शनिवार, 23 अप्रैल 2022

जन्मभूमि का कर्ज हम कभी नहीं चुका सकतेः भूपेन्द्र सिंह★ बांदरी में गौरव दिवस का आयोजन*★प्रसिद्ध गायिका आशा वैष्णव के आनंदमयी भजनों से सजा बांदरी, भव्य आतिशबाजी हुई

जन्मभूमि का कर्ज हम कभी नहीं चुका सकतेः भूपेन्द्र सिंह
★ बांदरी में गौरव दिवस का आयोजन*
★प्रसिद्ध गायिका आशा वैष्णव के आनंदमयी भजनों से सजा बांदरी, भव्य आतिशबाजी हुई

बांदरी। बांदरी नगर का गौरव दिवस मेरे लिए संकल्प का दिवस है। आज मैं ये संकल्प लेता हूँ कि बांदरी में सभी गरीब परिवारों का खुद का पक्का मकान होगा, यहां के हर घर में नल की टोंटी से पानी पहुंचेगा, यहां का एक भी खेत ऐसा नहीं होगा जो सिंचाई योजना से न जुड़ा हो, यहां कोई भी भूखा नहीं सोएगा, हर युवा को रोजगार मिलेगा और पूरे क्षेत्र का चहुँमुखी विकास होगा। यह संकल्प नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेंद्र सिंह ने यहां बांदरी के गौरव दिवस समारोह को संबोधित करते हुए लिया है।समारोह नगर परिषद के गौरवशाली व्यक्तिवों के सम्मान, भव्य आतिशबाजी और राजस्थान से आईं प्रसिद्ध गायिका आशा वैष्णव के आनंदमयी भजनों से सजा था।
कार्यक्रम का आरंभ करते हुए मंत्री भूपेंद्र सिंह ने कहा कि बांदरी का गौरव दिवस आज हम इसलिए मना रहे हैं क्योंकि हर किसी का एक इतिहास होता है। हम अपना जन्मदिन, शादी की सालगिरह, बच्चों का जन्मदिन मनाते हैं। पर बांदरी जो हमारी जन्मभूमि है, जिस बांदरी में हमने जन्म लिया, जिस बांदरी में हम पले बढ़े, वह बांदरी हमारे लिए गौरव है। इसलिए यह बांदरी गौरव दिवस आज मनाने का निर्णय लिया गया।
     मंत्री श्री सिंह ने कहा कि हमारी जो जन्मभूमि होती है वो हमारा गौरव होता है, दुनिया में आदमी कहीं पर भी चला जाए पर जन्मभूमि का कर्ज कभी हम चुका नहीं सकते। इसलिए इस गौरव दिवस का मतलब ये है कि हमारे क्षेत्र के ऐसे वरिष्ठ जिन्होंने अपने जीवन में परिश्रम करके आज बांदरी शहर का एक नया स्वरूप प्रदान किया है। इसलिए बांदरी में गौरव दिवस हर वर्ष मनाया जाएगा क्योंकि ये हमारी जन्मभूमि है। श्री सिंह ने कहा कि हम बांदरी को हरा भरा बनाएंगे और वृक्ष लगाने का काम करेंगें। 


बांदरी गौरव दिवस समारोह के मंच से मंत्री भूपेंद्र सिंह ने नगर परिषद के गौरवशाली व्यक्तित्वों को शाल श्रीफल और प्रशस्तिपत्र से सम्मानित किया। इन गौरवशाली सम्मानितों में तुलसीराम लोधी आगासिर्स, हीरा सिंह बांदरी, राजाराम सिंह बांदरी, राम सिंह बमनोरा, पं. धनप्रसाद तिवारी बांदरी, रतिराम यादव आगासिर्स, हल्काई जी सादपुर, अमर सिंह आगासिर्स, रूप सिंह ठाकुर बांदरी, रूप सिंह लोधी बांदरी, राधेश्याम जी आगासिर्स, खूब सिंह जी आगासिर्स, धन सिंह जी बांदरी, बहादुर सिंह बांदरी, सीताराम जी बांदरी, नंदराम
 कुशवाहा सादपुर, दशरथ कुशवाहा सादपुर, दिलीप सिंह बांदरी, पूर्व सरपंच बांदरी यादव जी, रमेश अहिरवार बांदरी, निर्भय अहिरवार बांदरी, प्रीतम सिंह जी, दयाराम सेन पिथौली, कीरत सिंह परासरी, हरीसिंह पिथौली, रामप्रसाद आदिवासी अटाटीला, जालम सिंह अटाटीला, रामकिशन अहिरवार बांदरी, केशरी सिंह लोधी पिथौली, बालमुकुंद सेन बांदरी, राजू सिंह परासरी, अजुद्दी कुशवाहा पिठोरिया, जनक सिंह पहरगुंवा, बिहारी विश्वकर्मा पहरगुवां, हुकुम सिंह नेतना, गुमानचंद अहिरवार बांदरी, राजेन्द्र सिंह इमलिया, राजेन्द्र सिंह इमलिया, नारायण यादव बांदरी, हीरा सिंह लोधी बांदरी, बहादुर खान बांदरी, ललता आठिया जी, मुन्नालाल जी पूर्व नगर अध्यक्ष बांदरी, भीकम सिंह राजपूत, परासरी, श्रीराम रिछारिया बांदरी, बीएल तिवारी बांदरी, फूल सिंह ठाकुर बांदरी, गंगाराम यादव मूड़री, डीआर रोहित, बालमुकुंद साहू ललोई एवं मेधावी छात्र सुश्री श्रृद्धा शुक्ला, हेमराज सिंह, सरिता यादव, सुश्री रीना साहू, सुश्री शिखा यादव, सुश्री मोहनी जोशी शामिल रहे।


0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Archive

Adsense