रविवार, 17 अप्रैल 2022

SAGAR : आंगनबाडी कार्यकर्ताओं की मौत के जिम्मेदार अधिकारियों को बर्खास्त करने में देरी क्यों : पूर्व मंत्री पी.सी. शर्मा

SAGAR : आंगनबाडी कार्यकर्ताओं की मौत के जिम्मेदार अधिकारियों को बर्खास्त करने में देरी क्यों : पूर्व मंत्री पी.सी. शर्मा


सागर । 42 दिनों से तप्ती धूप में हडताल कर रही आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं सहायिकाओं की हड़ताल को समर्थन करने आज मध्यप्रदेश शासन के पूर्व केबिनेट मंत्री डॉ. पी.सी. शर्मा, कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता भूपेन्द्र गुप्ता,  महिला काँग्रेस की अध्यक्ष भोपाल की पूर्व महापौर विभा पटैल, सहित स्थानीय कांग्रेसी नेताओं ने पहुंचकर आंदोलन का समर्थन किया और अंागनबाडी कार्यकर्ताओं की मौत पर दुख जताया। जिस पर आंदोलनकारी आंगनबाडी कार्यकर्ता संघ अध्यक्ष श्रीमती लीला शर्मा ने मुख्यमंत्री के नाम संबोधित ज्ञापन पूर्व मंत्री डॉ. पी.सी. शर्मा को सौपा। वहीं समाजवादी पार्टी के प्रदेश सचिव डॉ. आशिक अली, जिलाध्यक्ष सुदंरलाल यादव, एड. कृष्णकांत रॉय, रिजवान खान आदि ने भी पहुंचकर हडताल का समर्थन करते हुए प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर भडास निकाली। आम आदमी पार्टी से एड.. के.के. प्रजापति सहित कई कार्यकर्ताओं ने हडताल का समर्थन करते हुए  मानसिक प्रताडना के चलते हुई आंगनबाडी कार्यकर्ताओं की मौत पर आक्रोश जताया। 



पूर्व केबिनेट मंत्री डॉ. पी.सी. शर्मा ने महिला बाल विकास विभाग के अधिकारियों की प्रताडना से आंगनबाडी कार्यकर्ता शहनाज बानों, सहायिका राजकुमारी अहिरवार की मौत पर चिंता जताते हुए प्रदेश सरकार से प्रताडना देने वाले महिला बाल विकास विभाग के अधिकारियों को बर्खास्त करने की मांग की। उन्होनें कहा कि शहनाज बानों की मौत को आज तीसरा दिन है फिर भी सरकार ने उन्हें बर्खास्त नहीं किया। उन्होनें आंगनबाडी कार्यकर्ताओं को शासकीय वेतन भोगी घोषित किए जाने अनुकम्पा नियुक्ति का लाभ दिये जाने आयु सीमा का बंधन समाप्त करने सहित मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा रिटायरमेंट के बाद की गई कार्यकर्ता को 1 लाख सहायिका को 75 हजार रूपये दिये जाने की घोषणा पर अमल करने का कहा। उन्होनें कहा कि मुख्यमंत्री महिलाओं के जनकल्याण की झूठ घोषणा करते रहते है। 



प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता भूपेन्द्र गुप्ता ने कहा कि महिलाओं के हित का डिण्डोरा पीठने वाली शिवराज सरकार 42 दिनों से तप्ती धूप में कर रही हडताल पर मूक दर्शक क्यों बने है। क्यों अपनी की गई घोषणा पर अमल करने में पीछे भाग रहे है। भोपाल की पूर्व महापौर श्रीमती विभा पटैल ने कहा कि यदि आंगनबाडी कार्यकर्ताओं की मांगों को सरकार पूरा नहीं करती तो पूरे प्रदेश में महिला कांग्रेस शिवराज सरकार के खिलाफ आंदोलन करेगी। 



उन्होनें आंगनबाडी कार्यकर्ताओं की मांगों पर कहा कि शासकीय विभागों से कई गुना काम करने वाली आंगनबाडी कार्यकर्ताओं के केन्द्र सरकार द्वारा दिये गये 1500 रूपये भी शिवराज सरकार ने 4 साल वीत जाने के बाद भी नहीं दिए। हडताल में शिवसेना उपराज्य प्रमुख पप्पू तिवारी, संगठन प्रमुख हेमराज आलू, सचिन जैन, कमलेश तिवारी, नीलमणि यादव, विशाखा, रानी रजक, सुषमा चढार, ऋषभ परमार, किरण तिवारी, पार्वती शर्मा, कमला पटैल, ज्योति जैन, रजनी रॉय, वंदना गौर, सरोज कुशवाहा, विजय पटैल, सीमा पटैल, रश्मि ठाकुर, मुन्नी सेन, मीना पाण्डेय, लक्ष्मी सेन, प्रेमरानी प्रजापति, विमला पाण्डेय, कृष्णा सेन, लीला सरोज, प्रभा चौरसिया, रूकमणी अर्चना खरे, कीर्ति पटैल, उमाबाई, गायत्री चौरसिया, वंदना सूर्यवंशी, यशोदा, इन्द्रा, हेमलता, अनीता चौबे, लीला गौर, पूजा यादव, विनीता राजपूत, शांति चौबे, माया रैकवार, रश्मि पाण्डेय, देशा दुबे, समीम वानों, मंजू अहिरवार, अरूणा जैन, सहित कांग्रेस प्रवक्ता डॉ. संदीप सबलोक, जिलाध्यक्ष शहर रेखा चौधरी, युवक कांग्रेस जिलाध्यक्ष राहुल चौबे, सेवादल अध्यक्ष सिन्टॅू कटारे, रक्षा राजपूत, पूर्व पार्षद महेश जाटव, कमलेश तिवारी, पप्पू गुप्ता, प्रर्मिला राजपूत, शरद पुरोहित, भावना रोहण, जितेन्द्र रोहण, सहित सैकडों की संख्या में कार्यकर्ता/सहायिका उपस्थित थी। 



0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Archive

Adsense