दानवीर , सागर विवि के संस्थापक डॉ हरि सिंह गौर की जयंती,26 नवम्बर ।

रविवार, 31 अक्तूबर 2021

सागर जिले में खाद का एक रेक आएगा ,मंत्री भूपेन्द्र सिंह के अनुरोध पर ★ खाद वितरण व्यवस्था में कसावट लाने बैठक कर अधिकारियों को दिए निर्देश

सागर जिले में खाद का एक रेक आएगा ,मंत्री भूपेन्द्र सिंह के अनुरोध पर
★ खाद वितरण व्यवस्था में कसावट लाने बैठक कर अधिकारियों को दिए निर्देश

सागर।  मध्यप्रदेश शासन के नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेन्द्र सिंह के अनुरोध पर सागर जिले में खाद का एक और रेक आ रहा है। मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने एसडीएम कार्यालय में बैठक लेकर खुरई और मालथौन ब्लाक में खाद वितरण व्यवस्था में कसावट लाने के निर्देश दिये हैं। 
     मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने खुरई और मालथौन ब्लाक में खाद वितरण की समीक्षा की। अधिकारियों से खाद की उपलब्धता की जानकारी लेते हुए उन्होंने बताया कि अतिरिक्त आवंटन कराने से सागर जिले में सबसे ज्यादा उपलब्धता खुरई क्षेत्र में है। उन्होंने भोपाल स्थित खाद नियंत्रण बोर्ड के अधिकारी से सेलफोन पर चर्चा की। मंत्री श्री सिंह के अनुरोध पर शीघ्र ही सागर जिले में खाद का एक और रेक आ जाएगा। 
     मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने सेलफोन पर कलेक्टर दीपक कार्य से चर्चा करते हुए बताया कि मालथौन ब्लाक में डबल लाक की व्यवस्था नहीं होने से किसानों को खाद लेने के लिए सागर जाना पड़ता है। उन्होंने कलेक्टर आर्य से कहा कि इफको की खाद वितरण व्यवस्था को लेकर शिकायतें मिल रही हैं। अतः खाद वितरण का वेरीफिकेशन एसडीएम से कराया जावे। 
     खुरई, मालथौन विभाग के अधिकारियों और किसान संघ के प्रतिनिधियों के सुझाव तथा खाद वितरण में आ रही परेशानियों को सुनकर मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने निर्देश दिये कि खाद वितरण की व्यवस्था सोसायटी के माध्यम से की जाये और सोसायटी पर नियंत्रण रखा जाये, ताकि छोटे किसानों से भेदभाव न हो पाये। इसके साथ ही सोसायटी अपने सूचना पटल पर यह लिखे कि कितना खाद आया है और कितना वितरित हुआ है तथा वितरण के मापदण्ड क्या हैं। सोसायटी डीएपी के साथ ही एनपीके भी लें, यह सुनिश्चित किया जावे। 
-------------------------

