सतर्क रहें..बने सायबर योद्धा

रविवार, 5 दिसंबर 2021

आचार्य श्री विद्यासागर महाराज की भव्य अगवानी हुई कुंडलपुर में

आचार्य श्री विद्यासागर महाराज की भव्य अगवानी हुई कुंडलपुर में

सागर । 5 साल 5 माह 5 दिन बाद आचार्य संघ पांच मुनिराजो के साथ 3:30 बजे बड़े बाबा के दरबार में भव्य और ऐतिहासिक अगवानी हुई। संभाग के कोने-कोने से लोग इस आगवानी को देखने के लिए कुंडलपुर पहुंचे थे।
मुनि सेवा समिति के सदस्य मुकेश जैन ढाना ने बताया कि आचार्य संघ की आहारचर्या पटेरा मैं राजकुमार जैन बिला वालों के यहां हुई यहां से दोपहर 1:30 बजे बिहार शुरू हुआ 3 किलोमीटर लंबे इस बिहार में 10,000 से अधिक लोग उपस्थित थे सैकड़ों स्थानों पर आचार्य संघ की अगवानी के लिए रंगोली डाली गई थी। विभिन्न वेशभूषा में बच्चे और महिलाएं ड्रेस कोड के साथ आचार्य भगवन की अगवानी करने की लालायित दिख रहे थे बैल गाड़ियों पर महिलाऐ भी झंडे लेकर बैठी हुई थी। दर्जनों दिव्य घोष अगवानी में शामिल हुए कुंडलपुर कमेटी के अध्यक्ष संतोष सिंघई के अलावा पूरी कमेटी और विभिन्न स्थानों से आए मंदिर कमेटी के पदाधिकारी भी उपस्थित थे। सागर से भी सैकड़ों लोगों ने पहुंचकर आचार्य श्री का आशीर्वाद लिया 3:30 बजे आचार्य संघ बड़े बाबा के मंदिर में दर्शनों के लिए पहुंचे जहां पर लगभग आधे घंटे बाद 4 बजे मंच पर आए और पहला पात्र प्रच्छलन कुंडलपुर की भूमि पर सागर निवासी श्रीमंत सेठ आनंद जैन अजीत जैन नीटू आनंद स्टील परिवार ने सोने के कलश और थाली से किया इस अवसर पर देवेंद्र जेना स्टील, मुकेश जैन ढाना, सट्टू कर्रापुर, राजेश जैन रोडलाइंस, अरविंद पथरिया, राकेश जैन निश्चय, सौरभ जैन गोलू सहित पवन चौधरी, सावन रेशु सिंघई, गौरव जैन, के अलावा दमोह, पथरिया, हटा, गढ़ाकोटा,रहली, ढाना, नोहटा, बांदकपुर, तेंदूखेड़ा आदि स्थानों से आए लोगों ने आज बड़े बाबा और छोटे बाबा के दर्शन कर आशीर्वाद लिया। सुरक्षा व्यवस्था में हटा एसडीओपी वीरेंद्र बहादुर सिंह मुस्तैदी से ड्यूटी कर रहे थे ।





हजारों वर्ष के लिए हुआ है बड़े बाबा के मंदिर का निर्माण आचार्य श्री

आचार्य श्री विद्यासागर महाराज कुंडलपुर में बड़े बाबा मंदिर प्रांगण में प्रथम दर्शन के बाद श्रद्धालुओं से कहा कि आने वाले पंचकल्याणक गजरथ महोत्सव में आपको एक एक क्षण का उपयोग करना है। देश भर से लोग आयेंगे। बड़ा कार्यक्रम होना हैं। शासन प्रशासन को हमे सहयोग करना है। आप  अनुशासन में रहना है। हजारों साल बाद यह चमत्कार होने जा रहा है। इस भव में आप इसके गवाह होंगे। उन्होंने कहा कि आज ही मुहूर्त मान ले। इस कार्य को देवी देवता भी देख रहे हैं और इस कार्य में आपकी एक कौड़ी भी लगती है तो वह पुण्यशाली होगा

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Archive

Adsense