जंय श्री गणेशाय नमः

रविवार, 29 अगस्त 2021

बिजली का पर्याप्त उत्पादन नही ,गहराया बिजली संकट ★ जितनी बिजली उतना दाम की तर्ज पर हो बसूली : पूर्व मंत्री सुरेन्द्र चौधरी

बिजली का पर्याप्त उत्पादन नही ,गहराया बिजली संकट

★ जितनी बिजली उतना दाम की तर्ज पर हो बसूली : पूर्व मंत्री सुरेन्द्र चौधरी



सागर। सारणी पावर प्लांट, सिंगाजी पावर प्लांट एवंबिरसिंहपुर पावर प्लांट की कुछ इकाइयों में बिजली का उत्पादन बंद हो गया है।जिस कारण प्रदेश के साथ साथ सागर जिले में भी इसका असर रहा। कई जगह लोगो ने बिजली विभाग के दफ्तर को घेरा और जमकर नारेबाजी भी की। उधर कांग्रेसन शिवराज सरकार को घेरा। सम्भागीय मुख्यालय सागर पर भी कई इलाकों की बिजली बंद रही। 

विभाग के मुताबिक  रहली संभाग के अंतर्गत रहली, गढ़ाकोटा, देवरी, केसली, गौरझामर, महाराजपुर में बिजली की संकट गहरा गया है।  उच्च स्तर परसतत प्रयास से पुनः बिजली उत्पादन प्रारम्भ करने हेतु कार्य प्रारम्भ हैं, किसी भीक्षेत्र में कभी भी बिजली की लोड शेडिंग के लिये बिजली बंद हो सकती है, ऐसे में कार्यपालन अभियंता उमाशंकर पाराशर द्वारा सम्मानीय उपभोक्ताओं से अपीलकी है कि इस संकट की घडी में धैर्य के साथ कार्य करें एवं बिजली रहने पर अपने आवश्यक कार्यों को पूरा कर लें साथ ही संकट की इस घडी में कम्पनी का साथ दें। शीघ्र ही इस संकट का समाधान करते हुए समस्या का हल करने हेतु प्रयास जारी हैं एवं शीघ्र सफलता प्राप्त होगी।


कांग्रेस ने बिजली कटौती को लेकर शिवराज सरकार को जमकर घेरा

 मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री श्री सुरेन्द्र चौधरी ने  शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रो में लगातार की जा बिजली कटौती को लेकर शिवराज सरकार को जमकर घेरते हुए पूछा है कि आमजनों को  लंबे चौड़े बिजली बिल क्यों थमाई जा रहे हैं? उन्होंने कहा कि म.प्र. की शिवराज सरकार ने  विज्ञापन जारी कर " हमारा संकल्प सस्ती और निर्बाध बिजली " का नारा दिया था, लेकिन कोरोना से प्रभावित  आमजनों को लगातार भारी भरकम बिजली बिल भेजे जा रहे हैं । जिन्हें चुकाने में आम उपभोक्ताओ को आर्थिक बोझ के तले दवना पड़ रहा है। कोरोना के चलते आम लोगों के पास पर्याप्त रोजगार के साधन नहीं रहे है। बावजूद इसके शिवराज सरकार मनमाने बिलों की वसूली करने पर उतारू है। श्री चौधरी ने कहा कि जब मध्य प्रदेश सरकार यह कहती है कि उनके पास 21232 मेगावाट बिजली उपलब्ध है तो म.प्र. में लगातार बिजली कटौती क्यों कि जा रही है। उन्होंने कहा कि  मान.कमलनाथ जी की  सरकार में 100 रुपए में 100 यूनिट तक बिजली दी जा रही थी, लेकिन जब से मध्यप्रदेश में बीजेपी की सरकार आई है तब से बिजली कटौती भी बढ़ी है और बिल भी भारी-भरकम दिए जा  रहे हैं। श्री चौधरी ने माँग करते हुए  चेतावनी देते हुए कहा कि शहरी और ग्रामीण क्षेत्रो में की जा रही अघोषित बिजली कटौती बंद कर आमजनों को पर्याप्त बिजली दी जावे तथा बिजली के भारी भरकम बिलों की वसूली तत्काल बंद कर जितनी बिजली उतना दाम की तर्ज पर वसूली की जावे अन्यथा की स्थिति में कांग्रेस पार्टी सड़कों पर उतरेगी जिसका संपूर्ण उत्तरदायित्व शासन /  प्रशासन का होगा।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Archive