अभियोजन अधिकारियों की साग़र संभाग की एक दिवसीय कार्यशाला सम्पन्न

शनिवार, 20 फ़रवरी 2021

अभियोजन अधिकारियों की साग़र संभाग की एक दिवसीय कार्यशाला सम्पन्न

अभियोजन अधिकारियों की साग़र संभाग की  एक दिवसीय कार्यशाला सम्पन्न

सागर। विधि विज्ञान प्रयोगशाला (एफ.एस.एल.) सागर में अभियोजन अधिकारियों की व्यवसायिक दक्षता को बढ़ाने एवं नवीन विधिक परिदृश्य के अनुरूप कार्य करने के संबंध में एक दिवसीय संभागीय कार्यशाला आयोजित की गयी। जिसमे छतरपुर, टीकमगढ़, पन्ना, दमोह एवं सागर जिला एवं तहसील से अभियोजन अधिकारीगण सम्मिलित हुए। 
अभियोजन के मीडिया प्रभारी श्री सौरभ डिम्हा ने बताया कि लोक अभियोजन संचालनालय संचालक/महानिदेशक श्रीमान विजय सिंह यादव भोपाल के आदेश के पालन में विधि विज्ञान प्रयोगशाला  सागर में एक दिवसीय संभागीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि कलेक्टर  दीपक सिंह , उप-संचालक (अभियोजन)  अनिल कटारें, विशिष्ट अतिथि अपर कलेक्टर सागर  अखिलेश जैन , अति. पुलिस अधीक्षक (बीना)  विक्रम सिंह परिहार, अतिरिक्त/प्रभारी जिला लोक अभियोजन अधिकारी  शिवसंजय उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन एडीपीओ  पारस मित्तल  एवं डॉ पंकज पांडेय (वैज्ञानिक अधिकारी, एफ.एस.एल) द्वारा किया गया। 

कलेक्टर ने कहा कि किसी भी शासकीय पद पर होकर ईमानदारी से अपने कर्तव्य का निर्वहन करना भी देश भक्ति है । उन्होंने  न्याय में अभियोजन की भूमिका के बारे में भी बताया।
 उप-संचालक (अभियोजन) श्री अनिल कुमार कटारे ने बताया कि  एक दिवसीय  कार्यशाला में ज्ञान का इन्वेस्टमेंट किया जा रहा है जिसका उपयोग सभी प्रतिभागी अपनी व्यसायिक दक्षता को बढ़ाने में करेंगे।


तीनबत्ती न्यूज़. कॉम
के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे


ट्वीटर  फॉलो करें


वेबसाईट


व्याख्यान एवं परिचर्चा- कार्यक्रम  के प्रथम सत्र में डॉक्टर पंकज श्रीवास्तव (वरिष्ठ वैज्ञानिक अधिकारी प्रभारी डीएनए शाखा सागर) द्वारा डीएनए साक्ष्य के बारे में बताया गया। डॉ अरविंद बड़ौनिया (वरिष्ठ वैज्ञानिक अधिकारी प्रभारी भौतिकी शाखा एफएसएल सागर) द्वारा साइबर फॉरेंसिक के बारे में तथा डॉ राजीव दुआ (वैज्ञानिक अधिकारी रसायन शाखा एफएसएल सागर)  के द्वारा घटना स्थल साक्ष्य से संबंधित बताया गया। कार्यक्रम के अंतिम सत्र में  श्री अंकित बोहरे द्वारा व्यसायिक दक्षता में व्यक्तित्व विकास  के संबंध में जानकारी दी एवं श्री पारस मित्तल एडीपीओ सागर द्वारा नारकोटिक्स साक्ष्य से संबंधित व्याख्यान दिया साथ ही न्यायालय में आने वाली कठनाइयों पर चर्चा की और प्रतिभागियों द्वारा पूछे गये प्रश्नों के उत्तर दिये।
कार्यक्रम के समापन सत्र  में श्रीमती हर्षा सिंह (निदेशक एफ. एस. एल. सागर) एवं  उप-संचालक (अभियोजन)  अनिल  कटारे द्वारा कार्यशाला में आये अभियोजन अधिकारीगण को प्रमाण पत्र एवं स्मृति चिन्ह प्रदान किया गया। कार्यशाला के उपरांत एडीपीओ श्री अमित जैन ने आभार व्यक्त किया।

अतरिक्त / प्रभारी जिला अभियोजन अधिकारी श्री शिव संजय,  सागर ने बताया कार्यशाला का आयोजन अभियोजन अधिकारियों की दक्षता संबर्धन हेतु किया गया था जिसमे सागर संभाग के सभी जिलों के अभियोजन अधिकारियो के द्वारा भाग लिया गया। कार्यशाला  निश्चित ही सभी अधिकारियों की के लिए  उपयोगी होगी जिससे दोषसिद्धि का प्रतिशत बढेगा।

   
---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें


नौरादेही अभ्यारण : प्रभावित लोगों का शत-प्रतिशत होगा विस्थापन : कलेक्टर

Archive