अभियोजन अधिकारियों की साग़र संभाग की एक दिवसीय कार्यशाला सम्पन्न

सोमवार, 30 मार्च 2020

यूपी के एक गांव का नाम है ‘कोरौना’, -‘लोग मजाक में पूछते हैं तुम जिंदा कैसे हो?’

यूपी के एक गांव का नाम है 'कोरौना', -'लोग मजाक में पूछते हैं तुम जिंदा कैसे हो?'

साभार: एबीपी न्यूज़

#'कोरौना' गांव के लोग अपने गांव का नाम बदलने की मांग कर रहे हैं.

#कोरौना गांव में अभी कोरोना वायरस का कोई मामला सामने नहीं आया है.

सीतापुर: लखनऊ से लगभग 90 किलोमीटर की दूरी पर स्थित, एक छोटा-सा गांव इस समय संकट में है. रातों-रात यह गांव और यहां के निवासी बाहरी लोगों के लिए मजाक का विषय बन गए हैं, क्योंकि इस गांव का नाम कोरौना है, जो कि जानलेवा कोरोना वायरस के नाम के जैसा लगता है.
आप अभी भी जीवित कैसे हैं?- गांववालोंं से पूछते हैं लोग
स्थानीय निवासी राजू त्रिपाठी ने कहा, "यहां तक कि हमारे रिश्तेदार भी नाम में इस समानता के कारण गांव के नाम का मजाक उड़ा रहे हैं. वे हमसे कहते हैं कि वे कोरौना नहीं जाएंगे. यदि हम किसी अजनबी को बताते हैं कि हम कहां रहते हैं तो वह हंसकर हमें देखता है. एक अनजान व्यक्ति ने मेरे फोन पर कॉल किया और कहा, 'आप अभी भी जीवित कैसे हैं?' - जब मैंने उसे बताया कि मैं कोरौना से बोल रहा हूं."

कोरौना 84-कोसी परिक्रमा का पहला पड़ाव
संयोग से कोरौना 84-कोसी परिक्रमा का पहला पड़ाव है. हर साल होली के त्योहार के एक पखवाड़े बाद, हजारों लोग इस परिक्रमा में शामिल होते हैं. एक स्थानीय किसान गोकुल ने कहा, "गांव का नाम दशकों से मौजूद है, लेकिन अचानक ही हमें इस तरह नीचा माना जा रहा है."
मिश्रिख तहसील में स्थित इस गांव की आबादी लगभग 9,000 है. इस गांव में एक सरकारी प्राथमिक विद्यालय और अन्य सुविधाएं भी हैं. वास्तव में, यह राज्य के बेहतर विकसित गांवों में से एक है.
सरकार से गांव का नाम बदलने का अनुरोध
गोकुल ने कहा कि एक बार लॉकडाउन खत्म हो जाने के बाद, ग्रामीण एकत्र होंगे और सरकार से गांव का नाम बदलने का अनुरोध करेंगे. "किसी भी मामले में, कोरौना का कोई लेना-देना नहीं है और कोरोनावायरस की याद लंबे समय तक रहने वाली है. आने वाले वर्षों में उपहास उड़वाने के बजाय नाम बदलने का विकल्प चुनना बेहतर होगा." संयोग से, कोरौना अभी भी कोरोनावायरस से सुरक्षित है

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें


नौरादेही अभ्यारण : प्रभावित लोगों का शत-प्रतिशत होगा विस्थापन : कलेक्टर

Archive