रविवार, 3 अप्रैल 2022

आंगनबाडी कार्यकर्ताओं की हड़ताल 28 वाँ दिन , 11 आंगनबाडी कार्यकर्ता सरे भरते हुए पहुंची बाघराज मंदिर ★ तीन आंगनबाडी कार्यकर्ता हड़ताल पर हुई बेहोश


आंगनबाडी कार्यकर्ताओं की हड़ताल 28 वाँ दिन , 11 आंगनबाडी कार्यकर्ता सरे भरते हुए पहुंची बाघराज मंदिर 
 
★  तीन आंगनबाडी कार्यकर्ता हड़ताल पर हुई बेहोश 

सागर । आंगनबाडी कार्यकर्ताओं/सहायिकाओं की निरंतर 28 दिन से चल रही हडताल में आज भीषण गर्मी के चलते 3 आंगनबाडी कार्यकर्ता बेहोश हो गई जिन्हें तुरंत अस्पताल पहुंचाया गया। वहीं हडताल स्थल से 11 आंगनबाडी कार्यकर्ता अपनी मांगों की मन्नत लेकर सरे भरते हुए बाघराज मातारानी मंदिर दरबार में पहुंचकर मातारानी से शासकीय वेतन भोगी घोषित किए जाने का वरदान मांगा। संघ की अध्यक्ष श्रीमती लीला शर्मा ने कहा कि प्रदेश भर में चिलचिलाती धूप में चल रही आंगनबाडी कार्यकर्ता/सहायिकाओं की जोरदार हडताल के बाबजूद सरकार के कानो में जू नहीं रेग रहा। 



राज्य भर की आंगनबाडी कार्यकर्ताओं ने वरचुअल मीटिंग करते हुए राजधानी कूच करने का निर्णय लिया है। वरचुअल मीटिंग में दो जिलो की कार्यकर्ताओं ने सुझाव दिया कि यदि सरकार हजारों आंगनबाडी कार्यकर्ताओं की हडताल को नजर अंदाज कर रही है तो वो भोपाल पहुंचकर राजा भोज तालाब, भोपाल में जल समाधि लेने में भी पीछे नहीं हटेगी। वहीं हडताल स्थल पर आज दिन भर आंगनबाडी कार्यकर्ताओं ने देवी भजन गाकर मध्यप्रदेश सरकार  को सदबुद्धि आने की कामना की। 
श्रीमति लीलाशर्मा का कहना है कि भाजपा सरकार कान खोलकर सुनले यदि आंगनबाडी कार्यकर्ता /सहायिका सरकारी कर्मचारी घोषित नहीं हुये तो प्रदेश में भाजपा को हराने के लिए आंगनबाडी कार्यकर्ता/सहायिका घर घर में बिगुल बजाएगी। हडताल में शिवसेना उपराज्य प्रमुख पप्पू तिवारी, संगठन प्रमुख हेमराज आलू, दीपक सिंह लोधी, विकास यादव, सचिन जैन, अमन ठाकुर, रेखा बुधोलिया (टड़ा), लक्ष्मी चौरसिया, निशा परमार, मधु कोरी, नेहा कुशवाहा, लीला पटैल, कमला पटैल, प्रतिभा सोनी, मधु सोनी, मीना रैकवार, निधि चौरसिया, ममता सोनी, माया सोनी, लीला पाठक, द्रोपती यादव, शिल्पी कोरी, मेनका भदोरिया, मीना विश्वकर्मा, जयश्री पाठक, मीना अहिरवार, अनीता अहिरवार, मनीषा गुप्ता, जीराबाई अहिरवार, रजनी पाठक, नर्वद लोधी, अमीता पटैरिया, वर्षा चढार, रेवती ठाकुर, मनीषा दुबे, शारदा पचौरी, गायत्री राय, रीना राय, लक्ष्मी, वंदना चढार, देवकुमारी आदिवासी, खेमा, ममता, भागवती साहू, गीता प्रजापति, राजकुमारी शुक्ला, कृष्णा लोधी, कमला पटैल सहित सैकडों की संख्या में कार्यकर्ता / सहायिका उपस्थित थी। 




0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Archive

Adsense