रानगिर की माँ हरसिद्धि माई

गुरुवार, 13 मई 2021

BHMS डाक्टरो ने उपेक्षा को लेकर दिया विधायक को ज्ञापन, शैलेंद्र जैन ने स्वास्थ्य मंत्री एवं चिकित्सा शिक्षा मंत्री से की चर्चा

BHMS डाक्टरो ने उपेक्षा को लेकर दिया विधायक को ज्ञापन,  शैलेंद्र जैन ने  स्वास्थ्य मंत्री एवं चिकित्सा शिक्षा मंत्री से की चर्चा

सागर। सागर विधायक शैलेंद्र जैन बीएचएमएस डिग्री धारी चिकित्सकों के समर्थन में आगे आए हैं। उनका कहना है कि बगैर डिग्री धारी चिकित्सकों पर आवश्यक रूप से कार्यवाही की जाना चाहिए परंतु जो डिग्री धारी चिकित्सक ग्रामीण अंचलों में और शहरी क्षेत्र में भी स्वास्थ्य सेवाएं देने का कार्य कर रहे हैं उन पर कोई कार्यवाही नहीं की जानी चाहिए। 
आज बीएचएमएस डिग्रीधारी चिकित्सकों ने विधायक शैलेंद्र जैन को एक ज्ञापन सौंपा गया था। ज्ञापन में इन चिकित्सकों द्वारा बताया गया है कि प्रशासन द्वारा हम चिकित्सकों से एनआरएचएम और covid 19 जैसे संस्थागत कार्यों में सेवाएं ली जा रही हैं। यहां पर हम एलोपैथिक दवाइयां लिख रहे हैं   किंतु निजी क्लीनिक पर एलोपैथिक दवाइयां लिखने पर कार्यवाही की जा रही है। इस तथ्य के आधार पर विधायक शैलेंद्र जैन ने चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग और स्वास्थ्य मंत्री प्रभु राम चौधरी से दूरभाष पर चर्चा की और इन चिकित्सकों का पक्ष मंत्रियों के समक्ष रखा। मंत्रीद्वय से विधायक जैन ने कहा कि इस कोरोना काल में डिग्री धारी चिकित्सक एक बड़े वर्ग को स्वास्थ्य सेवाएं देने का कार्य कर रहे है। चूंकि शासकीय सेवा में इन को लेकर एलोपैथिक दवाइयां दे रहे हैं परंतु निजी क्लीनिक पर यही दवाइयां देने पर इन पर कार्यवाही की जा रही है यह ठीक नहीं है। उन्होंने कहा मैं इन चिकित्सकों की मांगों का समर्थन करता हू और इस संबंध में मुख्यमंत्री जी से भी चर्चा करूंगा।

तीनबत्ती न्यूज़. कॉम
के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे


ट्वीटर  फॉलो करें


वेबसाईट


हमे झोलाछाप कहा जा रहा है....BHMS डाक्टर्स

इस मौके पर डक्टर्स ने कहा कि महामारी में भी उचित इलाज दे रहे हैं वही हम लोगों को झोलाछाप नाम देकर अपमानित किया जा रहा है जबकि हम लोग 5 साल की पढ़ाई करके डिग्री कंप्लीट की है इस तरह का व्यवहार यदि हम लोगों से किया जाता है तो हम लोग जल्द ही पूरे जिले के डॉक्टर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे।वही डॉक्टर नीलेंद्र राजपूत ने  कहा कि हम सभी आयुष डॉक्टर सरकार की दुहरी नीति को समझ नही पाते है एक ओर सरकार हम सभी चिकित्सक की आस्थायी नियुक्ति देकर हम से कोविड महामारी मैं कोविड केअर सेंटर, आर आर टी,एम एम यू,फीवर क्लिनिक, क्यारंटीन सेंटर मैं काम कराती है और दूसरी और अगर हम इस महामारी अगर अपनी क्लीनिक पर मरीजों की मदद कर रहे तो हमारी क्लिनिक पर छापामारी कराई जाती है
जबकि हम आयुष चिकित्सक( आयुर्वेद, होम्योपैथ) बहुत ही कम पैसे मैं सिर्फ और सिर्फ सेवा मात्र पैसे लेकर अपनी जान पर खेलकर इन मरीजों की सेवा मैं लगे हुए है।  हम लोग हर गांव मुहल्ला कस्वा जहाँ पर डॉक्टर तो छोड़ो दूर दूर तक एक नर्स का मिलना दूभर है ।  हम लोग वहां जाकर लोगो की सेवा में लगे हुए है। 
और हम लोगो के साथ दुर्व्यवहार करके हमको अपमानित किया जाता है। 


---------------------------- 





तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Archive