SAGAR : 8000 से अधिक व्यक्तियों ने कोरोना से जीती जंग ,आत्मबल और मनोबल बनाए रखें

रविवार, 2 मई 2021

वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व मंत्री बृजेन्द्र सिंह राठौर का दुखद निधन, ★ राजनीति का लंबा सफर तय किया था स्व राठौर ने

वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व मंत्री बृजेन्द्र सिंह  राठौर का दुखद निधन,

★ राजनीति का लंबा सफर तय किया था स्व राठौर ने

टीकमगढ़। बुन्देलखण्ड अंचल के प्रभावशाली कांग्रेस नेता , पूर्व आबकारी मन्त्री और पृथ्वीपुर से विधायक ब्रजेन्द्र सिंह राठौर का आज कोरोना संक्रमण के चलते भोपाल के चिरायु हॉस्पिटल में इलाज के दौरान दुखद निधन हो गया। उनके निधन पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, पूर्व सीएम कमलनाथ सहित अनेक नेताओं ने गहरा शोक व्यक्त किया है। 

पूर्व मंत्री स्व राठौड़  दमोह उप चुनाव में कांग्रेस के प्रभारी थे और वहां उन्होंने बहुत मेहनत की थी । आज दमोह उप चुनाव में हुई कांग्रेस के जीत के शिल्पकार वही थे लेकिन इसी दौरान वे वहां कोरोना संक्रमित हो गए । हालत बिगड़ने पर उन्हें ग्वालियर के सिम्स हॉस्पीटल में शिफ्ट किया गया था । यहा से वे वापिस निबाड़ी चले गए लेकिन वहां फिर उनकी हालत बिगड़ गई तो उन्हें झांसी के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया लेकिन जब हालत में सुधार नही हुआ तो पूर्व सीएम कमलनाथ के आग्रह पर उन्हें एयर एंबुलेंस से भोपाल ले जाया गया जहां चिरायु अस्पताल में उनको भर्ती कराया गया था लेकिन वहां भी उनकी हालत में सुधार नही हुआ और आज उनका असमयिक दुःखद निधन हो गया।

तीनबत्ती न्यूज़. कॉम
के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे


ट्वीटर  फॉलो करें


वेबसाईट


बु देलखण्ड अंचल को बड़ी क्षति, विरासत में मिली राजनीति


कमलनाथ सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे पृथ्वीपुर के विधायक बृजेंद्र सिंह राठौर को राजनीति विरासत में मिली। चार बार विधायक चुने गए। पांचवीं बार की जीत उनके जीवन में यादगार रहेगी। 

63 वर्षीय राठौर टीकमगढ़ और निवाड़ी जिले के इकलौते कांग्रेसी विधायक हैं। इस बार उन्होंने पृथ्वीपुर में भाजपा की जमानत जब्त करा दी है। दोनों जिलों की पांचों विधानसभा सीटों में से सिर्फ एक पर कांग्रेस विजयी हुई है। पृथ्वीपुर से भाजपा उम्मीदवार और पार्टी के जिलाध्यक्ष डॉ. अभय यादव को लगभग दस हजार वोट से ही संतुष्ट होना पड़ा है। प्रदेश में यह एकमात्र ऐसी सीट है, जहां भाजपा की जमानत जब्त हो गई है। यहां भाजपा तीसरे नंबर पर रही। बृजेंद्र सिंह ने समाजवादी पार्टी के डॉ. शिशुपाल यादव को 7 हजार से अधिक वोटों से हराया है।

1980 से राजनैतिक शुरुआत
हायर सेकंडरी पास बृजेंद्र की राजनैतिक शुरुआत 1980 से हुई। सबसे पहले वे जिला युवक कांग्रेस के अध्यक्ष बनाए गए थे। इसके बाद उन्होंने कभी पीछे लौटकर नहीं देखा। 1981 में पृथ्वीपुर जनपद पंचायत के अध्यक्ष निर्वाचित हुए। इसके बाद एक बार फिर जनपद अध्यक्ष चुने गए। राठौर को मुख्यमंत्री कमलनाथ और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का नजदीकी माना जाता है। वे 1993 और 1998 में निवाड़ी विधानसभा से निर्दलीय चुनाव जीते थे। वर्ष 2003 में निवाड़ी से ही कांग्रेस के टिकट पर चुनाव जीते। 2008 में पृथ्वीपुर नई विधानसभा बनी, जिसमें बृजेंद्र सिंह विधायक चुने गए। 2013 में पूर्व मंत्री सुनील नायक की प|ी भाजपा की अनीता नायक से लगभग 8 हजार वोट से चुनाव हार गए थे।

पिता स्वतंत्रता संग्राम सेनानी रहे
उनके पिता स्वर्गीय अमर सिंह राठौर स्वतंत्रता संग्राम सेनानी थे व कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रहे। बृजेंद्र को राजनीति विरासत में मिली है। उनका जन्म 1 जनवरी 1957 को जेर गांव में हुआ था। प|ी मीरा गृहणी हैं। उनका एक पुत्र नितेंद्र सिंह हैं।1987 में वैद्यराज की उपाधि ली
बृजेंद्र सिंह ने सन 1973 में पृथ्वीपुर से हायर सेकंडरी परीक्षा उत्तीर्ण की। 1987 में इलाहाबाद के हिंदी विश्वविद्यालय से वैद्यराज की उपाधि ले आए। ।

---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें


SAGAR: जिला अस्पताल में 10 दिन में तैयार हो जाएगा ऑक्सीजन प्लांट , 100 बिस्तरों को रोज मिलेगी ऑक्सीजन

Archive