रानगिर की माँ हरसिद्धि माई

शनिवार, 25 सितंबर 2021

विश्वविद्यालय केवल परीक्षा केंद्र न रहे बल्कि उत्कृष्ट अध्ययन एवं शोध केंद्र बने- कुलपति ★ डॉक्टर हरीसिंह गौर केंद्रीय विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. नीलिमा गुप्ता ने किया पदभार ग्रहण

विश्वविद्यालय केवल परीक्षा केंद्र न रहे बल्कि उत्कृष्ट अध्ययन एवं शोध केंद्र बने- कुलपति 

★ डॉक्टर हरीसिंह गौर केंद्रीय विश्वविद्यालय की कुलपति  प्रो. नीलिमा गुप्ता ने किया पदभार ग्रहण  

सागर।  डॉक्टर हरीसिंह गौर विश्वविद्यालय, सागर की नव नियुक्त कुलपति प्रो. नीलिमा गुप्ता ने आज कार्यभार ग्रहण कर लिया है. विश्वविद्यालय के संस्थापक डॉ. गौर की समाधि पर पुष्पांजलि अर्पित करने के बाद प्रो. गुप्ता ने नवीन प्रशासनिक भवन स्थित कुलपति कार्यालय में निवर्तमान कुलपति प्रो. जनक दुलारी आही से कार्यभार ग्रहण किया. इस अवसर पर विश्वविद्यालय के कुलसचिव संतोष सोहगौरा, प्रो. हेरेल थॉमस, प्रो. अम्बिकादत्त शर्मा, प्रो. गिरीश मोहन दुबे, प्रो. आशीष वर्मा, उपकुलसचिव सतीश कुमार, मीडिया अधिकारी डॉ. विवेक जायसवाल एवं विश्वविद्यालय के कई शिक्षक, अधिकारी और कर्मचारी मौजूद रहे. कार्यभार संभालने के उपरान्त अपने पहले संबोधन में कुलपति प्रो. नीलिमा गुप्ता ने कहा कि यह मेरे लिए अत्यंत सौभाग्य की बात है मुझे डॉक्टर हरीसिंह गौर द्वारा स्थापित इस पावन शिक्षा के मंदिर में कार्य करने अवसर प्राप्त हुआ है. विश्वविद्यालय परिसर में मैं महान दानी सर डॉ. हरीसिंह गौर साहब की उपस्थिति को महसूस कर रही हूँ.  मैं उनके सपनों के अनुरूप इस विश्वविद्यालय को अधिकतम ऊंचाई पर ले जाने का हरसंभव प्रयास करूंगी. 
 
 उत्कृष्ट एवं महत्त्वपूर्ण संस्थाओं  से अकादमिक साझेदारी होगी पहली प्राथमिकता  : कुलपति

★ विश्वविद्यालय के प्रशासनिक अधिकारियों के साथ की बैठक 


डॉक्टर हरीसिंह गौर विश्वविद्यालय में कार्यभार ग्रहण करने के बाद नव नियुक्त कुलपति प्रो. नीलिमा गुप्ता ने विश्वविद्यालय के प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बैठक की. अधिकारियों से परिचय प्राप्त करते हुए उन्होंने विश्वविद्यालय में किये जा रहे कार्यों के बारे जाना. उन्होंने कहा कि देश-विदेश की महत्त्वपूर्ण और उत्कृष्ट संस्थाओं से हमारा विश्वविद्यालय साझेदारी स्थापित करेगा जिससे हम ज्ञान के विभिन्न क्षेत्रों में होने वाले नवाचारों को साझा कर सकेंगे. अकादमिक एवं प्रशासनिक ये दो क्षेत्र विश्वविद्यालय को सुचारू रूप से संचालन के दो  महत्त्वपूर्ण घटक हैं. हम विश्वविद्यालय परिवार के सहयोग से दोनों महत्त्वपूर्ण क्षेत्रों में काम करते हुए उत्कृष्टता हासिल करेंगे. उन्होंने कहा कि भारत सरकार की मंशा के अनुरूप राष्ट्रीय शिक्षा नीति को लागू करते हुए कई स्किल बेस्ड प्रोग्राम बनायेंगे जिसका लाभ हमारे समाज को भी होगा. इन सबके साथ ही विश्वविद्यालय अपनी सामाजिक प्रतिबद्धता के संकल्प का भी निर्वाह करता रहेगा. हम संसाधन संपन्न संस्था हैं और हमें इस पर गर्व होना चाहिए. जहां कहीं भी कमी होगी हम सब मिलकर एक नई ऊर्जा के साथ उन कमियों को पूर्ण करते हुए विश्वविद्यालय को आगे बढ़ाएंगे. बैठक के अंत में विश्वविद्यालय के कुलसचिव संतोष सोहगौरा ने आभार ज्ञापन किया.   
 

