दानवीर , सागर विवि के संस्थापक डॉ हरि सिंह गौर की जयंती,26 नवम्बर ।

रविवार, 17 अक्तूबर 2021

बांग्लादेश निर्माण के 50 वर्ष पूरे, कांग्रेस ने किया योद्धाओं का सम्मान

बांग्लादेश निर्माण के 50 वर्ष पूरे,  कांग्रेस ने किया योद्धाओं का सम्मान

सागर।  बांग्लादेश निर्माण तथा पाकिस्तान पर विजय के 50 साल पूरे होने पर जिला कांग्रेस कमेटी शहर एवं ग्रामीण द्वारा विजय दिवस सम्मान कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर बांग्लादेश के निर्माण में तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी जी के नेतृत्व में भारतीय सेना के योगदान पर चर्चा कर 1971 के युद्ध में शामिल रहे पूर्व सैनिकों का जिला कांग्रेस अध्यक्ष द्वय रेखा चौधरी तथा स्वदेश जैन ने सम्मान भी किया गया।
 कार्यक्रम के प्रारंभ में जिला कांग्रेस अध्यक्ष द्वय रेखा चौधरी तथा स्वदेश जैन समेत आमंत्रित अतिथियों द्वारा राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और इंदिरा जी के चित्रों पर माल्यार्पण कर दीप प्रज्वलन किया गया। इस अवसर पर युद्ध में शामिल रहे सैन्य अधिकारियों और सैनिकों का सूत की माला से स्वागत किया गया।
कार्यक्रम में अध्यक्ष रेखा चौधरी ने कहा कि बांग्लादेश के निर्माण और पाकिस्तान पर जीत के 50 साल पूरे होने का समय प्रत्येक भारतवासी के लिए गौरव का क्षण है। उन्होंने कहा कि भारतीय सीमा और देश के भीतर आज हालात बेहद चिंताजनक हैं। केंद्र में बैठी सत्ता की कमजोरी का फायदा चीन और पाक जैसे पड़ोसी देश उठाकर देश के सैनिकों और आम जनता के मनोबल पर लगातार चोट कर रहे हैं। 
कार्यक्रम के प्रमुख वक्ता डॉ राकेश शर्मा ने 1971 के युद्ध की परिस्थितियों और उसके बाद हासिल हुई जीत पर चर्चा करते हुए कहा कि पाकिस्तान की दो टुकड़े कर बांग्लादेश का निर्माण करना और इस दुनिया की भूगोल को बदलने का काम सिर्फ इंदिरा जी जैसी ताकत ही कर सकती थी यही वजह है कि उनके धुर विरोधी भी उन्हें रणचंडी और दुर्गा के रूप में स्वीकार करने में गर्व महसूस करते हैं। ग्रामीण कांग्रेस अध्यक्ष स्वदेश जैन ने कहा कि उनके लिए यह गौरव का क्षण है कि देश के लिए अपना सर्वस्व न्योछावर करने वाले वीर सपूतों का उन्हें सम्मान करने का अवसर मिला है। कार्यक्रम का संचालन आशीष ज्योतिषी तथा आभार प्रदर्शन प्रदीप पांडे ने किया।
 
ये हुए सम्मानित 

कार्यक्रम के दौरान उपस्थित युद्ध में शामिल रहे सैन्य अधिकारियों और सेनानियों कर्नल राम सिंह, मेजर एससी शर्मा ,सूबेदार मेजर पीएन सिंह ऑनरेरी कैप्टन मोहनलाल समुद्रे सैनिक सौदागर सिंह सैनिक बजरंग सिंह नायक हरिशंकर सूबेदार नायक राजेश कुमार बरार वारंट आफिसर आरपी मिश्रा लांस नायक देवकीनंदन कश्यप ईएमई नायक स्व बख्शीश सिंह कंग की पत्नी श्रीमती दलबीर कौर कंग  का जिला कांग्रेस अध्यक्ष रेखा चौधरी व स्वदेश जैन ने  शाल श्रीफल पुष्पहार और स्मृति चिन्ह के साथ सम्मान किया।
कर्नल राम सिंह मेजर एससी शर्मा ऑनरेरी कैप्टन मोहनलाल समुद्रे नायक हरिशंकर मेजर पीएन सिंह वारंट आफिसर आरपी मिश्रा ने युद्ध के अनुभवों को साझा करते हुए कहा कि विपरीत परिस्थितियों में भी हमारे देश की सेनाएं किसी भी मुकाबले के लिए हमेशा तैयार हैं। उन्होंने कहा कि स्व इंदिरा जी के समय देश ने जिस कूटनीति और विदेश नीति को अपनाया उसका ही परिणाम है कि आज हम विश्व के सामने महाशक्ति बने हुए हैं। 
 
कार्यक्रम में प्रमुख रूप से गांधीवादी नेता शुकदेव प्रसाद तिवारी वरिष्ठ अधिवक्ता सतीश चंद्र रावत वरिष्ठ नेता भोलेश्वर तिवारी साहित्यकार टीआर त्रिपाठी रुद्र अनिल कोठारी, पूर्व विधायक सुनील जैन, महामंत्री भूपेंद्र सिंह मुहासा पुरुषोत्तम मुन्ना चौबे विमल जैन राधाकृष्ण व्यास शौकत अली कुसुम सुरभि विजय साहू ऋषभ जैन गोवर्धन रैकवार सेवादल अध्यक्ष सिंटू कटारे युवा कांग्रेस अध्यक्ष राहुल चौबे जितेंद्र चौधरी महिला ब्रिगेड अध्यक्ष रजिया खान एनएसयूआई अध्यक्ष सौरभ खटीक शिवरानी कोरी दीनदयाल तिवारी शरद पुरोहित लीलाधर सूर्यवंशी पार्षद रूपनारायण तोता यादव भैयन पटेल महेश जाटव डॉ सीबी तिवारी डॉ दिनेश पटेरिया जतिन चौकसे गणेश पटेल अजय अहिरवार रामगोपाल यादव अमोल सिंह ठाकुर बलराम साहू विश्वनाथ चौबे नाथूराम चौधरी सुनील पावा धर्मेंद्र चौधरी अनिल दक्ष कल्लू पटेल प्रदीप जैन मनोज पवार राकेश सरवैया श्रीदास रैकवार प्रियंक तिवारी राहुल व्यास नितिन पचौरी आनंद हेला आदिल राइन विनोद कोरी साजिद राइन कुंजी लड़िया ताहिर खान पवन केसरवानी कुंदन जाट रूपम उमाहिया रोहित मांडले बंटी कोरी जीशान खान अमित चौरसिया शुभम कुशवाहा रोहित सिंघई तरुण कोरी गौरव घोषी दीपेंद्र सकवार अंकित ठाकुर हरिश्चंद्र सोनवार शुभम उपाध्याय सुधीर जैन वीरु चौधरी रवि केसरी अनिल तिवारी गोपीलाल यादव चमन अंसारी सुधीर तिवारी अभिषेक तिवारी समेत बड़ी संख्या में कांग्रेसजन साहित्यकार एवं बुद्धिजीवी वर्ग की उपस्थिति रही।                          
              
             
                 

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Archive