जंय श्री गणेशाय नमः

सोमवार, 17 अगस्त 2020

डिफेंस कॉरिडोर की स्थापना से बदल जाएगा बुंदेलखंड का ओद्योगिक परिदृश्य

डिफेंस कॉरिडोर की स्थापना से बदल जाएगा बुंदेलखंड का ओद्योगिक परिदृश्य
★बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे से मिलेगी तरक्की को रफ्तार

@ गिरीश पांडेय

लखनऊ : बुंदेलखंड। शौर्य और संस्कार की धरती। अब समृद्धि की नयी कहानी लिखेगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ निजी रूप से प्रदेश के पिछड़ों इलाकों में शुमार बुंदेलखंड के विकास के लिए बेहद संजीदा हैं। बार-बार उनका यह कहना कि आने वाले समय में बुंदेखंड उत्तर प्रदेश का स्वर्ग बनेगा, उनकी प्रतिबद्धता का सबूत है। उनकी मंशा के अनुरूप इस बाबत काम भी जारी है। बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे के जरिए जहां इसकी तरक्की को गति मिलेगी वहीं देश के दूसरे डिफेंस इंडस्ट्रीयल कॉरीडोर (डीआईसी) की स्थापना से यहां का औद्योिगक परिदृश्य पूरी तरह बदल जाएगा। डीआईसी के जरिये उत्तर प्रदेश रक्षा विनिर्माण क्षेत्र का नया मैन्यूफैक्चरिंग हब बनेगा। पर इसका सर्वाधक लाभ बुंदेलखंड चित्रकूट और झांसी को मिलेगा।

तीनबत्ती न्यूज़.कॉम
गन्दगी भारत छोड़ो-मध्यप्रदेश छोड़ो अभियान की शुरुआत सागर से, नगरीय निकायों की होगी रैंकिंग,पिछड़ने वाले निकाय होंगे दण्डित
 ★  बुन्देलखण्ड के पहले  ठोस अपशिष्ट प्रबंधन इकाई का लोकार्पण किया नगरीय विकास एवम आवास  मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने

#गंदगी_मध्यप्रदेश_छोड़ो



मालूम हो कि डीआईसी की स्थापना लखनऊ, कानपुर, आगरा, झांसी, चित्रकूट और अलीगढ़ जिलों में की जा रही है। इसके लिए 50 हजार हेक्टेएयर से अधिक की भूमि का अधिग्रहण प्रस्तावित है। अब तक अलीगढ़, कानपुर, झांसी एवं चित्रकूट जिलों में 1,289 हेक्टेयर से भी ज्यादा भूमि अधिग्रहित हो चुकी है। अतिरिक्त भूमि के अधिग्रहण की प्रक्रिया जारी है। यही नहीं अलीगढ़ में अधिग्रहित भूमि निवेशकों को आंवटित कर दी गई है। यह एक 'ग्रीन फील्ड' परियोजना है, जिसके तहत रक्षा उत्पादन क्षेत्र की इकाइयों को और सुदृढ़ करने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने अनेक प्रोत्साहन एवं अनुदान की व्यवस्था की है। 

तीनबत्ती न्यूज़. कॉम
के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे

ट्वीटर  फॉलो करें
@weYljxbV9kkvq5ZB


वेबसाईट

नोसेना की हिस्सेदारी से डीआईसी को मिलेगी गति

डीआईसी को गति देने के लिए पिछले दिनों रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नेवल टेक्ननॉलाजी एक्सीलेरशन कौंसिंल का ऑनलाइन लोकार्पण किया। डीआईसी में भारतीय नौसेना के प्रतिभाग करने से उद्योग, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग (एमएसएमई) एवं स्टार्ट-अप उद्योगों का खरीददारों से सीधा सम्पर्क होगा। परिणामस्वरूप वे भारतीय नौसेना के जरूरतों को पूर्ण करने में सुगमता होगी। यूपीडा ने आईआईटी, बीएचयू एवं कानपुर के सहयोग से 'सेन्टर ऑफ एक्सीलेन्स' की स्थापना की है.

---------------------------- 




तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885


-----------------------------

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Archive