रानगिर की माँ हरसिद्धि माई

शनिवार, 18 सितंबर 2021

सीवरेज और पेयजल पाईप लाईन के चलते खुदे गढ्ढो का अब री-स्टोरेशन सात दिन में करना होगा :कलेक्टर दीपक आर्य

सीवरेज और पेयजल पाईप लाईन के चलते खुदे गढ्ढो का अब री-स्टोरेशन सात दिन में करना होगा :कलेक्टर दीपक आर्य

★ पत्रकारों से पहली मुलाकात में कलेक्टर ने कहा, निर्माण कार्य तेजी से करायेगें 

सागर । . नवागत कलेक्टर दीपक आर्य ने पत्रकारों से पहली मुलाकात में कहा कि पेयजल पाईप लाईन योजना और सीवरेज के तहत चल रहे कार्यों में अब खोदे गए गड्ढों को सात दिन में भरने के बाद ही आगे का काम कराना होगा. 
  श्री आर्य ने कहा कि नगर निगम और स्मार्ट सिटी के तहत चल रहे निर्माण कार्यों की गति धीमी चल रही है, जिसको तेजी के साथ कराया जायेगा. निर्माण कार्यों के बाद आने वाले समय में परिवर्तन अपेक्षित है. महामारी की दो लहर के कारण निर्माण कार्य में विलंब हुआ है जो कि अब समय सीमा में ही पूर्ण कराए जायेगें. अगले वर्ष तक सागरवासियों को जलभराव से भी मुक्ति मिलेगी. उन्होने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में सड़कों पर मवेशियों की बड़ी समस्या है. जिले की गौशालाएं खाली पड़ी हैं, जानवर सड़क पर बैठें हैं. इस दौरान पत्रकारों  ने सागर शहर में चल रहे स्मार्ट सिटी और अन्य निर्माण कार्यो की विसंगतियों को लेकर चर्चा की। 

तीनबत्ती न्यूज़. कॉम

के फेसबुक पेज  और ट्वीटर से जुड़ने  लाईक / फॉलो करे




ट्वीटर  फॉलो करे



वेबसाईट



फॉर्मेसी विभाग की तारीफ 

लाखा बंजारा झील को जनभावनाओं से जुड़ा बताते हुए श्री आर्य ने सागर विवि के फॉर्मेसी विभाग की तारीफ की. उन्होने कहा कि सागर का नाम फॉर्मेसी विभाग के कारण देश और दुनिया में जाना जाता है. 

पशुपालन विभाग की आपत्ति से डेयरी विस्थापन अटका

लगभग ढाई दशक से नगर निगम क्षेत्र से डेयरियों के विस्थापन की बातें तो  समय-समय पर होती रहीं मगर जमीन पर डेयरी विस्थापन नहीं हो सका. एक बार फिर स्मार्ट सिटी के माध्यम से डेयरी विस्थापन के लिए रतौना के आसपास की जमीन आवंटन की प्रक्रिया शुरू कराई गई तो पशु पालन विभाग की आपत्ति से विस्थापन फिर अधर में आ गया. कलेक्टर श्री आर्य ने भोपाल स्थित विभाग से चर्चा करने की बात कही है. नगर में लगभग 300 डेयरियां आज भी हैं.


---------------------------- 







तीनबत्ती न्यूज़. कॉम ★ 94244 37885



--------------------------

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Archive