SAGAR : 8000 से अधिक व्यक्तियों ने कोरोना से जीती जंग ,आत्मबल और मनोबल बनाए रखें

रविवार, 2 मई 2021

म्यूटेशन के चलते कोरोना संक्रमण ज्यादा घातक: डॉक्टर सरमन सिंह

म्यूटेशन के चलते कोरोना संक्रमण ज्यादा घातक: डॉक्टर सरमन सिंह

साग़र। डॉ हरिसिंह गौर  केंद्रीय विश्वविद्यालय सागर द्वारा भारत में करोना संक्रमण की दूसरी लहर के मद्देनजर विश्वविद्यालय परिवार तथा आम जन के मन में भय और आशंकाओं को दूर करने के लिए तथा उनमें सकारात्मक भावना उत्पन्न करने के लिए विश्वविद्यालय अंतर्गत स्वास्थ्य एवं स्वच्छता विभाग, यूनिवर्सिटी सैनिटाइजेशन कमेटी तथा टीएलसी के संयुक्त तत्वाधान में एक ऑनलाइन परिचर्चा 'कोविड टू कोविन' का आयोजन किया गया । 
कार्यक्रम में मेडिकल स्पेशलिस्ट के रूप में प्रोफेसर डॉ सरमन सिंह, एम्स भोपाल के निदेशक एवं सीईओ उपस्थित थे। विश्वविद्यालय के कुलसचिव श्री संतोष सोहगौरा ने प्रोफेसर सरमन सिंह से कोविड से संबंधित विश्वविद्यालय परिवार के सदस्यों की ओर से तथा आम जनता के मन में उठने वाले सवालों को प्रस्तुत किया, जिसका उन्होंने सरल सभी में जवाब दिया। प्रोफेसर सरमन सिंह ने कोविड-19 से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारियां साझा करते हुए बताया कि कॉविड के ईलाज के दौरान स्टीरियड दवाई का इस्तेमाल डॉक्टरी सलाह पर ही करना चाहिए। कोई भी इलाज लेने से पहले चाहे वो ऑक्सीजन देना ही क्यों न हो अपने डॉक्टर से सलाह लेना बहुत जरूरी होती है। उन्होंने बताया कि कोविड-19 के संक्रमण से ठीक होने के उपरांत किसी भी व्यक्ति को बहुत मेहनत वाले व्यायाम कम से कम ४ से ६ महीने तक नहीं करने चाहिए। संक्रमण के बाद कुछ समय के लिए हल्का-फुल्का व्यायाम और योग काफी होता है ।

डायबिटीज और  बीपी वाले मरीजों में कोरोना ज्यादा घातक होता है। ये संक्रमण दिल और रक्त वाहिनी कैपिलरी में असर डालता है। कोविड-19 के टीकाकरण से संबंधित कई सवाल एवं भ्रांतियों को उन्होंने दूर किया जैसे कि कोई भी कंपनी का टीका उपलब्ध हो उस टीके के दोनों डोज लगवा लेना चाहिए। कोविड-19 से संक्रमित व्यक्ति ठीक होने के उपरांत कम से कम 3 से 4 हफ्ते के बाद ही टीका लगवाना चाहिए।

विश्वविद्यालय के कुलसचिव श्री संतोष सोहगौरा ने व्यापक तरीके से आम लोगों के सवालों को प्रोफेसर सिंह के समक्ष प्रस्तुत किया और पूछा की यदि बच्चों में कोविड संक्रमण होता है उसे कैसे पहचाने और क्या-क्या करना चाहिए ।क्यों यह वायरस इतना घातक है जैसे कई बिंदुओं पर चर्चा की।  इस पर उन्होंने कहा कि यदि बच्चों पर यह संक्रमण होता है तो तुरंत ही शिशु रोग विशेषज्ञ को दिखाना चाहिये। यह वायरस इसलिए इतना घातक है क्योंकि यह भारत में ये म्यूटेशन के कारण बहुत संक्रामक हो गया है।

