रानगिर की माँ हरसिद्धि माई

गुरुवार, 7 अक्तूबर 2021

अंग्रेजो के बाद हमे अंग्रेजी की गुलामी से मुक्त होना चाहिए : आचार्य स्वामी धर्मेन्द्र जी महाराज

अंग्रेजो के बाद हमे अंग्रेजी की गुलामी से मुक्त होना चाहिए : आचार्य स्वामी धर्मेन्द्र जी महाराज

★ धर्म की रक्षा करो, धर्म तुम्हारी रक्षा करेगा


सागर। अंग्रेजों के बाद हमें अंग्रेजी की गुलामी से मुक्त होना होगा। दुनिया में अंग्रेजी से ज्यादा चौपट कोई दूसरी भाषा नहीं। सारे भारत में समझी जाने वाली भाषा हिन्दी ही है। ये उद्गार गुरूवार को आचार्य स्वामी धर्मेन्द्र जी महाराज ने मोतीनगर चौराहे के पास गौ सेवा संघ परिसर में अपने नौ दिवसीय श्री राम कथा अमृत के दौरान व्यक्त किए। आज की कथा के मुख्य यजमान प्रेमनारायण घोषी, यजमान चंद्रप्रकाश सुनरया और रनछोड़ीलाल सोनी थे।
आचार्य जी ने अपने उद्बोधन में अंग्रेजी भाषा में व्याप्त विसंगतियों पर चर्चा करते हुए कहा कि इससे तर्कहीन और अवैज्ञानिक भाषा दूसरी नहीं। हमारे देश में तमिल, तेलगू, मलयालम, मराठी, पंजाबी, बांग्ला आदि भाषाएं हैं। ये हमारी मौसियां है और मां हिन्दी है। भारत में सबसे ज्यादा बोली और समझी जाने वाली भाषा हिन्दी ही है। उन्होंने धर्म की व्याख्ता करते हुए कहा कि रिलीजन एक्सेप्ट किया जाता है और मजहब कुबूल किया जाता है। जबकि धर्म को धारण करना पड़ता है। यदि तुम धर्म की रक्षा करोगे तो धर्म तुम्हारी रक्षा करेगा। भगवान ने धर्म के बल पर ही इस पृथ्वी, आकाश और ब्रम्हांड को धारण किया हुआ है। भगवान भास्कर अनंत ऊर्जा के साथ निरंतर जल रहा है। भगवान का इससे बड़ा प्रमाण क्या हो सकता है। प्रात: उगते हुए सूर्य के दर्शन कीजिए। दुनिया में इससे बड़ी खूबसूरती कहीं नहीं मिलेगी। सूर्य भगवान का सौन्दर्य कभी क्षरित नहीं होता।
आरक्षण पर चर्चा करते हुए आचार्य स्वामी धर्मेन्द्र जी महाराज ने कहा कि जातिगत आरक्षण के स्थान पर सरकार को निर्धनों और असहायों का संरक्षण करना चाहिए। इसमें धर्म निरपेक्षता आड़े नहीं आएगी। उन्होंने कहा कि बामपंथी नारा लगाते हैं कि दुनिया के मजदूरों एक हो जाओ। लेकिन इन्हें यह बात समझ नहीं आती कि जब उद्योगपति नहीं होंगे तब मजदूर कहां से आएंगे। जब काम नहीं होगा तो किन मजदूरों को इकट्ठा करोगे। शाकाहार पर बल देते हुए आचार्य जी महाराज ने कहा कि प्रकृति ने हमें इतने स्वादिष्ट और पौष्टिक आहार दिए हैं, तो लोग मुर्दा क्यों खाते हैं। किसी भी जीव की जब हत्या कर दी जाती है तो उसका शरीर मुर्दा कहलाता है। लेकिन कुछ लोग इस मुर्दा को खाते हैं। देश के अलग-अलग राज्यों में एक से बढ़कर एक शाकाहारी भोजन उपलब्ध हैं। बच्चों को शाकाहार के लिए प्रेरित करें।

तीनबत्ती न्यूज़. कॉम

के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे




ट्वीटर  फॉलो करे



वेबसाईट


देश के विभाजन पर उन्होंने कहा कि ये आजादी वैसी ही है जैसे किसी के हाथ-पैर काट कर उसे आजाद कर दिया जाए। पहले तो गांधी जी कहते थे कि पाकिस्तान उनकी लाश पर बनेगा। फिर ऐसा क्या हुआ कि उनकी छाती पर ही पाकिस्तान बना दिया गया। उसके बाद भी सब कुछ ज्यों का त्यों चलता रहा। सिख गुरूओं और महापुरूषों की चर्चा करते हुए आचार्य जी महाराज ने कहा कि धर्म और देश के लिए सिख गुरूओं ने जो बलिदान दिया है उसको देश कभी भुला नहीं सकता। रास्ते में जहां भी गुरूद्वारा दिखाई दे हमें प्रणाम करना चाहिए। बंदा वैरागी ने आज्ञा दे रखी थी कि जिस गांव में गौ हत्या होगी उस गांव को जला दिया जाएगा। इसका परिणाम यह हुआ कि पंजीब ही नहीं पूरे देश में लोग गाय को लाठी से मारने से भी डरने लगे थे। उनका कहना था कि भय पैदा नहीं होगा तो रक्षा कैसे करोगे।
प्रवचन में आचार्य जी ने श्री मन्महात्मा रामचन्द्र जी वीर द्वारा रचित श्री रामकथा अमृत का गायन किया। इसमें भगवान राम के जन्म की कथा सुनाई। इसमें रामायण का खड़ी भाषा में वर्णन किया गया है जो जन साधारण को सहज ही समझ आ जाती है।
इस अवसर पर लालचंद घोषी, शिवनारायण सोनी रहली, अरविन्द घोषी, सचिन पटैल, कृष्णकुमार गुप्ता, राजेन्द्र घोषी, रूपकिशोर अग्रवाल, आकाश ठाकुर, मुकेश घोषी, श्रीमती अल्पना यादव इन्दौर, अशोक सोनी बरेला, कौशल घोषी सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालु श्रोता उपस्थित थेे।
 ---------------------------- 







तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885



--------------------------

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Archive