बुधवार, 8 जनवरी 2020

प्रदूषित शहरों में शामिल सागर में पर्यावरण सुधारने प्रशासन सतर्क,झील में गंदगी फैलाने वालों पर सख्त कार्यवाही के निःर्देश दिये कमिश्नर ने

प्रदूषित शहरों में शामिल सागर में पर्यावरण सुधारने प्रशासन सतर्क,झील में गंदगी फैलाने वालों पर सख्त कार्यवाही के निःर्देश दिये कमिश्नर ने
सागर । केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की रिपोर्ट आने पर प्रदेश के सबसे प्रदूषित छह शहरों में शामिल सागर  में प्रदूषण नियंत्रण करने   और पर्यावरण के सुधार हेतु  संभागायुक्त आनंद शर्मा ने  प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड  की बैठक ली।
कमिश्नर ने निःर्देश दिए कि लाखा बंजारा झील किनारे बने प्रतिष्ठानों द्वारा की जा रही गंदगी फैलाने पर सख्त कार्यवाही करें । इस अवसर कलेक्टर श्रीमती प्रीति मैथिल नायक, अपर कलेक्टर श्री मूलचंद वर्मा, निगम कमिष्नर  आरपी अहिरवार सहित विभिन्न विभागों के विभाग प्रमुख उपस्थित थे।
उक्त बैठक का आयोजन केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा भारत के विभिन्न शहरों में वायु गुणवत्ता हेतु सर्वे कराया गया था। जिसमें देष के 103 शहरों में वायु प्रदूषण अधिक पाया गया। जिनमें मध्यप्रदेष के 6 शहर सागर, भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, उज्जैन, देवास शामिल थे। वायु प्रदूषण को नियंत्रण करने के उद्देष्य से विभाग को कमिष्नर श्री शर्मा ने निम्न निर्देष दिए। जिनमें प्रमुख रूप से व्यावसायिक डीजल वाहनों पर पूर्णतः प्रतिबंध लगाया जाए। वाहनों के प्रदूषण की नियमित जांच, पैट्रोल पंपों पर पैट्रोल, डीजल की नियमित जांच, मल्टी लेवल पार्किंग का निर्माण, रोड डस्ट मषीन के द्वारा सफाई, शहर में खाली पड़ी जगहों पर हरी घांस एवं वृक्षारोपण करना। व्यावसायिक प्रतिष्ठानों पर कोयला, डीजल भट्टी का पूर्णतः प्रतिबंध कर सीएनजी एवं गैस का उपयोग करने के निर्देष, मकान निर्माण के समय पर्दा लगाकर कार्य कराएं, ई-वाहनों को प्रोत्साहित किया जाए एवं ई-वाहनों की चार्जिंग हेतु सर्विस स्टेषन निर्मित किए जाए।
झील में  गंदगी फैलाने वालों पर सख्त कार्यवाही 
श्री शर्मा ने विभाग को निर्देष देते हुए कहा कि लाखा बंजारा झील किनारे बने व्यावसायिक प्रतिष्ठानों एवं निजी आवासों के द्वारा झील में सीधे तौर पर सीवरेज का गंदा पानी मिलाने वालों पर सख्त कार्यवाही करें। उन्होंने साथ ही कहा कि आवष्यकतानुसार उनको बंद करने की कार्यवाही भी करें। उन्होंने सड़क निर्माण के समय जल छिड़काव करने के भी निर्देष दिए।

कलेक्टर श्रीमती प्रीति मैथिल ने निर्देष दिए कि वायु, ध्वनि, जल एवं अन्य प्रदूषण करने वालों पर सख्ती से कार्यवाही करें जिससे प्रदूषण को रोका जा सके। उन्होंने कहा कि अभी शहर में प्रातः 7 बजे से रात्रि 11 बजे तक भारी वाहनों की नो-एन्ट्री रहती है। सड़क सुरक्षा समिति की बैठक में फैल रहे प्रदूषण को लेकर चर्चा कर कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी को निर्देष दिए कि शहर के प्रमुख स्थानों पर पीयूसी वैन के द्वारा वाहनों के प्रदूषण को मापा जाए।  इस अवसर पर क्षेत्रीय अधिकारी प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड  एसपी झा, श्री प्रदीप शर्मा,  एसके जैन,  हरिषंकर जयसवाल उपस्थित थे।

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें


नौरादेही अभ्यारण : प्रभावित लोगों का शत-प्रतिशत होगा विस्थापन : कलेक्टर

Archive