शनिवार, 29 फ़रवरी 2020

एमपी ऑनलाईन कियोस्क के माध्यम से भू-अभिलेख की प्रतिलिपियां 2 मार्च से की जाएगी प्रदाय

एमपी ऑनलाईन कियोस्क के माध्यम से भू-अभिलेख की प्रतिलिपियां 2 मार्च से की जाएगी प्रदाय
सागर । आयुक्त भू-अभिलेख एवं बंदोबस्त म.प्र. ग्वालियर द्वारा भू-अभिलेख प्रति निर्धारित दरों पर भू-स्वामी को प्रदाय करने हेतु एमपी ऑनलाईन को प्राधिकृत सेवा प्रदाता नियुक्त कर, किया गया है जिसके तहत वेब जीआईएस सॉफ्टवेयर के माध्यम से आम नागरिकों को शासन द्वारा निर्धारित दरों पर एमपीऑनलाईन कियोस्क द्वारा भू-अभिलेख की प्रतिलिपियां प्रदाय करने हेतु अधिकृत किया गया है।
इस योजना के व्यापक प्रचार-प्रसार हेतु शासन द्वारा यह निर्णय लिया गया है कि यह कार्यवाही 2 मार्च को मध्यप्रदेष के समस्त जिलों में एमपी ऑनलाईन के समस्त कियोस्क पर समारोह पूर्वक प्रारंभ की जावे।
इस कार्यक्रम को जिला स्तरीय कार्यक्रम के रूप में आयोजित किया जाए, जिसमें कलेक्टर एवं अन्य अधिकारी उपस्थित रहेंगे। कलेक्टर द्वारा आवष्यकतानुसार शासकीय अधिकारी कर्मचारियों की ड्यूटी एमपी ऑनलाईन कियोस्क में आयोजन दिनांक को लगाई जाए। इस हेतु एमपी ऑनलाईन के जिला कॉर्डिनेटर समस्त जिले के एमपी ऑनलाईन कियोस्क की सूची कलेक्टर को प्रदाय करेंगे।
कार्यक्रम में स्थानीय जनप्रतिनिधि, मीडिया एवं गणमान्य नागरिकों तथा आमजन को आमंत्रित किया जाए तथा जनप्रतिनिधियों के माध्यम से ही भू-अभिले,ा की प्रतिलिपियां का विवरण किया जाए। शासन द्वारा भू-अभिलेख की निर्धारित दरों में एकसाला, पांच साला खसरा या खाता जमाबंदी, अधिकार अभिलेख, खेवट के लिए, वाजिब-उल-अर्ज, निस्तार पत्रक के लिए, ए-4 आकार में नक्षे की प्रति के लिए प्रथम पृष्ठ के लिए 30 रूपये फीस एवं प्रत्येक अतिरिक्त पेज के लिए फीस 15 रूपये है। शासन द्वारा निर्धारित इन दरों का व्यापक प्रचार-प्रसार  किया जाए तथा नकल वितरण केन्द्रों में इन दरों का फ्लेक्स भी लगाया जाए। जिससे भू-धारकों के हित में शासन द्वारा लिए गए निण्रय का व्यापक प्रचार-प्रसार हो सके।  
साथ ही  वेब जीआईएस सॉफ्टवेयर के माध्यम से कृषकों/भू-धारकों के हितों में चल रही योजनाओं की जानकारी भी इस कार्यक्रम आम जन को प्रदाय की जाए। खसरे में बंधक दर्ज करने हेतु वेब जीआईएस सॉफ्टवेयर में लॉगिन समस्त बैंको को दिए गए है। इस हेतु भूमि-स्वामी को तहसील कार्यालय में आकर बंधक दर्ज करने हेतु आवेदन देने की आवष्यकता नहीं है। नामांतरण, बंटवारा, बंधक के आदेष को खसरे में अमल कर भूमि-स्वामी को अविलंब प्रदाय कि जा सकता है। वेब जीआईएस सॉफ्टवेयर के माध्यम से व्यपवर्तन की सूचना एवं राजस्व भुगतान। भूमि धारकों द्वारा डिजीटली पोर्टल से सीधे ली जा सकती है। यह लिंक एमपी ऑनलाईन पोर्टल पर अनिवार्य रूप से प्रदर्षित की जाना है।

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें


नौरादेही अभ्यारण : प्रभावित लोगों का शत-प्रतिशत होगा विस्थापन : कलेक्टर

Archive