रानगिर की माँ हरसिद्धि माई

मंगलवार, 28 सितंबर 2021

SAGAR : थोक सब्जी फल मंडी शिफ्ट करने ,कलेक्टर ने जमीन की जानकारी मांगी

SAGAR : थोक सब्जी फल मंडी शिफ्ट करने ,कलेक्टर ने जमीन की जानकारी मांगी



सागर ।  कलेक्टर  दीपक आर्य ने निगमायुक्त  आर.पी. अरिहवार एवं अन्य अधिकारियों के साथ तिलकगंज स्थित सब्जी मंडी का निरीक्षण किया। उन्होंने यहां थोक और फुटकर व्यापारियों के लिए की गई व्यवस्थाओं का जायजा लिया। कलेक्टर श्री आर्य ने कहा कि, थोक व्यापारियों की सुविधा और बेहतर व्यवस्था प्रषासन की प्राथमिकता है। उन्होंने मण्डी में व्यापारियों सहित यहॉ आने-वाले खरीददारों को बिना परेषानी के खरीद, बिक्री की समुचित व्यवस्था करने के निर्देष दिए।
कलेक्टर ने सागर एस.डी.एम. और तहसीलदार को निर्देश दिये कि  वे शहर के नजदीक रिक्त शासकीय भूमि की जानकारी से अवगत करायें। जिसमें आवष्यक व्यवस्थाएं सुनिष्चित कर थोक व्यापारियों को शिफ्ट किया जा सके। निरीक्षण के दौरान स्मार्ट सिटी सी.ई.ओ. श्री राहुल सिंह, एस.डी.एसम. सागर श्री पवन बारिया, मंडी सचिव, तहसीलदार सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


यह भी पढ़े : 

SAGAR : सड़क दुर्घटना में रिटायर्ड शिक्षक की मौत




वनरक्षक और वनपाल पांच हजार की रिश्वत लेते गिरफ्तार, लोकायुक्त पुलिस सागर की कार्यवाही -


कलेक्टर श्री आर्य ने सब्जी मंडी में निर्माणाधीन फुटकर व्यापारियों को बैठने के लिए कराये जा रहे निर्माण कार्य का निरीक्षण किया तथा मंडी सचिव को आवश्यक निर्देश दिये। इस संबंध में मंडी सचिव ने जानकारी दी कि स्थल पर फुटकर सब्जी विक्रेता बैठेंगे। यहां थोक व्यापारियों को 71 दुकान आवंटित है।
 वहां उपस्थित व्यापारियों द्वारा बताया गया कि मण्डी में बड़े वाहनों से थोक सब्जी लाने-ले जाने के साथ ही बड़े वाहनों की पार्किंग में असुविधा होती है। उन्होंने कहा कि अगर थोक व्यापारियों के लिए अलग से व्यवस्था हो जाये तो थोक एवं फुटकर दोनों व्यापारियों के साथ-साथ सब्जी मंडी में सब्जी खरीदने के लिए आने वाले नागरिकों को भी सुविधा होगी।
कलेक्टर श्री आर्य ने व्यापारियों की इस समस्या के निदान के लिए कृषि उपज मंडी और भैसा नाका के पास की रिक्त शासकीय भूमि का निरीक्षण किया। उन्होंने एस.डी.एम.एवं तहसीलदार से मंडी बनाने के उद्देश्य से रिक्त पड़ी शासकीय भूमि की जानकारी ली। कलेक्टर श्री दीपक आर्य ने कहा कि जमीन ऐसी हो जहां व्यापारियों को कोई असुविधा न हो।  
 
 

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Archive