मध्यप्रदेश में लगभग 135 लाख मैट्रिक टन किया जाएगा गेंहू उपार्जित -खाद्य, नागरिक आपूर्ति प्रमुख सचिव श्री किदवई

शुक्रवार, 31 जनवरी 2020

कुरवाई में दर्दनाक सड़क हादसा, पिता और दो मासूम बच्चों की मौत, पत्नी की हालत गंभीर, मृतक परिवार सागर का


कुरवाई में दर्दनाक सड़क हादसा, पिता और दो मासूम बच्चों की मौत, पत्नी की हालत गंभीर, मृतक परिवार सागर का
कुरवाई । कुरवाई- बीना स्टेट हाईवे पर एक कार  ने मोटरसाईकिल सवार को टक्कर मार दी। इस दर्दनाक हादसे में पितां और उसके दो मासूम बच्चों  की  मोके पर ही  मौत हो गई। जबकि पत्नी गभीर रूप से घायल हो गई। घायल को इलाज के लिए विदिशा अस्पताल में भर्ती कराया गया है । मृतक सागर जिले के खुरई थाना के ग्राम  बनहट ग्राम का है । इस सड़क पर आए दिन सड़क दुर्घटनाएं होती रहती है। 
स्टेट राजमार्ग क्रमांक 14 कुरवाई बीना रोड पर  शुक्रवार को कार क्रमांक MH 04 HN 1014 एवं मोटरसाइकिल की भिड़ंत हो गई। इसमे बाईक सवार ग्राम  वनहट तहसील खुरई जिला सागर निवासी प्रीतम कुशवाह पुत्र फूल सिंह कुशवाह उम्र करीब 35 वर्ष, पुत्री राधिका कुशवाह उम्र 6 वर्ष पुत्र हर्ष कुशवाह उम्र 3 वर्ष
की मौके पर मौत हो गई।  उसकी पत्नी विनीता कुशवाहा घायल हो गई। जिसे इलाज के लिए भर्ती कराया गया है। दुर्घटना इतनी भीषण थी कि तीन वर्षीय पुत्र हर्ष कुशवाह मोटरसाइकिल से उछलकर करीबन 20 फीट दूरी पर झाड़ियों में जाकर गिर गया ।जिसकी जानकारी मौके पर पहुंची 100 डायल तक को नहीं थी। जिसे 1 घंटे बाद परिजनों से मोबाइल पर चर्चा होने परिजनों ने जानकारी दी तब जाकर ढूंढ कर अस्पताल लाया गया । ड्यूटी पर उपस्थित डॉक्टर हफीज खान ने बताया कि विनीता कुशवाहा गंभीर रूप से घायल होने प्राथमिक उपचार होने के उपरांत विदिशा जिला चिकित्सालय रेफर किया गया है ।मृतक के परिजन में भोले कुशवाहा ने बताया कि मृतक रिश्तेदारी में मंडी बामोरा आ रहे थे। संयोगवश से दुर्घटना मंडी बामोरा से घटनास्थल वाला क्षैत्र मात्र 12 किलोमीटर दूरी पर बचा था। 
एक्सीडेंटल झोन बन गया 
बीना नदी के पुल से लायरा के मध्य लगभग 1 किलोमीटर का क्षेत्र दुर्घटना संभावित क्षेत्र होने से विगत एक बर्ष में करीबन 9 -10 मौतें हो चुकी हैं। इसका मुख्य कारण यह है कि टीसीआईएल रोड कंपनी का टोल टैक्स नाका स्थल से मात्र 500 मीटर दूरी पर स्थित दुर्घटना संभावित क्षेत्र होने के उपरांत भी सड़क के किनारे लगी झाड़ियों एवं पेड़ होने एवं बीना पुल से आगे खतरनाक मोड़ होने से वाहन  चालकों को रास्ता दिखाई नहीं देता। जिसके चलते इस तरह की दुर्घटनाएं लगातार होने के उपरांत भी एमपी आरडीसी के अधिकारी एवं बीओटी के अंतर्गत रोड संधारण करने वाली कंपनी टीसीआईएल यदि समय से पूर्व सचेत हो जाती तो इन दुर्घटनाओं को रोका जा सकता था।
अनुविभागीय अधिकारी गोपाल सिंह वर्मा से चर्चा करने पर बताया कि उन्होंने तुरंत घटना स्थल का निरीक्षण कर एक्सीडेंटल जोन होने की जानकारी एकत्रित कर संबंधित टोल कंपनी टीसीआईएल एवं संबंधित विभाग के अधिकारियों को लिखा जावेगा दुर्घटना स्थल क्षेत्र में झाड़ीयां जो दुर्घटना के कारण बन रही है इनको हटाकर दुर्घटना संभावित क्षेत्र के संकेतक बोर्ड लगाए जाएंगे ताकि भविष्य में इस प्रकार की घटना है इस क्षेत्र में ना हो सके।

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें


नौरादेही अभ्यारण : प्रभावित लोगों का शत-प्रतिशत होगा विस्थापन : कलेक्टर

Archive