सरदार वल्लभ भाई पटेल ने देश को एक सूत्र में पिरोने का काम कियाः भूपेन्द्र सिंह

 सरदार वल्लभ भाई पटेल की 146वीं जयंती पर आयोजित समारोह में मध्यप्रदेश शासन के नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने कहा है कि ओबीसी को 27 प्रतिशत आरक्षण दिलाने के लिए प्रदेश सरकार कृत संकल्पित है। सरकार न्यायालय में पूरी मजबूती से अपना पक्ष रख रही है। न्यायालय ने अभी जिन मामलों पर रोक लगा रखी है, उसका पालन करते हुए अन्य जितनी भी भर्ती हो रही हैं, उनमें ओबीसी को 27 प्रतिशत आरक्षण दे रहे हैं।_
     खुरई में अखिल भारतीय कुर्मी क्षत्रिय महासभा द्वारा आयोजित सरदार वल्लभ भाई पटेल के जन्म जयंती समारोह में मंत्री भूपेन्द्र सिह ने कहा कि आज जिस भव्य आडीटोरियम में आप सब यहां बैठे हैं, उसका नामकरण सरदार पटेल के नाम से ही है और अगले साल इसी 31 अक्टूबर को हमस ब खुरई में सरदार पटेल की भव्य प्रतिमा का अनावरण करेंगे। साथ ही खुरई में कुर्मी क्षत्रिय समाज का शानदार सामुदायिक भवन बनेगा। 
     सरदार वल्लभ भाई पटेल ने देश की आजादी के बाद देश के गृहमंत्री रहते हुए, लगभग 600 रियासतों को भारत में मिलाने का काम किया। आज हम सब गौरव के साथ सरदार वल्लभ भाई पटैल जी की जयंती मना रहे हैं। सरदार वल्लभ भाई पटेल का देश के प्रति जो योगदान है। पूरे भारत को अगर एक सूत्र में पिरोने का काम अगर किसी ने किया है, तो वह सरदार वल्लभ भाई पटेल ने किया है। 
     मंत्री श्री सिंह ने कहा कि, भारत का जो आज विशाल स्वरूप है तो यह केवल आज सरदार वल्लभ भाई पटेल की वजह से है। देश की आजादी के लिए अनेकों वर्ष तक सरदार वल्लभ भाई पटेल जेल में रहे। अंग्रेजों के अत्याचारों का सामना किया। पर जिस विचारधारा को लेकर सरदार वल्लभ भाई पटेल ने इस देश को मजबूत करने का काम किया। 
आज से पहले अगर हम देखें, तो जहां सरदार वल्लभ भाई पटेल ने देश की तमाम रियासतों को मिलाने का काम किया। तो अगर हैदराबाद के निजाम ने जो भी गड़बड़ की, तो सरदार वल्लभ भाई पटेल ने कहां कि, सीधी सेना भेजकर आपको ठीक कर देगें नहीं तो भारत में अपनी रियासत को मिलाओं। 
     मंत्री श्री सिंह ने कहा कि, मजबूती और दृढ़ नेतृत्व के साथ उनका योगदान देश की एकता और अखंडता को अक्षुण रखने में महान है। परंतु आजादी के बाद देश में जो सम्मान सरदार वल्लभ भाई पटेल का होना चाहिए था। वह सम्मान एक पार्टी के चलते नहीं हो पाया। पर जब देश में श्री नरेन्द्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बने तो सबसे पहले सरकार ने सरदार वल्लभ भाई पटेल मार्ग के पर चलने का निर्णय लिया। और जो सरदार वल्लभ भाई पटेल चाहते थे कि, कश्मीर से धारा 370 समाप्त हो, कश्मीर भारत का हिस्सा बने। वो काम कांग्रेस सरकार में नहीं हो पाया। उस काम को किसी ने किया तो वह हमारे देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने किया। 
     सरदार वल्लभ भाई पटेल का जितना बड़ा व्यक्तित्व है, उसको शब्दों में हम नहीं समेट सकते। हमारे देश की युवा पीढ़ी, सरदार वल्लभ भाई पटेल के व्यक्तित्व को पढ़ें, उनके जीवन को समझे, उनके बताये मार्ग पर चलें इससे जीवन में संघर्ष करने की प्रेरणा आती है। 