जब श्री सोहगौरा ने घर में एसी चलाने के संबंध में पूछा तो उन्होंने कहा कि घर में एसी कूलर चलाने में कोई दिक्कत नहीं है ।जहां सेंट्रल एसी है वहां एसी चलाने से खतरा है सेंट्रल एसी वाले कक्ष में कोरोना वायरस को मारने वाली तकनीकों का उपयोग करना चाहिए।

स्टीम या भाप लेने के बारे में जब पूछा तो उन्होंने कहा कि यदि आप कहीं बाहर से आते हैं तो भाप लेना चाहिए ।नाक में वायरस है तो वह नष्ट हो जाएगा ।गले या फेफड़े तक पहुंचने के बाद भाप का फायदा नहीं है। 3 बार से ज्यादा भाप ना लें । गर्गल भी दो या तीन बार ही करें।
उन्होंने कहा कि यदि किसी व्यक्ति के ऑक्सीजन का स्तर सामान्य है तो सीटी स्कैन कराने की जरूरत नहीं है। ऐसे मरीजों को रेमदेसीविर दवा की भी जरूरत नहीं है। ऑक्सीजन का स्तर ९० से ९३ के बीच  है या मामूली लक्षण की श्रेणी में आता है वह घर में भी ठीक हो सकता है। वह व्यक्ति अपने आप को आइसोलेट कर ले।

 अंत में संक्रमण से बचने के लिए डॉक्टर सिंह ने कहा कि आज भी कारगर दवा फेस मास्क और 2 गज की दूरी बनाए रखना है। उन्होंने कोविड टीकाकरण को अधिक व्यापक करने की बात कही।


तीनबत्ती न्यूज़. कॉम
के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे


ट्वीटर  फॉलो करें


वेबसाईट


 इस कार्यक्रम में विश्वविद्यालय की कुलपति प्रोफेसर जनक दुलारी ने अपने स्वागत संबोधन में सभी लोगों से कोविड-19 से संबंधित नियमों का पालन करने का आग्रह किया और  कहा स्थानीय सागर जिला  प्रशासन की मदद करते हुए  विश्वविद्यालय का ऑक्सीजन स्टोरेज टैंक एवं स्टेडियम देकर विश्वविद्यालय ने कोरोना काल में अपनी सहभागिता के बारे में अवगत कराया। विश्वविद्यालय स्वास्थ्य विभाग की प्रभारी डॉ किरण माहेश्वरी ने डॉक्टर प्रोफेसर सरमन सिंह का संक्षिप्त परिचय प्रस्तुत किया तथा विश्वविद्यालय की ओर से कई चिकित्सकीय सवाल पूछे l

विश्वविद्यालय सेनिटाइजेशन कमेटी के अध्यक्ष प्रोफेसर आरके त्रिवेदी ने करना काल में विश्वविद्यालय परिसर में किए गए कार्यों पर प्रकाश डाला । कार्यक्रम में टीएलसी के कोऑर्डिनेटर डॉ संजय शर्मा ने दर्शकों की ओर से कोरोना से संबंधित सवाल डॉक्टर सरमन सिंह से किए जिसका उन्होंने बड़े ही आसान तरीके से जवाब दिया।कार्यक्रम का संचालन डॉक्टर आशुतोष द्वारा किया गया।

डॉक्टर भूपेंद्र कुमार पटेल ने आभार व्यक्त किया। उक्त कार्यक्रम में विश्वविद्यालय के समस्त शिक्षक गण अधिकारी गण, कर्मचारी गण और काफी संख्या में विद्यार्थीगण शामिल हुए। उक्त कार्यक्रम का फेसबुक पर लाइव प्रसारण किया गया जिसमें देश भर के कई लोगो ने सहभागिता निभाई तथा  प्रोफेसर सरमन सिंह से कोविड से संबंधित प्रश्न पूंछे.।


---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें


SAGAR: जिला अस्पताल में 10 दिन में तैयार हो जाएगा ऑक्सीजन प्लांट , 100 बिस्तरों को रोज मिलेगी ऑक्सीजन

Archive