे से होगा।17 मार्च का शंका समाधान नमकमंडी सागर में शाम 6.15 से होगा।

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें


नौरादेही अभ्यारण : प्रभावित लोगों का शत-प्रतिशत होगा विस्थापन : कलेक्टर

Archive