SAGAR : 8000 से अधिक व्यक्तियों ने कोरोना से जीती जंग ,आत्मबल और मनोबल बनाए रखें

शुक्रवार, 8 मई 2020

अपने घर आने की खुशी है प्रवासी मजदूरो को,दूसरे राज्यों में थे परेशान

अपने घर आने की खुशी है  प्रवासी मजदूरो को,दूसरे राज्यों में थे परेशान

सागर ।  अपने घर आने से प्रवासी मजदूर खुष हैं। प्रवासी मजदूरां का कहना है कि दूसरे प्रदेश में फंसकर परेषान थे। अब यहा आकर अच्छा लग रहा है। कोरोना वायरस के रोकथाम के लिये लॉकडाउन किया हुआ है। ऐसे में सारी गतिविधियां थम गई हैं। मध्यप्रदेष के बहुत सारे कामगार जो अन्य प्रदेषों में कार्य के सिलसिले में बाहर गए हुये थे। वापिस अपने घर लौटना चाहते थे। सार्वजनिक यातायात के साधन न होने से अपने आप को परेषान महसूस कर रहे थे। इस परेषानी को मध्यप्रदेष की सरकार ने समझा और सरकार के खर्चें पर मजदूरों को अन्य प्रदेषों से अपने प्रदेष में विषेष ट्रेन के माध्यम से लाया जा रहा है।

पढ़िए : सागर में कोविड 19 की सर्वे टीम से अभद्रता,सर्वे रजिस्टर फाड़ा, पुलिस में FIR दर्ज

 सागर रेल्वे स्टेषन पर हरियाणा के रेवाड़ी से प्रवासी मजदूरों को लेकर एक विषेष ट्रेन सुबह-सुबह पहुंची। इस ट्रेन में सागर सहित प्रदेष के 18 जिलों के प्रवासी मजदूर उतरे। इन्ही मजदूरों में से पन्ना जिले के अमानगंज निवासी युवा भी आए हैं वे यहां आकर खुष हैं। बस से पन्ना के लिये रवाना हो गए। इसी प्रकार छतरपुर जिले के गुलगंज के पास ग्राम के रहने वाले श्री टन्टू अहिरवार  हरियाणा में मिस्त्री का काम करते है। लॉकडाउन के बाद ही अपने घर आना चाहते थे। ट्रेन से उतरकर छतरपर की बस में सवार हो गए। बसों की व्यवस्था भी शासन द्वारा की गई। वे अपने घर जाते समय खुष थे। 

पढ़िए : सागर जिले में कोरोना से पहली मौत, बीना में बना कन्टेनमेट क्षेत्र
भाग्योदय तीर्थ के चिकित्साकर्मियों को किया होम कवारेन्टीन

श्री टन्टू प्रवासी मजदूरों को लाने के लिये मुख्यमंत्री श्री षिवराजसिंह चौहान ने निर्णय सराहना करते है। यात्रा के दौरान उन्हें कोई दिक्कत नही हुई। शासन द्वारा भोजन, पानी आदि की अच्छी व्यवस्था की गई थी। यही बात उनके साथ यात्रा कर रही कोषिया बाई भी कहती हैं।

---------------------------- 


तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885

-----------------------------

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें


SAGAR: जिला अस्पताल में 10 दिन में तैयार हो जाएगा ऑक्सीजन प्लांट , 100 बिस्तरों को रोज मिलेगी ऑक्सीजन

Archive