सागर की पहचान -लाख बंजारा झील

रविवार, 13 सितंबर 2020

किसानों के लिये हैरान- परेशान हमारे मेवाडा जी

किसानों के लिये हैरान- परेशान हमारे मेवाडा जी

★  ग्राउंड रिपोर्ट /   ब्रजेश राजपूत ,एबीपी न्यूज़


" सर इतनी सी बात सुन लीजिये, मेरा कुछ होगा तो नहीं सर, अरे सर कुछ हुआ तो आप लोग बचा लोगे ना, कहीं फोन फान तो कर दोगे ना मेरे लिये,

" पर ये तो बताओ हो क्या गया है तुमको,

" अरे सर वो अपने किसानों के लिये प्रदर्शन किया और वो अधिकारी फोन लगाने लगे कि आओ सिहोर आकर बात कर लो, अब आप बताइये अपन गये और उन्होंने थाने में बैठा लिया तो फिर कौन छुडाने आयेगा अपन को,,,
" अरे जब प्रशासन और पुलिस से इतना ही डरते हो तो प्रदर्शन क्यों करते हो,,,
" क्या करें सर किसानों का दुख दर्द देखा नहीं जाता मेरे से, जिसका फोन आया चल देता हूं अपनी मोटर साइकिल में अपने खर्चे का पेट्रोल डलवाकर,, फिर उस गांव में किसानों का दुख दर्द देखता हूं तो सोचता हूं क्या करूं आप सब को फोन लगाता हूं मगर आप सब भी रिया ओर कंगना में व्यस्त रहते हैं तो फिर कुछ ना कुछ ऐसा कर देता हूं कि अखबार और चैनल में आ ही जाता है। अब इसमें मेरी क्या गलती सर आप बताइये ना,, मेरा काम तो इनकी आवाज प्रशासन तक पहुंचाना ही है जो आप करते हो वो कभी कभी मैं भी कर देता हूं,,,
टुकडों टुकडों में ये बातचीत चल रही थी भोपाल से तीस किलोमीटर दूर सिहोर जिले के चंदेरी गांव के एमएस मेवाडा से। जो आसपास के गाँवों के किसानों की समस्या को लेकर मीडिया की मदद से प्रशासन से पंजा लडाते रहते हैं।
दुबला पतला कद, पैतालीस से ज्यादा की उमर मगर झक्क सफेद बाल, पैंट शर्ट पर लाल बंडी और एक पुरानी सी मोटर साइकिल जिस पर आसपास के गांवों की खाक छानते फिरते मेवाडा जी। काम के बीच में मौका मिलते ही बीडी सुलगा लेते हैं और चाय सुडकने लगते हैं। सुबह शाम रात बिरात जब चाहे मेवाडा जी का फोन बज उठता है। उठाने पर वही जानी पहचानी आवाज, " सर थोडी सी बात सुन लीजिये, हमारे गांवों के किसान बहुत परेशान है, ऐसा पानी गिरा है कि फसल सड गयी और सर कुछ किसानों ने तो कर्जा लेकर फसल लगायी थी तो आप एक बार घंटी बजा दीजिये तो उनका भला हो जायेगा। जैसा कि आपने पिछली बार किया था।" हमारा जबाव होता था कि हर बात के लिये घंटी नहीं बज सकती मेवाडा जी आप समझा करिये। नहीं सर आप चाहेंगे तो किसी की तरह घंटी बज जायेगी ओर इन गरीब किसानों की बात सरकार तक पहुंच जायेगी फिर ये सब आपको दुआ देंगे। हमारी तरफ से बहुत उत्साह जनक प्रतिक्रिया नहीं मिलने पर बिना धीरज खोये मेवाडा फिर शुरू हो जाते " तो सर ऐसे ही घूमने आ जाइये ये किसान आप सबको देखकर खुश हो जायेंगे समझेंगे कि इनके दुख दर्द में कोई तो खडा होता है। बहुत बुरे हाल में हैं किसान आप बस एक बार आकर देख जाइये।"

जब विधायक ही बनना था तो इस्तीफा क्यो दिया? जब इस्तीफा दे ही दिया फिर विधायक क्यो बनना? ये वो सवाल है जो आने वाले दिनों में #MadhyaPradesh में होने वाले उपचुनावों में