तीनबत्ती न्यूज़. कॉम

के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे




ट्वीटर  फॉलो करे



वेबसाईट


विश्वविद्यालय केवल परीक्षा केंद्र न रहे बल्कि उत्कृष्ट अध्ययन एवं शोध केंद्र बने- कुलपति 

डॉक्टर हरीसिंह गौर केंद्रीय विश्वविद्यालय, सागर  की नव नियुक्त कुलपति प्रो. नीलिमा गुप्ता ने पत्रकारों से चर्चा में कहा कि मेरी पहली प्राथमिकता भारत सरकार के स्वप्न-परियोजना 'राष्ट्रीय शिक्षा नीति' के अनुरूप विश्वविद्यालय की अकादमिक संरचना को और अधिक गुणवत्तापूर्ण बनाने पर होगी. हम स्किल बेस्ड प्रोग्राम बनायेंगे जिसका लाभ हमारे समाज को भी होगा. कोविड महामारी के कारण हमारी शिक्षा प्रणाली में नया बदलाव आया है. इस चुनौतीपूर्ण स्थितियों में भी विश्वविद्यालय अध्ययन-अध्यापन के लिए कटिबद्ध है. मेरा पूरा प्रयास रहेगा कि हमारे विश्वविद्यालय के शिक्षक, अधिकारी, कर्मचारी, विद्यार्थी सौ प्रतिशत वैक्सीनेटेड हों.   


उन्होंने कहा कि हम एन. आई. आर. एफ. रैंकिंग के मानकों के विभिन्न क्षेत्रों में जरुरी काम करेंगे. कन्सल्टेन्सी, परीक्षा, शोध आदि जैसे महत्त्वपूर्ण मानको को दृष्टिगत रखते हुए अन्य कमियों को दूर करने पर प्रयास करेंगे. विश्वविद्यालय की प्रतिष्ठा जिस किसी भी माध्यम से बढ़ेगी, हम प्रत्येक क्षेत्र में अच्छा काम करने का प्रयास करेंगे. मानव संसाधन और भौतिक संसाधनों को बढ़ाने के लिए व्यवस्थित एवं प्रभावी कदम उठाये जायेंगे.         
 
उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय में अध्ययन करने वाली लड़कियों का स्वास्थ्य बेहतर रहे इसके लिए भी हम कई संसाधन जुटाएंगे और कई कार्यक्रमों को लागू करेंगे. खेल गतिविधि में हमारे विश्वविद्यालय को कार्य करने की आवश्यकता है. खेल संसाधनों को बढ़ाने के साथ-साथ स्वास्थ्य एवं खेल संबंधी पाठ्यक्रमों की भी शुरुआत की जायेगी. विश्वविद्यालय को 'फिट इण्डिया मूवमेंट' से जोड़ा जाएगा. 'स्वच्छ भारत अभियान' के माध्यम से भी हमारा विश्वविद्यालय सामुदायिक और सामाजिक प्रतिबद्धता का कर्त्तव्य निर्वहन करेगा.
कुलपति ने विवि के मानव विज्ञान विभाग में विवादित वेबिनार और शिक्षकों के विवाद पर कहा कि यह दुखद है भविष्य में  विवि में ऐसी स्थिति नही बने इसका ध्यान रखा जाएगा। विवि के विकास के लिए शहर के लोगो से संवाद किया जाएगा।
 इस अवसर पर विश्वविद्यालय के कुलसचिव संतोष सोहगौरा, उपकुलसचिव सतीश कुमार और मीडिया अधिकारी डॉ. विवेक जायसवाल उपस्थित थे.


---------------------------- 







तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885



--------------------------



1 comments:

Archive