     सरदार वल्लभ भाई पटेल का कितना बड़ा व्यक्तित्व था इसका उदाहरण, सम्मान गुजरात में गुजरात में नर्मदा जी पास सरदार वल्लभ भाई पटेल के स्टेच्यु आफ यूनिटी को बनाकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं देश की भाजपा सरकार ने बताया है। सरदार वल्लभ भाई पटेल का स्टेच्यु आफ यूनिटी दुनिया के सबसे बड़ा स्टेच्यु हैं जिसे देखने दुनिया भर के लोग आते हैं। मकरोनिया में हमने सरदार वल्लभ पटेल की सुंदर प्रतिमा की स्थापना कराई। जिसमें 5 लाख रूपए की व्यक्तिगत राशि हमने अपने तरफ से दी थी। और प्रतिमा का अनावरण प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह जी ने किया था। 
     मंत्री श्री सिंह ने कहा कि, हम चाहतें हैं कि खुरई में, कुर्मी क्षत्रिय समाज का एक सामुदायिक भवन हो, जिसमें समाज के सामाजिक कार्यक्रम हो सकें। भवन के पास छात्रावास हो जिसमें समाज के गरीब बच्चे, ग्रामीण क्षेत्र के बच्चे जिनका रोज आने-जाने में समस्या होती है, छात्रावास में रह सकें। खुरई में ठीक स्थान देखकर हम सरदार वल्लभ भाई पटेल की भव्य प्रतिमा लगाएंगे। 
     मंत्री श्री सिंह ने बताया कि, मध्यप्रदेश में पिछड़ा वर्ग की आबादी 52 प्रतिशत है, जो देश, प्रदेश में पिछड़ा वर्ग के लिए जो आरक्षण हैं, वह 14 प्रतिशत है। इसलिए मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह जी एवं हमारी सरकार ने यह तय किया है कि, मध्यप्रदेश में पिछड़ा वर्ग को 27 प्रतिशत आरक्षण दिया जाए। श्री सिंह ने कहा कि हाईकोर्ट का कुल तीन परीक्षाओं पर स्टे है, इसलिए मुख्यमंत्री शिवराज जी ने बांकी की जितनी भर्ती मध्यप्रदेश में हो रहीं हैं उसमें हम 27 प्रतिशत आरक्षण के साथ पिछड़ा वर्ग के छात्रों को नौकरी दे रहे हैं। 
     मंत्री श्री सिंह ने कहा कि, हम आपको विश्वास दिलाते हैं कि, हम सब मिलकर हमारे ओबीसी वर्ग को 27 प्रतिशत आरक्षण का कानून हमारे मध्यप्रदेश में बनाएंगे। जिससे हमारे बच्चे आगे बढ़ सकें। हमारे मुख्यमंत्री जी ने पिछड़ा वर्ग कल्याण आयोग बनाया और आयोग को संवैधानिक दर्जा दिया। गौरीशंकर बिसेन जी को इसका अध्यक्ष बनाया गया। सिरमौर विधायक प्रदीप पटैल को उपाध्यक्ष बनाया गया है। 
     मंत्री श्री सिंह ने कहा कि, बीना परियोजना से 90 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई होगी, परियोजना का काम तेजी से चल रहा है, जिसमें एक बांध बनकर तैयार है। हमारी यह कोशिश है कि, अगले साल तक पानी आपके खेत तक पहुंचा देंगे। कृषि विकास के क्षेत्र में हमने खुरई में कृषि महाविद्यालय स्वीकृत कराया है। जिसकी लागत 150 करोड़ है, सवा साल में जब कांग्रेस की सरकार आई तो कृषि महाविद्यालय को छिंदवाड़ा ले गए। लेकिन जब फिर भाजपा की सरकार आई तो हम कृषि महाविद्यालय को फिर खुरई ले आए। 
कार्यक्रम के अवसर पर प्रदेश अध्यक्ष गिरधारी जी, प्रदेश सचिव प्रदीप गौर, गुलाब सिंह पटैल, कार्यक्रम प्रभारी सुरेश पटैल, ओमप्रकाश घोरट, नारायण पटैल, माखन पटैल निर्तला, प्रदेश सचिव प्रहलाद पटैल, कोमल पटैल, श्रीमती गीता पटैल, श्रीमती रेखा पटैल, श्रीमती माधवी कुर्मी, गुलाब चैधरी, परमानंद पटैल, विनय पटैल, रघुराज पटैल, आनंद पटैल सहित कुर्मी क्षत्रिय समाज के लोग, भाजपा नेता कार्यकर्ता एवं आमजन उपस्थित थे।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Archive