सोमवार, 13 जनवरी 2020

साहित्य सारी दुनिया से जोड़ने की ताकत रखता है- डॉ मधुर नज़्मी साक्षात्कार/डॉ वर्षा सिंह

साहित्य सारी दुनिया से जोड़ने की ताकत रखता है- डॉ मधुर नज़्मी
साक्षात्कार/डॉ वर्षा सिंह
सागर। देश के प्रख्यात शायर मधुर नज़्मी  का मोहम्मदाबाद गोहना, मऊ (उ.प्र.) से  शहर सागर आना हुआ।  इस दौरान  कवियत्री वर्षा सिंह ने  उन्हें अपने ग़ज़ल संग्रह "दिल बंजारा" की प्रति भेंट की । इस दौरान वर्षा सिंह ने अपनी  बहन डॉ शरद सिंह ने उनसे साहित्यिक चर्चाएं भी कीं।इसी  तारतम्य में वर्षा सिंह ने  एक अनौपचारिक इन्टरव्यू कर डाला। जिसका मुख्य अंश यहां प्रस्तुत है -
आप इतने बड़े ग़ज़लगो हैं, आप ग़ज़ल के वर्तमान परिदृश्य को कैसा पाते हैं?
डॉ. मधुर नज़्मी- ग़ज़ल का वर्तमान परिदृश्य चिन्ताजनक है क्योंकि सोशल मीडिया पर कथित शायरों की बाढ़ आ जाने से ग़ज़ल की गम्भीरता नष्ट हो रही है। आप लोगों जैसे शायरों की ग़ज़ल के प्रति प्रतिबद्धता यह भरोसा दिलाती है कि इस विधा को गम्भीरता से लेने वाले लोग अभी शेष हैं और ग़ज़ल की श्रेष्ठता बनाए रखने के लिए कृतसंकल्प हैं।
अक्सर यह सुनने में आता है कि साहित्य के प्रति अब लोगों मैं पहले जैसी रुचि नहीं रही। खुले मंच चुटकुलेबाजी का अड्डा बनते जा रहे हैं, आपका इस बारे में क्या कहना है?

डॉ. मधुर नज़्मी- आपका कहना सच है कि मंचों का स्तर अब पहले जैसा नहीं रहा। लेकिन मैं निराश नहीं हूं। साहित्य में बहुत ताकत होती है यदि  ईमानदारी से अपनाया जाए तो साहित्य सारी दुनिया से जोड़ने की ताकत रखता है। मैं मुफ़लिसी में पैदा हुआ लेकिन मेरी शायरी ने दस देशों में जा कर मुशायरे पढ़ने का मौका दिया।

 उर्दू ग़ज़ल और हिन्दी ग़ज़ल, इन दो भाषाई नामों पर भी अक्सर बहसें होती रहती हैं। क्या आप इस बंटवारे को उचित मानते हैं?
डॉ. मधुर नज़्मी- मैं ग़ज़ल विधा के संदर्भ में भाषाई विवाद को तरज़ीह नहीं देता हूं। ग़ज़ल तो वह है जो दिल से कही जाए और सुनने वाले के दिल को छू जाए।
 सागर आ कर आपको कैसा महसूस हो रहा है?
डॉ. मधुर नज़्मी- जी, सागर आ कर मुझे बहुत अच्छा लगा। सागर को मैं त्रिलोचन शास्त्री के सागर प्रवास के कारण जानता था, फिर आपके नाम से इसे जाना। यहां के लोग बहुत मिलनसार हैं।

1 comments:


नौरादेही अभ्यारण : प्रभावित लोगों का शत-प्रतिशत होगा विस्थापन : कलेक्टर

Archive