वैसे ये बात नहीं है कि मेवाडा के फोन हमारे पास ही आते सिहोर जिले के तकरीबन सारे पत्रकार और भोपाल में टीवी के पत्रकार सारे मेवाडा के संपर्क में हैं और वो किसानों की समस्या को लेकर उन सबको खबर लायक ज्ञान और एंगल सब देते रहते हैं। किसानों की समस्या को हर दौर में उठाने वाले मेवाडा जी के सामने दिक्कत कोरोना काल में हुयी तो उसका भी तोड निकाल लिया। भरी गर्मी में पानी की किल्लत एक दो गांव में हुयी तो किसानों के साथ बैल गाडी के बैलों तक को मास्क पहना दिया और कर दिया प्रदर्शन। इस अजब गजब सा प्रदर्शन खबरों और मीडिया में जगह पा गया तो फिर मेवाडा की दिक्कत। सारे अधिकारी लगे फोन करने और मेवाडा जी हमसे पूछते हैं " सर बताइये अपन ने क्या गलत किया, किसानों की आवाज आप सबकी मदद से प्रशासन तक तो पहुंचायी।" बाद में उस गांव में प्रशासन ने पानी पहुंचाया। अब जब पानी की किल्लत दूर हुयी और बरसात में फिर जोरदार पानी बरसा तो मेवाडा जी फिर परेशान " सर एक बार गांवों में आकर देख तो लीजिये गरीब किसानों के घर कितने पानी में डूब गये पूरा गल्ला और अनाज खराब हो गया है।" सोयाबीन की फसल बिगडी तो किसानों को पेड पर चढा थालियां बजाकर प्रदर्शन करा दिया। यानिकी हर कुछ दिनों में किसानों की इन दिक्कतों को सुनते सुनते जब हमारा धीरज जबाव दे देता है तो बोल पडते हैं मेवाडा जी किसानों के जितने दुख दर्द हम मीडिया  वालों को सुनाते हो उतने यदि आप अफसरों को सुनाओ तो उनका भला हो जाये हम मीडिया तो सिर्फ लिख और बता सकते हैं मगर अधिकारी उस समस्या का हल तलाश लेंगें। ऐसे में मेवाडा जी का अनुभव बोल पडता है कि " सर उन अधिकारियों को फोन खटखटा कर जब थक जाते हैं तो आप सबको फिर परेशान करता हूं। कि आप सब कम से कम फोन तो उठा लेते हो और कभी कभार हमारे गांव तक आ भी जाते हो।" 


तीनबत्ती न्यूज़. कॉम
के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे

ट्वीटर  फॉलो करें
@weYljxbV9kkvq5ZB

वेबसाईट


मेवाडा से परिचय हमारा अन्ना आंदोलन के दौरान हुआ था जब हम सब ये जानकर दंग रह गये थे कि सिहोर जिले के किसी गांव में अन्ना हजारे के चाहने वाले ने उनका मंदिर बनाकर पूजा पाठ शुरू  कर दिया था। मंदिर बनाने वाले कोई और नहीं ये हमारे मेवाडा जी ही थे। जिन्होने पहले गावं की सार्वजनिक जमीन पर फिर प्रशासन की आपत्ति पर अपने पडोस की निजी जमीन पर ही अन्ना की प्रतिमा ये सोच कर लगा दी कि जो आदमी देश के लिये अनशन पर बैठा है उसकी तो पूजा होनी चाहिये। इस कहानी के बाद तो किसान की कहानी ओर मेवाडा हमारे कैरेक्टर हो गये थे। वो भी कहानियाँ बताते और हमारी कहानियों में मदद करते। गांव में बह रही तथाकथित " विकास की बयार" को भोपाल के पास के गांवों में जांचने का जरिया आज भी एम एस मेवाडा बने हुये हैं।

ब्रजेश राजपूत,
एबीपी नेटवर्क, भोपाल
 

---------------------------- 



तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885

-----------------------------

1 comments:


कोविड संक्रमण: कमिश्नर ने बीएमसी के चिकित्सकों की बैठक ली

Archive